मंत्री भंवरलाल का निधन:72 साल के भंवरलाल ने गुड़गांव के मेदांता में ली अंतिम सांस, 18 दिन पहले बेटी का निधन हुआ था


जयपुर : राजस्थान में कांग्रेस के बड़े दलित नेता और गहलोत सरकार में कैबिनेट मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल का सोमवार देर शाम को निधन हो गया। 72 साल के मेघवाल ने गुड़गांव के मेदांता अस्पताल में अंतिम सांस ली। वह काफी टाइम से मेदांता अस्पताल में वेंटिलेटर पर चल रहे थे। 29 अक्टूबर को मेघवाल की बेटी बनारसी मेघवाल का भी निधन हुआ था। मेघवाल के निधन की खबर से कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं में शोक की लहर दौड़ गई।


गहलोत सरकार में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता और आपदा प्रबंधन मंत्री मेघवाल कांग्रेस में इंदिरा गांधी के वक्त से जुड़े थे। शेखावाटी और बीकानेर संभाग में दलित वोट बैंक में उनकी खासी पकड़ थी। उनके निधन पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सहित अन्य नेताओं ने शोक संवेदना व्यक्त की।


मास्टर भंवरलाल मेघवाल के निधन के बाद कांग्रेस की मंगलवार को होने वाली कार्यशाला सहित अन्य सभी कार्यक्रम स्थगित कर दिए गए। मंगलवार को राज्य में राजकीय शोक रहेगा। मास्टर भंवरलाल मेघवाल की छवि एक कुशल प्रशासक की मानी जाती थी l वे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की पिछली सरकार में शिक्षा मंत्री थे। वर्तमान में चूरू की सुजानगढ़ सीट से विधायक थे। वह अब तक 5 बार विधायक रह चुके हैं।


Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
मुस्लिम समुदाय की नाराजगी से राजस्थान के पंचायत चुनाव मे कांग्रेस को मुश्किलातों का सामना करना पड़ सकता है।