IAS टॉपर टीना डाबी ने फैमिली कोर्ट में दी तलाक की अर्जी, 2018 में हुई थी शादी !
।अशफाक कायमखानी। सिविल सर्विस परीक्षा की टॉपर रही टीना डाबी एक बार फिर सुर्खियों में आ गई हैं. टीना डाबी ने अपने बैच के IAS अतहर आमिर के साथ शादी की थी. युवा IAS दंपती ने तलाक की अर्जी दायर कर दी है. IAS टॉपर टीना डाबी और उनके पति अतहर आमिर ने जयपुर के फैमिली कोर्ट-1 में म्यूचअल तौर पर तलाक की अर्जी दायर कर दी है. अर्ज़ी में कहा गया है कि हम आगे साथ नहीं रह सकते. ऐसे में कोर्ट हमारी शादी को शून्य घोषित करें. मालूम हो कि दोनों 2016 बैच के आईएएस अधिकारी हैं. वर्तमान में टीना -संयुक्त शासन सचिव वित्त ( कर) विभाग जयपुर में संयुक्त सचिव और आमिर सीईओ ईजीएस के पद पर कार्यरत हैं. 2018 में दोनों की शादी काफी चर्चित रही थी. यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा 2015 की टॉपर रही टीना ने अप्रैल 2018 में अतहर से शादी की थी. कश्मीर के अतहर ने यूपीएससी परीक्षा 2015 में दूसरा स्थान प्राप्त किया था. टीना और अतहर दोनों राजस्थान कैडर के अधिकारी हैं. कहा जाता है कि दोनों की नजदीकियां ट्रेनिंग के दौरान बढ़ी थींं. वर्ष 2015 की अखिल भारतीय सेवा टॉप करने वाली टीना डाबी और इसी परीक्षा में दूसरी रैंक पर रहे अतहर आमिर अपनी ट्रेनिंग के दौरान इस दूसरे के प्यार में पड़ गए. एक साल की रिलेशनशिप के बाद दोनों ने वर्ष 2018 में शादी भी कर ली, लेकिन अब यह आईएएस जोड़ा आपसी सहमति से अलग हो रहा है. टीना डाबी और उनके पति अतहर आमिर की ओर से शहर के पारिवारिक न्यायालय में विवाह विच्छेद की संयुक्त अर्जी पेश कर तलाक की डिक्री जारी करने की गुहार की है. अदालत आगामी दिनों में इस प्रार्थना पत्र पर सुनवाई करेगी. प्रार्थना पत्र में कहा वे दोनों पिछले लंबे समय से अलग रह रहे हैं. इसके अलावा अब वे अपने विवाह को आगे जारी नहीं रखना चाहते. इसके उनके विवाह विच्छेद की डिक्री पारित की जाए. बता दें की टीना के पति ने कुछ महीनों पहले टीना को अपने सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर अनफॉलो कर दिया था. इसके बाद टीना ने भी अपने पति अतहर को अपने ट्वीटर से अनफॉलो कर दिया था. शादी के बाद अपने नाम के आगे खान सरनेम लिखने वाली टीना ने कुछ दिनों पहले खान सरनेम हटाने के साथ ही अपने इंस्टाग्राम बायो से कश्मीरी बहु शब्द भी हटा दिया था.
Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
मुस्लिम समुदाय की नाराजगी से राजस्थान के पंचायत चुनाव मे कांग्रेस को मुश्किलातों का सामना करना पड़ सकता है।