सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

दिसंबर, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

11th times the beginning and end of the year in the 21st century from Saturday

New Year 2022 has come before us in the form of a calendar with its new combinations of dates and days, cherishing our future dreams. The calendar of New Year 2022 will start from Saturday and end on Saturday. Such a calendar containing the combinations of such dates and the days falling on them has come not only for the first time but for the third time in this century. Earlier in the years 2005 and 2011 also the coincidence of this calendar had come. In the coming years 2033, 2039, 2050, 2061, 2067, 2078, 2089 and 2095, the same calendar will coincide again. In this way, the coincidence of this calendar will come a total of 11 times in this century. In the last century also, this calendar coincided 10 times in the years 1910, 1921, 1927, 1938, 1949, 1955, 1966, 1977, 1983 and 1994.   Such interesting information and facts related to the calendar have been told by Atul Saxena, the mathematics teacher of Lucknow Public School, Lakhimpur Kheri, on the basis of his self-made code-calenda

21वीं सदी में 11वीं बार वर्ष का शुभारंभ व समाप्ति शनिवार से

नववर्ष 2022 हमारे भावी सपनों को संजोए हुए अपनी तारीखों व दिनों के नवीन समन्वयों के साथ एक कैलेंडर के रूप में हमारे सम्मुख आया है। नववर्ष 2022 का कैलेंडर शनिवार से शुरू होकर शनिवार दिन को ही समाप्त होगा। ऐसी तारीखों और उन पर पड़ने वाले दिनों के सयोगों से युक्त ऐसा कैलेंडर इस शताब्दी में पहली बार ही नहीं वरन तीसरी बार आया है। इससे पूर्व वर्षों 2005 एवं 2011 में भी इसी कैलेंडर का संयोग आया था। आगामी वर्षो 2033, 2039, 2050, 2061, 2067, 2078, 2089 एवं 2095 मे भी इसी कैलेंडर का पुन:संयोग आएगा। इस तरह से इस सदी में इस कलेंडर का संयोग कुल 11 बार आएगा। विगत शताब्दी में भी इस कैलेंडर का संयोग कुल 10 बार वर्षों 1910, 1921, 1927, 1938, 1949, 1955, 1966, 1977, 1983 तथा 1994 में भी आया था।   कैलेंडर से जुड़ी हुई ऐसी रोचक जानकारियां एवं तथ्यों को लखनऊ पब्लिक स्कूल, लखीमपुर खीरी के गणित शिक्षक अतुल सक्सेना ने अपनी स्वनिर्मित सैकड़ों वर्षों के लिए कैलेंडर-कोड तालिकाओ के आधार पर बताया है। उनके अनुसार कैलेंडर कुल 14 प्रकार के ही होते हैं। सात सामान्य वर्षों के लिए तथा सात लिपि वर्षों के लिए होते हैं। एक

आमिक्रोन के बढते प्रभाव को लेकर हुई बैठक के बाद नये दिशा निर्देश जारी।

          ।अशफाक कायमखानी। जयपुर         मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के सरकारी निवास पर हुई राज्य मंत्रिपरिषद् की बैठक में कोरोना के ओमिक्रोन वैरिएंट के तेजी से फैलते संक्रमण पर चिंता व्यक्त की गई। दुनिया के 116 देशों और देश के कई राज्यों में कोरोना एवं ओमिक्रोन वैरिएंट के तेजी से बढ़ते केसों के दृष्टिगत मंत्रिपरिषद् ने भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुरूप प्रदेश में भी संक्रमण से बचाव तथा जीवन रक्षा के लिए आवश्यक पाबंदियां लगाने पर सहमति व्यक्त की है। बैठक में मंत्रिपरिषद् ने संक्रमण के फैलाव को देखते हुए प्रदेश में रात्रि 11 बजे से प्रातः 5 बजे तक जन अनुशासन कर्फ्यू की प्रभावी पालना कराए जाने का निर्णय लिया है। साथ ही, मास्क की अनिवार्यता एवं कोविड एप्रोप्रिएट बिहेवियर की सख्ती से पालना कराए जाने पर जोर दिया। साथ ही मंत्रिपरिषद् ने 31 जनवरी तक पात्र सभी लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज लगवाने तथा प्रदेश में वैक्सीन की अनिवार्यता के संबंध में भी सहमति व्यक्त की। मंत्रिपरिषद् ने कहा कि वैक्सीन की दोनों डोज नहीं लगवाने वालों को 31 जनवरी के बाद सार्वजनिक एवं अधिक जन समूह वाले स्थानों पर जाने क

राजस्थान मे पोस्टेड होने वालो के साथ सलेक्ट होने वाले आईएएस व आईपीएस की तादाद संतोषजनक नही कही जा सकती। इसी तरह तरक्की पाकर या ऐडवोकेट कोटे से राजस्थान हाईकोर्ट मे पदस्थापित रहे न्यायाधीश के लेखा-जोखा भी देख लेते है।

              ।अशफाक कायमखानी। राजस्थान हाईकोर्ट मे मुख्य नयायाधीश जस्टिस अकील अहमद कुरेशी व राजस्थान मे न्यायाधीश बनकर अन्य प्रदेशों मे मुख्य न्यायाधीश जस्टिस मोहम्मद रफीक राजस्थान प्रदेश के लिहाज से एक एक मात्र मुस्लिम है। इनके अलावा सर्विस कोटे से जस्टिस मोहम्मद फारुक, तरक्की पाकर जस्टिस मोहम्मद असगर अली चोधरी, जस्टिस यामिन अली, जस्टिस भंवरु खा भी राजस्थान हाईकोर्ट मे जस्टिस रहे है। ऐडवोकेट कोटे से जस्टिस बने मोहम्मद रफीक खान के बाद वर्तमान मे अभी बने जस्टिस फरजंद अली का नाम प्रमुख है।                    हालाकि राजस्थान से IAS बनने वाले व बाहर से यहा पोस्टेड होने मुस्लिमस की तादात सन्तोष जनक नही मानी जा सकती है। फिर भी ये सिलसिला कमोबेस चलते आना कुछ राहत  जरूर देता है।            रियासतो के मिलाकर राजस्थान बनने पर अलग अलग रियासतो से आये अधिकारियो मे से कुछेक को  IAS बनाकर उन्हें कलेक्टर पद पर लगाया था। जिनमे जयपुर रियासत से अहमद अली जाफरी, बून्दी रियासत से अलाऊद्दीन खिलजी, ट़ोकं रियासत से यासीन खान, जोधपुर रियासत से वहीदुद्दीन खान व उदयपुर रियासत से सर्फ अली बोहरा थे।             रा

छत पर खेल रही चार वर्षीय बालिका की चाइनीज डोर से गर्दन कटने पर पंद्रह टांके लगे।

  फतेहपुर शेखावाटी (सीकर)।                  कस्बे के वार्ड 35 मोहल्ला तेलियान में मंगलवार सायंकाल छत पर खेल रही चार बर्षीय बालिका की चाइनीज डोर से गला कट गया,उसके 14टांके आये, भागश्वश नन्ही बालिका बच गई।कस्बे के महमिया अस्पताल के प्रबंधक बालकिशन नागवान ने जानकारी दी कि मंगलवार सायंकाल अस्पताल में एक बालिका को लाया गया,जो गला कट जाने से लहूलूहान थी ।डा.बीके महमिया,डा.सिद्धार्थ महमिया और डा.सौरभ महमिया की टीम ने आधे घंटें की मशक्कत के बाद बालिका के गले पर 14 टांके लगाकर,उसकी जीवन रक्षा की ।नन्ही घायल बालिका वीरा 4वर्ष पुत्री अदनान घर की छत पर खेल रही थी कि चाइनीज डोर की चपेट में आनें से उसका गला कट गया ,जिसे लहूलुहान हालात में कस्बे के महमिया अस्प्ताल में लाया गया,जहां डाक्टरों की टीम ने उसका उपचार किया ।डा.सिद्धार्थ महमिया ने बताया कि बालिका के चाइनीज डोर से गहरा कट लगा,यदि आधा सेंटीमीटर ओर गहरा घाव हो जाता तो बालिका के गले की एक्सटरनल वेन और कारटीड आरटरी कट जाने  से जान जा सकती थी । धडल्ले से बिक रही है चाइनजी डोर कस्बे में चाइनीज डोर धडल्ले से बिक रही है,जिला प्रशासन की रोक के बाद भी

शेविंग ट्रिमर से निकले 24 लाख के सोने के बिस्किट, फ्री टिकट के लालच में शारजाह से लाया 5 बिस्किट, जयपुर एयरपोर्ट पर पकड़ा गया

          ।अशफाक कायमखानी। जयपुर जयपुर एयरपोर्ट पर कस्टम विभाग की टीम ने गोल्ड तस्करी का मामला पकड़ा है। शारजाह से आए व्यक्ति के पास से कस्टम ने 491 ग्राम के 5 गोल्ड बिस्किट पकड़े। इनकी मार्केट वैल्यू 24.32 लाख रुपए से ज्यादा है। गोल्ड बिस्किट शेविंग करने वाले दो ट्रिमर में छिपाए हुए थे। एयर टिकट के लालच में आकर वह व्यक्ति गोल्ड शारजाह से जयपुर लाया था। युवक को गिरफ्तार कर लिया गया है। जयपुर कस्टम की गोल्ड और कोकिन तस्करी पकड़ने की इस महीने में यह चौथी कार्रवाई है। कस्टम के कमिश्नर राहुल नांगरे ने बताया कि कार्रवाई असिस्टेंट कमिश्नर भारत भूषण अटल के नेतृत्व में की गई। दिसंबर में गोल्ड तस्करी का ये तीसरा मामला है। इन तीन कार्रवाई के दौरान 1 किलो सोना पकड़ा जा चुका है। असिस्टेंट कमिश्नर भारत भूषण ने बताया कि आज सुबह एयर अरेबिया से आई फ्लाइट में सीकर निवासी एक युवक पहुंचा। युवक दुबई में कंस्ट्रक्शन कंपनी में टाइल लगाने का काम करता है। उस व्यक्ति के पास एक गत्ते का बॉक्स था, जिसमें कुछ सामान पड़ा था। एक्सरे मशीन में जब उस लगेज की जांच की गई तो इसमें गोल्ड होने का संदेह हुआ। सामान निकालकर देखा

सचिन पायलट प्रादेशिक सेना (टेरिटोरियल आर्मी) में कैप्टन बन गए

           ।अशफाक कायमखानी। जयपुर: पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट प्रादेशिक सेना (टेरिटोरियल आर्मी) में कैप्टन बन गए हैं। सचिन पायलट का हाल ही कैप्टन पद पर प्रमोशन हुआ है। पायलट ने आज दिल्ली में 124 सिख रेजिमेंट की जनरल मीटिंग और ड्रिल में हिस्सा लिया।आज पायलट आर्मी की कॉम्बैट ड्रेस में नजर आए। सचिन ने टेरिटोरियल आर्मी में शामिल होने के बाद पहली बार आर्मी की कॉम्बैट यूनिफॉर्म पहने हुए फोटो ट्वीट की हैं। कॉम्बैट यूनिफॉर्म आर्मी में युद्ध और फील्ड ऑपरेशन में पहनी जाती है। सचिन पायलट ने सिंतबर 2012 में केंद्रीय मंत्री रहते हुए टेरिटोरियल आर्मी में लेफ्टिनेंट के तौर पर ज्वायन किया था। पायलट उसके बाद हर साल कुछ समय के लिए टेरिटोरियल आर्मी में कुछ समय सेवा देते हैं। पायलट को सिख रेजिमेंट दी गई है। पायलट को नौ साल बाद अब कैप्टन पद पर प्रमोशन दिया गया है। पायलट दिल्ली दौरे के समय साल में कई बार अपनी यूनिट में जाते हैं और बैठकों में शामिल होते हैं। राजस्थान के कांग्रेस नेताओं में सचिन पायलट के अलावा पूर्व सांसद मानवेंद्र सिंह भी टेरिटोरियल आर्मी में हैं। सचिन पायलट के परिवार का बैकग्राउंड सेना क

राजस्थान की तमाम बकरा-पाडा मंडियां शैक्षणिक क्षेत्र मे चाहे तो बहुत कुछ बडा कर सकती है। उक्त मंडियों को बिरादरी मे बदलाव लाने के लिये अपनी आर्थिक रणनीति बदलने पर विचार करना होगा।

                ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                 राज्य भर मे करीब करीब जिला व तहसील मुख्यालय पर बकरा-पाडा मंडियों का एक स्थानीय लोगो की बनी एक असरदार कमेटी द्वारा संचालन किया जाता है। जहां पर खाजरु (जानवर) का बेचान व खरीद का कार्य होता है। मंडी मे बेचान व खरीद के लिये आने वाले उक्त जानवरो की खरीद-फरोख्त होने पर प्रत्येक जानवर पर पांच-दस रुपया मंडी को एक बने सिस्टम के तहत आवश्यक रुप से आमद होती है। जिस आमद मे से कुछ रकम तो मंडी रखरखाव व उसके संचालन पर खर्च हो जाती है। कुछ रकम उनके द्वारा संचालित छोटे-बडे शैक्षणिक इदारो पर खर्च होने के बावजूद भी एक अच्छी रकम बचत मे रह जाती बताते है। जिस बचत का स्टुडेंट्स के मयारी हायर ऐजुकेशन व सिविल सेवा की तैयारी पर खर्च करने की मंसूबाबंदी पर अमल किया जाये तो कुछ ही सालो मे मंडी से किसी भी रुप मे जुड़े लोगो मे बडे स्तर पर सकारात्मक बदलाव की बयार बह सकती है।                   बकरा-पाडा व भेड़ की मंडी मे खरीद-फरोख्त एवं उसके मटन-मीट के कारोबार से जुड़े लोगो को कुरेशी-व्यापारी बिरादरी के नाम से जाना जाता है। जिस बिरादरी मे मयारी ऐजुकेशन का विस्तार जो

राजस्थान के मुस्लिम समुदाय को अपने पीछड़ेपन का किसी पर इल्जाम लगाये बीना अब तो अपने आपके लिये सोचने पर मजबूर होना पड़ेगा।

    RAS व RPS मे एक भी मुस्लिम अभ्यर्थी जगह पाने मे सफल नही हो पाया। R.Ac सेवा मे मात्र एक अभ्यर्थी ने जगह बनाई।                ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                 हालांकि चुनाव के समय मुस्लिम समुदाय नेताओं के आगे पीछे जमकर उनके पक्ष मे नारेबाजी व डोल-ढमाके बजाने मे कोई कसर नही छोड़ता है। उसी लह मे समुदाय को चलाकर अपने आप को अपने राजनीतिक दल मे अपने आपके लिये कुछ पाने की कोशिश मे मुस्लिम राजनेताओं द्वारा भी भरसक प्रयत्न करने के प्रमाण अक्सर मिलते रहते है। लेकिन अपनी युवा पीढी को कम से कम राज्य स्तरीय सेवाओं की परीक्षाओं को क्रैक कर सफल अभ्यर्थी बनाने के लिये समुदाय मे उदासीनता देखा जाना आम होता जा रहा है।                   भारत के दक्षिणी हिस्से पर नजर डाले तो खासतौर पर हमारे हिन्दी भाषी क्षेत्रो के मुकाबले खासतौर पर तेलंगाना-आंध्रप्रदेश-कर्नाटक-केरल-तमिलनाडु व कुछ हदतक महाराष्ट्र के अधीकांश मुस्लिम राजनेता राजनीति मे आने से पहले या आने के साथ किसी ना किसी रुप मे मयारी तालीमी सेंटर का संचालन करते है या फिर उस फिल्ड मे अपनी सेवाएं देते रहते है। उनके मुकाबले हिन्दी भाषी प्रदेशो के मु

अनैतिक आचरण व अपराधों में लिप्त सीआईडी विशेष शाखा के दो पुलिसकर्मी सेवा से बर्खास्त

      ।अशफाक कायमखानी। जयपुर             अनैतिक आचरण एवं अपराधों में लिप्त राज्य विशेष शाखा के दो पुलिसकर्मियों मोतीलाल व्यास कांस्टेबल नंबर 827 एवं प्रवीण गोदारा उर्फ प्रवीण बिश्नोई हेड कांस्टेबल नंबर 845 को राज्य सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है।     महानिदेशक पुलिस इंटेलिजेंस श्री उमेश मिश्रा ने बताया कि किसी भी पुलिसकर्मियों के विरुद्ध गंभीर प्रकृति के मुकदमे दर्ज होना पुलिस विभाग जैसे अनुशासित बल की स्वच्छ छवि के विपरीत है। राज्य विशेष शाखा जैसी संवेदनशील शाखा की छवि धूमिल करने के आरोप में राजस्थान सिविल सेवा नियम 1958 के नियम 19 (2) के तहत लोकहित में दोनों पुलिसकर्मियों को राज्य सेवा से तुरंत प्रभाव से बर्खास्त किया गया है। नैतिक अद्यमता के कारण सेवा से बर्खास्त राज्य विशेष शाखा के हेड कॉन्स्टेबल प्रवीण गोदारा के विरुद्ध थाना कोतवाली श्रीगंगानगर में 15 अक्टूबर 2019 को एक आपराधिक मुकदमा दर्ज हुआ। जिसमें आरोप प्रमाणित पाए जाने पर 9 दिसंबर 2019 को गिरफ्तार किया गया। तत्पश्चात 10 दिसंबर 2019 को श्रीगंगानगर जिले के ही चुनावढ़ थाने में महिला पुलिसकर्मी को अश्लील मैसेज व धमकी भरे चैट भेज

आठ करोड़ स्वीकृति के बाद भी कुछ कथित मुस्लिम संगठन अल्पसंख्यक हास्टल निर्माण का विरोध कर रहे है। राजस्थान के दूद-दराज से आने वाले स्टूडेंट्स के लिये हास्टल शैक्षणिक व सुरक्षित रुप से बडा आसरा हो सकता है

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                हालांकि अव्वल तो वर्तमान समय मे सरकारे खासतौर पर अल्पसंख्यक समुदाय मे शैक्षणिक तौर पर बडे काम करने के लिये आगे आने से भागती नजर आती है। लेकिन कभी कभार सरकारी अधिकारी की भागदौड़ व सरकार की समुदाय मे शैक्षणिक माहोल बनाकर उनको मेन स्टीम मे लाने की मंशा अनुसार अल्पसंख्यक समुदाय के हित व उनकी आवश्यकता अनुसार किसी तरह का कदम उठने लगता है तो चंद लोग पर्दे के पीछे अपने छिपे ऐजेण्डे के चलते उस अच्छे कदम की राह का रोड़ा बनकर सामने अवरोध की तरह आकर खड़े हो जाते है।             राजस्थान की राजधानी जयपुर स्थित राजस्थान विश्वविद्यालय व विभिन्न तरह की मुकाबलाती परीक्षाओं की कोचिंग संस्थानों के चार पांच किलोमीटर तक की परिधि मे मुस्लिम स्टूडेंट्स के रहने के लिये किसी तरह के हास्टल की व्यवस्था नही होने व उसकी सख्त आवश्यकता को भांपकर अल्पसंख्यक विभाग के निदेशक जमील अहमद कुरैशी सहित कुछ अन्य अधिकारियों की तरक्की पसंद सोच के चलते उनकी भागदौड़ की ताकत के फलस्वरूप राजस्थान विश्वविद्यालय के समीप मोतीडूंगरी के पास वाली दरगाह के पास खाली पड़ी बडी जमीन के एक हिस्से

प्रधानमंत्री मोदी की तरह पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को झुकाना होगा -------- नियमतीकरण को लेकर राज्य भर मे तीन महीने से मदरसा पैराटीचर्स का आंदोलन जारी।

                               मुख्यमंत्री गहलोत अभी तक ठस से मस तक नही।                ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                   कृषि सम्बंधित तीन काले कानून को वापिस लेने की मांग को लेकर किसानो द्वारा दिल्ली की सीमाओं पर एक साल से अधिक समय तक धरना देने के साथ साथ करीब सात सो किसानों का बलिदान होने पर प्रधानमंत्री मोदी को काले कानून वापिस लेने व माफी मांगने पर मजबूर होना पड़ा था। उसी तर्ज पर राजस्थान मे मुख्यमंत्री गहलोत को अपने चुनाव मेनिफेस्टो मे लगातार किये जा रहे नियमतीकरण के वादे को याद दिलाकर उसे पुरा करने की मांग को लेकर राजस्थान के मदरसा पैराटीचर्स पहले रुक रुक कर अब तीन महीने से जिला स्तर के अतिरिक्त जयपुर के शहीद स्मारक पर धरना-प्रदर्शन व अनशन करके आंदोलनरत है। आंदोलनकारियों को याद रखना होगा कि 700 से अधिक आंदोलनरत किसानों की मौत होने के बाद मोदी को उन्होंने झुकाया था। इस आंदोलन मे तो अभी कोटा की  एक मात्र बहन नाजमीन नामक आंदोलनरत पैराटीचर्स का अभी तक बलिदान हुवा है।               आंदोलनरत मदरसा पैराटीचर्स गहलोत सरकार को उनके द्वारा किये वादा याद दिलाकर उनकी जायज मांग मांगने

जिला कलेक्टर जाकीर हुसैन सहित अन्य प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों को अपने मध्य पाकर स्टुडेंट्स प्रफुल्लित नजर आये। अनेक वर्तमान व सेवानिवृत्त अधिकारियों को स्टूडेंट्स प्रेरणास्रोत मानकर आगे बढ रहे है।

                ।अशफाक कायमखानी। सीकर।                जिला मुख्यालय स्थित कायमखानी छात्रावास मे भव्य विस्तार भवन निर्माण होने पर निर्माण समिति द्वारा आयोजित भामशाह सम्मान समारोह मे श्रीगंगानगर कलेक्टर जाकीर हुसैन व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नाजीम अली खान व मुमताज खान एवं उप पुलिस अधीक्षक मोहम्मद इस्लाम खान, कर्नल शोकत खान सहित अनेक अधिकारियों को अपने मध्य पाकर खासतौर पर स्टुडेंट्स प्रफुल्लित नजर आये। उन अधिकारियों को लेकर स्टुडेंट्स के मध्य कार्यक्रम के बाद भी प्रेरणास्रोत चर्चा हो रही है कि हमे भी इनका अनुसरण करते हुये घर घर से अधिकारी बनाकर निकालने के लिये भरसक प्रयत्न स्वयं के स्तर के अतिरिक्त सामुहिक तौर पर एक खाका तैयार करके उस पर अमल करना होगा।               भामाशाह सम्मान समारोह मे अधिकारियों के अतिरिक्त पूर्व मंत्री यूनुस खान, विधायक हाकम अली खां, सभापति जीवण खा, चैयरमैन रावत खा, वाईस चैयरमैन बाबू खा बेगाना, सहित कायमखानी बिरादरी के अनेक प्रमुख लोगो ने शिरकत की।           बिरादरी समारोह से दूर रहने के आरोप अक्सर अधिकारियों पर लगते रहने के बावजूद श्रीगंगानगर मे पंचायत चुनाव की व्यस

अशोक गहलोत की तीन साल की बडी उपलब्धि गोवा-कर्नाटक व मध्यप्रदेश सरकार गिरने के बावजूद अपनी सरकार को बचाने मे कामयाब रहना माना जायेगा।

    मुख्यमंत्री ने तीन साल के अपनी सरकार के कार्यकाल मे दोस्त कम दुश्मन अधिक बनाये।               ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।               हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपनी सरकार के तीन साल पूरे होने के जश्न काफी बढचढकर मना रहे है। लेकिन तीन साल मे मुख्यमंत्री गहलोत की बडी उपलब्धि अपनी सरकार को बचाये रखने से अधिक नही मानी जा सकती। अपने चहते सेवानिवृत्त ब्यूरोक्रेट्स को तो अधीकांश संवैधानिक पदो पर नामित करके उनको सत्ता का सूख भोगने की खुलकर छूट दी पर कांग्रेस को सत्ता मे लाने मे दिन रात एक करने वाले कांग्रेस कार्यकर्ताओं व नेताओं को राजनीतिक नियुक्तियों से दूर रखकर उन्हें सत्ता आने का अहसास तक नही होने दिया है।               मुख्यमंत्री गहलोत ने सत्ता मे आने के बाद राजनैतिक तौर पर दोस्त कम व दुश्मन अधिक बनाये है। उनकी सरकार को समर्थन देने वाले वामपंथी नेता व माकपा सचिव कामरेड अमरा राम ने पेट्रोल-डीजल पर स्टेट का वेट कम नही करने के साथ साथ देश मे बिजली सबसे महंगी राजस्थान मे होने को लेकर जल्द सरकार के खिलाफ बडा आंदोलन खड़ा करने का ऐहलान कर दिया है। समर्थन दे रही भारतीय ट्राईबल पार्टी के न

राजस्थान मे मजलिस को अभी तक नही मिला मजबूत नेतृत्व। खासतौर पर अल्पसंख्यक युवाओं मे कांग्रेस द्वारा उन्हें किनारे रखने की रणनीति के चलते मजलिस के प्रति आकर्षण बढ रहा है।

                   ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                हालांकि खासतौर पर अल्पसंख्यक तबके से तालूक रखने वाला युवा तबका विकल्प मिलते ही कांग्रेस से छिटकते देर नही लगाता है। राजस्थान मे तो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा मुस्लिम समुदाय को निशाने पर रखने के चलते उनको सत्ता मे हिस्सेदारी देने की बजाय हर स्तर पर किनारे लगाये रखने की रणनीति के चलते वो एएमआईएम लीडर सांसद असदुद्दीन ओवैसी के जयपुर आकर राज्य मे पार्टी संगठन खड़ा करके 2023 के विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा करने से युवाओं मे उनके प्रति आकर्षण लगातार बढता देखा जा रहा है। पर उन युवाओं को एक डोर मे बांधकर उन्हें लीड करने के लिये मजलिस को प्रदेश मे अभी तक एक भी अनुभवी लीडर नही मिल पाने का टोटा साफ नजर आ रहा है।                    सांसद ओवैसी के इस सीलसीले मे अबतक जयपुर मे हुये दो दौरे मे उनसे मिलने वालो मे खासतौर पर जयपुर मे रहने वाले कुछ उन लोगो का मिलना हुवा है। जिनका राजनीतिक अनुभव ना के बराबर बताते है। मिले लोगो के प्रभाव व लीडरशिप से बेखोफ कांग्रेस अभी तक ओवेसी को लेकर गम्भीर नही बताते है। पर कुछ कांग्रेस जनप्रतिनिधि अपने क्षेत्र के

प्रमुख लोगो के हेलीकॉप्टर क्रैश व अन्य हादसो पर विधायक वीरेन्द्र सिंह ने शहीद प्रतिमा अनावरण सभा मे बोलने पर बवाल। - विधायक के भाषण पर भाजपा हमलावर नजर आ रही है।

       ।अशफाक कायमखानी।      जयपुर।                   सीकर जिले के दांतारामगढ़ विधानसभा क्षेत्र के धीरजपुरा गावं मे 15-दिसम्बर को शहीद की प्रतिमा अनावरण समारोह मे स्थानीय कांग्रेस विधायक वीरेन्द्र सिंह द्वारा हालही मे तीनो सैनाओ के प्रमुख रावत हेलीकॉप्टर हादसे पर दुख व्यक्त करते हुये सरकारी तंत्र की विफलता बताते हुये कुछ हादसो से राजनीतिक फायदा उठाने का आरोप एक दल पर लगाने के बाद बवाल मचा हुवा हैः     जिले के तेज तर्रार व जनता के मध्य हरदम रहने वाले विधायक वीरेन्द्र सिंह के बुधवार को एक कार्यक्रम में इस संबंध में दिए बयान पर कायम रहते हुए आज मीडिया से कहा कि उन्होंने आम नागरिक के हिसाब से यह सवाल उठाया है । उन्होंने कहा कि तीनों सेना के अध्यक्ष का हेलीकॉप्टर के साथ ऐसा हादसा हो जाता , शादी ब्याह आदि के लिए आने वाले हेलीकॉप्टर की सुरक्षा कौन करेगा। उन्होंने कहा कि वह इसे साजिश नही कहते लेकिन यह सरकारी तंत्र की विफलता है।           उन्होंने कहा कि  हिन्दुस्तान में राष्ट्र के प्रति भावना होती है और उनमें भी राष्ट्र के प्रति भावना है , चाहे सरकार किसी की भी हो देश के हित की बात हो तो साथ ख

मंत्रीमंडल की बैठक मे संविदाकर्मियों के लिये सेवा नियम बनाने सहित अनेक निर्णय लिये गये।

         ।अशफाक कायमखानी. जयपुर।               मुख्यमंत्री निवास पर राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में संविदा नियुक्ति के लिए नियम बनाने, चरागाह भूमि पर बसी सघन आबादी के नियमितिकरण के लिए नीति के प्रारूप के अनुमोदन सहित कई अन्य महत्वपूर्ण नीतिगत निर्णय किए गए। मंत्रिमंडल ने राज्य एवं केन्द्र सरकार की विभिन्न योजनाओं, परियोजनाओं एवं कार्यक्रमों की क्रियान्विति के उद्देश्य से एक निश्चित अवधि के लिए रखे जाने वाले कार्मिकों की संविदा नियुक्ति के लिए ‘राजस्थान कॉन्ट्रेक्चुअल अपॉइंटमेंट टू सिविल पोस्ट्स रूल्स-2021‘ बनाये जाने का अनुमोदन किया है। केबिनेट के इस निर्णय से मैनपावर की आवश्यकता की पूर्ति के लिए ऐसे कार्मिकों को संविदा पर नियुक्त करने के नियम बनाये जाने का मार्ग प्रशस्त होगा। केबिनेट ने चारागाह भूमि पर बसी सघन आबादी के नियमितिकरण के लिए प्रस्तावित नीति के प्रारूप का अनुमोदन किया है। चारागाह भूमि का वर्गीकरण परिवर्तन व्यापक जनहित में ही अन्य राजकीय भूमि की अनुपलब्धता होने पर किया जाएगा। नीति के तहत चारागाह भूमि पर कम से कम 30 वर्ष से घर बनाकर रह रहे परिवारों में से प्रति परिवार अधिकतम 100

राष्ट्रीय स्तर पर वामपंथी व कांग्रेस नेताओं की बढती नजदीकियां खासतौर पर सीकर मे रंग दिखा सकती है!

                  ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                किसी समय घोर विरोधी दल रहे कांग्रेस व वामपंथी दल अब कुछ सालो से सत्ता से दूर रहने व केन्द्र मे पूर्ण बहुमत की भाजपा सरकार गठित होने के बाद कांग्रेस व वामपंथी दल एक दुसरे के नजदीक आते दिखाई दे रहे है। वामपंथी दलो मे खासतौर पर माकपा मे हार्ड लाईनर माने जाने वाले कामरेड प्रकाश कारात के बजाय सोफ्ट प्रवृति के नेता कामरेड सीताराम यचूरी के अपने दल मे आगे आने के बाद से दोनो दलो मे नजदीकियां बढी है।                  हालांकि समय समय पर कामरेड सीताराम यचूरी का कांग्रेस नेताओं से मिलना होता रहता है। हालही मे 14-दिसम्बर को कांग्रेस नेता सोनिया गाधी के यहां प्रमुख विपक्षी नेताओं की अहम मीटिंग भाजपा के मुकाबले के लिये मिलकर खड़ा होने के लिये हुई है। जिसमे कामरेड सीताराम यचूरी भी शामिल थे। इस बैठक मे खासतौर पर राज्यसभा से निष्कासित विपक्षी सांसदो को लेकर सदन मे भाजपा का मुकाबला करने को लेकर थी। जिसमे निष्कासित सांसदों द्वारा माफी नही मागने का तय होने के साथ राकांपा नेता शरद पंवार को मामला सुलझाने की जिम्मेदारी दी गई है। लेकिन उस मीटिंग मे माकपा क

पूर्व विधायक मकबूल मण्डेलिया ने आंदोलनकारी पैराटीचर्स से धरना स्थल पर मिलकर उनकी मांग का समर्थन किया।

        विधायक वाजीब अली के बाद समर्थन मे पाये मंडेलिया ने शिक्षा मंत्री कला से मिलकर आंदोलनकारियो की मांग पूरी करने की अपील की।           ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             कांग्रेस विधायक वाजीब अली के समर्थन मे आने के बाद कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष व पूर्व विधायक हाजी मक़बूल मंडेलिया आज जयपुर स्थित शहीद_स्मारक पर पीछले दो महीने से आंदोलनकारी मदरसा पैराटीचर्स के धरना स्थल पर पहुंचकर दांडी यात्री शमशेर गांधी व संयुक्त संघर्ष समिति के पदाधिकारियों से मुलाकात करके राजीव गांधी पैराटीचर, मदरसा पैराटीचर, व शिक्षाकर्मियों के नियमितीकरण की वाज़िब मांग के समर्थन में समर्थन पत्र देकर उनके साथ खड़े रहने का विश्वास दिलाया।               चूरु के पूर्व विधायक मंडेलिया ने नियमितीकरण की मांग के साथ कक्षा 1 से 5 तक पूर्व की भांति उर्दू भाषा (अल्पभाषाओ) के अध्य्यन की व्यवस्था करने व प्रारंभिक शिक्षा के स्टाफिंग पैटर्न के मुताबिक विद्यालय में 10 बच्चो के नामांकन पर पद स्वीकृत करने व माध्यमिक शिक्षा में जल्द स्टाफिंग पैटर्न करने व उसी के मुताबिक 20 बच्चो पर उर्दू अल्पभाषा पद स्वीकृत करने की मांग का मांग

उत्तर प्रदेश-पंजाब चुनाव के बाद राजस्थान मे मुख्यमंत्री गहलोत व प्रदेश अध्यक्ष डोटासरा बदले जायेगे! पायलट के नही बनाने पर गहलोत के अड़ जाने पर किसान या ब्राह्मण को मुख्यमंत्री व दलित या आदिवासी को अध्यक्ष बनाया जा सकता है।

                ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।               मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व सचिन पायलट मे जारी राजनीति वर्चस्व की जंग को अपनी जीत मे बदलने का दावा मंत्रीमंडल विस्तार के बाद दोनो नेताओं द्वारा करके अपने अपने समर्थकों का उत्साह बनाये रखने के बावजूद मुख्यमंत्री के प्रति उपजे विधायकों व अन्य दिग्गज नेताओं मे असंतोष को दबाने के प्रयास मुख्यमंत्री समर्थक लगातार कर रहे है। फिर भी अंदर ही अंदर विधायकों व समर्थकों मे असंतोष की लगी आग कभी भी ज्वालामुखी बनकर फट सकती है।                   पंजाब के तत्तकालीन मुख्यमंत्री केप्टन अमरिंदर सिंह को एक झटके मे बदलने की प्रियंका गांधी की रणनीति सफल होने के बाद वहां दलित कार्ड खेलने से कांग्रेस के पूर्ण बहुमत से सत्ता मे वापसी की उम्मीद जताई जा रही है। गहलोत को सत्ता मे रीपीटर नही मानने के चलते अगले साल शुरुआत मे होने वाले पांच राज्यों के चुनाव के बाद (बजट सत्र के बाद) मुख्यमंत्री पद से गहलोत व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से डोटासरा को बदला जाना तय है। गहलोत को केन्द्र मे बडी जिम्मेदारी दी जा सकती है। वही डोटासरा की छुट्टी की जायेगी।                     ह

जयपुर मे कांग्रेस द्वारा आयोजित महगाई हटाओ रैली मे राहुल गांधी के महंगाई के बजाय हिन्दू व हिन्दुत्व पर दिये सम्बोधन से कांग्रेस अलग दिशा की तरफ जाती नजर आती है।

         रैली मे राहुल गांधी सहित दर्जन भर से अधिक राष्ट्रीय नेताओं ने सम्बोधित किया। पर सोनिया गांधी मंचासिन रहने के बावजूद सम्बोधन नही दिया।          राहुल ने कहा यह देश हिन्दुओं का है, हिन्दुओं का राज वापस लाना है।                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                कांग्रेस द्वारा देश मे बढती महंगाई को लेकर केंद्र सरकार को घेरने के लिये जयपुर मे 12-अक्टूबर को आयोजित राष्ट्रीय महंगाई हटाओ रैली को सम्बोधित करते हुये कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने महंगाई पर कम बल्कि हिन्दू व हिन्दुत्व पर अधिक समय बोलने के बाद लगता है कि कांग्रेस अब धर्मनिरपेक्षता का लबादा उतारकर भाजपा की राह पर चलकर फिर से खड़ी होकर सत्ता मे आने का ख्वाब देखने लगी है। रैली मे मुख्य मंच व वक्ताओं की सूची से मुस्लिम समुदाय के किसी नेता को जगह ना देकर कांग्रेस ने स्पष्ट संकेत दे दिया है कि वो अब अल्पसंख्यक की बजाय बहुसंख्यकों पर फोकस करते हुये आगे बढेगी।                   राहुल गांधी ने अपने आपको हिन्दू बताते हुये कहा कि देश की राजनीति में आज दो शब्दों का अंतर है. इन दो शब्दों के मतलब अलग है. एक शब्द हिंदू और दूसरा शब्द

होम्योपैथिक ट्रेडर्स वेलफेयर सोसायटी, दिल्ली की जनरल बॉडी मीटिंग निर्माण विहार में हुई

दिनांक 12 दिसम्बर 2021 को होम्योपैथिक ट्रेडर्स वेलफेयर सोसायटी दिल्ली की जनरल बॉडी की मीटिंग निर्माण विहार में हुई , जिसे संस्था के अध्यक्ष विनीत जी , वरिष्ठ उपाध्यक्ष राणा जी , कोषाध्यक्ष गौरव जी ने संबोधित किया अध्यक्ष श्री विनीत जी के निर्देशानुसार संस्था के महासचिव श्री   अरविन्द जैन ( Arvind Jain)   द्वारा उपस्थित सम्मानित सदस्यों को संस्था के द्वारा पूर्व में किये गए कार्यो की जानकारी दी गई। ततपश्चात महासचिव अरविन्द जैन द्वारा संस्था द्वारा छपवाई जा रही डायरेक्टरी के विषय मे उपस्थित सदस्यों को जानकारी दी गई एवम उनकी जिज्ञासाओं के संतुलित उत्तर दिए गए। इसके अलावा भविष्य में संस्था द्वारा किये जाने वाले कार्यक्रमों की जानकारी भी दी गई। इस समारोह को सफल बनाने में श्री उमेश सैगल जी का विशेष योगदान रहा। समारोह के आयोजन को एडविन बॉयोटेक कम्पनी द्वारा प्रायोजित किया गया था।

जयपुर मे कांग्रेस द्वारा आयोजित महंगाई हटाओ रैली मे राहुल गांधी ने अपने आपको हिन्दू बताने के साथ हिन्दू व हिन्दुत्व पर जमकर बोले।

                           ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              कांग्रेस द्वारा जयपुर मे केन्द्र की भाजपा सरकार के खिलाफ आज महंगाई हटाओं महारैली आयोजित करके केन्द्र सरकार पर वक्ताओं द्वारा जमकर हमले बोले गये। रैली मे कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अपने आपको हिन्दू बताते हुये कहा कि देश मे आज हिन्दू व हिन्दुत्व पर बहस चल रही है। एक तरफ महात्मा गांधी के हिन्दू व दुसरी तरफ गोडसे के हिन्दुत्व को मानने वाले है। उन्होंने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर वार करते हुये कहा कि आज केन्द्र सरकार के मंत्रियों के दफ्तरों मे ओएसडी स्वयंसेवक संघ को लोगो को लगाकर बैठा रखा है।  दुसरी तरफ प्रदेश मे लम्बे समय से आंदोलित मदरसा पैराटीचर्स जयपुर नही आ पाये उसके लिये राज्य भर मे पुलिस प्रशासन ने एक दिन पहले उनके घर जाकर उन्हें पाबंद करते हुये उनसे लिखवाकर लिया कि वो आज 12-दिसंबर को जयपुर नही जायेगे। कांग्रेस द्वारा मदरसा पैराटीचर्स से नियमतीकरण का किया वादा गहलोत सरकार द्वारा पूरा नही करने की स्थिति पर कांग्रेस विधायक वाजीब अली द्वारा एक दिन पहले विधायक पद से त्याग पत्र देने की धमकी देने के बाद रैली मे लोगो के मध्य