सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राजस्थान मे पोस्टेड होने वालो के साथ सलेक्ट होने वाले आईएएस व आईपीएस की तादाद संतोषजनक नही कही जा सकती। इसी तरह तरक्की पाकर या ऐडवोकेट कोटे से राजस्थान हाईकोर्ट मे पदस्थापित रहे न्यायाधीश के लेखा-जोखा भी देख लेते है।

 
            ।अशफाक कायमखानी।
राजस्थान हाईकोर्ट मे मुख्य नयायाधीश जस्टिस अकील अहमद कुरेशी व राजस्थान मे न्यायाधीश बनकर अन्य प्रदेशों मे मुख्य न्यायाधीश जस्टिस मोहम्मद रफीक राजस्थान प्रदेश के लिहाज से एक एक मात्र मुस्लिम है। इनके अलावा सर्विस कोटे से जस्टिस मोहम्मद फारुक, तरक्की पाकर जस्टिस मोहम्मद असगर अली चोधरी, जस्टिस यामिन अली, जस्टिस भंवरु खा भी राजस्थान हाईकोर्ट मे जस्टिस रहे है। ऐडवोकेट कोटे से जस्टिस बने मोहम्मद रफीक खान के बाद वर्तमान मे अभी बने जस्टिस फरजंद अली का नाम प्रमुख है।      
             हालाकि राजस्थान से IAS बनने वाले व बाहर से यहा पोस्टेड होने मुस्लिमस की तादात सन्तोष जनक नही मानी जा सकती है। फिर भी ये सिलसिला कमोबेस चलते आना कुछ राहत  जरूर देता है।
           रियासतो के मिलाकर राजस्थान बनने पर अलग अलग रियासतो से आये अधिकारियो मे से कुछेक को  IAS बनाकर उन्हें कलेक्टर पद पर लगाया था। जिनमे जयपुर रियासत से अहमद अली जाफरी, बून्दी रियासत से अलाऊद्दीन खिलजी, ट़ोकं रियासत से यासीन खान, जोधपुर रियासत से वहीदुद्दीन खान व उदयपुर रियासत से सर्फ अली बोहरा थे।
            राजस्थान बनने के तरककी पाकर भीलवाडा के रहने वाले ज्यान मोहम्मद साहब IAS बने थे जो बाद मे RPSC के चैयरमेन भी रहे है। राजस्थान के बनने के बाद आल इण्डिया परिक्षा के मार्फत IAS बनकर आने लगे जिनमे सबसे पहले गाजीपुर यूपी नवाब खानदान से तालूक रखने वाले  सलाऊद्दीन अहमद साहब 1977-78 मे यहा प्रदेश मे पोस्टेड हुये जो मुख्य सचिव बनकर रिटायर हुये है। इनके बाद अलीगढ टोकं के मोहम्मद सबिरूद्दीन व आगरा के ऐ आर खान तरक्की पाकर IAS बने जो अनेक जगह कलेक्टर पद पर भी पोस्टेड रहे है।इसके बाद कश्मीर के कमर-उल-जमा चौधरी IAS बनकर यहा पोस्टेड हुये है। उसके बाद कश्मीर के ही अतर आमीर व केरल के मोहम्मद जुनैद सिविल सेवा मे चयनित होकर प्रदेश मे पोस्टेड हुये। वर्तमान मे अतर आमिर कशमीर मे डेपुटेशन पर व जुनैद भरतपुर जिले मे उपखण्ड अधिकारी पद पर पदस्थापित है। इसी तरह राजस्थान प्रशासनिक सेवा से तरक्की पाकर आईएएस बने नुआ झुनझूनु के अशफाक हुसैनव मोहम्मद हनीफ सेवानिवृत्त हो चुके है। वही शफी मोहम्मद इंतेकाल फरमा चुके है। जाकीर हुसैन व उमरदीन खान तरक्की पाकर आईएएस बनने के बाद वर्तमान मे हुसैन श्रीगंगानगर व खान झूंझुनू जिला कलेक्टर पद पर पदस्थापित है। वही इसी तरह तरक्की पाकर पीछले महीने आईएएस बने इकबाल खान व उनकी पत्नी रश्मि पहाड़ियान अपने वर्तमान पदो पर पदस्थापित है।
               इसके अतिरिक्त राजस्थान से अय्यूब टाकं IAS मे सलेक्ट होकर गोवा मे पदस्थापित है।RAS अबरार साहब के बेटे जाफर मलिक भी IAS सलेक्ट होकर अपनी IAS पत्नि अफसाना के साथ केरला प्रदेश मे पोस्टेड है। इसी तरह IAS ऐलाइड मे चयनित होकर बलारा सीकर के जाकीर खान व झूंझुनू नुआ की फराह खान भी सलेक्ट हुये है।
              मरहूम खिलजी साहब के बेटे कमालूद्दीन खिलजी RAS रहे है तो ऐ आर खान की पुत्र वधू अजरा परवीन RAS रहते किसी सड़क हादसे मे इंतेकाल फरमा चुकी है। IAS मोहम्मद हनीफ साहब के पिता मोहम्मद याकूब RPSC के चैयरमेन व भाई RAS रहे है। झुन्झूनु नवाब खानदान से तालूक रखने वाले अशफाक हुसैन IAS के बडे भाई लियाकत अली खा IG POLICE रहे है।छोटे भाई जाकीर हुसैन आईएएस व बेटी फराह आईआरएस व भतीजा शाहीन RAS है
               राजस्थान से सिविल सेवा मे चयनित होकर डीडवाना की असलम खान व अलवर के मकसूद खान केन्द्र शासित प्रेदश व हरियाणा मे पोस्टेड है। वही केरल के रहने शाहीन सिविल सेवा परीक्षा पास करके आईपीएस बनकर राजस्थान मे पोस्टेड है। वहीं राजस्थान पुलिस सेवा से तरक्की पाकर फिरोज खान आईपीएस बने जो डीआईजी पद पर रहते हुये इंतेकाल फरमा गये। उनके बाद मुराद अली अब्रा, लियाकत अली खान, निसार अहमद फारुकी, कुवंर सरवर खान आईपीएस बनकर आईजी पद से सेवानिवृत्त हुये है।हबीब खा गोरान आईपीएस बनने के बाद राजस्थान लोकसेवा आयोग के चेयरमैन भी रहे। वर्तमान मे इसी कड़ी मे हैदर अली जैदी डीआईजी व अरशद अली जयपुर पुलिस कमिश्नरेट मे पुलिस अधीक्षक पद पर पदस्थापित है।
                कुल मिलाकर यह है कि प्रदेश मे हाईकोर्ट जस्टिस रहे या बनने वाले के अतिरिक्त राजस्थान से चयनित होकर या बाहर से चयनित होकर राजस्थान प्रदेश मे पोस्टेड होने वाले के अलावा राजस्थान मे तरक्की पाकर आईएएस व आईपीएस बनने वाले मुस्लिम अधिकारियों के नाम ऊंगलियों पर गिनें जाने के बावजूद सीलसीला चलते रहने को कुछ हदतक संतोषजनक तो कहा ही जा सकता है।











 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका