सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

मई, 2022 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

एआईएमआईएम की प्रदेश कमेटी गठन के बाद कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष डोटासरा की मुश्किलें बढीं।

                  ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             अधीकांश कांग्रेस समर्थक एआईएमआईएम व उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष सांसद असदुद्दीन आवैसी को भाजपा की बी टीम बताते थकते नही है। लेकिन यह तय है कि जहां जहा एआईएमआईएम के उम्मीदवार चुनाव लड़ते है वहां वहा खासतौर पर कांग्रेस के परम्परागत अल्पसंख्यक मतो मे बंटवारा होने से कांग्रेस उम्मीदवारों की चींता की लकीरे बढ जाती है। सांसद ओवेसी के जयपुर आकर एआईएमआईएम के प्रदेश के लिये जमील खान की घोषणा करने के बाद से डोटासरा की मुश्किलें बढती नजर आ रही है।                लक्ष्मनगढ विधानसभा के जेवली गावं के मूल निवासी कर्नल जाबदी खां के पोते जमील खान का एआईएमआईएम का प्रदेश अध्यक्ष बनने के अलावा छ सदस्यीय कमेटी मे लक्ष्मनगढ विधानसभा के खींवासर गावं के एडवोकेट जावेद खान के सदस्य बनने के बाद लगता है कि संगठन की विशेष नजर मे लक्ष्मनगढ विधानसभा आता लगता है।              राजस्थान के प्रभावशाली मुस्लिम परिवार से तालूक रखने वाले जमील खान के परिवार व निकटवर्ती रिस्तेदार मे उच्च न्यायीक सेवा के अधिकारी से लेकर भारतीय व राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारीयो की एक लम्बी स

भाजपा ने अपने तीन मुस्लिम सदस्यों को फिर से राज्यसभा उम्मीदवार नही बनाया है।

             ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।           दस जून को 57 सदस्यो को लिये होने वाले राज्यसभा चुनाव मे भाजपा के तीन मुस्लिम सदस्यों का कार्यकाल भी पूरा हो रहा। तीनो ही उम्मीदवारों को भाजपा ने फिर से मौका नही दिया है।             केन्द्रीय अल्पसंख्यक मामलात मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, पूर्व मंत्री व सीनियर पत्रकार एम जे अकबर व सैयद जफर इस्लाम जो भाजपा की तरफ से वर्तमान मे राज्यसभा सदस्य है। उनका कार्यकाल पूरा होने जा रहा है। उनके स्थान पर दस जून को नये सदस्य चुने जायेगे।            भाजपा द्वारा घोषित राज्यसभा उम्मीदवारों की सूची से उक्त तीनो ही सदस्यों को नाम गायब है। यानि इन्हें फिर से मौका नही दिया गया है।

बाहरी कांग्रेस नेताओं की राजस्थान शरणस्थली बनता जा रहा। - दस जून को होने वाले राज्यसभा चुनाव मे कांग्रेस उम्मीदवारों की घोषणा को लेकर प्रदेश मे भारी आक्रोश।

                ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।               इसी हफ्ते राजस्थान के अनेक कांग्रेस नेताओं ने मूल रुप से यूपी से तालूक रखने वाले सचिन पायलट को इशारे से निशाने पर लेते हुये बाहरी नेता को मुख्यमंत्री नही बनने देने की आवाज बूलंद की थी। राजस्थान की दस राज्यसभा सीटो मे से चार सीटो पर दस जून को चुनाव होने है। उनमे से विधायकों की गणना के अनुसार तीन सीट कांग्रेस द्वारा जितने की सम्भावना के चलते हाईकमान ने किसी स्थानीय उम्मीदवार की बजाय हरियाणा-महाराष्ट्र व यूपी से तालूक रखने वाले नेताओं को उम्मीदवार बनाया है। जबकि भाजपा ने स्थानीय नेता घनश्याम तिवाड़ी को अपना उम्मीदवार बनाया है।                  कांग्रेस के उक्त उम्मीदवारों के अलावा वर्तमान मे उनके तीन राज्यसभा सदस्यों मे से नीरज डांगी के छोड़कर बाकी दो बाहरी पूर्व प्रधानमंत्री सरदार मनमोहन सिंह व संगठन महामंत्री केसी वेणुगोपाल पहले से राजस्थान से सदस्य है। एवं अब हरियाणा के रणदीप सूरजेवाला, महाराष्ट्र के मुकुल वासनिक व यूपी के प्रमोद तिवारी शर्मा को राजस्थान से उम्मीदवार बनाने से स्थानीय स्तर पर आक्रोश देखने को मिल रहा है। वही कांग्रेस के

राजस्थान मे सांसद ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम का संगठन गठन पर मंथन लगभग पूरा।

  एआईएमआईएम के प्रदेश संगठन की घोषणा 31- को स्वयं सांसद ओवेसी करेगे ।            ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।               आल इण्डिया इतेहादूल मुस्लेमीन (एआईएमआईएम) के राष्ट्रीय अध्यक्ष सांसद असदुद्दीन ओवेसी 31- मई को जयपुर आकर प्रदेश कार्यालय की विधिवत शुरुआत करके प्रदेश संगठन की घोषणा कर सकते है। बताया जा रहा है कि टेक्निकल प्रोबलम के चलते राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारी के प्रदेश अध्यक्ष बनने को कुछ समय के लिये रोका गया है। लेकिन उनकी जगह कुछ माह के लिये उनके नजदीकी व्यक्ति का नाम प्रदेश के तौर पर तय कर लिया गया है। अधिकारी का त्याग पत्र पत्र मंजूर होने मे कुछ महीने लग सकते है। उसके बाद राजस्थान प्रशासनिक अधिकारी को प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी दे दी जायेगी।                   पीछले कुछ समय से सांसद ओवेसी के बाहर होने के चलते उनके जयपुर आने का प्रोग्राम तय नही हो पा रहा था। अब वो स्वयं जयपुर आकर 31-मई को जयपुर मे संसार चंद्र रोड़ स्थित एक भवन मे कार्यालय की शुरुआत करेगे। उसी दिन एक दफा प्रदेश संगठन की घोषणा करके राजस्थान मे विधानसभा व अन्य चुनाव लड़ने की घोषणा करेगे।                 हाल

हिमाचल प्रदेश के चीफ जस्टिस मोहम्मद रफीक आज सेवानिवृत्त होगे।

राजस्थान मे मुस्लिम अधिकारियों की सेवानिवृत्ति के मुकाबले नये अधिकारी नही बन पा रहे है।               ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।            राजस्थान हाईकोर्ट मे जस्टिस बनने के बाद मेघालय, उडीसा व मध्यप्रदेश के बाद हिमाचल प्रदेश के मुख्य न्यायाधीश रहते हुये जस्टिस मोहम्मद रफीक आज सेवानिवृत्त होगे। जस्टिस मोहम्मद रफीक का तालुक राजस्थान से होने के कारण प्रदेश मे इनको सामाजिक व न्यायीक क्षेत्र मे विशेष तौर पर देखा जाता रहा है।          राजस्थान मे मुस्लिम समुदाय के खासतोर पर प्रशासनिक सेवा व पूलिस सेवा एवं न्यायीक सेवा के लगातार सेवानिवृत्त होते उच्च अधिकारियों के मुकाबले नये तौर पर आने वाले अधिकारियों की तादाद बहुत कम देखी जा रही है। इस माह से लेकर 2024 के आखिर तक होने उक्त सेवा के अधिकारियों के होने वाले सेवानिवृत्ति को देखते हुये एक खाली खाली नजर आने लगेगा। अगर नये तौर पर बतौर अधिकारी सलेक्ट नही हो पाये तो चंद गिनती के अधिकारी ही रह जायेंगे।                 हिमाचल प्रदेश के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस मोहम्मद रफीक इसी माह की चोबीस तारीख यानि आज सेवानिवृत्त हो जायेंगे। वही भारतीय प्रशासनिक सेवा

आईआईएलएम अकैडमी आफ हायर लर्निंग लखनऊ ने ऑनलाइन राष्ट्रीय सम्मेलन "द नेक्स्ट नॉर्मल- बिल्डिंग एजाइल सस्टेंनबेल एवं इनेबल्ड आर्गेनाइजेशन 2022 का आयोजन किया

   आईआईएलएम अकैडमी आफ हायर लर्निंग लखनऊ ने 20 मई 2022 को ऑनलाइन राष्ट्रीय सम्मेलन "द नेक्स्ट नॉर्मल- बिल्डिंग एजाइल सस्टेंनबेल एवं इनेबल्ड आर्गेनाइजेशन 2022 का आयोजन किया I आईआईएलएम अकैडमी आफ हायर लर्निंग लखनऊ के निदेशक डॉ नायला रुश्दी और सम्मेलन के संचालक संरक्षक ने दीप प्रज्वलित कर सम्मेलन का उद्घाटन किया I उन्होंने अस्थिर और अनिश्चित कारोबारी माहौल में चपलता और लचीलापन के महत्व पर प्रकाश डाला I डीन एवम सम्मेलन की अध्यक्ष डॉ शीतल शर्मा ने कोविड-19 परिवर्तनों के लिए सक्रिय रूप से अनुकूलन के महत्व के बारे में बताया  I  डॉक्टर प्रकाश सिंह प्रोफेसर आईआईएम लखनऊ मुख्य अतिथि और उद्घाटन सत्र के मुख्य वक्ता ने वर्तमान आर्थिक और सामाजिक समस्याओं के समाधान प्रदान करने के लिए सही प्रश्न पूछने की प्रासंगिकता पर चर्चा की ई भारत के विभिन्न हिस्सों के 30 से अधिक शोधकर्ताओं ने दोपहर के भोजन से पहले दो समानांतर तकनीकी सत्रों और दोपहर भोजन के बाद एक तकनीकी सत्र में अपने शोध पत्र प्रस्तुत किए I  डॉ मनीषा सेठ एसोसिएट प्रोफेसर जयपुरिया इंस्टीट्यूट आफ मैनेजमेंट ने लखनऊ मानव संसाधन व्यवसाय स्थिरता और प

राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारी सत्तार खान राजस्व बोर्ड के सदस्य होगे।

           ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।          राजस्थान प्रशासनिक सेवा के सीनियर अधिकारी व लाडनू के सपूत सत्तार खान Sattar Khan  अब राजस्व मण्डल, अजमेर के बतौर सदस्य रहकर राजस्व सम्बंधित विभिन्न तरह के विवाद को सुनकर जजमेंट करेंगे।                  सत्तार खान के साथ राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अन्य तीन ओर अधिकारी  लालाराम गुगरवाल, भवानी सिंह पालावत व भंवर सिंह संधू भी सदस्य बनाये गये है।           ईमानदार-कर्तव्यनिष्ठ व न्यायप्रिय सत्तार खा  के सदस्य बनाने पर प्रदेश भर मे एक अच्छा फैसला माना जा रहा है।

पंजाब के सुनील जाखड़ के बाद गुजरात के हार्दिक पटेल ने कांग्रेस छोड़ी। राजस्थान के बडे नेता भी नये विकल्प के लिये कांग्रेस छोड़ सकते है!

                   ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                 राजस्थान के हरीश चौधरी व रघु शर्मा नामक दो नेताओं के प्रभारी की हैसियत से जारी कार्यशैली को लेकर पंजाब के पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ के बाद आज गुजरात के कार्यकारी अध्यक्ष हार्दिक पटेल ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से त्याग पत्र दे दिया है।                   हालांकि रघु शर्मा अधीकांश चुनाव हारते रहे है। लेकिन उन्हें अब कांग्रेस कमेटी ने गुजरात मे पार्टी को जीताने के लिये प्रभारी बनाकर भेजा है। इसी तरह राजस्थान मे विवादो मे रहे हरीश चौधरी को पंजाब का प्रभारी बनाकर भेजने का परिणाम आज पूरा पंजाब भूगत रहा है।                इसी 13-14 व 15 मई को राजस्थान के उदयपुर मे साढे चारसो से अधिक कांग्रेस नेताओं ने नव संकल्प चिंतन शिविर आयोजित करके चिंतन किया है। जिसके बाद से राजस्थान के कांग्रेस नेताओं के मध्य दूरियां कम होने के बजाय बढती नजर आने लगी है। कोई भी वृद्ध कांग्रेस नेता युवाओं के लिये पद व स्थान छोड़ना नही चाहता है। राजस्थान मे सरकार लाने मे सचिन पायलट  ने पूरे पांच साल मेहनत करके भाजपा सरकार को उखाड़ कर कांग्रेस को 21 से 101

राजस्थान से मुस्लिम को राज्य सभा मे भेजने की मांग जोर पकड़ने लगी। -- नाम को लेकर कांग्रेस हलके मे हलचल बढी।

             ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।               राजस्थान से राज्यसभा की कुल दस सीटो मे से चार सदस्यो का कार्यकाल अगले महीने पूरा होने के चलते चुनाव आयोग ने चार सीटो पर चुनाव कराने का कार्यक्रम घोषित कर दिया है। जिसके तहत अगले महीने दस जून को चुनाव होना है। रिटायर होने वाले चारो सदस्य भाजपा के है। कांग्रेस सरकार को समर्थन दे रहे विधायकों की गणना के अनुसार चार सीटो मे से तीन सदस्य कांग्रेस के जीतने की पूरी सम्भावना जताई जा रही है। मुस्लिम समुदाय उक्त तीनो सम्भावित उम्मीदवारों मे से एक सीट पर स्थानीय मुस्लिम को उम्मीदवार बनाने की मांग कांग्रेस हाईकमान से कर रहा है।                  कांग्रेस का देश मे घटते जनाधार व छिटकते परम्परागत मतो से चिंतित पार्टी हाईकमान ने राजस्थान के उदयपुर मे तीन दिन का चिंतन शिविर आज पूरा कर रही है।जिसमें बनी रणनीति व फैसलों का असर आगे देखने को मिल सकता है।पीछले ग्यारह साल से राजस्थान से लोकसभा व राज्यसभा मे कोई भी मुस्लिम सदस्य नही है। जिसके चलते उक्त दोनो सदनो मे आवश्यक मामले उठाये नही जा सके है। उक्त दोनो सदनो मे उठाये गये मुद्दे इतिहास के पन्नो पर दर्ज होत

Delhi Mundka Factory Fire : WPC issued Statement " A Culpable Homicide Occurred Due to States Negligence and Ignorance"

  New Delhi :  Mundka Factory Fire a statement was released by WPC in which sadness and solidarity was expressed  for the families of the bereaved and the injured workers in the Mundka fire. In statement  it was said that WPC is extremely shocked at the factory fire which engulfed the lives of 30 workers, as per official claims. It is estimated that many more workers who are reported missing, have also perished. Most of the workers in that building were young women workers. The massive blaze which engulfed a four-storey building in Delhi’s Mundka on Friday began in a factory on the premises that did not have a No Objection Certificate (NOC) from the fire department. Even worse, the owners did not apply for one. WPC condemns this culpable homicide which occurred due to state negligence and ignorance The said manufacturing unit which produced high tech electronic and surveillance equipment including CCTV sets operated without any inspection or scrutiny by authorities. This,

राजस्थान मे मुस्लिम अधिकारियों की सेवानिवृत्ति के मुकाबले नये अधिकारी नही बन पा रहे है।

               ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे मुस्लिम समुदाय के खासतोर पर प्रशासनिक सेवा व पूलिस सेवा एवं न्यायीक सेवा के लगातार सेवानिवृत्त होते उच्च अधिकारियों के मुकाबले नये तौर पर आने वाले अधिकारियों की तादाद बहुत कम देखी जा रही है। इस माह से लेकर 2024 के आखिर तक होने उक्त सेवा के अधिकारियों के होने वाले सेवानिवृत्ति को देखते हुये एक खाली खाली नजर आने लगेगा। अगर नये तौर पर बतौर अधिकारी सलेक्ट नही हो पाये तो चंद गिनती के अधिकारी ही रह जायेंगे।                अगर हिमाचल प्रदेश के मुख्य न्यायाधीश सुप्रीम कोर्ट नही जा पाते है तो जस्टिस मोहम्मद रफीक इसी माह की चोबीस तारीख को सेवानिवृत्त हो जायेंगे। वही भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी उमरदीन खान IAS अगले महने तीस जून को सेवानिवृत्त हो रहे है। इसके अलावा भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी व वर्तमान मे अतिरिक्त पुलिस आयुक्त जयपुर,  हैदर अली जैदी IPS इसी साल इकतीस अगस्त को सेवानिवृत्त हो रहे है। न्यायीक सेवा के जिला जज केडर के अधिकारी शहाबुद्दीन खान DJ भी इसी मई महीने सेवानिवृत्त हो जायेगे। राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारी शौक

लखनऊ पब्लिक स्कूल में मदर्स डे के अवसर पर अनेक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया

   लखनऊ पब्लिक स्कूल में मदर्स डे के अवसर पर अनेक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। बच्चों  एवं उनकी माताओं ने कार्यक्रम में प्रतिभाग किया एवं अपने इनऐक्टमेंट की सुंदर प्रस्तुतिया दी। सूर्यांश तोलानी की मदर गौरी तोलानी विनर एवं भौमिक सिंह की मदर अमिता सिंह विनर रही। वर्णिका टंडन की मदर कोकिला टंडन ने आयोजित गेम में अपना सफल प्रदर्शन कर पुरस्कार प्राप्त किया। उपस्थित अनेक माताओं ने अपने विचार व्यक्त किए एवं अपनी मातृत्व प्रधान युक्त सुंदर भावनाओं को व्यक्त किया। प्रधानाचार्य विजय सचदेवा ने सभी प्रतिभागियों को पुरस्कार एवं प्रमाण पत्र वितरित किए एवं माताओं  का अभिवादन करते हुए उनके संस्कार पूर्ण सेवा भावनाओं की कोटि-कोटि मुक्त कंठ प्रशंसा से की। उन्होंने उपस्थित सभी शिक्षिकाओं प्रज्ञा, निधि, सुकृति व रशिका सहित इंचार्ज कीर्ति धमेजा को कार्यक्रम सफल बनाने के लिए धन्यवाद दिया।