सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राजस्थान के मुस्लिम अधिकारियों को अपने पूत्र-पूत्रियो को अपने से बडे ओहदे पर भेजने के लिये कड़ी मेहनत करनी होगी।


आर्मी मे रिलेशनशिप का फायदा मिलता है, पर सिविल सेवा मे आने के लिये तो इक्कीस वरीयता पानी होती है।

                ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

                राजस्थान के प्रशासनिक-पुलिस व न्यायीक सेवा के मुस्लिम अधिकारियों मे से कुछ अधिकारियों के पूत्र व पूत्रियो ने अपने वालदेन की राह पर चलते हुये विभिन्न सेवा के अधिकारी बनकर वालेदन का सर ऊंचा किया है। वही कुछ अधिकारियों के पूत्र तो अपने वालदेन से भी ऊंची सेवा मे अपना मुकाम बनाया है। फिर भी नजर दौड़ाये तो पाते है कि काफी अधिकारी ऐसे है, जिनके एक भी बच्चा वालदेन की राह नही पकड़ पाया है। वो वालदेन का कमाया धन व साख पर पल रहे है। कुछ अधिकारियों के बच्चे मेडिकल की राह भी पकड़ी है। लेकिन आईआईटी-आईआईएम से एमबीए करके मल्टीनेशनल कम्पनियों मे अहम ओहदा पाने मे बहुत कम पूत्र-पूत्री सफल हुये। है। वकालत की लाईन जरूर अधिकारियों के काफी बच्चों ने पकड़ी बताते है।
                 राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारी रहे अबरार अहमद के पूत्र जफर मलिक भारतीय प्रशासनिक सेवा मे डायरेक्ट चयनित हुये है। वही तरक्की पाकर भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी बनने वालो मे अशफाक हुसैन की पूत्री फरहा हुसेन आईआरएस व शफी मोहम्मद कुरेशी के पूत्र अबूब्क्र आरएएस, तरक्की पाकर आईजी बने लियाकत अली खान के पूत्र शाहीन अली आरएएस बने है। जस्टिस भंवरु खा के पूत्र इकबाल खान तरक्की पाकर आईएएस व जस्टिस यामीन अली की पुत्री नुसरत बानो व जस्टिस मोहम्मद असगर अली चोधरी के पूत्र मुजफ्फर चौधरी न्यायिक सेवा के अधिकारी बने है। आईपीएस हबीब खान की पूत्री रेशमा खान व जैलसेवा के अधिकारी रहे एम ए अंसारी की पूत्री रुबीना अंसारी न्यायिक सेवा की अधिकारी बनी है।
                   हालांकि यह सत्य है कि हर अधिकारी हर मुमकिन चाहते है कि उनके पूत्र व पूत्री उनके बराबर या फिर उनके उपर के ओहदे वाले अधिकारी बने। लेकिन बहुत कम अधिकारी खूस नसीब होते है। जिनके बच्चों मे से कोई एक बच्चा उनकी तरह अधिकारी बन जाये। कुछ अधिकारियों के नसीब से दामाद या पूत्रवधु अधिकारी बन या मिल जाते भी है। कुछ अधिकारियों के पूत्र पूत्री चाहे अधिकारी नही बने लेकिन वो मेडिकल-इंजीनियरिंग जैसी अच्छी लाईन पकड़ लेते है। या फिर व्यापार करने लगते है। आईपीएस हैदर अली जैदी की एक पूत्री व पूत्र का बतौर चिकित्सक अच्छा नाम है। तो दुसरी पूत्री अच्छे संस्थान से वकालत की डीग्री पाई है। सेवानिवृत्त आरएएस अधिकारी शमशुद्दीन खान का पूत्र नामी संस्थान से फाईनेंस मे एमबीए की डीग्री पाकर मल्टीनेशनल कम्पनी मे बडे ओहदे पर है। जस्टिस मोहम्मद रफीक खान के पूत्र व पूत्री भारत के नामी अच्छे संस्थान से वकालत की डीग्री पाई है। आईजी कुवंर सरवर खान का पूत्र कालेज प्रोफेसर है।
                 कुल मिलाकर यह है कि अधिकारियों के बच्चों के अतिरिक्त साधारण व गरीब घर के बच्चे भी अधिकारी बन रहे है। जिनकी पारिवारिक पृष्ठभूमि चाहे अधिकारियों की ना रही हो। फिर भी उन्होंने कड़ी मेहनत व आत्मविश्वास के बल पर अधिकारियों की सूची मे अपना नाम दर्ज करवाया है। अधिकारियों को अपने पूत्र पूत्रियो के साथ साथ कम से कम अपने नजदीकी रिस्तेदारों तक तो इस तरफ ध्यान रखना होगा। ताकि अधिकारी बडी तादाद मे बन पाये। ओर नही तो सेवानिवृत्त होने के बाद कुछ इधर भी समाजहित मे समय लगाने पर विचार करना चाहिए।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह