सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कृषि बिल वापसी पर बोले गहलोत, PM ने घबराकर फैसला वापस लिया, CM ने कहा- केंद्र सरकार को UP समेत 5 राज्यों में हार का डर; इसलिए वापस हुए कृषि कानून



        ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर


गहलोत-डोटासरा ने 3 कृषि कानून वापसी पर केन्द्र को घेरा

केन्द्र सरकार की ओर से तीन कृषि कानून वापस लेने की घोषणा पर राजस्थान कांग्रेस सरकार ने केन्द्र पर सियासी हमला बोलते हुए निशाना साधा है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि उप चुनावों में हुई करारी हार के बाद केन्द्र सरकार ने यूपी समेत 5 राज्यों में आगामी विधानसभा चुनावों में हार की आशंका और घबराहट के चलते यह फैसला लिया है। उन्होंने इस जीत के लिए किसानों को बधाई देते हुए इसे केन्द्र सरकार के अहंकार और घमंड की हार बताया है।
 

वहीं, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की कमेटी में केन्द्र सरकार के खिलाफ फैसला आने वाला था। जो केन्द्र को पता चल गया। आखिर कोर्ट को कब तक मैनेज करते। उप चुनाव के परिणाम और आगामी विधानसभा चुनाव में हार की घबराहट में यह फैसला लिया गया है। अब केन्द्र सरकार को किसानों की आय दोगुनी करने के वादे पर ध्यान देना चाहिए।

राजस्थान विधानसभा ने पहले ही खारिज कर दिए 3 काले कानून
गहलोत ने कहा कि देश की आजादी के बाद इससे पहले ऐसा कभी नहीं देखने को मिला कि अन्नदाता किसानों को एक साल से ज्यादा वक्त तक सड़कों पर संघर्ष करना पड़ा हो। दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान बॉर्डर पर बैठे किसान पूरे देश की भावनाओं का प्रतिनिधित्व कर रहे थे, लेकिन केन्द्र सरकार उसे समझने में फेल रही। संघर्ष चलता रहा और कई किसान मारे गए। राहुल गांधी और विपक्षी पार्टियों को राष्ट्रपति से मिलना पड़ा। लगातार संघर्ष में साथ देना पड़ा।
 

विपक्षी पार्टियों की मांग को केन्द्र सरकार ने नहीं सुना। केन्द्र की सत्ता में बैठे लोगों की प्रकृति में है कि वह अहम और घमंड में रहे। आज प्रधानमंत्री को मजबूर होकर तीन कृषि कानून वापस लेकर देश वासियों को संदेश देना पड़ा है। इन कानूनों को राजस्थान की विधानसभा ने तो पहले ही खारिज कर दिया था। यह देश के किसानों की भारी और शानदार जीत है। मैं अपनी और प्रदेश वासियों की ओर से किसानों को बहुत बधाई देता हूं।
केन्द्र सरकार की विश्वसनीयता हुई खत्म
 

किसान नेता अब भी तीन कृषि कानून वापस लेने पर संसद में फैसला लेने की मांग कर रहे हैं। इस पर गहलोत बोले कि जब सरकार की विश्वसनीयता खत्म हो जाती है, मीडिया के बोलने का मतलब है कि आम आदमी बोल रहा होगा। ये भावना पैदा हो रही है कि प्रधानमंत्री घोषणा करने के बाद भी पता नहीं क्या करेंगे। कोई रास्ता निकाल लेंगे या संसद में क्या करेंगे। यह विश्वसनीयता के संकट की बात है। ईडी, इनकम टैक्स, सीबीआई पर जितना दबाव है कोई कल्पना नहीं कर सकता है। बहुत घबराहट का माहौल है। जो भाई चारा, प्रेम लोगों में होना चाहिए। वो बहुत कम हो रहा है। यह देश के लिए बहुत बड़ा खतरा है।
यूपी चुनाव में केन्द्रीय मंत्रियों को बूथ मैनेजमेंट में लगाया
 

गहलोत ने कहा कि केन्द्र सरकार ने किसानों की इनकम दोगुना करने का वादा किया था, लेकिन तीन काले कानून ले आई। तीन कृषि कानून वापस लेने के फैसले का हमें कल रात को ही आभास हो गया था। क्योंकि यूपी में प्रधानमंत्री आज से तीन दिन जाकर चुनाव में जीत के लिए डेरा डाल रहे हैं। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा, पूर्व मुख्यमंत्री और केन्द्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह को संभाग वाइज बूथ मैनेजमेंट की जिम्मेदारी दी गई है।
 

गहलोत ने कहा कि इससे अंदाजा लगा लेना चाहिए कि आज तीन कृषि कानून वापस लेने का फैसला भी यूपी चुनाव को देखकर हो रहा है। केन्द्र को मालूम है कि अगर यूपी में चुनाव हार गए। तो 2024 में भी कामयाब होने का सपना ही रह जाएगा। इसलिए वेस्ट बंगाल की तरह बीजेपी पूरी ताकत झोंक रही है।
 

उपचुनाव में हार के कारण पेट्रोल-डीजल से एक्साइज ड्यूटी घटाई
गहलोत ने कहा पेट्रोल और डीजल पर 5 और 10 रुपए भी पिछले दिनों इसलिए कम किए, क्योंकि बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा के खुद के राज्य हिमाचल प्रदेश में 1 लोकसभा और 3 विधानसभा सीटों पर बीजेपी का सफाया हो गया। राजस्थान में 2 सीटों पर हुए विधानसभा उपचुनाव में जमानत जब्त हो गई। बीजेपी प्रत्याशी तीसरे और चौथे नंबर पर रहे। इसलिए पेट्रोल डीजल से एक्साइज घटाने की घोषणा करनी पड़ी।


सुप्रीम कोर्ट कमेटी में केन्द्र के खिलाफ फैसला आने वाला है प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की कमेटी में केन्द्र सरकार के खिलाफ फैसला आने वाला है। यह केन्द्र को पता चल गया। कोर्ट को कब तक मैनेज करते। इसकी भी एक लिमिटेशन होती है। अब देश के सामने सब कुछ उजागर हो गया है। उपचुनाव में हार और आगामी विधानसभा चुनाव में हार की घबराहट में तीन कृषि कानून वापस लेने का फैसला लिया गया है।
 

डोटासरा ने कहा कि अब केन्द्र सरकार को किसानों की आय दोगुनी करने के वादे पर ध्यान देना चाहिए। डोटासरा ने कहा आज किसानों की एकता की जीत हुई है। मोदी और अमित शाह का घमंड और षड्यंत्र हारा है। आज भी मोदीजी को आंदोलन करते हुए शहीद हुए 700 किसानों को नमन करना चाहिए। देश और अन्नदाता से माफी मांगनी चाहिए। देर आए दुरुस्त आए, लेकिन हमें अभी भी ये लगता है कि केन्द्र के मन में बेईमानी है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया

 आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया। विद्यालय में इस सत्र में आई.सी.एस.ई. (कक्षा 10) तथा आई.एस.सी. (कक्षा 12) में कुल सम्मिलित छात्र-छात्राओं की संख्या क्रमशः 153 और 103 रही। विद्यालय का परीक्षाफल शत -प्रतिशत रहा। इस वर्ष कोरोना काल में परीक्षा परिणाम विगत पिछले परीक्षाओं के आकलन के आधार पर निर्धारित किए गए है ।  आई.सी.एस.ई. 2021 परीक्षा में स्वयं गर्ग ने 98% अंक लाकर प्रथम,  ऋषिका अग्रवाल  ने 97.6% अंक लाकर द्वितीय तथा वृंदा अग्रवाल ने 97.4% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   आई .एस.सी. 2021 परीक्षा में आयुष शर्मा  ने 98.5% अंक लाकर प्रथम, कुशाग्र पांडे ने 98.25% अंक लाकर द्वितीय तथा आरुषि अग्रवाल ने 97.75% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   उल्लेखनीय है कि आई.एस.सी. 2021 परीक्षा में इस वर्ष विद्यालय में 21 छात्रों ने तथा आई.सी.एस.ई.की परीक्षा में 48 छात्रों ने 90 प्रतिशत से भी अधिक अंक लाएं।   आई.सी.एस. 2021 परीक्षा में प्रथम आये आयुष शर्मा के पिता श्री श्याम जी शर्मा एक व्यापारी हैं । वह भविष्य में

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह