सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जज्बात के नाम पर नहीं, विकास के लिए वोट दीजिए- प्रियंका गांधी

 

लखनऊ। कांग्रेस पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी ने आज सिद्धार्थ नगर में आयोजित जनसभाओं में भाजपा, सपा और बसपा पर जमकर निशाना साधा। इटवा और शोहरतगढ़ में आयोजित जनसभा में उन्होंने जाति- धर्म की राजनीति करने वालों को घेरते हुए कहा कि उनका मकसद विकास करना नहीं है। जनसभाओं के बाद उन्होंने फरेंदा, महराजगंज और बस्ती में डोर टू डोर जनसंपर्क किया और कांग्रेस उम्मीदवारों को वोट देकर उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनाने की अपील की।

कांग्रेस महासचिव ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि चुनाव के समय तमाम राजनीतिक दलों के नेता आकर आपके सामने भाषण देते हैं। सपा, बसपा और भाजपा के नेता जब चुनाव आता है, धर्म और राजनीति की बात करते हैं। उनकी राजनीति जाति और धर्म पर टिकी है। धर्म-जाति के नाम पर यह लोग चुनाव तो जीत जाते हैं, लेकिन आपके क्षेत्र में काम नहीं होता है। आपने कभी सोचा कि आपके क्षेत्र का विकास क्यों नहीं होता है ? यह सिलसिला चल निकला है कि चुनाव जीतने के बाद न तो कोई पाठशाला बनाता है, न सड़कें बनाता है, न बिजली आती है। आपके क्षेत्र में उद्योग धंधे नहीं हैं, महिलाओं पर अत्याचार के खिलाफ नहीं बोलता है, महिलाओं के सशक्तिकरण की बात नहीं करता है। यह सिलसिला शुरू हुआ, जब उत्तर प्रदेश में जातिवाद और धर्म के नाम पर राजनीति उभरी और आपने उसका समर्थन किया। तब से कई दशक बीत गए, सपा, बसपा, भाजपा सबने सरकार बनाई। जिसने जाति-धर्म की बात की आपने उसे वोट दिया। इस तरह से इन पार्टियों के नेताओं के मन में उनके दिमाग में कुछ धारणाएं स्थापित हो गईं कि जब चुनाव आएगा तो हमें धर्म और जाति के आधार पर वोट मिलना ही है। इसलिए उन्हें काम करने की क्या जरूरत है ? आपने इन नेताओं को निकम्मा बना दिया है। आपके जज्बातों को उभारकर वोट लेना इनकी आदत बन चुकी है।

उन्होंने कहा कि हमारे पूर्वजों ने आजादी के लड़ाई लड़ी, किसी ने उनका धर्म नहीं पूछा। किसान, गरीब, नौजवान और महिलाओं ने कंधे से कंधा मिलकर आजादी की लड़ाई लड़ी और अंग्रेजों को देश से निकाल दिया। पूर्वजों ने एक संविधान दिया। आपके पूर्वजों ने इसलिए आजादी नहीं दिलवाई थी कि आपके बच्चे बेरोजगार रहें, आपकी बहन-बेटियों पर अत्याचार हो। आजादी आपको इसलिए दिलवाई ताकि आप सशक्त बनें, आत्मनिर्भर बनें, आपके बच्चे अपने पैरों पर खड़े हों। पंडित नेहरू ने इस देश में बीएचईएल, एचएएल, आईआईटी, एनटीपीसी जैसे बड़े बड़े संस्थान बनवाए ताकि आपको रोजगार मिल सकें। उससे देश के नौजवान सक्षम हुए, अपने पैरों पर खड़े हुए। उस समय ऐसे नेता थे जो आपके विकास के लिए काम करते थे। लेकिन धीरे धीरे पूरी राजनीति धर्म और जाति पर टिक गई। उसका भयानक दुष्परिणाम सामने आया है।

कांग्रेस महासचिव ने कहा कि भाजपा सरकार की नीतियां लोगों की कमर तोड़ रही हैं। कहते थे कि कालाधन वापस आ जाएगा, राष्ट्रवाद के नाम पर बरगला रहे हैं। आपके हित का कोई काम तो किया नहीं, महंगाई के चलती आपकी जेब जरूर खाली हो गई है। रोजगार देने वाले तमाम व्यवसाय बंद होने की कगार पर हैं। महिलाओं को एक गैस सिलिंडर मुफ्त देकर सोचते हैं कि इनकी जिम्मेदारी ख़त्म। पांच साल से प्रदेश में 12 लाख सरकारी पद खाली पड़े हैं, क्योंकि उनको पता है कि कोई पूछने वाला नहीं है। तमाम नौजवान बेरोजगार हैं, पद खाली हैं, लेकिन रोजगार नहीं दिया। रोजगार देने वाली संस्थाओं को अपने अमीर उद्योगपति दोस्तों को बेच डाला। किसानों के लिए काले क़ानून लेकर आए। आज प्रदेश में किसान को उसकी उपज का उचित मूल्य नहीं मिल रहा, खाद नहीं मिल रही है, बिजली आ नहीं रही बस उसका बिल आ रहा है। किसान की कमाई ही नहीं हो पा रही है, वह रोजगार कैसे दिला पाएगा। नोटबंदी और जीएसटी ने छोटे दुकानदार और व्यवसायी की कमर तोड़ दी है।

भाजपा पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि इन्होंने न रोजगार दिया, न किसान को मजबूत किया, महिलाओं पर अत्याचार बढ़ते गए, इसके बावजूद मंच पर खड़े होकर कहते हैं कि हम ही जीतेंगे। सीए-एनआरसी आंदोलन में कोई दिखा नहीं, जब दलितों पर अत्याचार हुआ, तब कोई नहीं दिखा, हाथरस, उन्नाव, शाहजहांपुर में हुए अत्याचारों पर, कोई राजनीतिक दाल न्याय के लिए संघर्ष करता नहीं दिखा, वहां सिर्फ कांग्रेस दिखी। लखीमपुर खीरी में मोदी के मंत्री के बेटे ने किसानों को अपनी गाड़ी से कुचल दिया, एक पत्रकार को भी मार डाला गया, लोगों को बेरहमी से मार डाला गया, जब हम मिलने जा रहे थे, तब सैकड़ों पुलिस वाले तैनात कर दिए गए। लेकिन जब किसानों को गाड़ी से कुचला गया, क़त्ल हो रहे थे, तब वहां कोई पुलिस नहीं थी।

उन्होंने कहा कि न्याय के लिए जब कांग्रेस सड़क पर संघर्ष कर रही थी, तब सपा, बसपा के नेता घर से निकले ही नहीं, एक ट्वीट कर दिया और जिम्मेदारी ख़त्म। और भाजपा को छोड़ ही दीजिए, उस मंत्री का इस्तीफा तक नहीं माँगा। जब अत्याचार होता है, महंगाई बढ़ती है, बेरोजगारी बढ़ती तब धर्म-जाति की बात सामने आती है ? समस्याएं सबके यहां आती हैं, विकास सबके लिए होता है, तो यह राजनीतिक नेता मंचों से जाति धर्म की बात क्यों करते हैं। यह नेता पाकिस्तान, बुलडोजर, आतंकवाद और रूस-यूक्रेन की बात क्यों कर रहे हैं ? इससे क्या आपका पेट भर रहा है ? क्या रोजी रोटी मिल रही है ? आपकी तरक्की हो रही है ? नहीं। तरक्की सिर्फ इन नेताओं की हो रही है। यह समाजवादी दल और बसपा सब समझौते किए हुए हैं। भाजपा की सरकार बनने के बाद भी यह दल लोगों के मुद्दों पर खड़े नहीं होंगे। क्योंकि इनको डर है कि जांच हो जाएगी। इसलिए यह अपने घरों में दुबके रहते हैं।

कांग्रेस महासचिव ने कहा कि आपके लिए संघर्ष सिर्फ और सिर्फ कांग्रेस पार्टी ने किया है, कांग्रेस पार्टी ने आपको न्याय दिलाने के लिए आपका धर्म आपकी जाति नहीं पूछी। आपके खिलाफ अत्याचार हुआ, हिंसा हुई, पीड़ा हुई, दुःख हुआ, तो कांग्रेस के नेता आपके पास आए। क्योंकि वह समझते हैं कि आपके प्रति उनकी जिम्मेदारी क्या है। कांग्रेस पार्टी ने कभी नहीं चाहा कि लोग एक बोरे राशन पर निर्भर हों। भाजपा की सरकार ने एक बोरा राशन देकर अपनी जिम्मेदारी ख़त्म समझी। यह युवाओं को रोजगार नहीं दे रहे, महिलाओं के खिलाफ हो रहे अत्याचार पर लगाम नहीं लगा पा रहे। इनको पता है कि जब आप इनपर निर्भर नहीं होंगे, तो जाति-धर्म की बातें बंद हो जाएंगी। नेताओं का धर्म है सेवा करना। इसलिए जागिए,  यह लोग आपसे वोट ले लेते हैं, विकास नहीं करते हैं। जब तक इस प्रदेश के नौजवानों को रोजगार नहीं मिलेगा, इस प्रदेश का विकास नहीं हो सकता। इसीलिए कांग्रेस पार्टी ने एक खाका तैयार किया है, जिससे उत्तर प्रदेश विकसित होगा।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस का मकसद है विकास करना। कांग्रेस आपके जज्बातों का इस्तेमाल नहीं करती। आपके जज्बात होने चाहिए देश के लिए, देश के लिए मर मिटना, यही होता है राष्ट्रवाद। आपको लड़ाने में, अपना स्वार्थ साधने में कोई राष्ट्रवाद नहीं है। देशवासियों के जज्बात उभारकर वोट लेना राष्ट्रवाद नहीं है। इसलिए आँख मूंदकर नहीं बल्कि अपने भविष्य की के बारे में सोचते हुए वोट दो।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया

 आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया। विद्यालय में इस सत्र में आई.सी.एस.ई. (कक्षा 10) तथा आई.एस.सी. (कक्षा 12) में कुल सम्मिलित छात्र-छात्राओं की संख्या क्रमशः 153 और 103 रही। विद्यालय का परीक्षाफल शत -प्रतिशत रहा। इस वर्ष कोरोना काल में परीक्षा परिणाम विगत पिछले परीक्षाओं के आकलन के आधार पर निर्धारित किए गए है ।  आई.सी.एस.ई. 2021 परीक्षा में स्वयं गर्ग ने 98% अंक लाकर प्रथम,  ऋषिका अग्रवाल  ने 97.6% अंक लाकर द्वितीय तथा वृंदा अग्रवाल ने 97.4% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   आई .एस.सी. 2021 परीक्षा में आयुष शर्मा  ने 98.5% अंक लाकर प्रथम, कुशाग्र पांडे ने 98.25% अंक लाकर द्वितीय तथा आरुषि अग्रवाल ने 97.75% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   उल्लेखनीय है कि आई.एस.सी. 2021 परीक्षा में इस वर्ष विद्यालय में 21 छात्रों ने तथा आई.सी.एस.ई.की परीक्षा में 48 छात्रों ने 90 प्रतिशत से भी अधिक अंक लाएं।   आई.सी.एस. 2021 परीक्षा में प्रथम आये आयुष शर्मा के पिता श्री श्याम जी शर्मा एक व्यापारी हैं । वह भविष्य में

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह