सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आठ करोड़ स्वीकृति के बाद भी कुछ कथित मुस्लिम संगठन अल्पसंख्यक हास्टल निर्माण का विरोध कर रहे है। राजस्थान के दूद-दराज से आने वाले स्टूडेंट्स के लिये हास्टल शैक्षणिक व सुरक्षित रुप से बडा आसरा हो सकता है


             ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

               हालांकि अव्वल तो वर्तमान समय मे सरकारे खासतौर पर अल्पसंख्यक समुदाय मे शैक्षणिक तौर पर बडे काम करने के लिये आगे आने से भागती नजर आती है। लेकिन कभी कभार सरकारी अधिकारी की भागदौड़ व सरकार की समुदाय मे शैक्षणिक माहोल बनाकर उनको मेन स्टीम मे लाने की मंशा अनुसार अल्पसंख्यक समुदाय के हित व उनकी आवश्यकता अनुसार किसी तरह का कदम उठने लगता है तो चंद लोग पर्दे के पीछे अपने छिपे ऐजेण्डे के चलते उस अच्छे कदम की राह का रोड़ा बनकर सामने अवरोध की तरह आकर खड़े हो जाते है।
            राजस्थान की राजधानी जयपुर स्थित राजस्थान विश्वविद्यालय व विभिन्न तरह की मुकाबलाती परीक्षाओं की कोचिंग संस्थानों के चार पांच किलोमीटर तक की परिधि मे मुस्लिम स्टूडेंट्स के रहने के लिये किसी तरह के हास्टल की व्यवस्था नही होने व उसकी सख्त आवश्यकता को भांपकर अल्पसंख्यक विभाग के निदेशक जमील अहमद कुरैशी सहित कुछ अन्य अधिकारियों की तरक्की पसंद सोच के चलते उनकी भागदौड़ की ताकत के फलस्वरूप राजस्थान विश्वविद्यालय के समीप मोतीडूंगरी के पास वाली दरगाह के पास खाली पड़ी बडी जमीन के एक हिस्से मे सरकार की मदद से अल्पसंख्यक हास्टल निर्माण के लिये आठ करोड़ की राशि सरकार से स्वीकृत होने के बाद कुछ मुस्लिम संगठन बीना वजह विरोध मे अवरोध बनकर खड़े हो गये है। जबकि उनको हास्टल निर्माण के लिये आगे आकर पहल करनी चाहिये थी।
               भारत भर की तरह जयपुर की अनेक किमती व मौके की वक्फभूमि पर अतिक्रमणकारियों ने कब्जा सालो से कर रखा है। शास्त्रीनगर स्थित कब्रिस्तान व एम आई रोड़ स्थित नवाब कल्लन बाग सहित जयपुर शहर मे सेंकड़ो वक्फभूमि पर अवैध रुप से कच्चे-पक्के अतिक्रमण होकर जमीने खूर्दबूर्द हो चुकी एवं हो रही है। पर मुस्लिम समुदाय उन अतिक्रमणकारियों से भूमि मूक्त करवाना तो दिगर बात है पर उसकी पहल तक नही कर पा रहा है। इसके विपरीत शिक्षा व मुकाबली परीक्षा की तैयारी के लिये जयपुर आने वाले अल्पसंख्यक स्टूडेंट्स के रहने के लिये बनने वाले हास्टल के लिये दरगाह की खाली पड़ी जमीन के एक हिस्से का उपयोग कर निर्माण की 8-करोड़ की राशि स्वीकृत होने के बाद कुछ कथित मुस्लिम संगठन कुछ लोगो के बूने जाल मे फंसकर उक्त निर्माण के विरोध मे आ खडे हो गये है। सरकारों को तो वैसे ही बहाना चाहिए।अगर मुस्लिम समुदाय आगे आकर हास्टल निर्माण को शुरू करवाकर उसे मुकम्मल नही करवाया तो आने वाली पीढियां उन्हें कभी माफ नही करेगी।
                कुल मिलाकर यह है कि जयपुर शहर के मुस्लिम समुदाय को दूरगामी सोच रखते हुये बडे हित को सामने रखकर  सरकार की तरफ से स्वीकृत हो चुके आठ करोड़ का उपयोग करते हुये उक्त होस्टल निर्माण की सभी बाधाओं को दूर करके निर्माण कार्य शीघ्र शूरु करवा कर आने वाली पीढी के साथ न्याय करना चाहिए। विरोध मे उतरे संगठनों के जिम्मेदारो को ठंडे दिमाग से सोच कर  सकरात्मक फैसला लेना चाहिए। वरना स्टुडेंट्स उन्हें सालो तक माफ नही कर पायेंगे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका