सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मोदी सरकार को यूक्रेन में फंसे भारतीयों की फ़िक्र नहीं- पवन खेड़ा



 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी पर अखिल भारतीय कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता पवन खेड़ा ने प्रेसवार्ता कर योगी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि यूक्रेन में हजारों भारतीय फंसे हुए हैं, इनमें 1,173 लोग केवल उत्तर प्रदेश से हैं। भारतीय दूतावास ने कहा कि भारत के लोग पोलैंड के बॉर्डर पर जाएं, वहां से भारत आने की व्यवस्था की जा रही है। जब लोग पोलैंड के बॉर्डर पर पहुंचे, तो दूतावास में फोन उठना ही बंद हो गया। जिस सरकार को अपने बच्चों और नागरिकों की फ्रिक न हो, वह विश्व गुरु बनने का सपना देख रहा हो, यह कितना हास्यपद हो।

राष्ट्रीय प्रवक्ता ने कहा कि उन्होंने कहा कि सरकार के दावे झूठे और आंकड़े किताबी है। उन्होंने कहा कि क्या क्या भूल जाए उत्तर प्रदेश? क्या गोरखपुर में ऑक्सीजन सप्लाई बंद होने से सैकड़ों बच्चों की मौत भूल जाए? क्या माँ गंगा के आँचल को रामनामी मान कर अपने आप को ढाँपती हज़ारों लाशें भूल जाए? क्या प्रवासियों का हज़ारों किलोमीटर का वो पैदल सफ़र भूल जाए जो आपकी नासमझी की वजह से मजबूरन तय करना पड़ा? या काशी विश्वविद्यालय में यौन उत्पीड़न का विरोध करती बच्चियों पर बरसाई गई लाठियाँ भूल जाए। उन्होंने कहा कि बनारस की गलियों में भारत की ही नहीं, अपितु मानव सभ्यता की एक जीती- जागती विरासत आदि काल से हमें जीवन का एवं जीवन के बाद तक का रास्ता दिखाती आयी हैं। क्या हमारी विरासत के साथ हुए वीभत्स खिलवाड़ को भूल जाए।

उन्होंने कहा कि वाराणसी में जिन गलियों में 12 भैरव मंदिर हैं या जिन गलियों में 9 दुर्गा मंदिर स्थित हैं, उन गलियों का भी चौड़ीकरण कर हमारी आध्यात्मिक विरासत के साथ खिलवाड़ करने की योजना है? क्या इस भय को भूल जाए? किसानों के मुद्दे पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि 2022 आ गया है। क्या किसान की आय दोगुनी हुई? आय दुगुनी होना तो भूल जाइए, लागत ज़रूर चौगुना हो गई है। छुट्टा सांड की समस्या इतनी गम्भीर है कि आप कितना भी प्रयास कर लीजिए, किसान नहीं भूल पाएगा कि कैसे रात रात भर जाग कर अपने खेतों की रक्षा करनी पड़ती है। किसानों को आपने खाद की लाइनों में लगवा दिया। आपने वाक़ई किसान को आत्मनिर्भर बना दिया है। क्या उत्तर प्रदेश यह सब भूल जाए ?

प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े करते हुए राष्ट्रीय प्रवक्ता ने कहा कि उत्तर प्रदेश के लोग कानपुर के व्यापारी की गोरखपुर में हुई वो हत्या भूल जाएं, जो पुलिस के हाथों की गई? क्या यह भी भूल जाएं कि आपने ना केवल फसलें तबाह कर दीं; आपने हमारी नौजवान नस्लें भी तबाह करने में कोई कसर नहीं छोड़ी? बेरोजगारी को लेकर उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में कितनी सरकारी भर्तियां हुईं, इसका जवाब सरकार से नहीं देते बनता। पूर्वांचल में कोई एक उद्योग सरकार ने खोला हो तो बताओ ? ऐसा कोई उद्योग, जिससे पूर्वांचल के एक हज़ार नौजवानों को नौकरी मिली हो?

उन्होंने कहा कि नौजवानों के मस्तिष्क में जो नफ़रत बोई जा रही है, क्या आने वाली पीढ़ियाँ आपको माफ़ कर पाएँगी? आप वर्तमान की भयावह स्थिति से लोगों का ध्यान हटाने के लिए कभी भूतकाल का सहारा लेकर नफ़रत फैलाते हैं, आपसी रंजिश फैलाते हैं, तो कभी भविष्य के लुभावने सपने दिखा दिखा कर रिझाते हैं, मूर्ख बनाते हैं। भाजपा पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि काठ की हांडी है। कितनी बार चढ़ाओगे ? क्या पेट्रोल व डीज़ल के दाम भूल जाए? क्या हमें नहीं मालूम आप चुनाव ख़त्म होते ही पेट्रोल  और डीज़ल के दाम बढ़ाने वाले हो। कल ही प्रधान मंत्री ने इशारा कर दिया। यहीं उत्तर प्रदेश में कह दिया कि क्या हमारे पास तेल के कुएँ हैं, जो तेल सस्ता हो जाए? उन्होंने कहा कि कल रात को सोशल मीडिया में यूक्रेन में फँसी लखनऊ की एक बच्ची का वीडियो देख कर मन में बहुत पीड़ा हुई। अकेले उत्तर प्रदेश के सैंकड़ों लोग वहाँ फँसे हुए हैं। क्या तब हम भूल जाएँगे? भूलना चाहें भी तब भी नहीं भूल पाएँगे।

प्रेसवार्ता में उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया एंड कम्युनिकेशन विभाग के वाइस चेयरमैन पंकज श्रीवास्तव, प्रिंट मीडिया संयोजक अशोक सिंह, डिजिटल मीडिया संयोजक अंशू अवस्थी, प्रदेश प्रवक्ता कृष्णकांत पाण्डेय, आसिफ रिजवी रिंकू, प्रियंका गुप्ता, संजय सिंह, सचिन रावत, प्रदीप सिंह, रफत फातिमा समेत कांग्रेस के पदाधिकारी मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया

 आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया। विद्यालय में इस सत्र में आई.सी.एस.ई. (कक्षा 10) तथा आई.एस.सी. (कक्षा 12) में कुल सम्मिलित छात्र-छात्राओं की संख्या क्रमशः 153 और 103 रही। विद्यालय का परीक्षाफल शत -प्रतिशत रहा। इस वर्ष कोरोना काल में परीक्षा परिणाम विगत पिछले परीक्षाओं के आकलन के आधार पर निर्धारित किए गए है ।  आई.सी.एस.ई. 2021 परीक्षा में स्वयं गर्ग ने 98% अंक लाकर प्रथम,  ऋषिका अग्रवाल  ने 97.6% अंक लाकर द्वितीय तथा वृंदा अग्रवाल ने 97.4% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   आई .एस.सी. 2021 परीक्षा में आयुष शर्मा  ने 98.5% अंक लाकर प्रथम, कुशाग्र पांडे ने 98.25% अंक लाकर द्वितीय तथा आरुषि अग्रवाल ने 97.75% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   उल्लेखनीय है कि आई.एस.सी. 2021 परीक्षा में इस वर्ष विद्यालय में 21 छात्रों ने तथा आई.सी.एस.ई.की परीक्षा में 48 छात्रों ने 90 प्रतिशत से भी अधिक अंक लाएं।   आई.सी.एस. 2021 परीक्षा में प्रथम आये आयुष शर्मा के पिता श्री श्याम जी शर्मा एक व्यापारी हैं । वह भविष्य में

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह