सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

इंटीग्रल यूनिवर्सिटी, लखनऊ में आयोजित एएमपी की राष्ट्रीय कार्यकारी बैठक 2022 के में देश भर से 100+ से अधिक प्रतिनिधि शामिल हुए !

 



 

 

एसोसिएशन ऑफ मुस्लिम प्रोफेशनल्स (एएमपी), जो कंपनी अधिनियम 2013 की धारा 8 के तहत पंजीकृत एक गैर-लाभकारी संस्था है और भारतीयों के उत्थान के लिए विश्व स्तर पर काम कर रही है, इंटीग्रल यूनिवर्सिटी में अपनी राष्ट्रीय कार्यकारी बैठक (एनईएम) 2022 आयोजित की, जिसमें 100 से अधिक प्रतिनिधि और आमंत्रितों पूरे देश और विदेश में आये!
 
यह बैठक 2021 के दौरान संगठन की उपलब्धियों की समीक्षा करने और 2022 के लिए गतिविधियों और परियोजनाओं की योजना बनाने के लिए आयोजित की गई थी। इस सभा में एएमपी की राष्ट्रीय नेतृत्व टीम, स्टेट हेड, चैप्टर हेड और चुनिंदा आमंत्रित और अतिथि शामिल थे।
 
मुख्य अतिथि इंटीग्रल यूनिवर्सिटी के माननीय चांसलर प्रो. एस.डब्ल्यू. अख्तर थे। उन्होंने बताया कि जब एएमपी के स्थानीय सदस्य, श्री शोएब सैयद और श्री शहंशाह अंसारी हेड अमेरिका ने उनसे मुलाकात की और इस बैठक और एक स्थल की आवश्यकता के बारे में उल्लेख किया, तो वह तुरंत सहमत हो गए क्योंकि वह उनकी उपलब्धियों से प्रभावित हुए हैं। उन्होंने कहा, "हमारा समुदाय राष्ट्र में प्रगति की श्रृंखला की कमजोर कड़ी नहीं होना चाहिए। एएमपी को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे सभी जरूरतमंद युवा जो उच्च शिक्षा प्राप्त करने में सक्षम नहीं हैं, उन्हें कौशल प्रशिक्षण में मदद की जानी चाहिए ताकि वे अपने परिवार के लिए रोटी कमाने में सक्षम हों और इस तरह देश के विकास में योगदान दें।
 
मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली, अध्यक्ष, इस्लामिक सेंटर ऑफ इंडिया, ऐसबाग ईदगाह ने एएमपी को 14 साल की छोटी सी अवधि में इतना कुछ हासिल करने के लिए बधाई दी, जो बहुत प्रेरणादायक था। उन्होंने कहा, "रोबोटिक्स और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के इस युग में, हमारे समुदाय को पेशेवर बनने की जरूरत है, जिसके लिए हमें सीखने के केंद्र बनाने, अधिक उद्यमी बनाने और प्रगति और समृद्धि के लिए स्टार्टअप बनाने होंगे।"
 
श्री आमिर इदरिसी, अध्यक्ष-एएमपी, ने प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए कहा, “जब हमने 14 साल पहले शिक्षा और आर्थिक सशक्तिकरण के माध्यम से समुदाय और राष्ट्र की सेवा करने के आग्रह के साथ शुरुआत की थी, तब हमें कम ही पता था कि हम देश के 140 शहरों तक पहुंचेंगे।
 

अगले 10 वर्षों के लिए हमारा लक्ष्य, प्रत्येक जिले, शहर और तालुका तक पहुंचना है और इसके लिए, मैं एएमपी मेंबर्स को नौकरियों के समान प्राथमिकता पर एएमपी सदस्यों को काम करने का आग्रह करता हूं!
हम में से प्रत्येक को एएमपी परियोजनाओं और गतिविधियों को 30% समय देना चाहिए ताकि वे देश के प्रत्येक जरूरतमंद घर तक पहुंच सकें। "
 

राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक 2022 का उद्घाटन सत्र इंटीग्रल विश्वविद्यालय के केंद्रीय सभागार में आयोजित किया गया था। इसमें 100 से अधिक प्रतिनिधियों और आमंत्रितों ने भाग लिया। कार्यक्रम की शुरुआत मास्टर युसूफ इब्न महमूद द्वारा तिलावते कुरान के साथ हुई और एएमपी यूपी राज्य की प्रमुख सुश्री शाहीन इस्लाम ने सत्र की मेजबानी की।
 
सुश्री इस्लाम ने पहले दिन के मेहमानों का परिचय कराया और फिर श्री शोएब सैयद, एएमपी जोनल हेड, मध्य भारत को मंच पर गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत करने के लिए आमंत्रित किया। श्री सैयद, अपनी अनूठी काव्य शैली में दो मेहमानों के साथ-साथ श्री आमिर एड्रेसी का स्वागत करते हैं, जो उनके अनुसार अपनी टीम के सदस्यों को कभी भी आत्मसंतुष्ट नहीं होने देते और उन्हें उच्च उपलब्धियों के लिए प्रेरित करते हैं।
 
बैठक में राजस्थान टीम से चाँद मुहम्मद स्टेट हेड, डॉ इरफ़ान सैय्यद स्टेट सेक्रेटरी, फ़ैयाज अंसारी IZC स्टेट कोऑर्डिनेटर, इकरामुद्दीन रंगरेज स्टेट मेंबर, सैयद बालिग अहमद चैप्टर हेड सवाईमाधोपुर, सिराज अंसारी चैप्टर हेड कोटा, गफ्फार खान, शाहिद जैदी सवाईमाधोपुर से उपस्थित हुए !
मीटिंग में जयपुर, राजस्थान को बेस्ट इंडिया चैप्टर और जनाब चाँद मोहम्मद शैख़ स्टेट हेड को बेस्ट परफ़ॉर्मर इन इंडिया, उत्तर प्रदेश को बेस्ट स्टेट
 

पुरस्कार से नवाजा!
सभी विजेताओं और प्रतिभागियों के साथ एक सकारात्मक नोट पर समाप्त हुई, जिन्होंने समुदाय और समाज में एएमपी द्वारा किए गए अद्भुत काम को राष्ट्र के विकास में मदद करने का संकल्प लिया।
 
एएमपी के बारे में:
एसोसिएशन ऑफ मुस्लिम प्रोफेशनल्स (एएमपी) सभी मुस्लिम पेशेवरों और स्वयंसेवकों के लिए समाज के समग्र विकास के लिए अपने ज्ञान, बुद्धि, अनुभव और कौशल को साझा करने के लिए एक मंच है। एएमपी 14 साल से शिक्षा और आर्थिक अधिकारिता के क्षेत्र में काम कर रहा है। हमने जीवन के सभी क्षेत्रों के पेशेवरों को प्रेरित और बुलाया है और इस प्रक्रिया में समाज के वंचित वर्गों के कई हजार लोगों का उत्थान किया है।


 



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया

 आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया। विद्यालय में इस सत्र में आई.सी.एस.ई. (कक्षा 10) तथा आई.एस.सी. (कक्षा 12) में कुल सम्मिलित छात्र-छात्राओं की संख्या क्रमशः 153 और 103 रही। विद्यालय का परीक्षाफल शत -प्रतिशत रहा। इस वर्ष कोरोना काल में परीक्षा परिणाम विगत पिछले परीक्षाओं के आकलन के आधार पर निर्धारित किए गए है ।  आई.सी.एस.ई. 2021 परीक्षा में स्वयं गर्ग ने 98% अंक लाकर प्रथम,  ऋषिका अग्रवाल  ने 97.6% अंक लाकर द्वितीय तथा वृंदा अग्रवाल ने 97.4% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   आई .एस.सी. 2021 परीक्षा में आयुष शर्मा  ने 98.5% अंक लाकर प्रथम, कुशाग्र पांडे ने 98.25% अंक लाकर द्वितीय तथा आरुषि अग्रवाल ने 97.75% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   उल्लेखनीय है कि आई.एस.सी. 2021 परीक्षा में इस वर्ष विद्यालय में 21 छात्रों ने तथा आई.सी.एस.ई.की परीक्षा में 48 छात्रों ने 90 प्रतिशत से भी अधिक अंक लाएं।   आई.सी.एस. 2021 परीक्षा में प्रथम आये आयुष शर्मा के पिता श्री श्याम जी शर्मा एक व्यापारी हैं । वह भविष्य में

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह