सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

सितंबर, 2022 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आई0आई0एल0एम0 एकेडमी ऑफ हायर लर्निंग, गोमती नगर ने अपना 17वाँ दीक्षांत समारोह ऐतिहासिक रूप से मनाया

 आई0आई0एल0एम0 एकेडमी ऑफ हायर लर्निंग, गोमती नगर, लखनऊ जो कि प्रबंधन शिक्षा के क्षेत्र में एक स्थापित नाम है, ने दिनांक 24 सितम्बर, 2022 को अपना 17वाँ दीक्षांत समारोह ऐतिहासिक रूप से मनाया एवं  पी0जी0डी0एम0 और एम0बी0ए0 के स्नातक बैचों को डिप्लोमा और प्रमाणपत्र प्रदान किए गए। कोविड महामारी के बाद यह पहला दीक्षांत समारोह है जो व्यक्तिगत रूप से सम्पन्न हुआ। इसमें बैच 2018-20, 2019-21 तथा 2020-22 के छात्रों को उपाधियाँ प्रदान की गईं।   दीक्षांत समारोह की शुरुआत मंगलाचरण एवं सरस्वती वन्दना के साथ हुई एवं आई0आई0एल0एम0 लखनऊ की निदेशक डॉ0 नायला रूश्दी द्वारा समारोह के शुभारम्भ की घोषणा की। समारोह की शुरुआत मुख्य अतिथि डाॅ0 मनोज दीक्षित, विभागाध्यक्ष - लोक प्रशासन विभाग, लखनऊ विश्वविद्यालय, लखनऊ एवं पूर्व कुलपति राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय, अयोध्या की उपस्थिति में हुई। श्री संदीप श्रीवास्तव, रीजनल बिजनेस हैड - एच0डी0एफ0सी0 ए0एम0सी0 लिमिटेड लखनऊ, कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित हुए।  दीक्षांत समारोह के मुख्य अतिथि, डाॅ0 मनोज दीक्षित ने पी0जी0डी0एम0 छात्रों को एआईसीटीई द्वारा

जयपुर ACB की बड़ी कार्रवाई, थानागाजी MLA के दो बेटों सहित 4 गिरफ्तार; बिल पास करने के लिए मांगे थे 5 लाख रुपए

        ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।            जयपुर भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के एक दल ने अलवर में बड़ी कार्रवाई की है. एसीबी ने निर्दलीय विधायक कांती प्रसाद मीणा के दो बेटों समेत चार लोगों को रिश्वत लेते गिरफ्तार कर लिया है. इनके अलावा राजगढ़ प्रधान भंवरी देवी का बेटा जयप्रकाश और राजगढ़ बीडीओ नेतराम मीणा को भी गिरफ्तार किया है. मिली जानकारी के अनुसार हैंडपंप खुदाई के 14 लाख रुपये के बिल पास करने की एवज में इन लोगों ने पांच लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी.  पुलिस ने निर्दलीय विधायक कांती प्रसाद मीणा के छोटे बेटे कृष्णा मीणा से घूस में लिए गए 5 लाख रुपए भी बरामद कर लिए हैं. ACB ने यह कार्रवाई शुक्रवार रात जयपुर में की. पूछताछ के बाद अलवर के थानागाजी से विधायक के दूसरे बेटे लोकेश, राजगढ़ BDO नेतराम और प्रधान का बेटा जयप्रकाश को गिरफ्तार किया। MLA ने कहा- मेरे बेटों को षड्यंत्र के तहत फंसाया गया। एसीबी के अनुसार, सभी आरोपियों को आज जयपुर के एसीबी विशेष न्यायालय में पेश किया जाएगा. फिलहाल मामले की जांच चल रही है. इस मामले में कुछ और लोगों की भी गिरफ्तारी हो सकती है. वहीं इस मामले में एमएलए कांती प्र

सतीश पूनिया को धक्का मारकर पुलिस ने नीचे गिराया: जयपुर में पुलिस और BJP कार्यकर्ता भिड़े; विधानसभा जाने का कर रहे प्रयास

     ।अशफाक कायमखानी। जयपुर.।           भारतीय जनता पार्टी की ओर से लम्पी, बेरोजगारी और दूसरे मुद्दों को लेकर विधानसभा घेरने जा रहे पार्टी कार्यकर्ता पुलिस से भिड़ गए हैं। जयपुर के सहकार मार्ग पर कार्यकर्ताओं ने पुलिस की बैरिकेडिंग भी तोड़ दी। इस बीच बैरिकेडिंग पर चढ़े बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया को पुलिसवालों ने धक्का मार दिया। जिससे वे नीचे गिर गए। कार्यकर्ताओं को आगे बढ़ने से रोकने के लिए भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। इससे पहले सुबह 11 बजे सी-स्कीम स्थित बीजेपी ऑफिस से सैकड़ों की संख्या में पार्टी कार्यकर्ताओं ने पूनिया के नेतृत्व में भाजपा कार्यालय से विधानसभा घेराव के लिए कूच किया, लेकिन सहकार मार्ग पर पुलिस ने उन्हें रोक दिया।  

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद डोटासरा के गृह जिला सीकर से एक भी नही व मुख्यमंत्री गहलोत के गृह जिला जोधपुर मे परम्परागत मतदाता मुस्लिम से एक को पीसीसी सदस्य बनाया।

                    ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                 राजस्थान कांग्रेस सरकार के मंत्रिमंडल व विभाग बंटवारे एवं बोर्ड-निगम मे मुस्लिम समुदाय को उचित प्रतिनिधित्व नही मिलने के लगातार आरोपों से घिरी गहलोत सरकार के बाद प्रदेश मे मनमर्जी से अपने लोगो को प्रदेश कांग्रेस कमेटी सदस्य बनाये जाने मे भी समुदाय को कोई खास तवज्जो नही मिल पाने से समुदाय मे निराशा व उदासीनता का भाव पनप रहा है। कांग्रेस के इस तरह के फैसलो से एआईएमआईएम जैसे दल की जड़े राज्य भर मे फैलने मे खाद व पानी का मिलना माना जा रहा है।                      राजस्थान प्रदेश कांग्रेस गोविंद डोटासरा का गृह जिला सीकर के कुल सोलह ब्लॉक से बनाये गये पीसीसी सदस्यो मे एक भी मुस्लिम का नाम नही है। जबकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का गृह जिला जोधपुर से कुल बारह ब्लॉक से बनाये गये सदस्यों मे एक मुस्लिम का नाम है।               हालांकि प्रदेश के सभी पीसीसी सदस्यों की सूची को एक साथ सार्वजनिक नही करके कल जयपुर मे सदस्यों की आयोजित बैठक मे टेलिफोनिक सूचना देकर सदस्यों को आमंत्रित करके प्रभारी महामंत्री अजय माकन की उपस्थिति मे हमेशा की तरह बैठक

भाजपा सांसद सुमेधानंद सरस्वती के खिलाफ मुकदमा दर्ज।

        ।अशफाक कायमखानी।       जयपुर।                    सीकर के पीपराली गावं की गोचरभूमि पर आश्रम बनाकर रहने को लेकर सालो से विवाद मे रहते आये सीकर से लोकसभा सांसद स्वामी सुमेधानंद सरस्वती के खिलाफ जयपुर के आदर्श नगर थाने में इस्तगासा के जरिए कल शाम धोखाधड़ी करने का मामला दर्ज हुआ है। आर्य प्रतिनिधि सभा राजस्थान के मंत्री जीववर्धन शास्त्री ने यह मामला दर्ज कराया है। रिपोर्ट में सांसद सुमेधानंद के अलावा गोपालपुरा स्थित मुक्तानंद नगर निवासी देवेंद्र कुमार,भरतपुर के बयाना निवासी रवि शंकर गुप्ता, अंकुर जैन और दीपक शास्त्री को नामजद किया गया है।            मामले में सांसद स्वामी सुमेधानंद सरस्वती पर आरोप लगाया गया है कि वे वर्ष 2021 में आर्य सभा राजस्थान के प्रधान चुने गए थे लेकिन कुछ समय पश्चात उन्होंने अपनी व्यक्तिगत व्यस्तता का हवाला देकर पद से इस्तीफा दे दिया था और उनके स्थान पर किशन लाल गहलोत को प्रधान बना दिया गया। सांसद ने प्रधान न रहते हुए अन्य पदाधिकारियों के साथ फर्जी लेटर पैड छपवा कर सभा की अवैध बैठक बुलाने लगे। सांसद ने अपने राजनीतिक प्रभाव का दुरुपयोग करते हुए बैंक खाते भी सभा

एआईएमआईएम अध्यक्ष सांसद असदुद्दीन औवेसी के शेखावाटी दौरे से राजनीतिक हलको मे हलचल बढीं।

      राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष डोटासरा का चुनावी क्षेत्र लक्ष्मनगढ दौरे का मुख्य केंद्र रहा।    आम विधानसभा चुनाव मे अभी एक साल का समय रह गया है। एआईएमआईएम प्रदेश की पचास सीटो पर लड़ने का दावा कर रही हैः                 ।अशफाक कायमखानी। सीकर।                    राजस्थान के चुनावी इतिहास मे अबतक केवल मात्र एक मुस्लिम केप्टेन अय्यूब खान के दो दफा लोकसभा चुनाव जीतकर इतिहास रचने वाले शेखावाटी जनपद मे एआईएमआईएम मुखिया बेरिस्टर असदुद्दीन औवेसी के प्रदेश के पहले राजनीतिक दौरे को लेकर राजनीतिक हलके मे नई चर्चा को जन्म देकर खासतौर पर कांग्रेस खेमे मे बेचैनी पैदा करदी है। शेखावाटी जनपद का मतदाता राजनीतिक तौर पर पलटीमार व गीवन टेक मतदाता के तौर पर पहचाना जाता है।                  औवेसी द्वारा प्रदेश के अपने पहले राजनीतिक दौरे के लिये शेखावाटी जनपद को ही चुनने के प्रमुख कारण बताये जाते है। जिनमे मुस्लिम बहुल क्षेत्र होने के नाते यहां का मुस्लिम मतदाता सभी दलो के पक्ष मे मतदान करता रहा है। जनपद से  मुस्लिम स्वतंत्र पार्टी, जनता पार्टी, जनतादल- कांग्रेस व लगते डीडवाना से भाजपा के निशान पर विधायक बन

शेखावाटी व मारवाड़ की कायमखानी बिरादरी मे शैक्षणिक तौर पर लड़कियों के मुकाबले लड़को के पिछड़ने से अलग तरह का संकेत मिलने लगा!

                     ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                    हालांकि खासतौर पर शेखावाटी जनपद व मारवाड़ मे रहने वाले कायमखानी समुदाय मे पहले लड़कियों के मुकाबले लड़को का शैक्षणिक स्तर अच्छा व अधिक होने के कारण समाज के गिने चूने लड़के अपनी बराबर के शेक्षिक स्तर की लड़की नही मिलने या घर-परिवार के बदलते माहोल के कारण अंतरजातीय व अंतरधार्मिक शादियां कर लिया करते थे। लेकिन समय के साथ बिरादरी के करवट बदलने के कारण पीछले कुछ सालो मे लड़के शैक्षणिक माहोल से दूर व लड़कियों ने मयारी शिक्षा को अपना जेवर समझ कर लड़को को काफी पीछे छोड़कर कामयाबी पाने लगी है। लड़कीयां अब लड़को को शेक्षणिक क्षेत्र मे पछाड़ कर भाइयों को शिक्षा को मजबूती से व्यापक स्तर पर अपनाने का चेलेंज खड़ा कर दिया है।                    कल नीट के आये परिणाम को सामने रखकर देखते है तो लड़को के मुकाबले लड़कियों ने बेहतरीन रजल्ट दिये है।जो सीलसीला नीट के अलावा अन्य शेक्षणिक क्षेत्र मे भी नजर आ रहा है। चाहे तादाद मे कम सही लेकिन लड़कियों के शैक्षणिक स्तर व सरकारी व गैरसरकारी सेवा के पद के अनुरूप उनके रिस्ते के लिये बिरादरी मे लड़का नही मिलने के कारण क

जैनब मलवान सहित शेखावाटी जनपद की अनेक अल्पसंख्यक बालिकाओं ने नीट मे रचा इतिहास।

                ।अशफाक कायमखानी। सीकर।                हालांकि राजस्थान के अन्य हिस्सों के मुकाबले शेखावाटी जनपद मे अल्पसंख्यक समुदाय मे खासतौर पर महिला शिक्षा का चलन पीछले दो तीन दशको से अच्छा चल रहा है। यहां की बालिकाओं ने भारतीय सिविल सेवा सहित अन्य प्रशासनिक-न्यायिक-आर्मी के उच्च पदो पर मुकाबलाती परिक्षाओं को क्रैक करके सफलता पाकर सेवाएं दे रही है।               पीछले कुछ सालो मे मेडिकल की तरफ बालिकाओं का रुझान तेजी के साथ बढा है। वो निरंतर हर साल अच्छी तादाद मे सफलता का परचम लहरा रही है। आज नीट के आये रजल्ट मे सेवानिवृत्त आईजीपी कुवंर सरवर खान की पोती व सीकर के सरकारी कालेज के प्रोफेसर राज मलवान की बेटी जैनब मलवान ने सीनियर कक्षा के साथ नीट देकर उसमे  जनरल मे 554 वी एवं आल इण्डिया मे 870 वी रैंक  व 720 मे से 680 अंक पाकर इतिहास रच दिया है। जैनब ने इसी साल सीनियर सीबीएसई - 98.60 प्रतिशत से पास की है। जैनब की वालदा रेहाना भी चिकित्सक है।  इसी तरह बिसाऊ की इशरत खान ने 720 मे से 681अंक पाकर आल इण्डिया स्तर पर 667 वी रैंक पाई है।जैनब की तरह ही नुआ गावं की फरहाना ने नीट मे आल इण्डिया स्त

उधम सिंह नगर पुलिस ने बरामद की प्रतिबंधित नशीले इंजेक्शन की एक भारी खेप

          उधम सिंह नगर को नशा मुक्त बनाने के लिए पुलिस प्रशासन मुस्तैदी से काम करता हुआ दिखाई दे रहा है। जिसके चलते गदरपुर थाना पुलिस को प्रतिबंधित नशीले इंजेक्शन की एक भारी खेप बरामद हुई है।  पुलिस ने प्रतिबंधित नशीले इंजेक्शनों के साथ दो आरोपियों को भी गिरफ्तार किया है। पुलिस ने दोनों आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उन्हें न्यायालय भेज दिया है। आपको बता दें कि उत्तराखंड में नशे के कारोबार पर अंकुश लगाने के लिए उधम सिंह नगर पुलिस एक्शन मोड पर दिखाई दे रही है।  इसी के चलते नशे के सौदागरों को गिरफ्तार करने और नशे की गिरफ्त में आ कर बर्बाद हो रही युवा पीढ़ी को बचाने के लिए गदरपुर थाना पुलिस लगातार कार्यवाही करती नजर आ रही है। जिसके चलते गदरपुर थाना पुलिस के एसआई गौरव जोशी को मुखबिर से सूचना मिली की एक व्यक्ति प्रतिबंधित नशीले इंजेक्शन को स्कूटी पर लेकर जा रहा है।  मुखबिर की सूचना पर एसआई गौरव जोशी ने पुलिस टीम के साथ छापेमारी करते हुए उपदेश सिंह को 36 प्रतिबंधित नशीले इंजेक्शन के साथ गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने उपदेश सिंह की निशानदेही पर गदरपुर के वार्ड नंबर 3 निवासी विजय के घर से भारी म

जमील अहमद के एआईएमआईएम संयोजक बनने पर उनके भाई राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारी अकील अहमद को एपीओ करके बांसवाड़ा हेडक्वार्टर करने की तरह उर्दू शिक्षक आमीन कायमखानी को भी निलम्बित करके उनका बांसवाड़ा हेडक्वार्टर किया।

 राजस्थान की गहलोत सरकार मुस्लिम समुदाय को कुचलने पर आमादा नजर आ रही है।         विधायक वाजिब अली ने निलम्बन रद्द करने की मांग की।                  ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                   मुख्यमंत्री गहलोत के नेतृत्व वाली गहलोत सरकार मे यूपी के मेरठ-मलियाना व हासिमपुरा नरसंहार की तरह भरतपुर जिले के गोपालगढ़ के मस्जिद मे नमाजियों को पुलिस द्वारा गोलियो से मारने के जख्म आज भी हरे है। वही पीछले दिनो अनेक चिंताजनक घटनाओं के अलावा सांसद ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम के राजस्थान प्रदेश संयोजक बने जमील अहमद के भाई राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारी अकील अहमद को उसी दिन जयपुर से एपीओ करके गुजरात सीमा पर लगाने से सरकार की काफी किरकिरी हुई थी। इसी कड़ी मे कल पांच सितम्बर को जयपुर मे आयोजित राज्य स्तरीय शिक्षक समारोह मे शिक्षा मंत्री बीडी कल्ला से उर्दू शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष आमीन कायमखानी द्वारा उनकी सरकार के उर्दू के सम्बंधित बजट घोषणा पूरी करने के साथ छात्रो को उर्दू किताब उपलब्ध कराने की मांग करने पर सरकार आमीन कायमखानी को कुचलने पर आमादा है।                         जमील अहमद के एआईएमआईएम स

आगामी विधानसभा चुनाव मे सीकर जिले मे माकपा उम्मीदवार व उनके क्षेत्रों मे बदलाव आ सकता है। कामरेड अमरा राम के चुनाव लड़ने के सम्भावित क्षेत्रो पर अन्य दलो के नेताओं की नजर।

                ।अशफाक कायमखानी। सीकर।                   पीछले दो दशको से राजस्थान मे वामपंथियों का  मजबूत किला कहलाने वाले सीकर जिले की भूमि के लाल कामरेड अमरा राम के नेतृत्व मे जनहित मे किये गये आंदोलनों से राज्य व केन्द्र सरकार को अनेक दफा झूकना पड़ा है।लगातार चार चुनाव जीतकर विधायक बनने वाले अमरा राम के 2013 व 2018 के लगातार दो चुनाव हारने से वामपंथ जिले मे पहले के मुकाबले सूस्त होता नजर आया है। माकपा की राष्ट्रीय कमेटी के निर्णय अनुसार अब जिले के पुराने माकपा उम्मीदवारों व उनके क्षेत्रों मे बदलाव आना तय है। जिससे 2023 के आम विधानसभा चुनाव मे माकपा मे कुछ नया नजर आ सकता है।                       जिले की जनता व कुछ राजनेता संघर्ष के प्रतीक कामरेड अमरा राम को जनहित के मुद्दों को ताकत देने के लिये उन्हें विधानसभा मे देखना चाहते है। पर उनके लिये सूरक्षित सीट जो पहले धोद थी। उसके 2008 मे आरक्षित होने के बाद वो दांतारामगढ़ से चुनाव लड़कर एक दफा विधायक बने थे। लेकिन उसके बाद वो दो चुनाव दांतारामगढ़ से हार रहे है। 2023 के चुनाव मे वो दांतारामगढ़ से चुनाव लड़ते है या फिर अन्य जगह से लड़ते है। यह स

राजस्थान कांग्रेस मे गहलोत व सचिन पायलट खेमे मे सत्ता संघर्ष अंतिम पडाव पर जाते नजर आ रहा है। पायलट अपने जन्मदिन के एक दिन पहले जन्म दिन मनाकर ताकत दिखायेंगे।

                  ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को दिल्ली बूलाकर निर्देश देने के अंदाज मे उनकी जरुरत दिल्ली मे बताने के बाद राजस्थान की कांग्रेस राजनीति मे नये तौर पर हलचल पैदा हो गई है। पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने पार्टी के निर्देश पर 2018 मे मुख्यमंत्री पद से हटने की कहते हुये अक्सर जो गहलोत बोलते है उसी को दोहराते हुये कहा की राजनीति मे जो होता है वो दिखता नही है। इसके बाद राजनीतिक क्षेत्र मे चर्चा गरम होने लगी है।                        हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद स्वीकार करते है या नही। पर यह तय है कि वो किसी भी सूरत मे पायलट को राजस्थान का मुख्यमंत्री नही बनने देना चाहते है। वो हर मुमकिन सभी तरह के भरसक प्रयास करेगे कि वो अवल तो मुख्यमंत्री पद छोड़े नही। अध्यक्ष बनने के लिये विवश होना पड़े तो दोनो पद उनके पास रहे। फिर भी मुख्यमंत्री पद छोड़ना पड़े तो पायलट ना बनकर अन्य कोई उनकी डोर मे रहने वाला कमजोर नेता ही मुख्यमंत्री बने। जैसे प्रदेश अध्यक्ष पद पर उनके मुखपत्र की