ग्रेटर हैदराबाद म्यूनिसिपल कारपोरेशन चुनाव मे कांग्रेसजन भाजपा के लिये सहायक बनते नजर आ रहे है। - भाजपा के दिग्गज नेता चुनाव प्रचार मे उतरे- प्रधानमंत्री मोदी मे प्रचार करेगे।

 
              ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।
              कांग्रेस ने हमेशा अपने नेताओं व कार्यकर्ताओं के मार्फत मुस्लिम नेता के नेतृत्व वाले राजनीतिक दल के चुनाव लड़ने के समय उस नेता व दल के खिलाफ जनता मे खासतोर पर मुस्लिम समुदाय मे भ्रम फैलाने की कोशिश कराती आई है कि यह मुस्लिम नेता भाजपा के इशारे मे चुनाव लड़ने आकर सेक्युलर फोर्सेज को कमजोर करते है। जबकि कांग्रेस हमेशा स्वयं को परवान चढाने के लिये वर्क करती है या जब स्वयं कमजोर नजर आये तो अनेक कांग्रेस जन भाजपा को बढाने मे मदद करते रहे है। हकीकत है कि मुस्लिम नेतृत्व वाले राजनीतिक दल को कमजोर करने मे भाजपा-कांग्रेस पर्दे के पीछे एक घोड़े पर सवार होते रहे है।
             बिहार विधानसभा चुनाव मे मुस्लिम लीडरशिप नेतृत्व वाली एआईएमआईएम के पांच विधायक विजयी होने के बाद बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी की चर्चा भारत मे काफी ऊंची आवाज मे होने लगी है। आवेसी के द्वारा बंगाल, यूपी व राजस्थान के विधानसभा चुनाव मे एआईएमआईएम के नीसान पतंग पर उम्मीदवार खड़ा करने के कहने बाद राजनीतिक दलो मे अलग सी हलचल होना देखा जा रहा है। आवेसी के चुनाव लड़ने से उक्त प्रदेशों मे मुस्लिम वोटबैंक खिसकने से कांग्रेस खासतोर पर प्रभावित होती नजर आयेंगी।
            एआईएमआईएम के प्रभाव वाले हैदराबाद शहर के ग्रेटर हेदराबाद महानगरपालिका के चुनाव एक दिसंबर मे होने है। उक्त चुनाव मे सत्तारूढ तेलंगाना राष्ट्रीय समिति (टीआरएस), एआईएमआईएम, कांग्रेस व भाजपा के प्रमुख रुप से उम्मीदवार चुनाव मैदान मे है। कुल 150 वार्ड वाली ग्रैटर हेदराबाद महानगरपालिका मे निवर्तमान  सदस्यों मे से 99 टीआरएस, 44-एआईएमआईएम, 3 भाजपा व 2 कांग्रेस सदस्य थे। लेकिन अब जो एक दिसंबर को चुनाव हो रहे है उनमे कांग्रेस के अधीकांश वर्कर व नेता एआईएमआईएम को कमजोर करने के लिये अंदर खाने भाजपा की मदद करते नजर आ रहे है। भाजपा पांच हजार तीन सो अस्सी करोड़ रुपये बजट वाली ग्रैटर हेदराबाद महानगरपालिका चुनाव मे भाजपा के लिए स्मृति ईरानी सहित अनेक केन्द्रीय मंत्री, नेता , राष्ट्रीय अध्यक्ष , गृहमंत्री अमितशाह तक चुनाव प्रचार कर आये है। प्रधानमंत्री मोदी का भी हैदराबाद मे जाकर महानगरपालिका चुनाव मे प्रचार करने जाने का कार्यक्रम है। भाजपा उक्त चुनाव मे हिन्दू-मुस्लिम के मध्य चुनाव करने की भरपूर कोशिश कर रही है। अगर ऐसा होता है तो कांग्रेस तो पहले ही भाजपा मे वहां समा गई है पर इस स्थिति मे टीआरएस को बडा नुकसान हो सकता है।
            गैटर हैदराबाद म्यूनिसिपल कारपोरेशन के एक दिसंबर को हो रहे चुनाव मे टीआरएस व भाजपा ने सभी 150 वार्डो मे अपने अपने उम्मीदवार खड़े किये है। जबकि एआईएमआईएम ने 57 व कांग्रेस ने 45 उम्मीदवार खड़े किये है। एआईएमआईएम ने अपने प्रभाव वाले पुराने हेदराबाद शहर के वार्डो मे ही अपने उम्मीदवार खड़े करके चुनाव मजबूती से लड़ रही है। कांग्रेस ने अपने अधीकांश उम्मीदवार वही खड़े किये है जहाँ एआईएमआईएम के उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे है।
                कुल मिलाकर यह है कि ग्रैटर हैदराबाद म्यूनिसिपल कारपोरेशन के एक दिसंबर को हो रहे चुनाव मे प्रदेश की सत्तारूढ़ पार्टी टीआरएस व भाजपा सभी वार्डों मे चुनाव लड़ रही है। जबकि एआईएमआईएम 57 व कांग्रेस 45 वार्डों मे चुनाव लड़ रही है। भाजपा के अधीकांश दिग्गज नेताओं ने उक्त चुनाव मे प्रचार करके पूरी ताकत झोंक रखी है। वही पूर्व मेयर व कांग्रेस नेता बंदा कारथीका रेड्डी भी भाजपा मे शामिल हो गई है। साथ ही उक्त चुनाव मे कांग्रेस एक तरह से भाजपा की सहयोगी व सहायक बनती साफ नजर आ रही है।

टिप्पणियां