सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एआईएमआईएम के राजस्थान आने से पहले कांग्रेस नेताओं मे बोखलाहट। राजस्थान मीडिया मे आवेसी को लेकर बहस व लेख लिखने शुरु।

 
 


जयपुर।
              ।अशफाक कायमखानी।


               प्रदेश मे एक अर्शे से दो दलीय व्यवस्था कायम होने से मुस्लिम मतदाताओं को कांग्रेस द्वारा केवल मात्र वोटबैंक की तरह उपयोग कर उनके हको पर गम्भीर चोट करते हुये सत्ता की भागीदारी से उन्हें दूर रखने के चले आ रहे सीलसीले के मध्य बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी के नेतृत्व वाली एआईएमआईएम के आगामी विधानसभा चुनाव मे राजस्थान मे तकरीबन 40-45 सीटो पर उम्मीदवार खड़े करने की आहट मात्र से कांग्रेस नेताओं की बोखलाहट व घबराहट साफ नजर आने लगी है। कांग्रेस के दिग्गज नेता आवेसी के खिलाफ बयानबाजी करने लगे है वही कांग्रेस मे मोजूद मुस्लिम नेताओं को आवेसी पर विभिन्न तरह से शब्द बाण छोड़ने के निर्देश भी दे दिये बताते है।
          बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी के नेतृत्व वाली एआईएमआईएम के बिहार मे पांच विधायक जीतने के बाद उनके समर्थकों के होंसले को बडी ताकत मिली है। राजस्थान मे कांग्रेस द्वारा मुस्लिम मतदाताओं का राजनीतिक शोषण करने के खिलाफ अब समुदाय के खासतोर पर युवाओं ने कमर कस कर एआईएमआईएम के संगठन को राजस्थान मे अभी से खड़ा करके आगामी विधानसभा व लोकसभा चुनाव लड़ने की मंशा के आगे बढने से कांग्रेस मे वर्तमान मे एक अजीब सी हलचल मच चुकी है। टीवी न्यूज चैनल व अखबारात मे आवेसी के राजस्थान मे आकर राजनीति करने पर बहस होने के अलावा लेख व विश्लेषण छपने लगे है। कांग्रेस के मुख्य सचेतक महेश जोशी जिन्होंने पहले भी अपने दल के विधायकों व नेताओं के खिलाफ ऐसीबी व एसओजी मे शिकायत दर्ज करवाई उसके बाद उक्त मामले मे मुंह की खाते हुये पिछे हटना पड़ा था। उसी महेश जोशी ने आवेसी को भाजपा ऐजेंट बताकर अपनी खिसकती राजनीतिक जमीन से बोखलाहट होना सिद्ध कर दिया है।


           


 कांग्रेस व कांग्रेस नेताओं की हमेशा कोशिश रहती आई है कि उन्होंने मुस्लिम समुदाय को अपना वोटबैंक बनाये रखने के हर प्रकार के प्रयत्न करके राजनीतिक रोटियां सेकने के लिये अलग से उभरतीं मुस्लिम लीडरशिप का विरोध किया है। एवं अभी भी इस तरह का विरोध करने से बाज नही आ रहे है। बिहार मे मोलाना बदरुद्दीन अजमल ने जब अलग से AIUDF पार्टी बनाकर चुनाव लड़ा तो कांग्रेस पार्टी व नेताओं के पेट मे काफी दर्द हुवा था। अजमल पर विभिन्न तरह के गम्भीर आरोप लगाते रहे। लेकिन अजमल ने हिम्मत व राजनीतिक सूझबूझ से अपनी राजनीति को आगे बढाते रहे है। आज जाकर हालात यह बन गये है कि आसाम मे अब जाट कांग्रेस स्वयं अजमल से समझोता करके विधानसभा चुनाव लड़ने के लिये उनके पिछे पड़ी है। इसी तरह तेलंगाना के हेदराबाद मे कांग्रेस लोकसभा-विधानसभा व नगरनिगम मे इसलिए चुनाव लड़ती है कि वो एआईएमआईएम के वोट काटकर उसे कुछ जगह हरा सके।
            कुल मिलाकर यह है कि बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी के नेतृत्व वाली एआईएमआईएम के राजस्थान के आम विधानसभा चुनाव मे भाग लेकर उम्मीदवार खड़े की खबर मात्र से कांग्रेस नेताओं को बैचेन कर दिया है। तिलमिलाये कांग्रेस नेता आवेसी पर बोखलाहट मे गम्भीर आरोप लगाने लगे है। धीरे धीरे कांग्रेस अपने मुस्लिम नेताओं के मुहं से आवेसी पर आरोप लगाने का सीलसीला भी जारी कर सकती है। इसी के मध्य खबर आई है कि बंगाल विधानसभा व हेदराबाद नगरनिगम चुनावों के बाद आवेसी राजस्थान मे सभाओ का सीलसीला शुरु करेगे। इससे पहले उनके विश्वसनीय नेताओं द्वारा राजस्थान आकर संगठन खड़ा करके जमीन तैयार करेगे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।