सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भारत मे आजादी के बाद मुस्लिम राजनीतिक लीडरशिप उभर नही पाने के मुस्लिम समुदाय स्वयं जिम्मेदार!


         मुस्लिम समुदाय जज्बाती तकरीरो व विभिन्न राजनीतिक दलो द्वारा उभारे गये कथित मुस्लिम नेताओं के नाम पर खुश होता रहा।
                      ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

                    आजादी के बाद भारत के मुस्लिम समुदाय के लिये मजबूत राजनीतिक लीडरशिप का उभर नही पाने के बडे जिम्मेदार स्वयं मुस्लिम समुदाय ही माना जा सकता है। जबकि एक राजनीतिक दल ने तो आधारहीन व सेक्यूलर के नाम पर अब्दुल करीम छागला व हिदायतुल्लाह जैसे एवं उन जैसी सोच वाले अनेक नेताओं को समय समय पर उभारा तो कुछ दलो ने जज्बाती तकरीर करने वाले व माफिया गिरीं करने वाले नेताओं को उभारा। सभी राजनीतिक एक बात पर आम सहमत नजर आये कि जनाधार व साफ सुथरी छवि वाली लीडरशिप या तो उभरे नही , किसी वजह से अगर उभर जाये तो उसको जल्द से जल्द निपटा दिया जाये। इसके विपरीत मुस्लिम समुदाय की बडी तंजीमे जमात ए इस्लामी व जमीयत उलेमा ए हिंद ने सालो तक राजनीति को हराम बताते हुये मतदान व राजनीति से दूर रहने की कहने से चुके नही। अब जाकर जमात ए इस्लामी ने वैलफेयर पार्टी आफ इण्डिया नामक राजनीति पार्टी बनाई व इसी जमात से इख्तेलाफ होने पर केरल के कुछ लोगो ने एसडीपीआई नामक राजनीतिक दल वैलफेयर पार्टी से पहले बनाया है। जिनको अभी तक किसी भी स्तर पर पूरी तरह स्वीकारिता नही मिल पाई है। जमीयत उलेमा हिंद सीधे तौर पर ना सही पर बाये दाये से वर्तमान मे राजनीति करती नजर आती है। इन सबके उलट राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के तरबियती वर्कर सभी राजनीतिक दलो मे मोजूद है। वही कहते है कि पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता पर काबिज भाजपा को तो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ही अपने तरीके से चलाता है। यूपी मे पीस पार्टी, उलेमा कोंसिल सहित भारत के अन्य राज्यों मे अलग अलग नाम से कुछ दल बने पर वो चल नही पाये।
                          चाहे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ सीधे तौर पर राजनीति ना करता होगा लेकिन उन्होंने अपने लोगो को तरबियत करने मे तीन-चार पीढियों को खपा कर आज अपनी चहती पार्टी भाजपा को भारत मे सत्ता के शीर्ष मुकाम पर पहुंचाया है। जबकि मुस्लिम तंजीमे वर्कर को तरबियत करने मे अभी ढाई पावंडे भी नही चल पाये है। पीछले कुछ सालो से केरल मे मुस्लिम लीग अपना जनाधार खोने लगी है। जबकि मोलाना बदरुद्दीन अजमल आसाम के कुछ हिस्से तक मोजूद है। असदुद्दीन आवैसी तेलंगाना के हैदराबाद के बाहर राज्य मे अन्य मुस्लिम बहुल जगह अपने उम्मीदवार खड़े नही करते है जिनमें से कुछ जगह से वो जीत भी सकते है। जबकि वो तेलंगाना व आंध्रप्रदेश के बाहर चुनाव के ठीक पहले जाकर मुस्लिम बहुल सीटें पर उम्मीदवार खड़े करने की कोशिश करते है। जहां जहां चुनाव होने वाले है। कुछ राजनीतिक दलो मे दिखावे के तौर पर अलग अलग समय पर अलग अलग लोगो को मुस्लिम लीडरशिप के नाम पर उभरते होने की उस राजनीतिक दल के सर्वेसर्वा नेता दिखावे के तौर पर समुदाय को चकमा देने की कोशिश जरुर करते है। जबकि ऐसे मुस्लिम लीडर के निचे वास्तव मे जमीन नही होती है।
                       कुछ साजिशो के तहत मुस्लिम समुदाय को शिक्षा व सियासी तौर पर जागरूक होने से दूर रखने के लिये आजादी के तूरंत बाद से कभी दंगो व कभी किसी संगठन का डर दिखाकर उन्हें वोटबैंक के तौर पर उलझाये रखा। वही कथित मुस्लिम लीडरशिप उस दल के नेताओं के झांसे मे उलझे रहने को आतूर रहे। मुस्लिम तंजीमो ने कभी कभार किसी मुस्लिम मुद्दे पर तो आवाज उठाई लेकिन दलित-आदिवासी, पिछड़े व अन्य तरह से प्रताडित होने वाले वर्ग के लिये उस तरह से संघर्ष नही किया जिस तरह से उनको करना चाहिए था।
               भारत मे चल रहे वर्तमान राजनीतिक हालात मे मुस्लिम समुदाय सभी राजनीतिक दलो के लिये खुले तौर पर या पर्दे के पीछे अछूत बनता नजर आ रहा है। उनके इंसाफ व हक की बात करने से राजनीतिक दल कतराने लगे है। समुदाय मे डर व दहसत का माहोल बनाने मे चाहे कम ज्यादा लेकिन अधीकांश दलो ने काम किया व कर रहे है।कोई वोटबैंक बनाने व बनाये रखने के लिये तो कोई इनको टारगेट करके बहुसंख्यक समुदाय को भावनात्मक रुप से अपनी तरफ आकर्षित करने के लिये लगातार कोशिश कर रहे है।
               मुस्लिम समुदाय के हितो पर चोट पहुंचाने के समय संसद व विधानसभा मे मुस्लिम के नाम पर राजनीतिक दलो से टिकट लेकर जीतकर जाने वाले अधीकांश जनप्रतिनिधियों की जबान पर दही जमा नजर आता है। वही वो सदन के बाहर अपने दल के शीर्ष नेतृत्व को हक बात करने से भी कोशो दूर नजर आते है। भारत भर मे वर्तमान मे यही हालात कायम है। उदाहरण के तौर पर राजस्थान मे मदरसा पैरा टीचर्स व उर्दू टीचर्स के चल रहे अनशन, धरना व प्रदर्शन को लेकर एक भी मुस्लिम विधायक शीर्ष नेतृत्व से डर व लालच के मारे बात तक नही चला पा रहा है। गहलोत सरकार के गठन के साथ पहले मंत्रीमंडल मे मात्र एक मंत्री बनाकर उसे अल्पसंख्यक मामलात विभाग तक सिमित रखना, महाधिवक्ता व अतिरिक्त महाधिवक्ता मनोनयन से समुदाय को दूर रखा, फिर राजस्थान लोकसेवा आयोग के सदस्य मनोनयन सहित विभिन्न संवेधानिक पदो के मनोनयन से दूर रखने के अलावा सम्बंधित बोर्ड-निगम का अभी तक गठन नही होना।
                   कुल मिलाकर यह है कि राजनीतिक तौर पर सत्ता पर अपने तरबियत याफ्ता लोगो को बैठाकर सत्ता चलाने के पीछे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पीढियों को खफा देने के साथ सेंकड़ो सालो की उनकी मेहनत का नतीजा बताया जा रहा है। जबकि मुस्लिम समुदाय की किसी भी तंजीम ने राजनीतिक तौर पर वर्कर की तरबियत करने का काम हाथ मे नही ले रखा है। वो हथेली पर सरसू उगाना चाहते है। जबकि कुछ राजनीतिक दल मुस्लिम को वोटबैंक बनाने या बनाये रखने के लिये हर मुमकिन कोशिश करते नजर आते है। तो कुछ दल मुस्लिम को टारगेट करके बहुसंख्यक समुदाय को अपनी तरफ आकर्षित करते नजर आ रहे है। पर मुस्लिम समुदाय या उनकी तंजीमो को इस पर मंथन तो करना चाहिए।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया

 आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया। विद्यालय में इस सत्र में आई.सी.एस.ई. (कक्षा 10) तथा आई.एस.सी. (कक्षा 12) में कुल सम्मिलित छात्र-छात्राओं की संख्या क्रमशः 153 और 103 रही। विद्यालय का परीक्षाफल शत -प्रतिशत रहा। इस वर्ष कोरोना काल में परीक्षा परिणाम विगत पिछले परीक्षाओं के आकलन के आधार पर निर्धारित किए गए है ।  आई.सी.एस.ई. 2021 परीक्षा में स्वयं गर्ग ने 98% अंक लाकर प्रथम,  ऋषिका अग्रवाल  ने 97.6% अंक लाकर द्वितीय तथा वृंदा अग्रवाल ने 97.4% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   आई .एस.सी. 2021 परीक्षा में आयुष शर्मा  ने 98.5% अंक लाकर प्रथम, कुशाग्र पांडे ने 98.25% अंक लाकर द्वितीय तथा आरुषि अग्रवाल ने 97.75% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   उल्लेखनीय है कि आई.एस.सी. 2021 परीक्षा में इस वर्ष विद्यालय में 21 छात्रों ने तथा आई.सी.एस.ई.की परीक्षा में 48 छात्रों ने 90 प्रतिशत से भी अधिक अंक लाएं।   आई.सी.एस. 2021 परीक्षा में प्रथम आये आयुष शर्मा के पिता श्री श्याम जी शर्मा एक व्यापारी हैं । वह भविष्य में

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह