सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

नवंबर, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

लाल टापू के नाम से विख्यात रहे धोद विधानसभा क्षेत्र की पंचायत समिति मे भाजपा का प्रधान बन सकता है।

             ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                कामरेड अमरा राम के विधानसभा चुनाव लड़कर विजयी होने के समय राजस्थान मे लाल टापू के नाम से विख्यात रहे सीकर जिले की धोद विधानसभा क्षेत्र की पंचायत समिति निदेशक के हुये चुनावो का परिणाम दस दिसम्बर को आना है। लेकिन धोद क्षेत्र की राजनीति पर नजर रखने वालो का मानना है कि वर्तमान कांग्रेस विधायक परशराम मोरदिया के कोराना पोजिटिव होने के कारण उनके चुनाव प्रचार से दूर रहने के अलावा दिग्गज कांग्रेस नेता पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुभाष महरिया की उम्मीदवार चयन से लेकर उक्त चुनाव प्रचार तक सक्रियता नजर नही आने के चलते माकपा के मुकाबलें अधीकांश जगह पर्दे के पीछे कांग्रेस भाजपा के मतदान के दिन एक लाईन मे होने से तत्तकालीन भाजपा प्रधान गोवर्धन वर्मा के बाद इस दफा भाजपा का प्रधान बन सकने के अलावा भाजपा नेता रामेश्वर रणवां के परिवार से पहली दफा कोई सदस्य सीधे तौर पर जनता के मतो से चुनकर जनप्रतिनिधि बनेगा।               धोद पंचायत समिति प्रधान पद पर अधीकांश समय कांग्रेस की तरफ से महरिया परिवार व माकपा का का कब्जा रहा है। लेकिन इस दफा चुनावी मैदान मे कांग्रेस

अलवर पुलिस ने तीन होटलों पर छापामार सेक्स रैकेट का किया पर्दाफाश, 18 लोग गिरफ्तार

  अलवर.अलवर (Alwar) " अशफ़ाक़ कायमखानी"  / / जिले की सदर थाना पुलिस (Police) ने प्रसिद्द सिलीशेड झील के आसपास स्थित होटलों (Hotels) में छापेमारी कर  देह व्यापार के कारोबार को उजागर किया है. सदर थाना पुलिस ने देह व्यापार में लिप्त करीब 18 युवक-युवतियों को हिरातस में लिया है, जिनमें 10 युवतियां  और आठ युवक शामिल हैं. पुलिस (Police) ने दो होटलकंर्मियो को भी गिरफ्तार किया गया है. सदर थाना पुलिस ने मुखबीर की सूचना के आधार पर क्यूआरटी की टीम के साथ मिलकर सिलीशेड झील के आसपास स्थित तीन होटलों सासुजी की ढाणी, बाबा होटल और गुप्ता झील होटल पर छापे मारे, जिसमें देह व्यापार करते 10 लड़कियों और आठ  ग्राहक युवकों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने आरोपियों को ऊपर पीटा एक्ट लगाकर सभी को गिरफ्तार कर लिया है. अब सभी आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है. प्रशिक्षु आईपीएस जेष्ठा मैत्रीय के नेतृत्व में क्यूआरटी और सदर थाना पुलिस की सयुक्त कार्रवाई से होटल संचालकों में खलबली मच गई. आईपीएस जेष्ठा  मैत्रीय ने बताया कि समाज में देह व्यापार से गंदा मैसेज जाता है. हमें इसकी शिकायत मिल रही थी,

एआईएमआईएम की आहट से राजस्थान कांग्रेस मे हलचल तेज। - सत्ता की बजाय संगठन मे मुस्लिम का प्रतिनिधित्व बढाने की चर्चा।

                ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।               राजस्थान कांग्रेस सरकार द्वारा मुस्लिम समुदाय को सत्ता मे प्रयाप्त हिस्सेदारी देने से कोसो दूर रखने व उनको केवल मजबूर वोटबैंक मानकर उनके हको को सरकारी स्तर पर नकारते आने की एक के बाद एक होती लगातार घटनाओं से खासतोर पर मुख्यमंत्री गहलोत व उनकी नीतियों से मुस्लिम समुदाय कांग्रेस से दूर जाकर एआईएमआईएम चीफ बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी की तरफ आकर्षित होकर उनकी राजस्थान मे ऐंट्री करवाने की कोशिशों के बाद आवेशी द्वारा गहलोत पर हमला बोलते हुये मुसलमानों से सत्तर साल की कांग्रेस की गुलामी छोड़ने की अपील करने से राजस्थान कांग्रेस मे हलचल बढा दी है लेकिन फिर भी कांग्रेस सरकार उन्हें सत्ता मे हिस्सेदारी देने की बजाय संगठन मे संगठन गठन के समय एक तिहायी जिलाध्यक्ष पद के लालीपाप देकर साधने के संकेत मिलने लगे है। डोटासरा द्वारा संगठन मे पहले से अधिक प्रतिनिधित्व देने के संकेत देने के बाद प्रभावहीन बन चुके संगठन मे पद पाने की समुदाय के नेताओं मे खास रुचि नजर नही आ रही है। गहलोत के 1998 मे पहली दफा मुख्यमंत्री बनने के बाद मात्र विधायकों व विधानसभा उम्मीदव

ग्रेटर हैदराबाद म्यूनिसिपल कारपोरेशन चुनाव मे कांग्रेसजन भाजपा के लिये सहायक बनते नजर आ रहे है। - भाजपा के दिग्गज नेता चुनाव प्रचार मे उतरे- प्रधानमंत्री मोदी मे प्रचार करेगे।

                ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।               कांग्रेस ने हमेशा अपने नेताओं व कार्यकर्ताओं के मार्फत मुस्लिम नेता के नेतृत्व वाले राजनीतिक दल के चुनाव लड़ने के समय उस नेता व दल के खिलाफ जनता मे खासतोर पर मुस्लिम समुदाय मे भ्रम फैलाने की कोशिश कराती आई है कि यह मुस्लिम नेता भाजपा के इशारे मे चुनाव लड़ने आकर सेक्युलर फोर्सेज को कमजोर करते है। जबकि कांग्रेस हमेशा स्वयं को परवान चढाने के लिये वर्क करती है या जब स्वयं कमजोर नजर आये तो अनेक कांग्रेस जन भाजपा को बढाने मे मदद करते रहे है। हकीकत है कि मुस्लिम नेतृत्व वाले राजनीतिक दल को कमजोर करने मे भाजपा-कांग्रेस पर्दे के पीछे एक घोड़े पर सवार होते रहे है।              बिहार विधानसभा चुनाव मे मुस्लिम लीडरशिप नेतृत्व वाली एआईएमआईएम के पांच विधायक विजयी होने के बाद बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी की चर्चा भारत मे काफी ऊंची आवाज मे होने लगी है। आवेसी के द्वारा बंगाल, यूपी व राजस्थान के विधानसभा चुनाव मे एआईएमआईएम के नीसान पतंग पर उम्मीदवार खड़ा करने के कहने बाद राजनीतिक दलो मे अलग सी हलचल होना देखा जा रहा है। आवेसी के चुनाव लड़ने से उक्त प्रदेशों मे

मुरादाबाद : सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान शिविर का हुआ आयोजन

   मुरादाबाद : सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान शिविर का आयोजन हुआ  शिविर में संस्थान के लोगो के द्वारा मुरादाबाद जिले में भ्रमण कर कनोपी के माध्यम से तथा ई - रिक्शा के माध्यम से पोस्टर , बैनर व हैण्डबेल के  माध्यम से जनता को  जागरूक किया गया तथा सड़क सुरक्षा के नियमो को विधिवत समझाया गया तथा हमलोगो का भरकस प्रयास रहा है कि सड़क सुरक्षा हर व्यक्ति समझे जिससे आये दिन प्रतिदिन दुर्घटनाये हो रही है ।   आम जनमानस तक सड़क सुरक्षा जागरूकता का ज्ञान पहुंचाया गया टीम ने सहर के चौराहे पर जाकर कार्यक्रम को सफल बनाया है तथा आम लोगो को जागरूक कया है । सड़क परिवहन एवं राष्ट्रीय राजमार्ग मंत्रालय भारत सरकार द्वारा प्रयोजित कार्यक्रम है । इस कार्यक्रम में कार्तिक सिक्षण संस्थान कानपुर के सेक्रेटरी जैसंकर सरमा व क्वाडिनेटर अनवर गाजी , इमरान गाजी , यूनुस गाजी , सुशील कुमार बबलू , इनामूल , सवान , आशू मिश्रा आदि तमाम कार्यकर्तागणो के द्वारा सफलता पूर्वक सडक सुरक्षा जागरूकता अभियान चलाया गया । 

मुंबई पुलिस का सब इंस्पेक्टर और तीन कांस्टेबल 2 लाख रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार

  मुंबई पुलिस का सब इंस्पेक्टर और तीन कांस्टेबल 2 लाख रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार जयपुर , ।अशफाक कायमखानी। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो जयपुर की स्पेशल टीम ने मुंबई पुलिस के एक सब इंस्पैक्टर और उसके तीन साथी पुलिस कांस्टेबल को 2 लाख रुपए की रिश्वत लेते मंगलवार देर शाम को गिरफ्तार कर लिया। रिश्वत की यह रकम मुंबई के बोरीवली थाने में दर्ज धोखाधड़ी के एक मुकदमे में कार्रवाई नहीं करने की एवज में मांगी जा रही थी।  एसीबी के डीजी बीएल सोनी ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी प्रशांत शिंदे बोरीवली थाना, मुंबई में सबइंस्पेक्टर है। जबकि तीनों आरोपी लक्ष्मण तड़वी, सुभाष पांडुरंग और सचिन गुनगे है। ये तीनों भी बोरीवली थाने में पुलिस कांस्टेबल है। उन्होंने बताया कि जयपुर के रहने वाले एक व्यक्ति ने एसीबी मुख्यालय में शिकायत दर्ज करवाई थी। जिसमें बताया कि उसके खिलाफ बोरीवली थाना, मुंबई में धोखाधड़ी का एक मुकदमा दर्ज है। इस केस में अनुसंधान अधिकारी सबइंस्पेक्टर प्रशांत अपने तीन साथी पुलिस कांस्टेबलों को लेकर मुंबई से जयपुर पहुंचा था। यहां उन्होंने केस में आरोपी के मकान मालिक को जबरन उठा लिया। इसके बाद उसके

100 से ज्यादा लोगों को शादी में बुलाना पड़ा महंगा , लगा जुर्माना

 100 से ज्यादा लोगों को शादी में बुलाना पड़ा महंगा , लगा जुर्माना बीकानेर तहसीलदार द्वारा की गई कार्रवाई बीकानेर,   । अशफाक कायमखानी। , नवंबर। कोविड संक्रमण रोकथाम के मध्यनजर शादियों में अतिथियों की संख्या को नियंत्रित रखने के लिए बुधवार को नया शहर थाना इलाके में एक शादी में 100 से अधिक लोगों की मौजूदगी पाए जाने पर जुर्माने की कार्रवाई की गई।   जिला कलेक्टर नमित मेहता ने बताया कि विभिन्न अधिकारियों को शादियों के दौरान अतिथियों की संख्या नियंत्रित करने के लिए निगरानी हेतु नियुक्त किया गया है। सभी अधिकारी लगातार भ्रमण कार्य सुनिश्चित कर रहे हैं कि लोगों की भीड़ एकत्र ना हो और कोरोना एडवाइजरी की पूरी अनुपालना के साथ शादियों का आयोजन हो। इसी के तहत तहसीलदार बीकानेर सुमन द्वारा नयाशहर थाना क्षेत्र में लोडा मोडा बगीची में एक शादी समारोह में ढाई सौ लोगों  की उपस्थिति होने पर 25 हजार रुपए की पेनल्टी लगाने की कार्रवाई की गई।   जिला कलेक्टर ने लोगों से शादी समारोह के दौरान नियमों से अधिक अतिथि ना बुलाने  और स्वयं के साथ-साथ  दूसरों की भी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अपनी भूमिका जिम्मेदारी पूर्व

एआईएमआईएम के राजस्थान आने से पहले कांग्रेस नेताओं मे बोखलाहट। राजस्थान मीडिया मे आवेसी को लेकर बहस व लेख लिखने शुरु।

    जयपुर।               ।अशफाक कायमखानी।                प्रदेश मे एक अर्शे से दो दलीय व्यवस्था कायम होने से मुस्लिम मतदाताओं को कांग्रेस द्वारा केवल मात्र वोटबैंक की तरह उपयोग कर उनके हको पर गम्भीर चोट करते हुये सत्ता की भागीदारी से उन्हें दूर रखने के चले आ रहे सीलसीले के मध्य बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी के नेतृत्व वाली एआईएमआईएम के आगामी विधानसभा चुनाव मे राजस्थान मे तकरीबन 40-45 सीटो पर उम्मीदवार खड़े करने की आहट मात्र से कांग्रेस नेताओं की बोखलाहट व घबराहट साफ नजर आने लगी है। कांग्रेस के दिग्गज नेता आवेसी के खिलाफ बयानबाजी करने लगे है वही कांग्रेस मे मोजूद मुस्लिम नेताओं को आवेसी पर विभिन्न तरह से शब्द बाण छोड़ने के निर्देश भी दे दिये बताते है।           बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी के नेतृत्व वाली एआईएमआईएम के बिहार मे पांच विधायक जीतने के बाद उनके समर्थकों के होंसले को बडी ताकत मिली है। राजस्थान मे कांग्रेस द्वारा मुस्लिम मतदाताओं का राजनीतिक शोषण करने के खिलाफ अब समुदाय के खासतोर पर युवाओं ने कमर कस कर एआईएमआईएम के संगठन को राजस्थान मे अभी से खड़ा करके आगामी विधानसभा व लोकसभा चुनाव लड़ने क

बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।

 बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।          जयपुर।                       राजस्थान मदरसा बोर्ड के पूर्व सदस्य व वरिष्ठ सामाजिक कार्यकर्ता अशफाक कायमखानी ने मुख्य सचेतक व कांग्रेस विधायक महेश जोशी द्वारा एआईएमआईएम के चीफ असदुद्दीन आवैसी को भाजपा का ऐजेंट बताने की कड़ी निंदा करते हुये उन पर हमला बोलते हुये कहा कि महेश स्वयं आरएसएस के ऐजेंट बनकर कांग्रेस को चट करने मे लगे है।            कायमखानी ने विधायक महेश जोशी व उनकी पार्टी कांग्रेस पर आरोप लगाते हुये कहा कि उन्होंने मुस्लिम व दलित मतदाताओं की भावनाओं के साथ हमेशा भावनात्मक खेल खेलते हुये उनका भंयकर राजनीतिक शोषण करते रहे है। अभी हाल मे जयपुर नगमनिगम के मेयर उम्मीदवार चयन मे मुस्लिम उम्मीदवारी को नकारने मे महेश ने प्रमुख भूमिका निभाकर अपने दोहरे चरित्र को उजागर किया है। महेश जोशी जैसे कांग्रेस नेताओं की हरकतों के कारण भारत के अनेक प्रांतो मे कांग्रेस हासिये पर जा चुकी है। अगर ऐसा रहा तो राजस्थान मे भी हासिये पर जा सकती है। अनेक प्रांतो मे जनता कांग्रेस विधायकों को वोट देकर विधाय

राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।

।अशफाक कायमखानी। जयपुर। राजस्थान की राजनीति मे एक अर्शे से कांग्रेस-भाजपा के रुप मे दो दलीय व्यवस्था कायम होने के कारण मतदाताओं के सामने उक्त दोनो दलो के उम्मीदवारों को छोड़कर तीसरे दल के उम्मीदवार के पक्ष मे मतदान करने के विकल्प की पूर्ति लगता है कि आगामी विधानसभा चुनावों मे ओवैसी के दल एआईएमआईएम के रुप मे होने की सम्भावना बनती नजर आ रही है। फिलहाल कुछ सीमित जगहो पर बसपा व वामपंथी विकल्प के तौर पर नजर आते है। लेकिन बसपा के नीसान पर विजयी होने वाले विधायकों को कांग्रेस मे शामिल होने से जनता अपने आपको ठगी हुई महसूस करती आ रही है। आजादी के बाद राजस्थान मे लोकतांत्रिक प्रक्रिया शूरु होने से लेकर 1977 से पहले तक कांग्रेस के अतिरिक्त जनसंघ, लोकदल, स्वतंत्र पार्टी के रुप मे मतदाताओं के सामने मतदान कर अपने पसंद के जनप्रतिनिधि चुनने का के विकल्प मोजूद थे। लेकिन 1977 मे सभी विपक्षी दलो द्वारा एक जगह जमा होकर जनता पार्टी का गठन करने के बाद हुये चुनाव मे मिली सफलता से प्रदेश मे भैरोसिंह शेखावत के नेतृत्व मे पहली गैरकांग्रेसी सरकार गठित हुई थी। उसके

कोविड का कहर 12 फिट लंबी मूछें रखने वाले मूलचंद की कोरोना से मौत, 2 दर्जन राजस्थानी फिल्मों में कर चुके हैं विलेन का रोल

।अशफाक कायमखानी। कुचामन सिटी 12 फिट लंबी मूछें रखने वाले मूलचंद की कोरोना से मौत हो गई। पिछले दिनों हुए थे कोरोना संक्रमित 12 फीट लंबी मूछें रखकर पूरे प्रदेश में अपनी पहचान बनाने वाले नागौर जिले के कुचामन सिटी के निकटवर्ती आनंदपुरा गांव निवासी मूलचंद शर्मा (48) की शनिवार देर रात कोरोना से मौत हो गई। शर्मा दो दर्जन से अधिक राजस्थानी फिल्मों में विलेन का रोल कर चुके हैं। वे दो बार मुख्यमंत्री से सम्मानित हो चुके है।शर्मा का शव रविवार दोपहर को उनके पैतृक गांव आनंदपुरा गांव पहुंचा जहां कोविड 19 की गाइडलाइन के अनुसार उनका दाह संस्कार किया गया। मूलचंद के निधन से नागौर जिले सहित प्रदेशभर में शोक की लहर दौड़ गई। उल्लेखनीय है कि राजस्थान के नागौर जिले में भी करोना के रोज मामले सामने आ रहे हैं। इसे देखते हुए ही प्रशासन ने यहां धारा 144 लगाई है।

जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।

।अशफाक कायमखानी। जयपुर। राजस्थान मदरसा पैराटीचर्स संघ व उर्दू शिक्षक संघ के तत्वावधान मे मदरसा पैराटीचर्स के नियमतिकरण करने की मांग को लेकर जयपुर मे तपती गर्मी मे जुलाई-2019 मे बडा आंदोलन चलकर निर्णायक स्थिति मे आने पर कुछ मुस्लिम विधायक आंदोलनकारियों व सरकार के मध्य वार्ताकार बनकर आकर कोरे आश्वासनों के बल पर उस आंदोलन को समाप्त करवाने मे कामयाबी पाई थी। उसी की तर्ज पर प्रमुख रुप से उसी नियमतिकरण की मांग के साथ उर्दू की मांगो को लेकर एक उर्दू शिक्षक द्वारा की जारही दांडी यात्रा की आज उदयपुर मे समापन की घोषणा के समय दिखाये जा रहे समझोता पत्र मे लिखे आश्वासनों के साथ समापन हुवा है। पैराटीचर्स द्वारा किये गये जुलाई-2019 के उस आंदोलन के समय आंदोलनकारियों की अनेक दफा मुलाकात मुख्यमंत्री गहलोत व उनके अधिकारियों से तक से होने के बाद तत्तकालीन समझोता हुवा था। इसके विपरीत दांडी यात्रा की समाप्ति की घोषणा तो केवल मात्र एक मुस्लिम बोर्ड अध्यक्ष के आश्वासन पर ही कर देने से समुदाय मे अनेक तरह की चर्चा चल पड़ी है। आंदोलन करना व फिर समझोता करना आंदोलनकार

मुस्लिम समुदाय की नाराजगी से राजस्थान के पंचायत चुनाव मे कांग्रेस को मुश्किलातों का सामना करना पड़ सकता है।

।अशफाक कायमखानी। जयपुर। राजस्थान के इककीस जिलो मे 23-नवम्बर से चार चरणो मे हो रहे पंचायत समिति व जिला परिषद चुनावो मे कांग्रेस उम्मीदवारों को मुस्लिम समुदाय की उनके बहुल क्षेत्रो मे गहलोत सरकार व कांग्रेस पार्टी की तरफ से जारी अन्याय पूर्ण नीतियों व उनकी लगातार जारी अनदेखी के कारण मुश्किलातो का सामना करना पड़ रहा है। मुख्यमंत्री गहलोत के नेतृत्व मे बनी कांग्रेस सरकार को दो साल पूरे होने को आये है। लेकिन कांग्रेस सरकार गठन की शुरुआत से लेकर अब तक के सरकारी रवैये को लेकर मुस्लिम समुदाय मे अनेक मुद्दों को लेकर जारी सरकार से सख्त नाराजगी की आग मे घी डालने का काम मदरसा पैराटीचर्स के नियमतिकरण व अल्पभाषा के सरंक्षण व उसके खिलाफ सरकारी स्तर पर किये जा रहे प्रयासों को लेकर एक नवम्बर को चूरु से करीबन ग्यारसो किलोमीटर की दांडी पैदल यात्रा पर शिक्षक शमशेर भालूखां के रवाना होने से हुवा है। उधर उर्दू शिक्षक संघ राजस्थान के अध्यक्ष आमीन कायमखानी द्वारा लगातार उर्दू को लेकर शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासरा के दावो की असलियत जनता के सामने लाकर लगातार पोल खोलत

IAS टॉपर टीना डाबी ने फैमिली कोर्ट में दी तलाक की अर्जी, 2018 में हुई थी शादी !

।अशफाक कायमखानी। सिविल सर्विस परीक्षा की टॉपर रही टीना डाबी एक बार फिर सुर्खियों में आ गई हैं. टीना डाबी ने अपने बैच के IAS अतहर आमिर के साथ शादी की थी. युवा IAS दंपती ने तलाक की अर्जी दायर कर दी है. IAS टॉपर टीना डाबी और उनके पति अतहर आमिर ने जयपुर के फैमिली कोर्ट-1 में म्यूचअल तौर पर तलाक की अर्जी दायर कर दी है. अर्ज़ी में कहा गया है कि हम आगे साथ नहीं रह सकते. ऐसे में कोर्ट हमारी शादी को शून्य घोषित करें. मालूम हो कि दोनों 2016 बैच के आईएएस अधिकारी हैं. वर्तमान में टीना -संयुक्त शासन सचिव वित्त ( कर) विभाग जयपुर में संयुक्त सचिव और आमिर सीईओ ईजीएस के पद पर कार्यरत हैं. 2018 में दोनों की शादी काफी चर्चित रही थी. यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा 2015 की टॉपर रही टीना ने अप्रैल 2018 में अतहर से शादी की थी. कश्मीर के अतहर ने यूपीएससी परीक्षा 2015 में दूसरा स्थान प्राप्त किया था. टीना और अतहर दोनों राजस्थान कैडर के अधिकारी हैं. कहा जाता है कि दोनों की नजदीकियां ट्रेनिंग के दौरान बढ़ी थींं. वर्ष 2015 की अखिल भारतीय सेवा टॉप करने वाली टीना डाबी और इसी परीक्षा में दूसरी रैंक पर रहे अतहर आ

सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।

सीकर। ।अशफाक कायमखानी। मदरसा पैरा टीचर्स का नियमतिकरण करने व उर्दू विषय के साथ सरकार द्वारा अन्याय पूर्ण रवैया अख्तियार करने के खिलाफ एक नवम्बर से चूरु से करीब ग्यारसो किलोमीटर की दांडी पैदल यात्रा पर शिक्षक शमशेर भालूखां के रवाना होने के बाद लगतार जारी उनकी पद यात्रा से नावाकिफ होकर गहलोत सरकार द्वारा किसी भी स्तर पर इस सबंध मे वार्ता अभी तक नही करने से पिछले एक हफ्ते से राज्य भर के मुस्लिम समुदाय मे सरकार के खिलाफ भूचाल आया हुवा है। एक तरफ शमशेर भालू खां ने अपनी दांडी यात्रा को जारी रख रखा है, वहीं दुसरी तरफ उनकी यात्रा के समर्थन मे राज्य भर मे जगह जगह पैदल यात्राएं गावं-गावं से उपखण्ड व जिला मुख्यालय पर आकर अधिकारियों को ज्ञापन देकर, मुख्यमंत्री गहलोत व शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासरा का पूतला दहन के अलावा शव यात्रा निकालने का सीलसीला चल पड़ने से सरकार व कांग्रेस पार्टी के खिलाफ मुस्लिम समुदाय मे विरोध चरम सीमा पर पहुंचता नजर आ रहा है। शिक्षक शमशेर भालूखां की दांडी यात्रा के समर्थन मे राज्य भर मे आज भी पीछले दिनो की तरह सभी जगह धरना, प्रदर्शन व पैदल

शमशेर खां की दांडी यात्रा के समर्थन मे आज प्रदेश के गावं-गाव से शहरो तक पदयात्रा निकाल कर उपखण्ड अधिकारी व जिला कलेक्टरस को ज्ञापन दिये गये।

जयपुर। ।अशफाक कायमखानी। मदरसा पैराटीचर्स को नियमतिकरण करने व उर्दू के साथ सरकारी स्तर पर हो रहे अन्याय के खिलाफ एक नवम्बर को चूरु शहर से शिक्षक शमशेर भालूखां के तकरीबन ग्यारसो किलोमीटर की पैदल दांडी यात्रा पर निकलने के बावजूद आज उनकी यात्रा को अठराह दिन होने के बावजूद राजस्थान की गहलोत सरकार के कान पर जूं अभी तक नही रेगने पर प्रदेश भर के मुस्लिम समुदाय व अन्य राजनीतिक दलो के कार्यकर्ताओं मे भारी रोष पनपने के बाद आज जगह जगह बडी भीड़ के साथ प्रदेश भर के गांव-गावं से शहरो की तरफ अलग अलग पैदल मार्च निकाल कर उपखण्ड अधिकारी व जिला कलेक्टरस को ज्ञापन देकर सरकार को चेताते हुये कहा गया है सरकार अब भी जायज मांगे नही मानती है तो इस तरह के पैदल यात्राएं ओर अधिक मात्रा मे निकालने का लगातार सिलसीला जारी रखते हुये गांधी वादी तरीके सै विरोध किया जायेगा। राजस्थान भर मे जगह जगह खासतौर पर मुस्लिम युवकों द्वारा शिक्षक शमशेर भालूखां की जारी दांडी यात्रा के समर्थन मे निकाली गई पैदल यात्राओ मे शामिल हजारों लोगो मे सरकार के प्रति भारी रोष देखा गया। वो सरकार के खिलाफ व खा

राजस्थान प्रभारी व कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अजय माकन से शरीफ के नेतृत्व मे मुस्लिम प्रोग्रेसिव फोरम का प्रतिनिधिमंडल खासा कोठी मे मिला।

जयपुर।               राजस्थान मुस्लिम प्रोग्रेसिव फोरम का एक प्रतिनिधिमंडल आज खासा कोठी जयपुर मे मोहम्मद शरीफ की अगुवाई मे शिक्षा मंत्री व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद डोटासरा की मोजूदगी मे राजस्थान प्रभारी व कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अजय माकन से मिलकर विभिन्न मांगो को लेकर शिक्षक शमशेर भालूखां की पैदल दांडी यात्रा व मदरसा पैराटीचर्स के स्थाईकरण के साथ साथ अल्पसंख्यक भाषाओ के खिलाफ हो रहे षडयंत्रों को लेकर एक ज्ञापन उनको देकर शीघ्रता से हल निकालने की मांग की।               शरीफ ने अजय माकन को शमशेर की दांडी यात्रा की गम्भीरता की वास्तविक स्थिति से अवगत करवाते हुये कहा कि सरकार की बेरुखी से समाज मे रोस पनपने व अभी तक सरकार की तरफ से किसी भी स्तर पर इस मामले मे बातचीत नही करना दुखदायक है। शरीफ ने हाल ही मे चार नगमनिगम मे कांग्रेस के मेयर बनने मे किसी भी मुस्लिम को मेयर नही बनाने का मुद्दा भी माकन के सामने जब उठाया तो माकन ने कहा कि उन्होंने डिप्टी मेयर मुस्लिम को बनाया है। इस पर शरीफ ने माकन को कहा कि उन्हें डिप्टी मेयर नही चाहिए उन्हें मेयर चाहिए। ऐसा नही करने से मुस्लिम समुदाय म

डीडवाना कायमखानी छात्रावास प्रबंध समिति की मीटिंग मे कोचिंग चलाने का निर्णय हुवा।

डीडवाना-राजस्थान।                क़ौम के तालीमी (शैक्षिक), क़ौमी (सामाजिक)  और मआशी  (आर्थिक) तरक्की हेतु काम करना एक महती आवश्यकता मानते हुये क़ौम के इदारों विशेषतः होस्टल्स का उपयोग किया जाने पर सभी उपस्थित लोगो द्वारा बल देते हुये कायमखानी हॉस्टल, डीडवाना को एक आदर्श मॉडल के रूप में विकसित करने के क्रम में आज हॉस्टल के संरक्षक कप्तान साहब अल्लाद्दीन खां झाड़ोद की अध्यक्षता में एक विशेष बैठक आयोजित हुई जिसमे सर्वसम्मति से दो महत्वपूर्ण प्रस्ताव पारित किए गये।      1-आगामी मुक़ाबलाती इम्तिहानत जैसे रीट, पटवारी, हाई कोर्ट एलडीसी आदि के लिए स्तरीय कोचिंग हेतु एक कमेटी का गठन किया गया* जो की इस बाबत कार्य योजना बनाकर इसे क्रियान्वित करेगी I उक्त कमैटी के सदस्य है- 1-अख़लाक़ खां  प्रिंसिपल चौलूखां 2- राजेश खां प्रिंसिपल धनकोली 3-इलियास खां प्रिंसिपल निम्बी कलां 4- सिकंदर खां लेक्चरर चौलूखां (को-ऑर्डिनेटर) 5- अयूब खां लेक्चरर निमोद 6-इलियास खां सीनियर टीचर बेरी छोटी 7-अय्याज़ खां टीचर धनकोली   8-जाकिर खान सीनियर टीचर निम्बी कलां l          पीछे के हॉल के ऊपर सम्पूर्ण सुविधाओं से युक्त कॉम्पिटिशन क

प्रदेश में जाटों ने दी आंदोलन की चेतावनी, सरकार से की यह मांग...

   भरतपुर।                 राजस्थान के भरतपुर जिले में गुर्जर आंदोलन  की आग अभी बुझी ही थी कि अब जाटों ने भी आंदोलन की चेतावनी दे डाली है. भरतपुर, धौलपुर जिलों के जाटों को केंद्र में आरक्षण की है. मांग  2017 जाट आंदोलन समझौता वार्ता के दौरान सरकार ने किया था. जाट आंदोलन संघर्ष समिति के संयोजक नैम सिंह फौजदार ने कहा कि केंद्र को चिट्ठी लिखने का वादा, आंदोलनकारियों से मुकदमे वापस लेने सहित तमाम मांगों को लेकर आगामी 18 नवंबर को जाटों की  महापंचायत आगरा-जयपुर नेशनल हाइवे के पास पथेना गांव में होगी. इसके लिए जाट आरक्षण संघर्ष समिति गांव-गांव जाकर पीले चावल बांटकर महापंचायत में आने के लिए लोगों को न्योता दे रही है।भरतपुर धौलपुर जाट आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक नेम सिंह फौजदार ने बताया है कि वर्ष 2017 में हुए जाट आंदोलन समझौता वार्ता के दौरान सरकार ने वादा किया था कि भरतपुर धौलपुर जिलों के जाटों को ओबीसी वर्ग में केंद्र में आरक्षण दिलाने के लिए सिफारिश चिट्ठी लिखेगी व आन्दोलनकारियो पर लगे मुकदमों को वापस लिया जाएगा. साथ ही चयनित अभ्यर्थियों को नियुक्ति दी जाएगी. मगर दो वर्ष होने के बाद भी को

मंत्री भंवरलाल का निधन:72 साल के भंवरलाल ने गुड़गांव के मेदांता में ली अंतिम सांस, 18 दिन पहले बेटी का निधन हुआ था

जयपुर : राजस्थान में कांग्रेस के बड़े दलित नेता और गहलोत सरकार में कैबिनेट मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल का सोमवार देर शाम को निधन हो गया। 72 साल के मेघवाल ने गुड़गांव के मेदांता अस्पताल में अंतिम सांस ली। वह काफी टाइम से मेदांता अस्पताल में वेंटिलेटर पर चल रहे थे। 29 अक्टूबर को मेघवाल की बेटी बनारसी मेघवाल का भी निधन हुआ था। मेघवाल के निधन की खबर से कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं में शोक की लहर दौड़ गई। गहलोत सरकार में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता और आपदा प्रबंधन मंत्री मेघवाल कांग्रेस में इंदिरा गांधी के वक्त से जुड़े थे। शेखावाटी और बीकानेर संभाग में दलित वोट बैंक में उनकी खासी पकड़ थी। उनके निधन पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सहित अन्य नेताओं ने शोक संवेदना व्यक्त की। मास्टर भंवरलाल मेघवाल के निधन के बाद कांग्रेस की मंगलवार को होने वाली कार्यशाला सहित अन्य सभी कार्यक्रम स्थगित कर दिए गए। मंगलवार को राज्य में राजकीय शोक रहेगा। मास्टर भंवरलाल मेघवाल की छवि एक कुशल प्रशासक की मानी जाती थी l वे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की पिछली सरकार में शिक्षा मंत्री थे। वर्तमान में चूरू की सुजानगढ़ सीट से विध

आंदोलन व जारी पैदल दांडी यात्रा के बाद भी मुख्यमंत्री गहलोत जायज मांग भी मानने को अभी तक तैयार नहीं।  - अनेक वर्तमान व पूर्व विधायको सहित अनेक नेताओं ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर मांगे मानने का निवेदन किया।

जयपुर।             राजस्थान का मुस्लिम समुदाय मदरसा पैराटीचर्स को नियमित करने व उर्दू सहित अन्य अल्पसंख्यक भाषाओ के साथ अन्यायपूर्ण पक्षपात करके जारी किये गये आदेशो को निरस्त करके 2004 के आदेश की बहाली के साथ साथ सरकारी स्कूल/कोलोज मे उर्दू अध्यापक/लेक्चर के पद स्वीकृत करके उनकी नियुक्ति करने को लेकर पीछले एक अर्शे से उर्दू शिक्षक संघ के अध्यक्ष आमीन कायमखानी के नेतृत्व मे उर्दू अध्यापक संघ व मदरसा पैराटीचर्स संघ लगातार आंदोलन करते आ रहे है। इन्ही मांगो को लेकर एक नवम्बर को राजस्थान के चूरु शहर से दांडी (गुजरात) की तकरीबन 1090 किलोमीटर की पैदल यात्रा पर शिक्षक शमशेर भालूखां निकल के को आज सोलह दिन होने को आये है पर अभी तक सरकार के कानो तक किसी तरह की जू तक नही रेंगी है। जबकि उक्त दांडी यात्रा की गम्भीरता को देखकर राजस्थान के अनेक विधायकों व पूर्व विधायको ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर उक्त मांगो को मानने का निवेदन भी कर चुके है।         पैदल दांडी यात्रा पर निकले शिक्षक कांग्रेस के पूर्व विधायक भालूखां के पूत्र व उर्दू शिक्षक शमशेर भालूखां ने इस यात्रा को राष्ट्रीय सदभावना यात्रा ( दांडी

नुआ के लाडले व भारतीय प्रशासनिक सेवा के सेवानिवृत्त अधिकारी अशफाक हुसैन विश्व प्रसिद्ध अजमेर दरगाह के नाजिम बनाये गये।

जयपुर।             राजस्थान के झुंझुनूं जिले के नुआ गावं के लाडले व भारतीय प्रशासनिक सेवा के सेवानिवृत्त अधिकारी अशफाक हुसैन को अजमेर की नामी दरगाह संत सुफी ख्वाजा मईनुद्दीन चिस्ती का आज नाजिम नियुक्त किया गया है।            रिटायर्ड आईएएस अशफाक हुसैन इससे पहले भी अजमेर दरगाह के 1997-से 2000 व जुलाई 2014-से अक्टूबर 2016 तक दो दफा नाजिम रह चुके है।                  अपनी सरकारी सेवाकाल मे अशफाक हुसैन विभिन्न महत्वपूर्ण पदो के अलावा दोसा के जिला कलेक्टर रह चुके है। अशफाक हुसैन के परिवार को अधिकारियों की खान कहा जाता है। अशफाक हुसैन के बडे भाई मरहूम लियाकत अली खान राजस्थान मे आईजी पुलिस रहे है व छोटे भाई जाकीर हुसैन हनुमानगढ़ जिला कलेक्टर के पद पर वर्तमान मे पदस्थापित है। इनका भतीजा राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारी शाहीन अली राजस्थान प्रशासनिक सेवा अधिकारी ऐसोसिएशन के अध्यक्ष है। इनकी पुत्री फराह हुसैन आईआरएस है तो दामाद कमर जमन चोधरी भारतीय प्रशासनिक सेवा के राजस्थान केडर मे अधिकारी है। उक्त अधिकारियों के अलावा इनके परिवारजन आर्मी मे भी उच्च अधिकारी है व रहे है।             कुल मिलाकर यह

राजस्थान के चूरू के जिला जेल में बैरक की तलाशी के दौरान कैदियों ने जमकर हंगामा किया. कैदियों के दो गैंग एक दूसरे से भीड़ गए।

चूरू (राजस्थान)।.                राजस्थान के चूरू के जिला जेल में उस वक्त हड़कम्प मच गया जब जेल में बंद हार्डकोर कैदी आपस में भीड़ गए. बर्तनों से धारदार हथियार बनाकर कैदियों ने एक दूसरे पर हमला कर दिया और जेल में तोडफोड शुरू कर दी. हालात जेल प्रसाशन के काबू से बाहर होते देखकर जेल अधीक्षक ने मामले की जानकारी जिला कलेक्टर और एसपी को दी. इसके बाद चार थानों के पुलिस जत्थे के साथ एएसपी योगेंद्र फौजदार और सहायक पुलिस अधीक्षक शैलेंद्र इन्दोलिया जिला जेल पहुंचे और उग्र हुए कैदियों से सख्ती से पेश आते हुए मामला शांत करवाया. जेल में बंद कैदियों ने जेल परिसर में ही स्थित डिस्पेंसिरी के शीशे तोड़ दिए और जिस थाली में खाना परोस के दिया जाता है उसी स्टील की थाली को धारधार हथियार बना हमला करने लगे. बहरहाल, जेल प्रसाशन हंगामा करने वाले सभी हार्डकोर बदमाशों के खिलाफ मामला दर्ज करवाने की तैयारी कर रहा है. तलाशी के दौरान मारपीट जिला जेल में गुरुवार को यह हालत उस वक्त बिगड़े जब हमेशा की तरह ही सुबह कैदियों की बैरक में तलाशी का अभियान शुरू किया गया था. इन सभी कैदियों को बेरिक से बाहर निकाला गया. उसी वक्त ह

 भ्रष्टाचारियों को जैल पहुंचाने मे सीकर ऐसीबी दफ्तर के बढते कदम।

सीकर।              हालांकि राजस्थान ऐसीबी मे भारतीय पुलिस सेवा के सीनीयर अधिकारी एम एन दिनेश की तैनाती के बाद राजस्थान ऐसीबी ने प्रदेश मे सरकारी सेवा मे कार्यरत अधिकारी व कर्मचारियों के अलावा जनप्रतिनिधियों मे से जो लोग भ्रष्टाचारी बन रहे है, उन पर ब्यूरो ट्रेप की कार्यवाही करते हुये उन पर तेजी से शिकंजा कसने मे सफल हो रहा है। हाल ही मे ऐसीबी मे डीजी पद  पर भगवान लाल सोनी की तैनाती के बाद विभाग मे ओर अधिक ठीक से समन्वय स्थापित होने से ट्रेप की कार्यवाही मे लगातार इजाफा होता नजर आ रहा है। ऐसीबी के अधिकारियों मे ठीक से समन्वय स्थापित होने के बाद पूरे प्रदेश की तरह अब ऐसीबी की सीकर चौकी की टीम द्वारा जिले व जिले के बाहर अन्य जिलो मे भी जाकर कर्मियों को रिश्वत लेते रंगे हाथो गिरफ्तार करके भ्रष्टाचारियों को जैल पहुंचाने मे कामयाबी पाई है।            सीकर ऐसीबी दफ्तर की टीम ने 12-नवम्बर को झूंझुनू जिले के गुडा गोड़जी थाने की भोड़की पुलिस चोकी के थानेदार रामस्वरूप ASI को पंद्रह हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ कर उसको सलाखों के पिछे भेजने का इंतजाम किया है। इससे पहले सीकर ब्यूरो की टीम ने ही ना

मुख्यमंत्री गहलोत ने छ नगर निगम के मेयर उम्मीदवार चयन को लेकर मुस्लिम समुदाय को फिर झटका दिया। -- इस फैसले के बाद मुस्लिम समुदाय मे गहलोत के प्रति आक्रोश व्याप्त

जयपुर।              हालांकि जब जब अशोक गहलोत राज्य के मुख्यमंत्री बने है तब तब अगले विधानसभा चुनाव मे कांग्रेस को गहलोत के मुख्यमंत्री के रुप मे काम करने के तरीकों को लेकर जनता की खासतौर पर पार्टी वोटबैंक की नाराजगी के चलते बूरी तरह हार का सामना करने के बावजूद कांग्रेस हाईकमान ने इससे कोई सबक लेकर उसमे सुधार करके दुसरे नेता को मुख्यमंत्री बनाने की बजाय गहलोत को ही राजस्थान की जनता पर बार बार थोपने का परिणाम पहले 156-से 56, फिर 96-21 व अब 101 से पांच-छ सीट पर कांग्रेस को लाकर पटकने की सम्भावना जताई जाने लगी है। जयपुर-जोधपुर व कोटा की छ नगर निगम के हाल ही मे हुये चुनावो के बाद आज कांग्रेस द्वारा अपने मेयर के छ उम्मीदवारों की घोषणा करने से किसी भी मुस्लिम को मेयर का उम्मीदवार नही बनाने को मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा फिर एक दफा मुस्लिम समुदाय को जोर से झटका देकर समुदाय को अहसास करवा दिया है कि गहलोत के रहते वो नेतृत्व की उम्मीद ना करके केवल कांग्रेस का मतदाता ही बने रहने की आदत मन मे बैठाकर रख ले। जबकि उक्त नगर निगम चुनावो मे मुस्लिम पार्षद बडी तादाद मे जीतकर आये है एवं मुस्लिम मतदाताओं द्वा

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत राजस्थान की तस्वीर बदल रहे है या फिर अपने चहतो को पुरुस्कृत करने मे लगे है?

जयपुर।              हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत स्वयं मूल पीछड़ा वर्ग की माली बिरादरी से आते है। एवं उन्होने अब राजस्थान के प्रमुख ओहदो व संस्थाओं के प्रमुख पदो पर दलित व पीछड़े वर्ग के लोगो को बैठाकर एक नया संदेश देते हुये राजस्थान की तस्वीर बदलने की तरफ कदम बढाते साफ नजर आ रहे है। या फिर अपने मुख्यमंत्री काल मे अपनो को पुरुस्कृत करने मे लगे है।                वैसे तो प्रमुख पदो पर किस को पदस्थापित किया जाये या मुख्यमंत्री के अपने विवेक पर निर्भर करने के साथ उनका अधिकार होता है। लेकिन दस सीनीयर ब्यूरोक्रेट्स की वरिष्ठता को लांघ कर प्रदेश के इतिहास मे पहली दफा किसी अनुसूचित जाति के अधिकारी निरंजन आर्य को राज्य का मुख्य सचिव बनाया जाना अपने आपमे अलग सा नजर आ रहा है। वेसे मुख्य सचिव निरंजन आर्य के मुख्यमंत्री गहलोत का काफी करीबी होने की चर्चा काफी अर्शे से सुनने मे आती रही है। मुख्यमंत्री गहलोत ने अपने करीबी भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी निरंजन आर्य की पत्नी को पहले सोजत से कांग्रेस की टिकट विधानसभा चुनाव मे दिलवा कर चुनाव लड़वाया। जब वो चुनाव जीत नही पाई तो उसको राजस्थान लोकसेवा आयो

नारी विरोधी मानसिकता है मुकेश खन्ना की : शोएब चौधरी

फारसी में एक कथन है ‘ जवाब ए जहिलां खामोशी बाशद’ यानी जाहिल की बात का जवाब खामोशी है। मुझे इस कथन से ही ऐतराज़ है क्योंकि मेरा मानना है कि जाहिलों की जिहालत वाली बातों का जवाब देना चाहिए और भरपूर अंदाज़ में दिया जाना चाहिए। एक बात अस्पष्ट करदुं की जाहिल केवल वही नहीं होते जिन्हें अक्षर ज्ञान नहीं होता, वी भी जाहिल ही कहलाते हैं हो पढ़े लिखे होने के बावजूद किसी के प्रति घटिया सोच रखते हैं। पितृ सत्ता के नशे में चूर महिला विरोधी मर्द भी इसी कैटेगरी में आते हैं। चलिए बात शुरू करने से पहले थोड़ा सा इतिहास में झांकते हैं। नहीं ज़्यादा पूराना इतिहास या महाभारत काल में नहीं झांकेंगे जिस पर बने महाभारत सीरियल में मुकेश खन्ना जी ने भीष्म पितामह का किरदार अदा किया था, वह किरदार जो महिलाओं को अपनी जागीर समझने की सोच के तहत हुए द्रोपदी के चीरहरण पर खामोश तमाशाई बना बैठा था। में अभी आपको सत्तर के दशक में लेकर जाना चाहूंगा। यह उस समय की बात है जब अमेरिका और वियतनाम के बीच खूनी युद्ध हो रहा था और खुद अमेरिकी जनता युद्ध के विरूद्ध सड़कों पर उतर आई थी। वियतनाम युद्ध के विरोध में और सिविल अधिकारों क

करावल नगर की अल्लाह वाली मस्जिद मरम्मत व नवीनीकरण के बाद नमाज़ियों के हवाला यह वही मस्जिद है जिसमें आग लगाकर उप्रवियों ने भगवा झंडा फहरा दिया था - हम ज़ख़्म लगाने वाले नहीं, ज़ख़्मों पर मरहम रखने वाले लोग हैं : मौलाना अरशद मदनी

नई दिल्ली, :गत फरवरी में उत्तर-पूर्वी दिल्ली के क्षेत्रों में जो भीषण दंगे हुए उनमें जान-माल का नुक़सान ही नहीं हुआ बल्कि सांप्रदायिकता के जुनून में उपद्रवियों ने बहुत सी इबादत गाहों की पवित्रता को भी भंग किया था, उनमें आग लगाई गई और अंदर घुस कर उत्तेजक नारे भी लगए गए। करावल नगर में स्थित अल्लाह वाली मस्जिद भी उनमें से एक है जिसे दंगों के दौरान आग लगा दी गई थी, उपद्रवियों ने इसी पर बस नहीं किया था बल्कि उसके अंदर एक मूर्ती भी रख दी थी और इसके मीनारों पर भगवा झंडा लहरा दिया था, उसकी तस्वीरें तमाम अखबारों में प्रकाशित हुई थीं और सोशल मीडीया पर भी उसे खूब वायरल किया गया था। मौलाना सैयद अरशद मदनी की निर्देश पर जमीअत उलमा-ए-हिंद के कार्यकर्ता और सदस्य दंगों के दौरान लोगों की धर्म से ऊपर उठकर सहायता कर रहे थे और जहां कहीं से किसी अप्रिय घटना की सूचना मिलती थी, प्रशासन और पुलिस के उच्च अधिकारों से संपर्क करके जमीअत उलमा-ए-हिंद के लोग उस क्षेत्र में तुरंत पहुंच जाते थे। इसी लिए जब मस्जिद अल्लाह वाली से संबंधित खबरें सामने आईं तो मौलाना सैयद अरशद मदनी के विशेष निर्देश पर जमीअत उलमा दिल्ली के मह

हनीट्रैप में जासूसी करने का आरोपी रामनिवास गौरा गिरफ्तार , पाकिस्तानी खुफिया को देता था सूचना

  जयपुर  अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस (इन्टैलीजेन्स) उमेश मिश्रा के निर्देशानुसार पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी द्वारा छदम नाम से संचालित सोशल मिडिया अकाउन्ट पर सम्पर्क में रहते हुए भारतीय सेना से सम्बंधित सामरिक महत्व की सूचना भेजने में लिप्त संदिग्ध रामनिवास गौरा पुत्र पांचूराम गौरा, उम्र-28 वर्ष, निवासी-बाजवास, परबतसर नागौर हाल चालक (भारतीय सशस्त्र सेनाएं सिविलियन) कार्यालय निवारू जयपुर में कार्यरत को समस्त आसूचना एजेंसियों द्वारा पूछताछ करने पर जासूसी गतिविधियों में लिप्त पाये जाने पर सीआईडी विशेष शाखा जयपुर के स्पेशल पुलिस स्टेशन पर शासकीय गुप्त बात अधिनियम 1923 के तहत मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार किया गया है।      गिरफ्तार युवक पिछले वर्षों से जासूसी गतिविधियों में सक्रिय था, जिस पर उच्चाधिकारियों के निर्देशन पर खुफिया तौर से निगरानी रखी जा रही थी जिसके बाद निर्देशानुसार रामनिवास गौरा को पूछताछ हेतु तलब कर पूछताछ की गयी थी। पूछताछ पर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी द्वारा छदम नाम से संचालित सोशल मिडिया अकाउंन्ट पर सम्पर्क में रहते हुए भारतीय सेना से सम्बंधित सामरिक महत्व की सूचना भेजना एवं भेजी गई स