सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एआईएमआईएम अध्यक्ष सांसद असदुद्दीन औवेसी के शेखावाटी दौरे से राजनीतिक हलको मे हलचल बढीं।


     राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष डोटासरा का चुनावी क्षेत्र लक्ष्मनगढ दौरे का मुख्य केंद्र रहा।
   आम विधानसभा चुनाव मे अभी एक साल का समय रह गया है। एआईएमआईएम प्रदेश की पचास सीटो पर लड़ने का दावा कर रही हैः

                ।अशफाक कायमखानी।
सीकर।

                   राजस्थान के चुनावी इतिहास मे अबतक केवल मात्र एक मुस्लिम केप्टेन अय्यूब खान के दो दफा लोकसभा चुनाव जीतकर इतिहास रचने वाले शेखावाटी जनपद मे एआईएमआईएम मुखिया बेरिस्टर असदुद्दीन औवेसी के प्रदेश के पहले राजनीतिक दौरे को लेकर राजनीतिक हलके मे नई चर्चा को जन्म देकर खासतौर पर कांग्रेस खेमे मे बेचैनी पैदा करदी है। शेखावाटी जनपद का मतदाता राजनीतिक तौर पर पलटीमार व गीवन टेक मतदाता के तौर पर पहचाना जाता है।
                 औवेसी द्वारा प्रदेश के अपने पहले राजनीतिक दौरे के लिये शेखावाटी जनपद को ही चुनने के प्रमुख कारण बताये जाते है। जिनमे मुस्लिम बहुल क्षेत्र होने के नाते यहां का मुस्लिम मतदाता सभी दलो के पक्ष मे मतदान करता रहा है। जनपद से  मुस्लिम स्वतंत्र पार्टी, जनता पार्टी, जनतादल- कांग्रेस व लगते डीडवाना से भाजपा के निशान पर विधायक बनते रहे है। वर्तमान विधानसभा मे शेखावाटी के कुल 21- विधायकों मे से भाजपा के राजेन्द्र राठौड़, अभिनेष महर्षि व सुभाष पूनिया को छोड़कर बाकी 18-विधायक कांग्रेस सरकार के साथ है। कांग्रेस सरकार से समुदाय की नाराजगी व मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा लगातार उपेक्षा करने के लिहाजा से एआईएमआईएम के लिये  राजनीतिक आधार के लिए यहां की जमीन उपजाऊ साबित हो सकती है।
            जाट बेल्ट के तौर पर जाने वाले शेखावाटी जनपद मे मुस्लिम के साथ साथ अनुसूचित जाति मे मेघवाल बिरादरी ही करीब करीब है। जिनको अपने अपने वर्ग मे राजनीतिक तौर पर जागरूक व पलटवार करने वाले मतदाताओं के तौर पर जाना जाता है। मुस्लिम-जाट व मेघवाल मतदाता राजनीतिक तौर पर एक दुसरे के काफी करीब रहते आये है।
                  सांसद औवैसी ने अपने दो दिन के दौरे की शूरुआत जयपुर मे कांग्रेस विधायक आमीन कागजी के क्षेत्र के जालूपुरा व भट्टा बस्ती इलाके मे जनसम्पर्क करके की। जहां खासतौर पर मुस्लिम युवाओं की भारी भीड़ व छतो पर जमा महिलाओं द्वारा फूल बरसाने से माहोल बदला बदला नजर आया। जयपुर के बाद औवेसी सीकर की एतिहासिक जामा मस्जिद मे अशर की नमाज अदा की। औवैसी के सीकर पहुंचने की खबर से मस्जिद व उसके बाहरी हिस्से सहित आसपास के क्षेत्र मे भारी भीड़ जमा होने पर पुलिस प्रशासन को अनेक थानो से जाब्ता बूलाकर उन्हें लक्ष्मनगढ के लिये रवाना करना पड़ा। लक्ष्मनगढ के बाद औवैसी ने फतेहपुर शहर मे विशाल जनसभा को सम्बोधित करते हुये भाजपा-कांग्रेस पर तीखे प्रहार किये। जाट-राजपूत व गूर्जर बिरादरी की सूझबूझ व उनकी राजनीतिक सफलता का आंकड़ो के साथ बताते हुये अल्पसंख्यक मतदाताओं को उनकी तरह ताकत बनने का ऐहलान किया। फतेहपुर के बाद लक्ष्मनगढ विधानसभा के खीरवा व खींवासर मे सभाओ को सम्बोधित किया। देर रात नवलगढ़ शहर मे बडी सभा को सम्बोधित करते हुये अपने समर्थकों को एक ताकत बनकर उभरने को कहा। देश मे सबसे अधिक फौजी देने वाले शेखावाटी जनपद की सभाओं मे भाजपा सरकार की अग्निवीर पोलिसी पर भी जमकर प्रहार किये।
                 औवेसी शेखावाटी के दौरे के दूसरे दिन नवलगढ़ से चलकर फिर लक्ष्मनगढ विधानसभा के जाजोद, मंगलूणा सहित अनेक गावो मे जनसम्पर्क व सभाओ को सम्बोधित करते हुये नागोर जिले के लाडनू कस्बे मे विशाल जनसभा को सम्बोधित किया।
                    औवैसी के शेखावाटी दौरे मे जनसम्पर्क के समय उमड़े जनसैलाब व सभाओ मे अनुमान से अधिक भीड़ जमा होने से उनके प्रति एक विशेष आकर्षण होना माना जा रहा है। उनकी जौशीली व तथ्यों पर आधारित तकरीर से काफी लोग संतुष्ट व भावूक होते देखे गये। खासतौर पर युवाओं मे उनके प्रति दीवानगी नजर आई। दूसरी तरफ उनके दौरे के बाद घबराहट मे कांग्रेस नेताओं ने मुस्लिम समुदाय मे मोजूद अपने समर्थकों को सक्रिय कर दिया है कि वो औवैसी को भाजपा की बी टीम व कांग्रेस को हराने की चेष्टा करने वाला बताने लगे है।   वर्तमान राजनीतिक परिस्थितियों के अनुसार एआईएमआईएम अपने दम पर जनपद की कोई सीट निकालने की स्थिति मे नहीं है।लेकिन उनके उम्मीदवार चुनाव लड़ते है तो अच्छे खासे वोट जरुर लेजा सकते है। अगर एआईएमआईएम का बेनीवाल की राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी सहित कुछ अन्य दलो से समझोता हो जाता है तो कुछ सकारात्मक परिणाम आ सकते है।
          राजनीति के एक्सपर्ट बताते है कि खासतौर पर मुस्लिम समुदाय मे लीडरशिप को लेकर वेक्यूम चल रहा है। समुदाय को लगता है कि उनके जनप्रतिनिधि राजनीतिक दलो के होकर रह जाते है लेकिन वो उनकी बात व समस्या नही उठा पाते है। वो समुदाय के नेता ना होकर व राजनैतिक दलो की कठपुतली ही होते है। लीडरशिप के.वेक्यूम के चलते हिंदी भाषी क्षेत्र के मुस्लिम भी दक्षिण के रहने वाले औवेसी को अपना नेता के तौर पर देखने लगे है। वो मानने लगे है कि औवेसी ही उनकी समस्याओं को उठाकर उनकी आवाज को ताकत दे सकता हैः वो औवेसी को भविष्य का खैरख्वाह मानने लगे है।
                         कुल मिलाकर यह है कि एआईएमआईएम मुखिया बेरिस्टर असदुद्दीन औवेसी के राजस्थान के पहले दौरे से शेखावाटी जनपद मे उनके समर्थकों को एक विकल्प नजर आने से साथ उनके प्रति समर्थकों मे विशेष आकर्षण देखा जा रहा है। औवेसी के इस दौरे को राजनीतिक हलको मे सफल व खासतौर पर कांग्रेस के लिये खतरे की घंटी बजना भी बताया जा रहा है। दौरे के बाद राजनीतिक फिजा बदली बदली नजर आने लगी है।




 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह