सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राजस्थान कांग्रेस मे गहलोत व सचिन पायलट खेमे मे सत्ता संघर्ष अंतिम पडाव पर जाते नजर आ रहा है। पायलट अपने जन्मदिन के एक दिन पहले जन्म दिन मनाकर ताकत दिखायेंगे।


                  ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

               कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को दिल्ली बूलाकर निर्देश देने के अंदाज मे उनकी जरुरत दिल्ली मे बताने के बाद राजस्थान की कांग्रेस राजनीति मे नये तौर पर हलचल पैदा हो गई है। पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने पार्टी के निर्देश पर 2018 मे मुख्यमंत्री पद से हटने की कहते हुये अक्सर जो गहलोत बोलते है उसी को दोहराते हुये कहा की राजनीति मे जो होता है वो दिखता नही है। इसके बाद राजनीतिक क्षेत्र मे चर्चा गरम होने लगी है।
                       हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद स्वीकार करते है या नही। पर यह तय है कि वो किसी भी सूरत मे पायलट को राजस्थान का मुख्यमंत्री नही बनने देना चाहते है। वो हर मुमकिन सभी तरह के भरसक प्रयास करेगे कि वो अवल तो मुख्यमंत्री पद छोड़े नही। अध्यक्ष बनने के लिये विवश होना पड़े तो दोनो पद उनके पास रहे। फिर भी मुख्यमंत्री पद छोड़ना पड़े तो पायलट ना बनकर अन्य कोई उनकी डोर मे रहने वाला कमजोर नेता ही मुख्यमंत्री बने। जैसे प्रदेश अध्यक्ष पद पर उनके मुखपत्र की तरह डोटासरा काम कर रहे है।
              मुख्यमंत्री की ओथ लेने के लिये उतावले व इंतजार मे बैठे पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट व उनके समर्थक अपनी ताकत दिखाने के लिये सात सितम्बर को उनके जन्म दिन से एक दिन पहले उनका जन्म दिन मना रहे है। इसके लिये पायलट समर्थक जोरशोर से तैयारी कर रहे है। वही पायलट के दफ्तर से विधायक व सिनीयर कांग्रेस नेताओं के पास टेलिफोनिक निमंत्रण भी दिया जा रहे है।
               पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के जन्मदिन से एक दिन पहले जयपुर में उनके समर्थक बड़ी संख्या में जुटने की तैयारी में है। सचिन पायलट का जन्मदिन 7 सितंबर को है, लेकिन इस बार समर्थकों से मिलने का कार्यक्रम 6 सितंबर को रखा गया है।
       बताया जा रहा है कि 7-सितंबर से राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा शुरू हो रही है इसलिए पायलट उसमें शामिल होने कन्याकुमारी जाएंगे, इस वजह से जन्मदिन से एक दिन पहले समर्थकों से मिलने का कार्यक्रम तय किया गया है। बदले हालात के बीच इस बार पायलट के जन्मदिन पर जुटने वाली भीड़ के सियासी मायने हैं।
                        मंहगाई के खिलाफ चार सितम्बर को दिल्ली मे कांग्रेस की रैली की तैयारी के लिये प्रभारी महामंत्री अजय माकन तीन दिन के लिये जयपुर आ रहे है। सूत्र बताते है कि वो रैली के बहाने विधायकों से व्यक्तिगत मिलकर रायशुमारी भी करेगे। ताकि अंदाजा लग सके कि गहलोत के अध्यक्ष बनने से राजस्थान मे मुख्यमंत्री के नये नाम को लेकर हालात क्या बन सकते है। विधायक गहलोत-पायलट खेमे मे बंटे हुये है। पायलट समर्थक विधायक व समर्थक मुखर भी हो रहे है।
               राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव मे 450 पीसीसी के कोप्टेड मेम्बर से अधिक व 70 एआईसीसी मेम्बर मतदान कर सकेंगे। इससे पहले राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए हुये चुनाव मे 1997 मे सीताराम केसरी के सामने पंवार व राजेश पायलट ने चुनाव लड़ा तब कुल 7463 मतो मे से केसरी को 6227 मत मिले थे। उसके बाद 22-साल पहले 2000 मे हुये चुनाव मे सोनिया गांधी के सामने जितेन्द्र कुमार ने चुनाव लड़ा तब 7542 मे से जितेन्द्र को मात्र 94 मत मिले थे। इस दफा 9000 के करीब डेलिगेट्स होगे।
               मुख्यमंत्री गहलोत के नेतृत्व मे चुनाव होने पर पार्टी की लीडरशिप सरकार रिपीट नही होना मान रही है। यही सर्वे रिपोर्ट मे दर्शाया गया है। ऐसी स्थिति मे सरकार नही आती देख अब ब्यूरोक्रेसी भी रंग बदलने लगी है।
               कुल मिलाकर यह है कि कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव कार्यक्रम घोषित हो चुका है। सोनिया गांधी का निर्देश मानकर गहलोत को अध्यक्ष का चुनाव लड़ना होगा। उस स्थिति मे अवल तो गहलोत दोनो पद पर रहना चाहेगे। यह नही चली तो वो पायलट को मुख्यमंत्री किसी हालत मे बनने नही देना चाहेंगे। अगर पायलट मुख्यमंत्री नही बन पाये तो उनका कदम क्या होगा यह देखना होगा।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह