शमशेर खां की दांडी यात्रा के समर्थन मे आज प्रदेश के गावं-गाव से शहरो तक पदयात्रा निकाल कर उपखण्ड अधिकारी व जिला कलेक्टरस को ज्ञापन दिये गये।
जयपुर। ।अशफाक कायमखानी। मदरसा पैराटीचर्स को नियमतिकरण करने व उर्दू के साथ सरकारी स्तर पर हो रहे अन्याय के खिलाफ एक नवम्बर को चूरु शहर से शिक्षक शमशेर भालूखां के तकरीबन ग्यारसो किलोमीटर की पैदल दांडी यात्रा पर निकलने के बावजूद आज उनकी यात्रा को अठराह दिन होने के बावजूद राजस्थान की गहलोत सरकार के कान पर जूं अभी तक नही रेगने पर प्रदेश भर के मुस्लिम समुदाय व अन्य राजनीतिक दलो के कार्यकर्ताओं मे भारी रोष पनपने के बाद आज जगह जगह बडी भीड़ के साथ प्रदेश भर के गांव-गावं से शहरो की तरफ अलग अलग पैदल मार्च निकाल कर उपखण्ड अधिकारी व जिला कलेक्टरस को ज्ञापन देकर सरकार को चेताते हुये कहा गया है सरकार अब भी जायज मांगे नही मानती है तो इस तरह के पैदल यात्राएं ओर अधिक मात्रा मे निकालने का लगातार सिलसीला जारी रखते हुये गांधी वादी तरीके सै विरोध किया जायेगा। राजस्थान भर मे जगह जगह खासतौर पर मुस्लिम युवकों द्वारा शिक्षक शमशेर भालूखां की जारी दांडी यात्रा के समर्थन मे निकाली गई पैदल यात्राओ मे शामिल हजारों लोगो मे सरकार के प्रति भारी रोष देखा गया। वो सरकार के खिलाफ व खासतौर पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासरा के खिलाफ नारे लगाते हुये बीस-पच्चीस किलोमीटर तक पैदल मार्च करके अधिकारियों को ज्ञापन देकर गये है। इस तरह के पैदल मार्च का सीलसीला आगे भी लगातार जारी रखने का बताया। इसके अतिरिक्त सीकर शहर मे माकपा राज्य सचिव कामरेड अमरा राम व डीडवाना मे माकपा जिला सचिव यादव के नेतृत्व मे भी जूलूस के रुप मे शहर मे भ्रमण करते हुये जिला कलेक्टर व उपखण्ड अधिकारी को ज्ञापन दिये गये। कल भी अनेक जगह लम्बी लम्बी दूरी वाली पैदल यात्रा निकालने की घोषणा की गई है। एक नवम्बर से शमशेर भालूखां की जारी दांडी यात्रा के बाद से सरकार के रवैये के खिलाफ मुस्लिम समुदाय भी भारी रोष पनपता दिखाई दे रहा है। अनेक जगह मुस्लिम समुदाय के लोग पंचायत समिति व जिलापरिषद चुनाव मे कांग्रेस के खिलाफ मतदान करने का भी तय करते दिखाई दे रहे है। अगर इस तरह का आंदोलन कुछ दिन ओर जारी रहा तो कांग्रेस के लिये यह आंदोलन काफी भारी पड़ सकता है। दूसरी तरफ सरकार ने अभी तक दांडी यात्रियों से किसी तरह की वार्ता नही की है। जगह जगह जारी पैदल यात्राओं के अलावा जगह जगह धरना-प्रदर्शन करके भी दांडी यात्रा का समर्थन व सरकार की वादाखिलाफी करने का विरोध किया गया।
Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
मुस्लिम समुदाय की नाराजगी से राजस्थान के पंचायत चुनाव मे कांग्रेस को मुश्किलातों का सामना करना पड़ सकता है।