सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अशोक गहलोत की तीन साल की बडी उपलब्धि गोवा-कर्नाटक व मध्यप्रदेश सरकार गिरने के बावजूद अपनी सरकार को बचाने मे कामयाब रहना माना जायेगा।



    मुख्यमंत्री ने तीन साल के अपनी सरकार के कार्यकाल मे दोस्त कम दुश्मन अधिक बनाये।
             ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

              हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपनी सरकार के तीन साल पूरे होने के जश्न काफी बढचढकर मना रहे है। लेकिन तीन साल मे मुख्यमंत्री गहलोत की बडी उपलब्धि अपनी सरकार को बचाये रखने से अधिक नही मानी जा सकती। अपने चहते सेवानिवृत्त ब्यूरोक्रेट्स को तो अधीकांश संवैधानिक पदो पर नामित करके उनको सत्ता का सूख भोगने की खुलकर छूट दी पर कांग्रेस को सत्ता मे लाने मे दिन रात एक करने वाले कांग्रेस कार्यकर्ताओं व नेताओं को राजनीतिक नियुक्तियों से दूर रखकर उन्हें सत्ता आने का अहसास तक नही होने दिया है।
              मुख्यमंत्री गहलोत ने सत्ता मे आने के बाद राजनैतिक तौर पर दोस्त कम व दुश्मन अधिक बनाये है। उनकी सरकार को समर्थन देने वाले वामपंथी नेता व माकपा सचिव कामरेड अमरा राम ने पेट्रोल-डीजल पर स्टेट का वेट कम नही करने के साथ साथ देश मे बिजली सबसे महंगी राजस्थान मे होने को लेकर जल्द सरकार के खिलाफ बडा आंदोलन खड़ा करने का ऐहलान कर दिया है। समर्थन दे रही भारतीय ट्राईबल पार्टी के नेता छोटू सिंह बसावा अब एआईएमआईएम नेता सांसद ओवैसी से मिलने लगे है। किसान आंदोलन को लेकर रालोपा के नेता सांसद हनुमान बेनीवाल के एनडीए से समर्थन वापस लेने के बावजूद उसकी तरफ दोस्ती का हाथ नही बढाने के चलते अगले कुछ दिनो मे बेनीवाल फिर एनडीए मे शामिल हो सकते है।
             गोवा-कर्नाटक व मध्यप्रदेश मे बनी कांग्रेस सरकार को गिराकर भाजपा वहां सरकार बनाने मे कामयाब रही। पर राजस्थान मे भाजपा को इस मुद्दे पर मुंह की खानी पड़ी। पहले की तरह मुख्यमंत्री गहलोत ने इस दफा भी विधायकों की डिजायर प्रथा को परवान चढाते हुये चपरासी से लेकर उच्च अधिकारियों को उनके क्षेत्र मे पदस्थापित करने व विकास के काम विधायकों की मंशा अनुसार स्वीकार करने के अलावा स्थानीय निकाय -पंचायत चुनाव मे उम्मीदवार चयन भी केवल उनकी इच्छानुसार बनाने से संगठन को पंगू व कार्यकर्ताओं की इच्छाओं पर कठोरागात करने मे कोई कमी नही रखी।
             कहने को गहलोत चुनाव के समय जारी कांग्रेस मेनीफेस्टो के अनुसार अधीकांश वायदे पूरा करने का दावा करते है लेकिन उन्होंने वो महत्वपूर्ण वायदे पूरे नही किये जिनके बल पर वो सत्ता मे आये है। गहलोत सरकार मे केवल विधायकों को छोड़ दे तो बाकी अधीकांश लोकसभा उम्मीदवार व प्रमुख नेताओं की सत्ता मे कोई वोईस नही है। विधायकों को क्षेत्र का एक तरह से एसएचओ-तहसीलदार बनाने से लेकर राजतंत्र का राजा बनाने के कारण कांग्रेस विधायकों से क्षेत्र का मतदाता खासा नाराज है। अगर इसी वर्तमान हालत मे या फिर गहलोत की इसी कार्यशैली के चलते उनके नेतृत्व मे 2023 के विधानसभा चुनाव होते है तो दो अंको मे कांग्रेस की सीट आना मुश्किल हो सकता है।
                          कुल मिलाकर यह है कि मुख्यमंत्री गहलोत  सरकार के तीन साल की प्रमुख उपलब्धि मात्र अपनी सरकार को बचाये रखना मानी जा सकती है। उपचुनावों मे कांग्रेस के अच्छे प्रदशर्न को वो बडी उपलब्धि व सरकार की लोकप्रियता से जोड़कर बता रहे है। जबकि पर्दे के पीछे भाजपा नेता वसुंधरा राजे समर्थकों का कांग्रेस उम्मीदवारों को जीताने व बचे समय सरकार के साथ रहकर हित साधने की परिपाटी बडा कारण माना जा रहा है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका