सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राजस्थान मे मजलिस को अभी तक नही मिला मजबूत नेतृत्व। खासतौर पर अल्पसंख्यक युवाओं मे कांग्रेस द्वारा उन्हें किनारे रखने की रणनीति के चलते मजलिस के प्रति आकर्षण बढ रहा है।

 



                ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।
              
हालांकि खासतौर पर अल्पसंख्यक तबके से तालूक रखने वाला युवा तबका विकल्प मिलते ही कांग्रेस से छिटकते देर नही लगाता है। राजस्थान मे तो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा मुस्लिम समुदाय को निशाने पर रखने के चलते उनको सत्ता मे हिस्सेदारी देने की बजाय हर स्तर पर किनारे लगाये रखने की रणनीति के चलते वो एएमआईएम लीडर सांसद असदुद्दीन ओवैसी के जयपुर आकर राज्य मे पार्टी संगठन खड़ा करके 2023 के विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा करने से युवाओं मे उनके प्रति आकर्षण लगातार बढता देखा जा रहा है। पर उन युवाओं को एक डोर मे बांधकर उन्हें लीड करने के लिये मजलिस को प्रदेश मे अभी तक एक भी अनुभवी लीडर नही मिल पाने का टोटा साफ नजर आ रहा है।
                   सांसद ओवैसी के इस सीलसीले मे अबतक जयपुर मे हुये दो दौरे मे उनसे मिलने वालो मे खासतौर पर जयपुर मे रहने वाले कुछ उन लोगो का मिलना हुवा है। जिनका राजनीतिक अनुभव ना के बराबर बताते है। मिले लोगो के प्रभाव व लीडरशिप से बेखोफ कांग्रेस अभी तक ओवेसी को लेकर गम्भीर नही बताते है। पर कुछ कांग्रेस जनप्रतिनिधि अपने क्षेत्र के अल्पसंख्यक युवाओं मे ओवैसी के प्रति बढते आकर्षण को लेकर चिंतित जरुर बताये जा रहे है।
                राजस्थान मे वैसे तो ओवैसी टीम के काम करने का प्लान यूपी चुनाव के बाद का राष्ट्रीय नेताओं के जयपुर मे पड़ाव डालने व दौरे करने के बाद बताते है। लेकिन राजस्थान मे कुछ समर्थक उनके पक्ष मे हैदराबाद से आने वाले उनके वीडियो व लेख को सोशल मीडिया पर जरुर फैलाने मे लगे है। अभी तक जानकारी अनुसार इस काम को टौक जिले के दो लोग जिनमे एक इंजीनियर व एक एडवोकेट ने यह जिम्मा सम्भाल रखा है जिनका राजनीतिक अनुभव खास नही है। मजलिस की आहट से दूसरी मुस्लिम तंजीम SDPI मे भी सक्रियता देखी जा रही है।
            राजस्थान की मुस्लिम सियासत को समझे तो पाते है कि शहरी मतदाताओं के अलावा देहाती कल्चर मे रहने वाली मुस्लिम बिरादरियों का स्वतंत्र पार्टी, लोकदल, जनता पार्टी व जनता दल के नाम पर राजनीतिक उथल-पूथल मे खासा महत्व देखा जाता रहा है। अलवर-भरतपुर जिले मे मेव, सवाईमाधोपुर  जिले मे गद्दी-खेलदार, मारवाड़ मे सिंधी मुस्लिम व शेखावाटी मे कायमखानी बिरादरी के राजनीतिक इतिहास को पढा जा सकता है। जिन्होंने कभी कभी जहर का प्याला पीने की तरह कांग्रेस के मुकाबले भाजपा को भी अपना कर राजनीतिक पारी खेल चुके है। शहरी मतदाताओं मे कुरेशी बिरादरी ने वैसे तो अक्सर कांग्रेस का साथ दिया है। पर जब जब मुस्लिम उम्मीदवार की बात आती है तो वो अन्य बिरदरियो की तरह राजनीतिक सौदेबाजी करने के बजाय जज्बाती होकर समर्थन मे सबसे आगे खड़ी मिलती है। शहरी क्षेत्र मे अनेक कामकाजी बिरादरीया भी रहती है। लेकिन वो इकठ्ठा तौर पर ना रहकर राज्य भर मे बिखरे बिखरे तौर पर निवास करते है।
              कुल मिलाकर यह है कि सांसद ओवैसी ने राजस्थान मे अभी तक किसी को भी पार्टी की कोई जिम्मेदारी नही दी है। ओर नाही किसी को मजलिस का प्रवक्ता बना रखा है। वो अपने हैदराबाद दफ्तर से ही प्रदेश पर नजर रखे हुये है। साथ ही अनेक मुस्लिम नेताओं से ओवैसी के साथ जाने की पुछने पर उनका कहना है कि अभी  कांग्रेस सरकार द्वारा राजनीतिक नियुक्तियों करने तक इंतजार करते है। उसके बाद ओवेसी के साथ जाने का फैसला करेगे। ओवैसी के साथ जायेगे तो काम भी करेंगे ओर चुनाव भी लड़ेगे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका