सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

DSP और 2 कॉन्स्टेबल 1.55 लाख रिश्वत लेते ट्रैप:रकम के लिए दहेज के मामले को फरवरी 2020 से पेंडिंग रखा था, कार्रवाई के एवज में मांगे 2 लाख, ACB ने रंगे हाथ किया गिरफ्तार

          झुंझुनूं : अशफ़ाक़ कायमखानी जयपुर ACB की टीम ने शुक्रवार को झुंझुनू जिले में ट्रैप कार्रवाई की। शुक्रवार को टीम ने DSP भंवरलाल खोखर (CO) ग्रामीण को 2 कॉन्स्टेबल (राजवीर सिंह और महिपाल सिंह) के साथ 1 लाख 55 हजार की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। ACB के एडिशनल एसपी नरोत्तम वर्मा ने बताया कि परिवादी ने 10 सितंबर को जयपुर ACB मुख्यालय में झुंझुनू सीओ ग्रामीण भंवरलाल खोखर के खिलाफ परिवाद दिया था। उसने बताया था कि केस में त्वरित कार्रवाई करने और मुल्जिमों को जल्द गिरफ्तार करने के एवज में 2 लाख की डिमांड कर रहा है। ACB ने शिकायत का सत्यापन किया और ट्रैप की योजना बनाई। कॉन्स्टेबल महिपाल सिंह ने नवलगढ़ स्थित अपने घर पर परिवादी से 1 लाख 55 हजार की रिश्वत ली थी। रिश्वत के लिए दहेज के मामले को फरवरी 2020 से पेंडिंग रखा था सीओ ग्रामीण भंवरलाल खोखर ने रिश्वत की राशि के लिए फरवरी 2020 से दहेज के मामले की जांच को पेंडिंग रखा था। सीओ ने दो कॉन्स्टेबल के माध्यम से त्वरित कार्रवाई करने और मुल्जिमों को गिरफ्तार करने की एवज में परिवादी से 2 लाख की डिमांड की थी। इस पर परिवादी ने एसीबी मु
हाल की पोस्ट

सार्वजनिक विभाग के अधिशाषी अभियंता खण्ड सीकर के AAO चतरुराम रिश्वत लेते गिरफ्तार।

         ।अशफाक कायमखानी। सीकर।       भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो राजस्थान की सीकर चौकी द्वारा प्रदेश के अन्य हिस्सों की तरह लगातार भ्रष्टाचारियों को रंगे हाथो रिश्वत लेते पकड़े जाने के बावजूदभ्रष्टाचारी भ्रष्टाचार करने से बाज नही आ रहे है। इसु सीलसीले मे एसीबी की सीकर टीम ने सावर्जनिक विभाग सीकर खण्ड मे कार्यरत लेखाधिकारी चतरुराम को पच्चीस हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है।           जानकारी अनुसार बाजोर गावं निवासी मोहनलाल जाट से उनके द्वारा बनाई सीसी सड़क की बकाया राशि देने के लिये चतरुराम ने उनसे पच्चीस हजार रुफये की राशि की डिमांड की। एसीबी विभाग ने डिमांड का सत्यापन करवा कर आज रिश्वत की राशि लेते हुये चतरुराम को एसीबी की टीम ने रंगे हाथो गिरफ्तार किया गया। ट्रेप की कार्यवाही स्थानीय चौकी प्रभारी उप पुलिस अधीक्षक जाकीर अख्तर के निर्देशन व सीआई सुरेश कुमार के नेतृत्व मे अमल मे लाई गई।

स्वीमिंग पूल का अश्लील वीडियो वायरल प्रकरण: जज ने हीरा लाल सैनी को भेजा 17 सितंबर तक पुलिस रिमांड पर

        ।अशफाक कायमखानी। जयपुर - : RPS अधिकारी और कांस्टेबल के अश्लील वीडियो मामले में आरोपी RPS हीरालाल सैनी को 17 तक पुलिस रिमांड पर भेजा. आपको बता दें कि हीरालाल सैनी को एसओजी ने जज के सामने पेश किया. पॉक्सो कोर्ट का अवकाश होने पर जज के निवास पर पेश किया. जज रेखा शर्मा के निवास पर पेश किया. जज ने हीरा लाल सैनी को 17 सितंबर तक पुलिस रिमांड पर भेजा. एसओजी पूरे मामले को लेकर विस्तृत पूछताछ कर रही है. इससे पहले RPS अधिकारी और कांस्टेबल के अश्लील वीडियो मामले में आरोपी RPS हीरालाल सैनी का JLN अस्पताल में मेडिकल करवाया गया है. SOG के निरीक्षक भूराराम खिलेरी उन्हें JLN अस्पताल लेकर पहुंचे. अब आरोपी RPS हीरालाल सैनी को जयपुर के न्यायालय में पेश किया जाएगा. आपको बता दें कि इससे पहले राजस्थान पुलिस के विशेष कार्यबल (एसओजी) ने राजस्थान पुलिस सेवा (आरपीएस) के अधिकारी हीरालाल सैनी को नैतिक कदाचार के मामले में शुक्रवार को गिरफ्तार किया था. यह अधिकारी हाल में सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो की वजह से चर्चा में था जिसमें वह रूप से एक महिला कांस्टेबल के साथ आपत्तिजनक अवस्था दिख रहा है. एसओजी के अतिरिक्त

राजस्थान का मुस्लिम समुदाय उच्च सेवा से सेवानिवृत्त अधिकारियों की काबिलियत व उनके अनुभव का दोहन करने मे अभी तक सफल नही हो पा रहा है।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                   राजस्थान के मुख्य सचिव पद से सेवानिवृत्त अधिकारी सलाऊद्दीन अहमद खान , राजस्थान हाईकोर्ट से सेवानिवृत्त जस्टिस मोहम्मद असगर अली चोधरी व जस्टिस भंवरु खान, आईजी पुलिस पद से सेवानिवृत्त मुराद अली अब्रा, नीसार अहमद फारुकी, कुवर सरवर खान, राजस्थान लोकसेवा आयोग के चैयरमैन रहे आईपीएस हबीब खान गौरान,  भारतीय प्रशासनिक सेवा से सेवानिवृत्त अधिकारी एम एस खान, ऐ.आर खान, मोहम्मद हनीफ खान एवं अशफाक हुसैन जैसे अनेक सेवानिवृत्त अधिकारियों का राजस्थान का मुस्लिम समुदाय शेक्षणिक सहित अनेक क्षेत्रो मे उनकी काबलियत व अनुभव का दोहन करने मे अभी तक सफल नही हो पा रहा है। जिसके कारण अनेक हो सकते है लेकिन उक्त सेवानिवृत्त अधिकारियों सहित अन्य अधिकारियों की सेवानिवृत्ति के बाद उनकी योग्यता व अनुभव का दोहन अगर समय समय पर किया जाता तो शेक्षणिक तौर पर पिछड़े व सरकारी सेवाओं से एक तरह से हट चुके समुदाय की दशा व दिशा प्रदेश मे आज निश्चित बदली बदली नजर आती। उक्त अधिकारियों मे मात्र एक अधिकारी ऐ.आर खान ने सामाजिक संस्था बनाकर अपने स्तर पर कुछ सामाजिक काम जरूर कर

लखनऊ पब्लिक स्कूल के प्रांगण में मटकी फोड़ प्रतियोगिता का आयोजन हुआ

  लखनऊ पब्लिक स्कूल के प्रांगण में मटकी फोड़ प्रतियोगिता का आयोजन जन्माष्टमी के अवसर पर हर्षोल्लास के साथ संपन्न हुआ। छात्रों के मध्य प्रतियोगिता चारों हाउसेस नोबेल, डिग्निटी, लिबर्टी व रीगल के मध्य आयोजित की गई। नोबल हाउस के बच्चों ने पिरामिड बनाकर निर्धारित ऊंचाई पर लटकी मटकी को लक्ष्य बनाकर विजेता बनी। शिक्षकों के मध्य हुई प्रतियोगिता में सीनियर वर्ग की रुचिता सेलेस्ट विजेता बनी। प्रधानाचार्य श्री विजय सचदेवा ने सभी विजेताओं को सम्मानित  किया एवं कार्यक्रम की सफलता के लिए सभी को धन्यवाद दिया। कार्यक्रम के दौरान मास्क अनिवार्यता एवं कोविड नियमों का पालन किया गया।

सीएम गहलोत की तबियत खराब,एसएमएस के कैथ लैब में एंज्योप्लास्टी हुई सफलतापूर्वक , पायलट सहित कई नेताओ ने जाना गहलोत का हाल , सीएम के ओएसडी ने कहा चिंता की कोई बात नही।

   जयपुर। ।अशफाक कायमखानी।   मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की तबियत आज खराब हो गई है। सुबह उन्हें सीने में दर्द की शिकायत महसूस हुई और बैचेनी लगी। इस पर वे सवेरे जांच के लिए पहले सी स्कीम स्थित डायग्नोस्टिक सेंटर में जांच कराने गए। इसके बाद वे एसएसएस अस्पताल गए और वहां पर गहलोत ने कार्डिक और अन्य जांचे कराई। बाद में गहलोत की एंज्योप्लास्टी कराई गई। गहलोत के साथ चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा भी रहे। गहलोत के एक आर्टरी में 90 प्रतिशत ब्लाकेज बताया जा रहा है। गहलोत की तबियत खराब होने की खबर सामने आई, नेताओं ने उनके कुशलक्षेम की कामना की। गहलोत ने भी शुभचिंतकों को धन्यवाद देते हुए कहा कि वे ठीक है और वापस लौटेंगे। चिकित्सकों ने गहलोत को आराम करने की सलाह दी है। अस्पताल के प्राचार्य डॉ. सुधीर भंडारी, एसएमएस अस्पताल अधीक्षक डॉ. राजेश शर्मा सहित कार्डियोलॉजी सहित अन्य विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम ने उनकी जांच कराई। गहलोत की तबियत खराब होने की सूचना पर सरकारी मुख्य सचेतक महेश जोशी भी अस्पताल पहुंचे और उनका हाल जाना। पीसीसी अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने सीएम गहलोत के जल्द ठीक होने की कामना की है। डोटासरा

नई दिल्ली : वर्किंग पीपल'स चार्टर (डब्ल्यूपीसी) की नई पहल अब श्रमिकों को देगी कानूनी सहायता - जारी किया हेल्पलाइन नंबर

  नई दिल्ली  : वर्किंग पीपल'स  चार्टर (डब्ल्यूपीसी)  की नई पहल अब श्रमिकों को देगी कानूनी सहायता - जारी किया हेल्पलाइन नंबर अब श्रमिक फ़ोन कॉल कर के कानूनी सहायता प्राप्त कर सकते है।  "मीडिएशन और कानूनी सहायता" हेल्पलाइन को 'इंडिया लेबरलाइन ' कहा जाता है । मज़दूर टोल-फ्री नंबर (1800 833 9020) की सहायता से टेली-परामर्शदाताओं से अपनी समस्या का समाधान पा सकते है हेल्पलाइन विशेष रूप से असंगठित और प्रवासी मज़दूरों पर केंद्रित है क्योंकि कई श्रम कानून इन लोगों के वेतन और सामाजिक सुरक्षा अधिकारों को संबोधित नहीं करते हैं। हेल्पलाइन की स्थापना "और भी अधिक प्रासंगिक हो गई है जब कोई कोरोनोवायरस महामारी के कारण हुई अराजकता और विशेष रूप से प्रवासी श्रमिकों को राहत और सहायता प्रदान करने के लिए तंत्र की निराशाजनक कमी पर विचार करता है,"।   वर्किंग पीपल'स  चार्टर (डब्ल्यूपीसी) ने श्रम मीडिएशन और कानूनी सहायता के माध्यम से सभी क्षेत्र के मज़दूरों को सहायता प्रदान करने के लिए हेल्पलाइन नंबर मज़दूरों के लिए बहुत उपयोगी है। इस हेल्पलाइन नंबर से तत्काल सहायता मिलने से मज़दूर