सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एआईएमआईएम सदर सांसद ओवैसी के राजस्थान मे उम्मीदवार खड़े कर चुनाव लड़ने के ऐहलान से कुछ मुस्लिम तंजीमे पेशोपेश मे।

 



                   ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

               कहने को चाहे कोई अपने आपको राष्ट्रीय व राज्य स्तरीय संगठन बताये लेकिन हकीकत मे राज्य मे मात्र जयपुर शहर तक कागजों या अखबारों तक सक्रिय रहकर सत्ता के साथ पर्दे के पीछे सांठगांठ करने वाली कुछ मुस्लिम तंजीमो के सामने एआईएमआईएम के आने से पेशोपेश के हालात बन गये है कि वो अब मुस्लिम समुदाय के नाम पर सत्ता के शीर्ष से गलबहियां कैसे कर पायेगे। एक तरफ कुछ सेक्यूलर दल ओवैसी के राजस्थान मे एआईएमआईएम द्वारा उम्मीदवार खड़े करने की घोषणा से बैचेन है वही सत्ता के शीर्ष के साथ समय समय पर गलबहियां रहने वाले वो मुस्लिम तंजीमे व उनके कुछ लोग भी खासे पेशोपेश मे नजर आ रहे है कि ओवैसी अब उन्हीं मुद्दों को उठायेंगे जिन मुद्दों पर वो पर्दे के पीछे कुछ अपने हिसाब से सत्ता शीर्ष के साथ तय करते है।
               पीछले साल एक जवलंत मुद्दे को लेकर कुछ मुस्लिम तंजीमो व कथित मुस्लिम लीडरान ने जयपुर मे एमडी रोड़ स्थित मुस्लिम मुसाफिर खाना से रैली निकलकर प्रदर्शन करने का ऐहलान किया था। लेकिन जब लगा कि मुस्लिम समुदाय उक्त जज्बाती मुद्दे को लेकर रैली मे भारी तादाद मे जमा होगा तो उन्होंने अचानक सत्ता के शीर्ष के इशारे पर स्थान बदलकर रामनिवास बाग से रैली के रवाना होने का ऐहलान कर दिया। सत्ता की चापलूसी की हद तो तब हो गई जब मुख्यमंत्री गहलोत सहित अनेक कांग्रेस नेताओं की अगुवाई मे रैली निकालकर एक तरह से उस रैली को कांग्रेस की रैली का रुप दे दिया था। तब के रैली आयोजन से जुड़े कुछ लोग अभी कल सांसद ओवैसी से होटल मे मिलकर अपनी फोटो सोशल मीडिया पर वायरल करने से भी चुके नही है।
                    हालांकि किसी एक जाति-बिरादरी के नाम से चुनाव कभी जीते नही जाते है। कभी कभार कुछ सीटे जीत भी गये तो वो स्थायी नही होता है। लेकिन एआईएमआईएम जैसे दल चुनाव लड़ने को राज्य मे आते है तो पक्ष-विपक्ष पर हित व अहित के लिये एक प्रैसर बनता है। जो प्रैसर उन मतदाताओं की अहमियत को जरा बढा देता है। वहीं चुनाव लड़ने के शौकीन या फिर चुनाव के बहाने अपने आपको हाईलाइट करके कुछ अपने निजी या सामुहिक हित साधने वालो को पहले के मुकाबले ओर अवसर मिल जाते है। ओवैसी के एआईएमआईएम के निशान पर उम्मीदवार खड़े कर अपनी पतंग उडाने व अनेक जगह दुसरो की पतंग काटने मे सहायक बनने का असर सबसे अधिक अपने आपको सेक्यूलर बताने वाले दलो पर होता है। मुख्यमंत्री गहलोत इसके स्वयं भूक्तभोगी रहे है। 1989 के लोकसभा चुनाव मे जोधपुर से जब गहलोत कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे थे तब उनके सामने इंसाफ पार्टी के बैनर पर अब्दुल गनी सिंधी के चुनाव लड़ने पर गहलोत को हार का मचा चखना पड़ा था। उस हार से सबक लेकर आगे लड़े सभी विधानसभा चुनावो मे गहलोत ने अपने चुनाव मे किसी मुस्लिम को उम्मीदवार बनने नही दिया। कभी कभार किसी ने पर्चा भर भी दिया तो उसको वापस करवा दिया। साथ ही अब्दुल गनी को तत्तकालीन समय मे चुनाव लड़वाने मे प्रमुख भूमिका निभाने वाले विशेष ग्रूप से उस चुनाव मे मात खाने के बाद से लेकर आजतक गहलोत ने दोस्ती बना रखी है।
                 हालांकि राजस्थान मे जमात ए इस्लामी की सियासी तंजीम वैलफेयर पार्टी आफ इण्डिया व एक अन्य एसडीपीआई नामक राजनीतिक दल कार्यरत है। जिसमे से कोटा रिजन मे एसडीपीआई कुछ विधानसभा सीटो पर चुनाव लड़ती है। पर वो अभी तक विधानसभा चुनाव जीत नही पाई है।
              कुल मिलाकर यह है कि एआईएमआईएम के राजस्थान मे आने को कुछ मुस्लिम नेता समुदाय के राजनीति की मुख्यधारा से अलग थलग पड़ने की सम्भावना जता कर वजूद पर सवालिया निशान लगाते है। जबकि कुछ सामाजिक व राजनीतिक लोग इसे राजनीति मे प्रैशर पोलटिक्स के लिये प्रैसर ग्रूप के रुप मे उपयोग मे आना बता रहे है। खासतौर पर मुस्लिम समुदाय का युवा तबका कांग्रेस को उन्हें वोटबैंक के रुप मे इस्तेमाल करना मात्र बता रहे है। ऐसे हालात मे वो एआईएमआईएम का राजस्थान मे आना व तेज तर्रार व राजनीतिक सूझबूझ रखने वाले नेता ओवैसी के राजस्थान मे आना एक नया विकल्प मान रहे है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया

 आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया। विद्यालय में इस सत्र में आई.सी.एस.ई. (कक्षा 10) तथा आई.एस.सी. (कक्षा 12) में कुल सम्मिलित छात्र-छात्राओं की संख्या क्रमशः 153 और 103 रही। विद्यालय का परीक्षाफल शत -प्रतिशत रहा। इस वर्ष कोरोना काल में परीक्षा परिणाम विगत पिछले परीक्षाओं के आकलन के आधार पर निर्धारित किए गए है ।  आई.सी.एस.ई. 2021 परीक्षा में स्वयं गर्ग ने 98% अंक लाकर प्रथम,  ऋषिका अग्रवाल  ने 97.6% अंक लाकर द्वितीय तथा वृंदा अग्रवाल ने 97.4% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   आई .एस.सी. 2021 परीक्षा में आयुष शर्मा  ने 98.5% अंक लाकर प्रथम, कुशाग्र पांडे ने 98.25% अंक लाकर द्वितीय तथा आरुषि अग्रवाल ने 97.75% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   उल्लेखनीय है कि आई.एस.सी. 2021 परीक्षा में इस वर्ष विद्यालय में 21 छात्रों ने तथा आई.सी.एस.ई.की परीक्षा में 48 छात्रों ने 90 प्रतिशत से भी अधिक अंक लाएं।   आई.सी.एस. 2021 परीक्षा में प्रथम आये आयुष शर्मा के पिता श्री श्याम जी शर्मा एक व्यापारी हैं । वह भविष्य में

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह