सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

राजस्थान कांग्रेस प्रभारी महामंत्री की नजर अब हारे हुये उम्मीदवारों पर भी जा सकती है। - वर्तमान राजनीतिक घटनाक्रम के मध्य लोकसभा उम्मीदवारों ने भी कांग्रेस हाईकमान तक विभिन्न तरीकों से अपनी बात पहुंचाई है।

                   जयपुर। ।अशफाक कायमखानी - हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत किसी भी तरह से अपनी सत्ता बचाये रखने व जैसे तैसे करके आपने पांच साल का कार्यकाल पूरा करने के लिये मात्र जीते हुये विधानसभा चुनाव व अन्य समर्थक विधायको को खुश रखने के लिये उनको पूरी तरह अहमियत अन्य नेताओं पर तरजीह देते नजर आ रहे है। इसी सीलसीले के तहत 28-29 जुलाई को प्रभारी महांमत्री अजय माकन ने विधायकों से जयपुर मे फीडबैक लिया। फीडबैक लेने के समय विधायक वैद प्रकाश सोलंकी सहित कुछ विधायको ने माकन को कहा कि वो मुकम्मल फीडबैक लेने के लिये कांग्रेस के जीते हुये उम्मीदवारों के साथ साथ हारे हुये उम्मीदवारों को भी बूलाकर बात करे ताकि पूरे प्रदेश का फीडबैक आ सके।                   जून माह मे 2018 के विधानसभा चुनाव मे हारे हुये कुछ कांग्रेस उम्मीदवार दिल्ली जाकर अपनी पीड़ा शीर्ष नेतृत्व तक पहुंचाई भी थी। इसी तरह राजस्थान की आठ सीटो को मिलाकर बने एक लोकसभा क्षेत्र से 2019 मे लोकसभा उम्मीदवार रहे प्रदेश के सभी पच्चीस उम्मीदवार भी प्रदेश की सत्ता मे होती अपनी अनदेखी से चिंतित होकर किसी ना किसी रुप मे अपनी बात हाईकमान तक पहुं
हाल की पोस्ट
               जयपुर। ।अशफाक कायमखानी। 2018 के विधानसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद सचिन पायलट पर अशोक गहलोत को तरजीह देते हुये गांधी परिवार ने उन्हें अपना वफादार साथी मानते हुये मुख्यमंत्री के पद पर पदस्थापित किया था। उसके बाद 2019 के लोकसभा चुनाव मे कांग्रेस की करारी हार की जिम्मेदारी लेते हुये तत्तकालीन राष्ट्रीय कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने हार की जिम्मेदारी लेते हुये अध्यक्ष पद से स्तीफा दे दिया था। उस समय राहुल गांधी व अन्य गाधी परिवार के सदस्यों को उम्मीद थी कि राहुल गांधी के स्तीफे के तुरंत बाद कम से कम अशोक गहलोत भी उनके समर्थन मे स्तीफा देने का ऐहलान जरुर करेगे। पर गहलोत सहित किसी भी कांग्रेस नेता ने राहुल गांधी के समर्थन मे उनके साथ स्तीफा देने का दिखावा तक नही किया था। उस घटना के बाद से गहलोत लगातार गांधी परिवार से दूर होते जा रहे है।                  एक साल पहले मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा सचिन पायलट समर्थक विधायकों के गुडगांव की होटल मे डेरा डालने को लेकर उन्होंने पायलट को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाने की भरपूर कोशिशे की थी। पर प्रियंका गांधी द्वारा अंतिम समय मे एक पासा

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका

राष्ट्रीय बास्केटबॉल खिलाड़ी व प्रतिष्ठित कारोबारी खुर्शीद अहमद शेख का इंतेकाल।

                सीकर। ।अशफाक कायमखानी। -  शहर के मरहूम हाजी जुमरदी खां शेख नामक प्रतिष्ठित परिवार के सदस्य व जाने माने कारोबारी बास्केटबॉल खिलाड़ी खुर्शीद अहमद शेख के आज सुबह इंतेकाल होने की खबर से चारो तरफ माहोल गमगीन नजर आया।            पूर्व केन्द्रीय मंत्री व ओलम्पिक संघ के अध्यक्ष के अलावा पारिवारिक मित्र सुभाष महरिया ने इस अवसर पर कहा कि खुर्शीद भाई के इंतकाल की खबर बेहद दुखद है। खुर्शीद भाई  इंसानियत की मिसाल थे। खुर्दीद शेख  सीकर की बास्केटबॉल की शान थे। खुर्शीद भाई दूसरों की मदद करने में सदैव आगे रहते थे मालिक उन्हें जन्नत उल फिरदौस मे आला मुकाम बक्से परिवार को हिम्मत दें यह मालिक से मैं दुआ करता हूं उन्हें शत-शत नमन करता हूं बारंबार।              मरहूम खुर्शीद अहमद शेख प्रतिष्ठित कारोबारी होने के साथ साथ वो खेल प्रतिभाओ को उभारने के लिये लगातार प्रयत्नशील रहते थे। पीछले कुछ सालो से वो खिदमत की भावना के साथ विभिन्न सामाजिक कार्यों के जुड़े होने व खेल प्रतिभाओं को उभारने की नीयत से एक्सीलेंस कोलेज की छात्राओं को बास्केटबॉल सहित अन्य खेले के गूर निशुल्क सीखा रहे थे। जिसके चलते एक

नेक्स्टजेन लीडरशिप प्रोग्राम के लिये आईपीएस जैदी की बेटी मरियम का चयन।

           जयपुर।अशफाक कायमखानी | - अंतरराष्ट्रीय इन्सोल्वेसी संस्थान यूएसए ने नेक्स्टजेन लीडरशिप प्रोग्राम के लिये भारत से आईपीएस हैदर अली जैदी की बेटी मरियम जैदी का चयन हुवा है। मरियम जैदी इस प्रोग्राम मे विश्व के चुनिंदा 120 लोगों के साथ भाग लेगी।संस्था विश्व के चुनिंदा वकीलो, न्यायविद, शिक्षाविद ओर वित्तीय विशेषज्ञों मे से प्रतिभागियों का चयन करती है। मरियम जयपुर की रहने वाली है।जो वर्तमान मे मुम्बई हाईकोर्ट मे प्रेक्टिस करती है। जैदी वाणिज्यिक ओर सिविल इन्सोल्वेंसी मामलों की विशेषज्ञ है। यह अक्टुबर 2021 मे न्यूयार्क मे होने वाले मे भाग लेगी।            राजस्थान के प्रतिष्ठित व शिक्षा के क्षेत्र मे माने जाने वाले जयपुर के जैदी परिवार की बेटी मरियम जैदी के दादा मरहूम मोहम्मद अली जैदी राजस्थान विश्वविद्यालय मे एचओडी  व दादी सरकारी अध्यापक रहे है। पिता हैदर अली जैदी वर्तमान मे डीआईजी पुलिस पद पद पदस्थापित है वही माता विश्वविद्यालय मे एचओडी है। चाचा मुस्तफा जैदी सीनियर पुलिस अधिकारी व बडी बहन सीनियर चिकित्सक व भाई चिकित्सक है।

भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी अरशद खान IPS ने अपनी बेटी की शादी सादगी से करके सबको सोचने पर मजबूर कर दिया।

                    जयपुर। ।अशफाक कायमखानी। -  शादियों मे फिजूल खर्च व बीना वजह के दस्तूरो के होने के लगातार बढते सीलसीलो के मध्य कोई उच्च अधिकारी तमाम तरह के फिजूल खर्च व रिवाजों को तिलांजलि  देते हुये अपनी बेटी की शादी सुन्नत-ए-रसूल से अनुसार करे तो उसका अनुसरण सबको करने मे हिचक नही रखनी चाहिए।                आज के इस दौर मे भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी अरशद खान ने अपने पैतृक गाव सीकर जिले के बेसवा की जामा मस्जिद मे बाद नमाज असर अपनी बेटी रुखसार का निकाह बीसाऊ निवासी वसीम के साथ पारिवारिक सदस्यो व कुछ मित्रो की मोजूदगी मे बाकायदा कोराना गाईडलाइनस के अनुसार करवाया।              बेटी रुखसार को उनके पिता अरशद अली IPS व माता बेसवा पंचायत सरपंच जरीना खान ने सुन्नत -ए-रसूल के मुताबिक एक कुरान ए पाक, एक जायनमाज (मुसला), एक बाल्टी व एक लोटा देकर घर से दुल्हा वसीम के साथ विदा किया।              राजस्थान के मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी मे आज के समय खासतौर पर बेटीयो की शादियां बीना वजह के लेनदेन व भव्यता का दिखावा करने के चलते बहुत ही खर्चीली होना एक तरह का चलन सा परवान चढ चुका है।उस स्थ

फीडबैक मे आदीवासी प्रभाव वाले क्षेत्र मे बीटीपी व किसानों मे रालोपा के बढते प्रभाव पर कांग्रेस के लिये नुक्सानदायक बताया गया। मुस्लिम मतदाता कांग्रेस की जागीर माना गया।

                         जयपुर ।अशफाक कायमखानी। - कांग्रेस नेता अजय माकन की अगुवाई व खासतौर पर उनके द्वारा रची गई व्यू रचना मे दिल्ली विधानसभा चुनाव मे कांग्रेस के सत्तर मे से एक भी सीट नही जीतने बल्कि तीन उम्मीदवारों को छोड़कर बाकी सभी सड़सठ उम्मीदवारों द्वारा जमानत भी गवां देने के बाद राजस्थान कांग्रेस प्रभारी महामंत्री अजय माकन दो दिन से जयपुर मे डेरा डालकर कांग्रेस व कांग्रेस समर्थित विधायको से प्रदेश मे फिर से सत्ता मे आने के लिये फीडबैक ले चुके है। आज प्रदेश कांग्रेस पदाधिकारियों से फीडबैक ले रहे है। फीडबैक देने विधायक की हेसियत से माकन के पास अन्य विधायको की तरह ना तो सचिन पायलट आये ओर ना ही अशोक गहलोत आये। जबकि राजस्थान मे कांग्रेस के लिये सबसे बडा मुद्दा गहलोत-पायलट के मध्य छिड़ी वर्चस्व की जंग ही माना जा रहा है। गहलोत जयपुर मे अपने सरकारी आवास पर बैठकर व पायलट दिल्ली रहकर दीलासा प्रोजेक्ट (फीडबैक)पर नजर लगाये हुये थे।              माकन से दो दिन मे मिलने वाले अधीकांश विधायकों ने उनसे पुछे गये सवालो के जवाब देने के अलावा 2023 मे  फिर से अपने आपको चुनाव जीतकर आने का दावा किया। लेक