सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सीकर की कांग्रेस राजनीति मे अचानक नया भूचाल-प्रभारी मंत्री शंकूतला रावत व प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा के सामने कार्यकर्ताओं का दर्द झलका।


     इससे पहले तत्तकालीन प्रभारी मंत्री रघु शर्मा पर विधायक वीरेंद्र सिंह द्वारा कोराना काल को लेकर गम्भीर सवाल खड़े करने पर उनको हटाकर सुभाष गर्ग की प्रभारी मंत्री बनाया था।
         ।अशफाक कायमखानी।
सीकर

                  राजस्थान के शेखावाटी जनपद के सीकर जिले के नेताओं का वर्तमान समय को छोड़कर अधीकांश समय केंद्र व राज्य की राजनीति मे काफी प्रभाव रहता आया है। भैरोंसिंह शेखावत  के तीन दफा मुख्यमंत्री बनने के अलावा उपराष्ट्रपति पद पर रहने के अलावा बहु प्रतिभा पाटील के राष्ट्रपति एवं यहां से सांसद रहे बलराम जाखड़ के लोकसभा अध्यक्ष व मंत्री रहने  एवं चौधरी देवीलाल के उपप्रधानमंत्री पद पर रहने का एक इतिहास रहा है। सुभाष महरिया व महादेव सिंह के केन्द्र मे मंत्री रहने के अतिरिक्त राज्य सरकार मे अधीकांश समय सभी सरकारों मे जिले का कोई ना कोई विधायक मंत्री बनता रहा है। लेकिन वर्तमान समय मे जिले के सभी आठो विधायकों के कांग्रेस सरकार के साथ रहने के बावजूद मंत्री मंडल मे प्रतिनिधित्व नही मिलने से जिले के कार्यकर्ताओं मे काफी आक्रोश पनपता साफ नजर आ रहा है।
         गणतंत्र दिवस के जिला स्तरीय कार्यक्रम के पश्चात सर्किट हाऊस मे प्रभारी मंत्री शंकूतला रावत ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुभाष महरिया को बूलाकर जिले की राजनीति व आगामी चुनावों के सम्बंधित फिडबैक लेने पर महरिया द्वारा पीसीसी चीफ डोटासरा की मौजूदगी मे विधायकों के व्यवहार व वर्तमान हालात पर तल्ख लहजे मे टिप्पणी करने से जो भविष्य का खाका खींचा तो सभी सन्न रह गये। महरिया ने सभी विधायकों के चुनाव मे जी जान लगाकर उनकी जीत मे सहयोग करने के बाद उनके प्रति विधायकों के व्यवहार व सरकार की अनदेखी को विस्तृत रुप से रखने को प्रभारी मंत्री ने गम्भीरता से लेते हुये  बात को आगे तक पहुंचाने का कहा बताते।


              प्रभारी मंत्री रावत के दिनभर के दौरे मे लक्ष्मनगढ विधायक डोटासरा पूरे समय उनके साथ रहकर ही शामको उनको जयपुर के लिये रवाना किया। लेकिन जाने से पहले शामको जयपुर-बीकानेर हाईवे के बढाढर स्थित महरिया फार्म हाऊस पर प्रभारी मंत्री शंकूतला रावत ने डोटासरा के साथ किसानों से जैविक खेती के महत्व व उसको बढावा देने सहित किसानो के सम्बंधित कार्यो पर एक सेमिनार करके किसानों के सुझाव सून कर उन्हें मुख्यमंत्री तक पहुंचा कर कृषि बजट मे शामिल करने की कोशिश का भरोसा दिलाया।
     उक्त सेमिनार मे किसानों ने खेती व सहकारिता के सम्बंधित अनेक सुझाव दिये। सेमिनार मे प्रभारी मंत्री रावत व प्रदेश अध्यक्ष डोटासरा द्वारा वयोवृद्ध किसान नेता भंवरसिंह कूड़ली को शाल ओढाकर सम्मानित करने के बाद भंवरसिंह ने साफ लफ्जों मे जब महरिया को बर्फ मे लगाने का आरोप लगाने के साथ उनकी राजनीतिक मजबूत पकड़ को बताते हुये विधायकों के बारे मे भी कुछ सवाल खड़े करने की चर्चा बडे स्तर पर होनै के अलावा उनका वीडियो बडे स्तर पर वायरल होने से जिले की राजनीति मे एक तरह से भूचाल सा आ गया है। प्रभारी मंत्री के सामने किसान नेता द्वारा अपनी तकलीफ रखते समय प्रदेश अध्यक्ष डोटासरा ने जल्द किनारा करके साईड ले ली। पर किसान नेता ने मंत्री रावत को उनकी बात सूनने पर मजबूर किये रखा। मंत्री रावत ने समझदारी व राजनीतिक सूझबूझ दिखाते हुये किसानों की पूरी बात सूनते हुये अपनी तरफ से कोई खास रद्दोअमल नही दिखाया। प्रदेशाध्यक्ष गोविंद डोटासरा ने किसानों के सुझाव व उनके दर्द को मुख्यमंत्री तक पहुंचा कर उनके हल करने का भरोसा दिलाया।
     हाल ही मे शंकूतला रावत के प्रभारी मंत्री बनने के पहले कुछ समय के लिये सुभाष गर्ग व लम्बे समय तत्तकालीन चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा भी सीकर के प्रभारी मंत्री रहे थे। कोराना काल को लेकर तत्तकालीन समय मे प्रभारी मंत्री रघु शर्मा पर दांतारामगढ़ विधायक वीरेंद्र सिंह ने सीकर नही आने व जिले के प्रति उपेक्षा बरतने को लेकर सार्वजनिक तौर पर गम्भीर आरोप लगाये थे। जिसकी मीडिया व सार्वजनिक तौर पर काफी चर्चा होने पर मुख्यमंत्री ने रघु शर्मा को बदलकर सुभाष गर्ग को प्रभारी मंत्री बनाया था।
               आयोजित सेमिनार मे सेंकड़ो किसानों के साथ प्रभारी मंत्री रावत, प्रदेशाध्यक्ष गोविंद डोटासरा, पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुभाष महरिया, सीकर सभापति जीवण खा, पूर्व विधायक नंद किशोर महरिया, कांग्रेस जिलाध्यक्ष सुनीता गठाला, महामंत्री शब्बीर कमाल, सहित सरपंच, कांग्रेस वर्कर व सामाजिक कारकून भी उपस्थित थे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह