सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राजस्थान की तमाम बकरा-पाडा मंडियां शैक्षणिक क्षेत्र मे चाहे तो बहुत कुछ बडा कर सकती है। उक्त मंडियों को बिरादरी मे बदलाव लाने के लिये अपनी आर्थिक रणनीति बदलने पर विचार करना होगा।


               ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

                राज्य भर मे करीब करीब जिला व तहसील मुख्यालय पर बकरा-पाडा मंडियों का एक स्थानीय लोगो की बनी एक असरदार कमेटी द्वारा संचालन किया जाता है। जहां पर खाजरु (जानवर) का बेचान व खरीद का कार्य होता है। मंडी मे बेचान व खरीद के लिये आने वाले उक्त जानवरो की खरीद-फरोख्त होने पर प्रत्येक जानवर पर पांच-दस रुपया मंडी को एक बने सिस्टम के तहत आवश्यक रुप से आमद होती है। जिस आमद मे से कुछ रकम तो मंडी रखरखाव व उसके संचालन पर खर्च हो जाती है। कुछ रकम उनके द्वारा संचालित छोटे-बडे शैक्षणिक इदारो पर खर्च होने के बावजूद भी एक अच्छी रकम बचत मे रह जाती बताते है। जिस बचत का स्टुडेंट्स के मयारी हायर ऐजुकेशन व सिविल सेवा की तैयारी पर खर्च करने की मंसूबाबंदी पर अमल किया जाये तो कुछ ही सालो मे मंडी से किसी भी रुप मे जुड़े लोगो मे बडे स्तर पर सकारात्मक बदलाव की बयार बह सकती है।
                  बकरा-पाडा व भेड़ की मंडी मे खरीद-फरोख्त एवं उसके मटन-मीट के कारोबार से जुड़े लोगो को कुरेशी-व्यापारी बिरादरी के नाम से जाना जाता है। जिस बिरादरी मे मयारी ऐजुकेशन का विस्तार जो हो जाना चाहिये था वो अभी तक नही होना दुखदायी साबित हो रहा है। राजस्थान मे जयपुर जोधपुर, कोटा व सीकर सहित कुछ अन्य जगहो की बकरा व पाडा मंडियों मे जानवर की खरीद-फरोख्त अच्छी तादाद मे होती है। जहां से मटन-मीट के अलावा जींदा जानवर राज्य के बाहर एक्सप्रोर्ट करने वाली कम्पनियों तक भी जाता बताते है।
                  उक्त मंडी कमेटियों द्वारा कहीं दीनी तालिमी केंद्र संचालित किये जाते है। तो कुछ जगह बाकायदा हिन्दी माध्यम की स्कूल तक भी जनहित मे बीना फीस या बहुत कम फीस पर संचालित की जा रही है। लेकिन अंग्रेजी माध्यम के शिक्षा केंद्र संचालित होने की जानकारी अभी तक कही से भी नही मिल पा रही है। जबकि अंग्रेजी भाषा की अहमियत को आज किसी भी रुप मे नकारा नही जा सकता। इसके अलावा उक्त शैक्षणिक केंद्रों मे हिंदी-अंग्रेजी-संस्कृत सहित अन्य भाषाओं को समझकर पढाने का इंतजाम कायम होगा। लेकिन जिस कुरान ए पाक को मूल भाषा मे पढने व समझने के लिये अरबी को भाषा के तौर पर पढाने का इंतजाम नही होने से अधीकांश लोग समझ ही नही पाते है कि उनकी धार्मिक पवित्र किताब मे मुकम्मल इंसानियत व जीवनपद्धति के लिये क्या लिखा गया है। अधीकांश लोग अनेक दफा उन कथित धार्मिक विद्वानों की बताई बातो पर विश्वास कर लेते है। जिनका पवित्र किताब मे बताये दिशा-निर्देश से वास्ता तक नही होता है। अगर उक्त तरह के संचालित शैक्षणिक केंद्रों मे अन्य भाषाओं को समझकर पढने के साथ साथ अरबी भाषा को भी समझकर पढने का इंतजाम हो जाये तो परिणाम बेहतर आ सकते है।
                   मंडी कमेटियां को चाहे विस्तारपूर्वक ना सही पर कम से कम प्रत्येक मंडी की तरफ से अपनी कुरेशी बिरादरी से हर साल पांच-दस स्टुडेंट्स को दिल्ली या अन्य उचित उपलब्ध शहर के नामी कोचिंग संस्थान मे सिविल सेवा के तैयारी के लिये मंडी के खर्च पर भेजने का इंतजाम करने पर विचार करना चाहिए। बिजनेस मेनेजमेंट-चार्टेड एकाऊंटटेंट- मेडिकल- इंजीनियरिंग क्षेत्र की टोप कालेज मे प्रवेश पाने की तैयारी के लिये व बिरादरी मे इस तरफ बेदारी लाने के लिये आर्थिक मदद स्टूडेंट्स व सोशल एक्टिविस्ट को करने का तय करना होगा। अगर राज्य की उक्त सभी बकरा व पाडा मंडियां चाहे सबके लिये ना सही पर कम से कम शुरुआती दौर मे अपनी कुरेशी बिरादरी को शैक्षणिक तौर पर ऊंचले पायदान पर लाने के लिये अपनी रणनीति मे सकारात्मक बदलाव लाने का तय करना ही होगा। अगर ऐसा नही हो पाया तो जिम्मेदारो को अगली पीढी कभी माफ नही कर पायेगी।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका