सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जयपुर मे कांग्रेस द्वारा आयोजित महगाई हटाओ रैली मे राहुल गांधी के महंगाई के बजाय हिन्दू व हिन्दुत्व पर दिये सम्बोधन से कांग्रेस अलग दिशा की तरफ जाती नजर आती है।



        रैली मे राहुल गांधी सहित दर्जन भर से अधिक राष्ट्रीय नेताओं ने सम्बोधित किया। पर सोनिया गांधी मंचासिन रहने के बावजूद सम्बोधन नही दिया।
         राहुल ने कहा यह देश हिन्दुओं का है, हिन्दुओं का राज वापस लाना है।

                ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

               कांग्रेस द्वारा देश मे बढती महंगाई को लेकर केंद्र सरकार को घेरने के लिये जयपुर मे 12-अक्टूबर को आयोजित राष्ट्रीय महंगाई हटाओ रैली को सम्बोधित करते हुये कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने महंगाई पर कम बल्कि हिन्दू व हिन्दुत्व पर अधिक समय बोलने के बाद लगता है कि कांग्रेस अब धर्मनिरपेक्षता का लबादा उतारकर भाजपा की राह पर चलकर फिर से खड़ी होकर सत्ता मे आने का ख्वाब देखने लगी है। रैली मे मुख्य मंच व वक्ताओं की सूची से मुस्लिम समुदाय के किसी नेता को जगह ना देकर कांग्रेस ने स्पष्ट संकेत दे दिया है कि वो अब अल्पसंख्यक की बजाय बहुसंख्यकों पर फोकस करते हुये आगे बढेगी।
                  राहुल गांधी ने अपने आपको हिन्दू बताते हुये कहा कि देश की राजनीति में आज दो शब्दों का अंतर है. इन दो शब्दों के मतलब अलग है. एक शब्द हिंदू और दूसरा शब्द हिंदुत्ववादी है. ये एक शब्द नहीं है, ये दोनों अलग है. मैं हिंदू हूं लेकिन मैं हिंदुत्ववादी नहीं हूं. महात्मा गांधी हिंदू थे और नाथूराम गोडसे हिंदुत्ववादी थे। उन्होंने हिन्दू देश बनाने की वकालत की।
               उन्होंने कहा कि चाहे कुछ भी हो जाए, हिन्दू सत्य को ढूंढता है. मर जाए, कट जाए हिन्दू सच को ढूंढता है. उसका रास्ता सत्य रहा. पूरी जिन्दगी वो सच को ढूंढने में निकाल देता है. जबकि हिंदुत्ववादी पूरी जिंदगी सत्ता को ढूंढने और सत्ता पाने में निकाल देता है। राहुल गांधी ने आगे कहा कि हिंदू खड़ा होकर अपने डर का सामना करता है. वह अपने डर को शिवजी जैसे पी लेता है. हिंदुत्ववादी अपने डर के सामने झुक जाता है. डर से हिंदुत्ववादी के दिल में नफरत पैदा होती है। उन्होंने सम्बोधित करते हुये कहा कि आप सब हिंदू हो, हिंदुत्ववादी नहीं. इन लोगों को किसी भी हालत में सत्ता चाहिए. महात्मा गांधी ने कहा कि मैं सच्चाई चाहता हूं. लेकिन ये लोग कहते है मुझे सत्ता चाहिए, सच्चाई से कुछ लेना नहीं. 2014 से हिंदू नहीं हिंदुत्ववादी का राज है। रामायण, महाभारत, गीता पढ़िए, कहां लिखा है गरीब को मारिए, कमजोर को कुचलिए. गीता में लिखा है सत्य की लड़ाई लड़ो, ये झूठे हिंदू हिंदुत्ववादी का ढिंढोरा पीटते हैं। राहुल गांधी ने कहा कि भारत की 1% आबादी के हाथ में 33% धन है, जबकि सबसे गरीब 50% के हाथ में देश का सिर्फ 6% धन है. महंगाई, GST, तीन काले कानून से इतना फर्क आया है।  किसानों को कर्जा माफी की जरूरत है. नरेंद्र मोदी ने किसानों की आत्मा में चाकू मार दिया है. राहुल ने कहा- देश की सरकार कहती है कि कोई किसान शहीद ही नहीं हुए. मैंने पंजाब के लिए, हरियाणा से नाम लिए, पांच सौ लोगों की लिस्ट संसद में दी. उनसे कहा कि पंजाब की सरकार ने कंपनसेशन दिया है, आप भी दीजिए. उन्होंने दिया नहीं। हर संस्थान एक संगठन के हाथ में है. मंत्रियों के ऑफिस में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के ओएसडी हैं। देश गरीबों, किसानों, छोटे दुकानदारों का है, ये ही लोग इस देश को रोजगार दे सकते हैं. अडानी अंबानी की जगह है लेकिन वो रोजगार पैदा नहीं कर सकते. रोजगार छोटे बिजनेस वाले, किसान पैदा कर सकते हैं,
      राहुल गांधी ने द्योगपतियों को रियायत देने को लेकर भी मोदी पर तंज कसा. राहुल ने कहा- मोदीजी 24 घंटे यानी सुबह उठते ही कहते हैं, आज अडानी को क्या देना है. ऐसे देश नहीं चलाया जाता है।
              धर्मनिरपेक्षता का लबादा ओढे रहने के समय कांग्रेस की सरकार के समय देश मे मेरठ, मलियाना, हासिमपुरा, भिवंडी, मुरादाबाद व भागलपुर सहित सेंकड़ो साम्प्रदायिक दंगे भारत मे हुये। जबकि इंदिरा गांधी की हत्या के बाद सिक्ख समुदाय का कत्लेआम हुवा। बाबरी मस्जिद का ताला खोलने को लेकर उसको शहीद किया गया। राजस्थान मे गोपालगढ़ मे मस्जिद मे नमाजियों को पुलिस द्वारा गोली से भूंदना कांग्रेस की गहलोत सरकार के समय हुवा था।
             कांग्रेस के नीतिनिर्धारकों की कमजोरी या फिर चालाकी के कारण पीछले कुछ सालो से भाजपा द्वारा कांग्रेस को मुसलमानों की पार्टी घोषित करके उसको आमजन तक प्रचारित करने व बहुसंख्यकों को अपनी तरफ आकर्षित करने मे कामयाब होती नजर आई है।इसी के चलते भाजपा ने पहले 2014 व फिर 2019 मे अपने बलबूते केन्द्र मे सरकार बनाने मे कामयाब रही है।
                 एक दशक से पहले पर्दे के पीछे व एक दशक से खुले तौर पर कांग्रेस सोफ्ट हिन्दुत्व के ऐजेण्डे पर राजनीति करती रही है। जबकि कांग्रेस के मुकाबले भाजपा बहुसंख्यक हितेषी पार्टी होने का खुलेआम राजनीति करने से वो सत्ता के शीर्ष तक पहुंच चुकी है। जहां पहुंच कर वो अपने ऐजेण्डे को लागू करने की भरपूर कोशिश कर रही है।इन सब बातो से लगता है कि कांग्रेस भी अब सत्ता पाने के लिये भाजपा की राह पर चल सकती है।


 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका