सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

नवंबर, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

अतिरिक्त पुलिस कमिश्नर हैदर अली जैदी सहित आठ आईपीएस व छियासठ अधिकारी व पुलिसकर्मी डीजीपी डिस्क से सम्मानित हुये।

     ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             महानिदेशक पुलिस राजस्थान एम एल लाठर ने आज सोमवार को पुलिस मुख्यालय में आयोजित समारोह में अतिरिक्त पुलिस कमिश्नर हैदर अली जैदी सहित छियासठ पुलिस एवं अन्य सेवाओं के अधिकारियों व कर्मचारियों को सराहनीय कार्य के लिए डीजीपी प्रशस्ति डिस्क एवं रोल प्रदान कर सम्मानित किया।           महानिदेशक पुलिस ने सभी सम्मानित अधिकारियों व कर्मचारियों को बधाई दी और भविष्य में भी पूरी क्षमता से कार्य करने का आव्हान किया। उन्होंने कोरोना काल मे पुलिस कर्मियों द्वारा किये गए  सकारात्मक कार्यो से आमजन में पुलिस की बनी  बेहतर छवि को बनाये रखने का आग्रह किया। उन्होंने कोरोना के बारे में अभी भी सतर्क रहने की आवश्यकता प्रतिपादित की          लाठर ने प्रदेश में शान्ति और कानून व्यवस्था बनाये रखने के साथ ही आमजन की शिकायतों के त्वरित  निस्तारण पर बल दिया। उन्होंने अपराधों को नियंत्रित करने के लिये पुलिस कर्मियों से सदैव मुस्तैद रहने का आव्हान किया। उन्होंने बताया कि महिलाओ के विरुद्ध अपराधों की रोकथाम के साथ ही अपराधियों की धरपकड़ कर उन्हें सजा दिलाये जाने पर विशेष ध्यान दिया

राजस्थान के बेरोजगार युवा यूपी मे प्रियंका गांधी के घर के बाहर धरना दिया पर पता चला कि प्रियंका राजस्थान रणथंभौर घुमाने आई हुई है।

          ।अशफाक कायमखानी।     जयपुर।              मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा बेरोजगारों की सुनवाई नही करने से परेशान होकर वो लखनऊ स्थित कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी से मिलने गये। जहां गांधी के नही मिलने पर बेरोजगारों ने सर्द रात में खुले में सोकर रात गुजारने से अनेक लोग बीमार हो गये बताते है। कुछ लोगो को सुबह अस्पताल मे भर्ती करवाना पड़ा है।           कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी के राजस्थान के रणथंभौर घूमने आने के कारण उनसे बेरोजगारों की मुलाकात नही हो पाई। लेकिन बेरोजगारों के जमीन पर पर सर्द रात मे सोकर रात गुजारने की खबर पाकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत काफी गुस्से मे नजर आये। उन्होंने आज जयपुर स्थित प्रदेश कांग्रेस दफ्तर मे प्रैस कांफ्रेंस मे एक सवाल का जवाब देते हुये आज अपने गुस्से का इजहार किया।          बताते है कि सोशल मिडिया पर बेरोजगार युवाओ की फोटो ट्रेंड होने लगी तो यूपी सरकार हरकत में आई तो पता चला ये तो राजस्थान के बेरोजगार युवा है जो गहलोत सरकार की शिकायत करने यूपी पहुँचे थे।यूपी सीएम योगी को पुरे घटनाक्रम के बारे में बताया गया तो सुत्र बताते है कि उन्होने गहलोत से बात की।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लगातार मुस्लिम विरोधी रुख अपना कर क्या संदेश देना चाहते है? शहीद स्मारक पर अनशन पर बैठे उर्दू टीचर शमशेर गांधी की पत्नी व महिला मदरसा पैराटीचर्स ने मुख्यमंत्री के काफिले को पीसीसी के सामने आज रोकने की कोशिश की।

                          ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपने वर्तमान टर्म मे  लगातार सोफ्ट हिन्दूत्व पर चलते हुये सत्ता मे हिस्सेदारी को लेकर मुस्लिम विरोधी रुख क्यो अपना रहे है। इसको लेकर प्रदेश का पुरा मुस्लिम समुदाय आश्चर्यचकित व हैरान होकर उनके उठते सियासी कदमो पर नजर गढाये हुये है। कांग्रेस द्वारा 2018 के आम विधानसभा चुनाव के समय अपने घोषणा पत्र मे मदरसा पैराटीचर्स को नियमित करने का वादा करने के बावजूद अभी तक उन्हें नियमित नही करने से नाराज पैराटीचर्स अब नियमित करने की मांग को लेकर लगातार धरना -प्रदर्शन करने के साथ साथ पीछले पेतांलिस दिन से जयपुर के शहीद स्मारक पर धरना दे रहे है। धरने का नेतृत्व करने वाले उर्दू टीचर शमशेर भालू खां गांधी की पत्नी अख्तर बानो व कुछ महिला पैराटीचर्स ने प्रदेश कांग्रेस कार्यालय मे मुख्यमंत्री के प्रैस कांफ्रेंस करने आने के समय उनके काफिले को रोकने की कोशिश करने पहुंची। जिन्हें काफिला आने से पहले सीएम सुरक्षा व पुलिस वालो ने हटाने के बावजूद वो लगातार नारेबाजी करते हुये विरोध करती रही।                मदरसा पैरा

जयपुर में बुलेट वाला किन्नर निकला चोर: अकेले खिड़की की ग्रिल तोड़कर 36 से ज्यादा वारदात की, सूने फ्लेटों में की चोरी जयपुर पुलिस गिरफ्त में आया शबाना किन्नर।

जयपुर में पुलिस ने एक शातिर किन्नर को पकड़ा है। जो अकेले ही बुलेट बाइक पर घूमकर सूने फ्लेटों को निशाना बनाता है। शबाना किन्नर पिछले तीन साल में करीब 36 से ज्यादा चोरी व नकबजनी की वारदातें कर चुका है। जो कुछ साल पहले तक अन्य किन्नरों के साथ मांगकर अपनी जिंदगी बिताता था। शानो-शौकत से जिंदगी जीने के शौकीन शबाना ने चोरी करना शुरू कर दिया। गैंग के साथ मिलकर चोरियां करने के बजाए शबाना अकेले ही सूने फ्लेटों को निशाना बनाता है। उसको पांच दिन के रिमांड पर लेकर पूछताछ की जा रही है। शबाना किन्नर दिन में दोपहर 12 से शाम 4 बजे के बीच वारदात करता है, क्योंकि इस अवधि में कॉलोनियों में सूनसान रहती है। आवाजाही भी रहती है। डीसीपी (पश्चिम) ॠचा तोमर ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी शबाना किन्नर (25) हसनपुरा सी, सदर जयपुर का रहने वाला है। शबाना किन्नर कॉलोनियों में सूने फ्लेटों में दिन में ही पेचकस से खिड़की की ग्रिल खोलकर घर में सेंधमारी करता है। वह मकान में चोरी के दौरान किसी भी प्रकार का सामान नहीं बिखेरता है। उस सामान को वहीं वापस रखकर जमा देता है। पुलिस पड़ताल में सामने आया है कि शबाना पहले साथी किन्नरों के स

शेखावाटी जनपद मे सत्ता की धूरी अब परिवहन मंत्री विजेंद्र ओला के ईर्दगिर्द घूमती नजर आने लगी। जनपद के राजनीतिक रुप से मजबूत ओला परिवार के विजेंद्र ओला सत्ता के नये केंद्र बनते नजर आने लगे।

                   ।अशफाक कायमखानी। सीकर।                 जाट-मुस्लिम व दलित बहुल व देश को सबसे अधिक फौजी देने वाले शेखावाटी जनपद की देश-प्रदेश की राजनीति मे अधीकांश समय विशेष धमक रहने के बावजूद पीछले करीब दस साल से जो थमक धूंधली पड़ने लगी थी वो फिर से चाहे धीरे धीरे पर चमकने लगी है।             अडानी-अम्बानी व टाटा को छोड़कर बाकी नामी उधोगपति बिड़ला-गोयनका-पोद्दार-बजाज-खेतान-तोदी सहित दर्जनो नामी गिरामियो की जन्म भुमि एवं तत्तकालीन लोकसभा अध्यक्ष व कृषि मंत्री बलराम जाखड़-तत्तकालीन पूर्व उपप्रधानमंत्री चौधरी देवीलाल जैसे बाहरी नेताओं का कभी निर्वाचन क्षेत्र रहे शेखावाटी जनपद ने राजनीति मे खासा दबदबा रखने वाले नेता दिये है। पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के परिवार के निकास वाले धामोरा गावं व केन्द्रीय मंत्री रहे मरहूम दौलतराम सारण, मरहूम शीशराम ओला, सुभाष महरिया, महादेव सिंह, सहित अन्य केन्द्रीय मंत्री व वर्तमान राज्यपाल जगदीप धनखड़ भी इसी भुमि मे पैदा हुये है। पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल का ससूराल व पूर्व मुख्यमंत्री एवं उपराष्ट्रपति भैरोसिंह शेखावत भी इसी भुमि की पैदाइश है।              

हैदर अली जैदी सहित आड आईपीएस समेत 66 को कल डीजीपी के हाथो मिलेगा डीजीपी डिस्क।

   जयपुर 28 नवम्बर।               राजस्थान पुलिस के अधिकारियों एवं कर्मचारियों को उनके द्वारा किए गए सराहनीय कार्य के फलस्वरूप डीजीपी प्रशस्ति डिस्क एवं रोल प्रदान करने हेतु पुलिस मुख्यालय परिसर में सोमवार 29 नवंबर को प्रातः 11 बजे सम्मान समारोह आयोजित किया जा रहा है। इस अवसर पर महानिदेशक पुलिस एम एल लाठर चुने गए 66 पुलिस एवं अन्य सेवाओं के अधिकारियों व पुलिस कर्मचारियों को सम्मानित करेंगे।              अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस अपराध रवि प्रकाश ने बताया कि सम्मान समारोह के दौरान 8 आईपीएस, एक अतिरिक्त निदेशक प्रचार, एक उप निदेशक स्वास्थ्य, 10 आरपीएस, 2 निजी सचिव, 9 पुलिस निरीक्षक व कंपनी कमांडर, 3 उप निरीक्षक व प्लाटून कमांडर,, 2-2 मंत्रालयिककर्मी व हेड कांस्टेबल एवं 28 कांस्टेबल को डीजीपी प्रशस्ति पत्र व रॉल प्रदान किया जायेगा।        8 आईपीएस को मिलेगा डीजीपी डिस्क*         एडिशनल डीजीपी पुनर्गठन एवं नियम संजीव कुमार नार्जारी, आईजी इंटेलीजेंस रूपिंदर सिंघ, डीआईजी कार्मिक गौरव श्रीवास्तव, एडिशनल कमिश्नर द्वितीय जयपुर हैदर अली जैदी, डीआईजी सीआईडी सीबी अनिल कुमार टॉक, एसपी जयपुर ग्रामीण

राजस्थान लोकसेवा आयोग के चैयरमैन भूपेन्द्र यादव का एक दिसम्बर को कार्यकाल पुरा होगा। नये चैयरमैन को लेकर एम एल लाठर व भगवान लाल सोनी के नाम की चर्चा।

       मुख्यमंत्री गहलोत किसी मुस्लिम अधिकारी को चैयरमैन बनाकर चौंका सकते है।              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                चैयरमैन सहित आठ सदस्यों वाले राजस्थान लोकसेवा आयोग के वर्तमान चैयरमैन भूपेन्द्र यादव  अगले पांच दिन बाद अपना कार्यकाल पुरा करके एक दिसम्बर को पद से अलग हो जायेगे। जबकि पीछले साल सरकार द्वारा मनोनीत चार सदस्यों को छोड़कर वसुंधरा राजे सरकार मे मनोनीत तीन सदस्य अगले साल अलग अलग दिन अपना कार्यकाल पुरा करेंगे।                   आयोग के वर्तमान चैयरमैन भूपेन्द्र यादव पांच दिन बाद एक दिसम्बर को अपना कार्यकाल पुरा कर रहे है। जबकि सदस्य शिवसिंह राठौड़ अगले साल यानि दो महीने बाद उनतीस जनवरी को, रामूराम रायका अगले साल चार जुलाई को, व राजकुमारी गुर्जर अगले साल छ दिसम्बर को कार्यकाल पुरा करेगे। गहलोत सरकार मे मनोनीत सदस्य संगीता, जसवंत, मंजू व बाबूलाल कटारा का कार्यकाल गहलोत की वर्तमान सरकार से भी काफी अधिक समय बाद भु बचा रहेगा।              चैयरमैन भूपेन्द्र यादव के कार्यकाल पूरा करने के बाद नये चैयरमैन के मनोनीत करने मे समय लगता है तो किसी वर्तमान सदस्य को कार्यकारी चैय

राजस्थान मंत्रीपरिषद की बैठक मे संवेदनशील पारदर्शी एवं जवाबदेह सुशासन देने की दिशा मे अनेक निर्णय लिये गये।

          ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             मुख्यमंत्री निवास पर हुई नवगठित मंत्रीमंडल के बाद राज्य मंत्रिपरिषद् की पहली बैठक में संवेदनशील, पारदर्शी एवं जवाबदेह सुशासन की दिशा में कई महत्वपूर्ण निर्णय किए गए। बैठक में कहा गया कि आमजन की आकांक्षाओं को पूरा करने तथा प्रदेश के चहुंमुखी विकास के उद्देश्य से राज्य सरकार ने बीते करीब तीन साल में कई महत्वपूर्ण योजनाएं एवं कार्यक्रम लागू किए गए हैं। साथ ही कई जनकल्याणकारी घोषणाएं भी की गई हैं। कोरोना की विषम परिस्थितियों में भी सरकार ने जनता को राहत देने में कोई कमी नहीं छोड़ी है। जमीनी स्तर तक सरकार की योजनाओं, कार्यक्रमों एवं नीतियों का प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित कर प्रदेश में सुशासन को और अधिक गति दी जाए।          निर्णय अनुसार प्रभारी मंत्री प्रतिमाह कम से कम 2 दिन जिलों में करेंगे समीक्षा वही मंत्रीगण सप्ताह के प्रथम तीन दिवस-सोमवार, मंगलवार एवं बुधवार को जयपुर मुख्यालय पर ही रहकर जनअभाव अभियोग के निराकरण के साथ ही विभागीय योजनाओं की नियमित समीक्षा करेंगे। सभी प्रभारी मंत्रियों को अपने प्रभार वाले जिलों में प्रत्येक माह कम से कम 2 दि

मुस्लिम समुदाय को अपने बच्चों को विभिन्न तरह के इंटीग्रेटेड व उच्च विशेष कोर्स करवाने पर भी विचार करना चाहिये।

                  ।अशफाक कायमखानी। सीकर।                   हालांकि शेक्षणिक तौर पर पीछड़े होने का दंश झेल रहे  मुस्लिम समुदाय मे अन्य क्षेत्रो के मुकाबले शेखावाटी जनपद मे पहल सेठ-साहुकारों द्वारा व फिर बिरादरी स्तर पर एवं अब खासतौर पर किसान बिरादरी द्वारा शैक्षणिक संस्थान  कायम होने से बेटे व बेटीयों का तालीमी प्रतिशत प्रदेश के अन्य क्षेत्रो से कुछ बेहतर हो सकता है। लेकिन उसे आज के हालात मे अन्य वतन भाइयों के मुकाबले संतोषजनक कतई नही कहा व माना जा सकता है। फिर भी कुछ स्टुडेंट खासतौर पर जाट बिरादरी के बच्चों के शेक्षणिक क्षेत्र मे बढते कदम का अनुसरण करते हुये सैंट्रल यूनिवर्सिटीज के विभिन्न क्षेत्र के इंटीग्रेटेड कोर्स व पोस्ट ग्रेजुएशन करने की कोशिश करने की तरफ कदम बढाने लगे है।                    भारत व भारत के बाहर विभिन्न तरह के कोर्सेज करके लगातार स्टुडेंट्स अपनी शेक्षणिक योग्यताओं मे इजाफा करते रह सकते है। फिर भी जितना सम्भव हो उतनी शेक्षणिक योग्यताओं मे इजाफा जरूर करना चाहिये। सीनियर करने के बाद स्टूडेंट्स की विषयवार योग्यता व चाहत के अनुसार साधारण ग्रेजुएशन व साधारण शैक्षणिक संस्

राजस्थान के नवनियुक्त मंत्री राजेन्द्र गुढ़ा का विवादित बयान,अधिकारी से कहा,हेमा मालिनी बूढ़ी हो गई,अब कटरीना के गालों जैसी सड़क बनाएं

        ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।      राजस्थान सरकार के मंत्री राजेंद्र गुढ़ा ने पीडब्ल्यूडी के चीफ इंजीनियर एनके जोशी से कहा कि मेरे गांव में कटरीना कैफ के गालों जैसी सड़कें बननी चाहिए। ग्रामीण विकास राज्य मंत्री बनते ही राजस्थान के मंत्री राजेंद्र गुढ़ा ने एक विवादित बयान दिया है। मंत्री बनने के बाद पहली बार अपने विधानसभा क्षेत्र पहुंचे राज्य मंत्री राजेन्द्र गुढ़ा से लोगों ने खराब सड़कों की शिकायत की तो उन्होंने पीडब्ल्यूडी के चीफ इंजीनियर एनके जोशी से कहा कि मेरे गांव में कटरीना कैफ के गालों जैसी सड़कें बननी चाहिए,मंत्री ने पहले अधिकारी से कहा कि सड़क बननी चाहिए,हेमा मालिनी के गाल जैसी। फिर खुद ही बोले कि हेमा मालिनी अब बूढ़ी हो गई है। उन्होंने जनता से पूछा कि आजकल कौन सी अभिनेत्री है, इस पर वहां मौजूद लोगों ने कटरीना कैफ का नाम लिया, तो मंत्री ने कहा कि कटरीना कैफ के गालों जैसी सड़क मेरे क्षेत्र में बनना चाहिए। बसपा से कांग्रेस में आए राजेंद्र सिंह गुढ़ा को पिछले दिनों राज्य मंत्री बनाया गया है नेता पहले भी देते रहे हैं ऐसे बयान वैसे नेताओं द्वारा फिल्म अभिनेत्रियों के गालों जैसी सड़क बनान

इकबाल खान व उनकी पत्नी डा.रश्मि सहित सतराह राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारी तरक्की पाकर भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी बने।

                         ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                राजस्थान प्रशासनिक सेवा (RAS) के अधिकारी इकबाल खान व उनकी पत्नी डा. रश्मि सहित कुल सतराह आरएएस अधिकारी विभिन्न ओपचारिकताए पूरी करते हुये आज भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) के अधिकारी बन जाने पर चारो तरफ खुशी का आलम है।              राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस रहे भंवरु खां के लाडले इकबाल खान व उनकी बहु डा.रश्मि के तरक्की पाकर आईएएस बनने के पहले मुस्लिम समुदाय से प्रदेश मे राजस्थान प्रशासनिक सेवा अन्य सेवाओं से चयनित होकर आईएएस बनने वालो मे जे.एम खान, एम.एस खान, ऐ.आर खान, मोहम्मद हनीफ, अशफाक हुसैन, शफी मोहम्मद, उमरदीन खान व जाकीर हसैन भी राज्य सेवा से तरक्की पाकर आईएएस बन चुके है। जिनमे से उमरदीन खान व जाकीर हुसैन को छोडकर बाकी पहले ही सब सेवाकाल पुरा करके सेवानिवृत्त हो चुके है। जे एम खान व शफी मोहम्मद का इंतेकाल हो चुका है। जाकीर हुसैन अगले साल की शुरुआत मे व उमरदीन खान अगले साल मध्य मे सेवानिवृत्त होगे।              राजस्थान मे तरक्की पाकर आईएएस बनने वालो के अलावा सीधे तौर पर भारतीय सिवील सेवा क्लीयर करके राजस्थान केडर मिलने

मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा तीन कांग्रेस व तीन निर्दलीय विधायकों को अपना सलाहकार नियुक्त करने के बाद उठने लगे अनेक सवाल।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                   मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पहले विभिन्न क्षेत्र मे दक्ष दो सलाहकार सेवानिवृत्त मुख्य सचिव डीबी गुप्ता व सेवानिवृत्त सीनियर आईएएस अरविंद मायाराम नियुक्त होने के बाद कल मंत्री बनने से वंचित रहे विधायको मे से छ विधायको को अपना सलाहकार नियुक्त करने पर अनेक तरह के सवाल उठने के बाद भाजपा के उपनेता राजेन्द्र राठोड़ ने राज्यपाल को आज पत्र लिखकर उनकी नियुक्ति रद्द करने की मांग की है।                मुख्यमंत्री ने कल सलाहकार के तौर पर विधायक जितेंद्र सिंह, विधायक बाबूलाल नागर, राजकुमार शर्मा, संयम लोढा, रामकेश मीणा व दानिश अबरार नियुक्त किये है। जिनमे तीन कांग्रेस व तीन निर्दलीय विधायक है। जितेंद्र पहले दो दफा मंत्री, बाबूलाल नागर व राजकुमार शर्मा एक दफा मंत्री, रामकेश मीणा संसदीय सचिव रह चुके है। दानिश अबरार पहली दफा विधायक बने है। मुख्यमंत्री गहलोत अपने आपको अक्सर राजनीति का जादूगर बताते रहते है। वही उनके तीन दफा मुख्यमंत्री बनने के अलावा प्रदेश व केन्द्र सरकार मे मंत्री रहने के अनुभव व दक्षता के मुकाबले उक्त छ विधायकों की दक्षता कही पर

एक पद एक व्यक्ति के सिद्धांत के तहत राजस्थान के चिकित्सा, राजस्व व शिक्षा मंत्री ने त्याग पत्र दिया।

                   ।अशफाक कायमखानी।     जयपुर।                   राजस्थान के राजस्व मंत्री हरीश चोधरी को पंजाब का संगठन प्रभारी बनाये जाने पर उनके द्वारा राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलकर एक पद एक व्यक्ति के सिद्धांत के तहत मंत्री पद से त्यागपत्र देने की पैशकस करने पर उनके उक्त दाव लगाने पर उनके अलावा अन्य दो मंत्री चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा व शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासरा को भी बूझे मन से त्याग पत्र देना पड़ा है।              त्याग पत्र देने वाले शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासरा के पास वर्तमान मे मंत्री पद के अलावा पीसीसी चीफ का पद भी था। वो अब संगठन के प्रदेश अध्यक्ष बने रहेंगे। इसके अलावा रघु शर्मा के पास चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री के पद के साथ गुजरात के संगठन का प्रभावी पद भी था। वो अब गुजरात के संगठन प्रभारी बने रहेंगे। राजस्व मंत्री हरीश चौधरी मात्र ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने पंजाब संगठन प्रभारी बनते ही मंत्री पद से त्याग पत्र देने की पैशकस की। उसकी इस पैशकस के जाल मे उनके साथ डोटासरा व रघु भी आज लपेटे मे आ गये।  

कृषि बिल वापसी पर बोले गहलोत, PM ने घबराकर फैसला वापस लिया, CM ने कहा- केंद्र सरकार को UP समेत 5 राज्यों में हार का डर; इसलिए वापस हुए कृषि कानून

        ।अशफाक कायमखानी। जयपुर गहलोत-डोटासरा ने 3 कृषि कानून वापसी पर केन्द्र को घेरा केन्द्र सरकार की ओर से तीन कृषि कानून वापस लेने की घोषणा पर राजस्थान कांग्रेस सरकार ने केन्द्र पर सियासी हमला बोलते हुए निशाना साधा है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि उप चुनावों में हुई करारी हार के बाद केन्द्र सरकार ने यूपी समेत 5 राज्यों में आगामी विधानसभा चुनावों में हार की आशंका और घबराहट के चलते यह फैसला लिया है। उन्होंने इस जीत के लिए किसानों को बधाई देते हुए इसे केन्द्र सरकार के अहंकार और घमंड की हार बताया है।   वहीं, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की कमेटी में केन्द्र सरकार के खिलाफ फैसला आने वाला था। जो केन्द्र को पता चल गया। आखिर कोर्ट को कब तक मैनेज करते। उप चुनाव के परिणाम और आगामी विधानसभा चुनाव में हार की घबराहट में यह फैसला लिया गया है। अब केन्द्र सरकार को किसानों की आय दोगुनी करने के वादे पर ध्यान देना चाहिए। राजस्थान विधानसभा ने पहले ही खारिज कर दिए 3 काले कानून गहलोत ने कहा कि देश की आजादी के बाद इससे पहले ऐसा कभी नहीं देखने को मिला कि अन्नद

मुख्यमंत्री गहलोत शिक्षकों के सम्मान समारोह मे शिक्षा मंत्रालय मे तबादला उधोग को उजागर किया।

      गहलोत स्वयंं की सरकार पर भ्रष्टाचार के लगते आरोपों की ताहीद करवा दी।    अगले ही दिन मुख्यमंत्री गहलोत अपने साथ शिक्षा मंत्री डोटासरा को लेकर जिलो के दौरे पर निकल गये।                  ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                 राजस्थान मे गहलोत सरकार पर तबादला उधोग चलाने के लगातार लगाते आरोपों के मध्य आम शिक्षकों की बजाय चयनित होकर सम्मान पाने आने वाले शिक्षको के सम्मान समारोह मे शिक्षा मंत्री डोटासरा के मंच पर मोजूद होने पर स्वयंं गहलोत ने जब अपने भाषण मे मंच से शिक्षकों को पैसे देकर तबादले होने की पुछा तो एक स्वर मे शिक्षकों के हां मे जवाब देकर तबादलो मे भ्रष्टाचार होने पर मुहर लगा दी। इसके बावजूद इस तरफ अभी तक ना तो सरकार ने कोई कदम उठाये है ओर ना ही शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने अपने आपको पाकसाफ करने के लिये सरकार से किसी तरह की जांच की मांग नही करने से आरोप गहराते जा रहे है।              मुख्यमंत्री गहलोत ने जीस तरह से समारोह मे शिक्षको से जयपुर मे बिरला आडीटोरियम मे खुले मंच से तबादलो के लिये पैसा देने की पुछा उसी तरह से मेडिकल-यूडीएच-गृह विभाग सहित अन्य विभागों के कर्म

एआईएमआईएम सदर सांसद ओवैसी के राजस्थान मे उम्मीदवार खड़े कर चुनाव लड़ने के ऐहलान से कुछ मुस्लिम तंजीमे पेशोपेश मे।

                     ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                कहने को चाहे कोई अपने आपको राष्ट्रीय व राज्य स्तरीय संगठन बताये लेकिन हकीकत मे राज्य मे मात्र जयपुर शहर तक कागजों या अखबारों तक सक्रिय रहकर सत्ता के साथ पर्दे के पीछे सांठगांठ करने वाली कुछ मुस्लिम तंजीमो के सामने एआईएमआईएम के आने से पेशोपेश के हालात बन गये है कि वो अब मुस्लिम समुदाय के नाम पर सत्ता के शीर्ष से गलबहियां कैसे कर पायेगे। एक तरफ कुछ सेक्यूलर दल ओवैसी के राजस्थान मे एआईएमआईएम द्वारा उम्मीदवार खड़े करने की घोषणा से बैचेन है वही सत्ता के शीर्ष के साथ समय समय पर गलबहियां रहने वाले वो मुस्लिम तंजीमे व उनके कुछ लोग भी खासे पेशोपेश मे नजर आ रहे है कि ओवैसी अब उन्हीं मुद्दों को उठायेंगे जिन मुद्दों पर वो पर्दे के पीछे कुछ अपने हिसाब से सत्ता शीर्ष के साथ तय करते है।                पीछले साल एक जवलंत मुद्दे को लेकर कुछ मुस्लिम तंजीमो व कथित मुस्लिम लीडरान ने जयपुर मे एमडी रोड़ स्थित मुस्लिम मुसाफिर खाना से रैली निकलकर प्रदर्शन करने का ऐहलान किया था। लेकिन जब लगा कि मुस्लिम समुदाय उक्त जज्बाती मुद्दे को लेकर रैली मे भारी ताद

आई आई एल एम् लखनऊ के छात्र- छात्राओ द्वारा राम मनोहर लोहिया अस्पताल मैं गरीबो को एक संस्था के साथ मिलकर भोजन कराया गया

  लखनऊ :   दीपावली के अवसर पर आई आई एल एम् लखनऊ के छात्र- छात्राओ द्वारा एक मैनेजमेंट लर्निंग एवं सी एस आर एक्टिविटी हाथो से बने दीये बेचकर की गयी थी जिसमे छात्र- छात्राओ ने हस्तनिर्मित दीये और अन्य सामान बेचे।   उन्होंने बुनियादी प्रबंधन अवधारणाओं को सीखा, लागू किया और मुनाफा भी कमाया। उन्होंने अनुनय, बातचीत, बिक्री और विपणन, ब्रांडिंग और प्रचार के साथ-साथ लेखांकन और वित्त की मूल बातें सहित कला और विज्ञान सहित व्यवसाय की बारीक-बारीक सीख ली। लाभ का उपयोग किसी नेक काम में किया जाना था जिसको की आज १७ नवम्बर २०२१ को राम मनोहर लोहिया अस्पताल मैं गरीबो को एक संस्था के साथ मिलकर खाना खिलाके किया गया     एक ऐसी गतिविधि जिसकी हमने कल्पना की थी , लेकिन इसे पी जी डी एम प्रथम वर्ष के छात्र- छात्राओं सौम्या दुबे, शिखा पाठक , नेहा सिंह, इंशा आज़मी, शुभम चौरसिया एवं शिवम् कुमार राय के इस समूह द्वारा उत्कृष्ट रूप से आगे बढ़ाया गया, जो न केवल उत्साह से आगे आए और काम किया, बल्कि प्रशासनिक अनुमोदन भी प्रबंधित किया , आज इसे जरूरतमंदों की मदद करने के अपने अंतिम गंतव्य तक ले गए। हम मानते हैं कि यह आपकी प्रब

मंत्रिमण्डल एवं मंत्रिपरिषद् की बैठक में महत्वपूर्ण निर्णय

         ।अशफाक कायमखानी। जयपुर, 16 नवम्बर मुख्यमंत्री  अशोक गहलोत की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई राज्य मंत्रिपरिषद् की बैठक में पेट्रोल पर 4 रूपए एवं डीजल पर 5 रूपए प्रति लीटर वैट में कटौती को मंजूरी देकर प्रदेश की जनता को बड़ी राहत दी गई है। यह निर्णय मंगलवार रात्रि 12 बजे से लागू होगा। केन्द्र सरकार द्वारा बीते दिनों पेट्रोल एवं डीजल पर एक्साइज ड्यूटी में की गई कमी के चलते राज्य के राजस्व में संभावित 1800 करोड़ रूपए सालाना की कमी के बावजूद मंत्रिपरिषद् ने जनहित को सर्वोपरि रखते हुए यह निर्णय किया है। उल्लखेनीय है कि राज्य सरकार ने पहले भी इस वर्ष के प्रारंभ में पेट्रोल-डीजल पर वैट में 2 प्रतिशत की कमी कर प्रदेश की जनता को 1 हजार करोड़ रूपए की राहत दी थी। इस प्रकार राज्य सरकार को पहले से ही 2800 करोड़ रूपए की राजस्व हानि का सामना करना पड़ रहा है और मंत्रिपरिषद् में लिए गए आज के निर्णय से यह राजस्व हानि बढ़कर 6300 करोड़ रूपए सालाना हो जाएगी। मंत्रिपरिषद् की बैठक में बताया गया कि पेट्रोलियम कंपनियों द्वारा पेट्रोल एवं डीजल की कीमतों में लगातार वृद्धि करने से केंद्र एवं राज्य सरकार द्

राजस्थान में नए सिरे से बनेगी कैबिनेट : सभी मंत्रियों के इस्तीफे होंगे, गहलोत ने पहली बार कहा-अब देरी नहीं होगी, शपथ ग्रहण समारोह जल्द*

         ।अशफाक कायमखानी। जयपुर - (राजस्थान) - : राजस्थान में मंत्रिमंडल फेरबदल का काउंटडाउन शुरू हो गया है। इसी सप्ताह में गहलोत मंत्रिमंडल में फेरबदल होने के आसार हैं। सभी मंत्रियों से इस्तीफे लेकर नए सिरे से मंत्रिमंडल बनाने की संभावना है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पहली बार इसके साफ संकेत दिए हैं। सचिवालय कर्मचारी संघ के शपथ ग्रहण समारोह में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जल्द शपथ ग्रहण समारोह होने की संभावना जताई है।              गहलोत ने कहा-आज इस सुकून भरे शपथ ग्रहण समारोह का शगुन इतना शानदार होगा कि हमारे सरकार के मंत्रिमंडल का पुनर्गठन है, वह भी अब जल्द होगा। लगता है कि आपके कारण ही रुका हुआ था। आप पहले करवा देते तो हमारा मंत्रिमंडल पहले ही पुनर्गठित हो जाता। आप अंदाजा लगा लीजिए, आपके सचिवालय कर्मचारी संघ के शगुन को मैं किस रूप में मानता ​हूं। यह आप समझ जाइएगा। इसके लिए मैं आपका आभारी हूं। मुझे उम्मीद है कि अब कोई देरी नहीं होगी। जल्द ही हमारा शपथ ग्रहण समारोह पूरा होगा। गहलोत ने 11 नवंबर को सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद दिल्ली में कहा था हाईकमान चाहेगा तब मंत्रिमंडल विस्तार होगा।

शहीद वीरांगना ऊदा देवी पासी शहादत दिवस पर उनकी प्रतिमा पर भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की

   लखनऊ - आज  शहीद वीरांगना ऊदा देवी पासी शहादत दिवस पर शहीद वीरांगना उदा देवी पासी की 164 वीं पुण्यतिथि पर उनके वंशजों की ओर से सिकंदरबाग स्थित उनकी प्रतिमा पर उन्होंने भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। शहीद वीरांगना ऊदा देवी की सन 1857 की गदर में अंग्रेजों से मुकाबला किया। अपने शहीद पति मक्का पासी की मौत का बदला लेते हुए 36 अंग्रेजों को मार गिराया और वीरगति को प्राप्त हुईं। उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए शहीद वीरांगना उदा देवी पासी के प्रपौत्र स्व० रायसाहब रामसहाय चौधरी, पूर्व एमएलसी के पौत्र राकेश सिंह, स्व० कुंवर राम सिंह के पोते अमोल सिंह, नाती आदित्य चौधरी पुत्र श्री रविकांत चौधरी प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पूछा- क्या तबादलों के लिए पैसे देने पड़ते हैं? तो सभी शिक्षकों ने हाथ उठाकर कहा-हां, देने पड़ते हैं?

  शिक्षक संघों की गिरदावरी हो जाए तो राजस्थान में 2023 में फिर से कांग्रेस की सरकार बन जाएगी गोविंद सिंह डोटासरा ने शिक्षक सम्मान समारोह में शिक्षा मंत्री के तौर पर विदाई वाला भाषण दिया जिन अमित शाह ने मेरी सरकारी गिराने का प्रयास किया, उन से भी बात करता हूं-सीएम गहलोत           ।अशफाक कायमखानी।  जयपुर।   राज्य स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह में आज शिक्षा विभाग में फैले भ्रष्टाचार की पोल खुल गई। इस समारोह में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित थे। सीएम ने अपने संबोधन के दौरान पूछा कि क्या तबादले के लिए शिक्षकों को पैसे देने पड़ते हैं? इस पर सभी शिक्षकों ने हाथ उठा कर कहा-हां, देने पड़ते हैं। इस पर सीएम गहलोत ने कहा कि यह बहुत ही दुखदायी बात है। सीएम ने शिक्षा मंत्री गोविंदसिंह डोटासरा की ओर देखा और जानना चाहा, यह क्या हो रहा है? तबादले में रिश्वतखोरी की बात उन शिक्षकों ने कही जिनका राज्य स्तर पर सम्मान हुआ। सीएम ने माना जिन शिक्षकों की चल जाए,उनका तबादला हो जाता है। शिक्षक अपने क्षेत्र के विधायक से एप्रोच करते हैं और विधायक शिक्षा मंत्री के कपड़े फाड़ता है। गहलोत ने कहा

सांसद ओवैसी के जयपुर आकर डेढ माह मे पार्टी संगठन खाड़ा करने का ऐहलान किया। सरदारपुरा-कोटा पश्चिम-टोंक-बीकानेर लक्ष्मनगढ विधानसभा क्षेत्र मुख्य निशाने पर।

                      ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                 पहले की तरह कल शाम अचानक  एआईएमआईएम सुप्रीमो सांसद असदुद्दीन आवैसी के जयपुर आकर कल रात व आज दिनभर लोगो से मिलने के बाद पत्रकारों को कहा कि राजस्थान मे राजनीतिक तौर पर तीसरे विकल्प की पूरी सम्भावना होने के कारण अगले डेढ महीने मे वो पार्टी संगठन खड़ा कर देगें। ओर आगामी आम विधानसभा चुनाव मे एआईएमआईएम के उम्मीदवार खड़े करके चुनाव लड़ने की घोषणा करने के बाद खासतौर पर कांग्रेस खेमे मे हलचल बढती नजर आने लगी है। क्योंकि कांग्रेस के अधीकांश दिग्गज नेता मुस्लिम बहुल सीटो पर चुनाव लड़कर जीतकर आते है एवं भाजपा-कांग्रेस नामक दो दलीय व्यवस्था होने के कारण उनके लिये मुस्लिम समुदाय वोटबैंक की तरह उपयोग मे आता है।                हालांकि कांग्रेस सहित अनेक कथित सेक्यूलर दलो से जुडे लोग ओवैसी को भाजपा की बी टीम बताते बताते थकते नही है। जब ओवैसी से पत्रकारों ने पुछा की उनपर भाजपा की बी टीम होने का आरोप लगता है तो इस पर उन्होंने कहा कि वो आरोपों की परवाह नही करते है। वो राजस्थान मे मुस्लिम दलित व पीछड़े लोगो को एक अलग मंच देने आ रहे है। ओवैसी ने प्रद

राष्ट्रीय पुस्तकालय दिवस का आयोजन केंद्रीय राज्य पुस्तकालय प्रयागराज के सभागार में किया गया

   राष्ट्रीय पुस्तकालय सप्ताह 14-20 नवम्बर के प्रथम दिन दिनांक 14 नवंबर 2021 को राष्ट्रीय पुस्तकालय दिवस का आयोजन केंद्रीय राज्य पुस्तकालय प्रयागराज के सभागार में किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता एफओएपी (FOAP), एकेटीयू ,लखनऊ के पुस्तकालयाध्यक्ष डॉ लक्ष्मीकान्त मिश्र ने की। कार्यक्रम के संयोजक डॉ विष्णु श्रीवास्तव, उप-पुस्तकालयाध्यक्ष, हाईकोर्ट, प्रयागराज, श्री राम आसरे सरोज पुस्तकालयाध्यक्ष, केन्द्रीय राज्य पुस्तकालय प्रयागराज एवं राजेश् गुप्ता, पुस्तकालयाध्यक्ष, सीटीई प्रयागराज ने कार्यक्रम का संचालन किया। मुख्य वक्ताओं में डॉ आर जे मौर्य पुस्तकालयाध्यक्ष यूपी आर टी यू प्रयागराज, श्री  के पी सिंह पुस्तकालयाध्यक्ष  मोतीलाल नेहरू मेडिकल कालेज प्रयागराज, डॉ आर. डी. यादव पुस्तकालयाध्यक्ष एस. आर. एम. यू,लखनऊ, श्री संजय मिश्रा पुस्तकालयाध्यक्ष आईआईएलएम, लखनऊ, श्री फ़ैज़ुद्दीन पुस्तकालयाध्यक्ष वास्तुकला संकाय बीबीडीयू लखनऊ, कुँवर अभिषेक प्रताप सिंह पुस्तकालयाध्यक्ष एस. आर. ज़ी आई लखनऊ थे । उक्त कार्यक्रम में 100 से अधिक पुस्तकालय विज्ञानी उपस्थित रहे।

फर्जी दस्तावेज से नाैकरी हासिल करने वाली शिक्षिका गिरफ्तार साथ ही शिक्षिका से 2 लाख रुपये किये बरामद।

       ।अशफाक कायमखानी। झुंझुनूं: राजस्थान।       फर्जी दस्तावेज से नाैकरी हासिल करने वाली अध्यापिका इंद्रा खुंगर काे राजसमंद पुलिस ने गिरफ्तार किया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार हनुमानगढ़ निवासी इंद्रा ने 2018 में अध्यापिका लगी थी। उसकी फर्जी दस्तावेज को लेकर शिकायत हाेने पर डीईओ प्रारंभिक सोहनलाल रेगर ने राजसमंद में रिपोर्ट देकर बताया था कि आमेट उपखंड के आगरिया स्थित राउप्रा स्कूल में हनुमानगढ़ निवासी इंद्रा ने फर्जी दस्तावेजों से नौकरी पाई है। जांच में अध्यापिका इंद्रा के बीए, एसटीसी व बीएड के दस्तावेज फर्जी पाए गए। जिला शिक्षा अधिकारी प्रारंभिक शिक्षा झुंझुनूं के आदेश पर 23 अक्टूबर 2019 काे शिक्षिका को राज्य सेवा से हटा दिया था। इस पर पुलिस ने फर्जी दस्तावेज से नौकरी लगने वाली शिक्षिका को गुुरुवार को हनुमानगढ़ से गिरफ्तार किया। शिक्षिका से वेतन प्राप्त करने की एवज में 2 लाख रुपए की रिकवरी की गई है।

देशभर के 200 बच्चों ने विशेष सत्र में विधायक और मंत्रियों की भूमिका निभाई, राजस्थान विधानसभा में आयोजित हुआ बाल सत्र।

        ।अशफाक कायमखानी। जयपुर: राजस्थान विधानसभा में रविवार को बालदिवस के अवसर पर आयोजित एक विशेष मॉक सत्र के दौरान संसदीय लोकतंत्र और आमजन से जुड़े मुद्दों पर बच्चों और युवाओं की सोच की झलक देखने मिली. राजस्थान विधानसभा के एक घंटे के विशेष सत्र में देश भर के 200 बच्चों ने विधायक और मंत्रियों की भूमिका निभाई. इन बच्चों ने सदन की कार्यवाही विधानसभा अध्यक्ष, मुख्यमंत्री, मंत्रियों, विपक्ष के नेता, सत्ताधारी और विपक्षी दल के विधायकों की भूमिका निभाते हुए चलाई. सदन की कार्यवाही में प्रश्नकाल और शून्यकाल को भी शामिल किया गया. सदन की कार्यवाही नियमानुसार चलाई गई और बच्चों ने आत्मविश्वास के साथ अपनी-अपनी भूमिका निभाई. सदन में मौजूद लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला और अन्य नेताओं बच्चों की भूमिका की सराहना की. विधानसभा अध्यक्ष की भूमिका में जाह्नवी शर्मा ने प्रश्नकाल के साथ सदन की कार्यवाही शुरू की. विपक्षी विधायकों की भूमिका में बैठे बच्चों ने प्रश्नकाल के दौरान सवाल उठाये और मंत्री की भूमिका ने बच्चों ने तथ्यों और विवरणों के साथ उनका जवाब दिया. प्रश्न मुख्यरूप से बच्चों और युवाओं से संबंधित मुद्दों

भारत मे आजादी के बाद मुस्लिम राजनीतिक लीडरशिप उभर नही पाने के मुस्लिम समुदाय स्वयं जिम्मेदार!

         मुस्लिम समुदाय जज्बाती तकरीरो व विभिन्न राजनीतिक दलो द्वारा उभारे गये कथित मुस्लिम नेताओं के नाम पर खुश होता रहा।                        ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।                     आजादी के बाद भारत के मुस्लिम समुदाय के लिये मजबूत राजनीतिक लीडरशिप का उभर नही पाने के बडे जिम्मेदार स्वयं मुस्लिम समुदाय ही माना जा सकता है। जबकि एक राजनीतिक दल ने तो आधारहीन व सेक्यूलर के नाम पर अब्दुल करीम छागला व हिदायतुल्लाह जैसे एवं उन जैसी सोच वाले अनेक नेताओं को समय समय पर उभारा तो कुछ दलो ने जज्बाती तकरीर करने वाले व माफिया गिरीं करने वाले नेताओं को उभारा। सभी राजनीतिक एक बात पर आम सहमत नजर आये कि जनाधार व साफ सुथरी छवि वाली लीडरशिप या तो उभरे नही , किसी वजह से अगर उभर जाये तो उसको जल्द से जल्द निपटा दिया जाये। इसके विपरीत मुस्लिम समुदाय की बडी तंजीमे जमात ए इस्लामी व जमीयत उलेमा ए हिंद ने सालो तक राजनीति को हराम बताते हुये मतदान व राजनीति से दूर रहने की कहने से चुके नही। अब जाकर जमात ए इस्लामी ने वैलफेयर पार्टी आफ इण्डिया नामक राजनीति पार्टी बनाई व इसी जमात से इख्तेलाफ होने पर केरल के कुछ