मुख्यमंत्री गहलोत ने छ नगर निगम के मेयर उम्मीदवार चयन को लेकर मुस्लिम समुदाय को फिर झटका दिया। -- इस फैसले के बाद मुस्लिम समुदाय मे गहलोत के प्रति आक्रोश व्याप्त



जयपुर।
             हालांकि जब जब अशोक गहलोत राज्य के मुख्यमंत्री बने है तब तब अगले विधानसभा चुनाव मे कांग्रेस को गहलोत के मुख्यमंत्री के रुप मे काम करने के तरीकों को लेकर जनता की खासतौर पर पार्टी वोटबैंक की नाराजगी के चलते बूरी तरह हार का सामना करने के बावजूद कांग्रेस हाईकमान ने इससे कोई सबक लेकर उसमे सुधार करके दुसरे नेता को मुख्यमंत्री बनाने की बजाय गहलोत को ही राजस्थान की जनता पर बार बार थोपने का परिणाम पहले 156-से 56, फिर 96-21 व अब 101 से पांच-छ सीट पर कांग्रेस को लाकर पटकने की सम्भावना जताई जाने लगी है। जयपुर-जोधपुर व कोटा की छ नगर निगम के हाल ही मे हुये चुनावो के बाद आज कांग्रेस द्वारा अपने मेयर के छ उम्मीदवारों की घोषणा करने से किसी भी मुस्लिम को मेयर का उम्मीदवार नही बनाने को मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा फिर एक दफा मुस्लिम समुदाय को जोर से झटका देकर समुदाय को अहसास करवा दिया है कि गहलोत के रहते वो नेतृत्व की उम्मीद ना करके केवल कांग्रेस का मतदाता ही बने रहने की आदत मन मे बैठाकर रख ले। जबकि उक्त नगर निगम चुनावो मे मुस्लिम पार्षद बडी तादाद मे जीतकर आये है एवं मुस्लिम मतदाताओं द्वारा कांग्रेस के पक्ष मे मतदान करने के कारण ही अधीकांश अन्य उम्मीदवार जीत पाये है। गहलोत के मेयर उम्मीदवार चयन के तरीके को लेकर समुदाय मे भारी बैचेनी व उनके प्रति आक्रोश व्याप्त होना देखा जा रहा है।
               राजनीति को राज करने की नीति माना जाता है। जिस तबके की रणनीति स्टीक होगी वो राजनीति मे कामयाब होकर सत्ता की कुर्शी को पाता है। साथ ही राजनीति मे उलट-फैर करने की ताकत रखने के अलावा जो तबका बंधुआ मजदूर की तरह बंधुआ वोटबैंक होने से छुटकारा पा लेता है वो तबका राजनीति मे अपनी बात मनवाने मे काम होता है। लेकिन कांग्रेस द्वारा मेयर उम्मीदवार से मुस्लिम समुदाय को पूरी तरह अलग थलग करने के बाद किसी ने आज यू कहा कि "जैहन जब गुलामीयत स्वीकार कर लेता है-तब ताकत भी कोई काम नहीं आ सकती है"।
               


  जयपुर हैरिटेज नगर निगम मे कांग्रेस के नीशान पर कुल 47 पार्षद जीते उनमे 21 मुस्लिम पार्षद जीत कर आये। बहुमत का आंकड़ा पाने के लिये कांग्रेस को जब चार पार्षद की ओर जरूरत पड़ी तो नो अन्य निर्दलीय मुस्लिम पार्षदो ने भाजपा को रोकने के लिये कांग्रेस को समर्थन दिया तो कांग्रेस ने मेयर उम्मीदवार से मुस्लिम समुदाय को ही रोक कर उनके साथ विश्वासघात करते हुये अन्य को आज उम्मीदवार घोषित करने के बाद समुदाय ठगा हुवा महसूस कर रहा है। जयपुर की ही तरह कांग्रेस ने जोधपुर व कोटा नगर निगम के भी मेयर उम्मीदवार से मुस्लिम समुदाय को दूर रखते हुये अन्य उम्मीदवार आज घोषित कर दिये। जबकि जयपुर की तरह ही जोधपुर व कोटा नगर निगम चुनाव मे भी मुस्लिम पार्षद बडी तादाद मे जीत कर आये है। सुचना के अनुसार जोधपुर मे 36 व जयपुर मे 35 एवं कोटा नगर निगम मे 23 मुस्लिम पार्षद जीतकर आये बताते है। कांग्रेस ने जयपुर हैरिटेज से मुनेश कुमारी गुर्जर, जयपुर ग्रेटर से दिव्या सिंह, जोधपुर उत्तर से कुन्ती परिहार, जोधपुर दक्षिण से पुजा पारीक , कोटा नोर्थ से मंजू मेहरा व कोटा दक्षिण से राजीव अग्रवाल को मेयर का उम्मीदवार घोषित किया है।
 



             


 मुख्यमंत्री गहलोत ने मुस्लिम समुदाय को आज मेयर उम्मीदवार चयन मे ही झटका नही दिया है। दो साल पहले जब अशोक गहलोत मुख्यमंत्री बने थे तब से उनके द्वारा लगातार एक के बाद एक लगातार झटका देने का सीलसीला जारी रखा हुवा है। अवल मंत्रिमंडल गठन मे एक मात्र शाले मोहम्मद को मंत्री बनाया। उसके बाद विभाग बंटवारे मे शाले मोहम्मद को किसी मेन स्टीम वाले विभाग का प्रभार देने की बजाय मात्र अल्पसंख्यक मंत्रालय का प्रभार दिया। उसके बाद हाईकोर्ट मे एक महाअधिवक्ता व सोलह अतिरिक्त महाअधिवक्ताओ की नियुक्ति की जिसमे एक भी मुस्लिम को नियुक्त नही किया। पीछले माह गहलोत ने राजस्थान लोकसेवा आयोग के एक चेयरमैन व चार सदस्यों का मनोनयन किया जिसमे भी मुस्लिम प्रतिनिधित्व देने का साहस नही जुटाया। इसके अलावा गहलोत के मुख्यमंत्री कार्यकाल की अनेक घटनाओं को याद करने से लगता है कि कांग्रेस की सरकार बनाने मे महत्त्वपूर्ण रोल अदा करने वाले मुस्लिम मतदाताओं के साथ गहलोत लगातार इस तरह का बर्ताव क्यो करते आ रहे है। पता नही गहलोत मुसलमानों को टारगेट करते हुये सोफ्ट हिन्दुत्व के ऐजेण्डे पर काम क्यो करने पर उतारू है। गहलोत के राज्य के गृहमंत्री रहते काला कानून टाडा के तहत मुस्लिम की पहली गिरफ्तारी करके टाडा कानून की शूरुआत, गोपालगढ़ मे मस्जिद मे नमाजियों पर पुलिस द्वारा गोलियां चलाकर हलाक करने के साथ थानेदार फूल मोहम्मद के सरकारी डयूटी करते समय भीड़ द्वारा सरेआम जींदा जला देने के बाद मुख्यमंत्री गहलोत व उनके मंत्रीमण्डल के किसी सदस्यों मे से किसी का भी उसके घर जाकर उनके परिजनों को सांत्वना तक नही देने नहीं जाना अलग तरह का इतिहास दोहराया जाना नजर आता है।
             कुल मिलाकर यह है कि राजस्थान के छ नगर निगम के हुये चुनावों के बाद दस नवम्बर को होने वाले मेयर चुनाव के लिये कांग्रेस ने आज अपने उम्मीदवारों की घोषणा की है। बडी तादाद मे मुस्लिम पार्षदों के चुनाव जीतने के बावजूद कांग्रेस द्वारा छ मे से एक भी मुस्लिम को मेयर का उम्मीदवार नही बनाने को लेकर मुख्यमंत्री गहलोत व कांग्रेस के खिलाफ मुस्लिम समुदाय मे भारी रोष व्याप्त है। जो कांग्रेस पार्टी के लिये शुभ संकेत नही माना जा सकता है।


Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
मुस्लिम समुदाय की नाराजगी से राजस्थान के पंचायत चुनाव मे कांग्रेस को मुश्किलातों का सामना करना पड़ सकता है।