सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गहलोत सरकार अल्पसंख्यक बालिकाओं के शैक्षणिक उत्थान के लिये राज्य भर मे जवाहर नवोदय विधालय के तर्ज पर आवासीय विधालय खोलना शूरु किया।



      अल्पसंख्यक विभाग के निदेशक जमील अहमद व अतिरिक्त निदेशक महमूद खान की कड़ी मेहनत व सकारात्मक अप्रोच से कार्य आगे बढने लगे।
                   ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

                राजस्थान सरकार की तरफ से अल्पसंख्यक समुदाय मे शैक्षणिक माहोल बनाकर उनको तरक्की की राह पर सरपट दौड़ाने की मंशा से 2012-13 मे तत्तकालीन अशोक गहलोत ने शहरो मे शिक्षा के लिये आने वाले बच्चों को आवास सुविधा निशुल्क उपलब्ध कराने की शूरुआत करने के सकारात्मक परिणाम आने के बाद अब सरकार ने आवासीय बालिका विधालय शुरु करने की तरफ कदम आगे बढाये है। पहली दफा प्रदेश मे तीन आवासीय विधालयो के निर्माण करने के लिये बजट आवंटित करके की जानकारी मुख्यमंत्री गहलोत स्वयं ने अपने ट्विटर सहिंत सोशल मीडिया के अन्य जरायो के मार्फत दी है। दक्षिणी भारत मे शिक्षा का हब कहलाने वाले सीकर शहर सहित राज्य मे कुछ जगह अल्पसंख्यक बालिका आवासीय विधालय की शुरुआत चालू शिक्षा सत्र से किराये के भवन मे हो चुकी है।
        राज्य सरकार ने अपने बजट मे जवाहर नवोदय विधालय की तर्ज पर प्रदेश मे अल्पसंख्यक के लिये तीन बालक व पांच बालिका आवासीय विधालय खोलने की घोषणा करके इसी शिक्षा सत्र से शुरू करने की घोषणा की थी। जैसलमेर के भणियाणा, अलवर के रामगढ़, बाडमेर से चोहटन, भरतपुर के पहाड़ी, अजमेर के मसूदा, उदयपुर, व सीकर मे खुलने है। जिनमे से सीकर सहित कुछ जगह पर विधालय संचालित हो चुके है।
             राज्य सरकार की तरफ से अल्पसंख्यक समुदाय मे शेक्षणिक माहोल मे तेजी लाने की मंशा को लेकर राजधानी जयपुर सहित अन्य शहरो मे उच्च शिक्षा के लिये आने वाले अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं को निशुल्क आवास उपलब्ध करवाने के लिये सरकार की तरफ से सबसे पहले 2012-13 मे राज्य मे पांच हास्टल शुरू करके उनमे निशुल्क आवास व भोजन का इंतेजाम किया। जिनसे 180 बच्चों को लाभ मिला। फिर 2013-14 मे पच्चीस हास्टल शुरू किये जिनसे 1121 बच्चों को लाभ मिला। अनेक जगह सामाजिक संस्थाओं द्वारा संचालित उक्त हास्टल मे सुविधा मे कुछ कटोती होने के चलते 2014-15 मे घटकर 14 हास्टल ही रहने से मात्र 673 बच्चों को ही लाभ मिल पाया। पर अगले साल सरकार की कोशिश व समुदाय मे आई जागृति के कारण 2015-16 मे 35 हास्टल शुरू हो गये जिससे 1418 बच्चों को फायदा पहुंचा। इनमे से मात्र एक सरकारी स्तर पर व बाकी 34 हास्टल विभिन्न सामाजिक संस्थाओं द्वारा संचालित किये गये। फिर 2016-17 मे 57 हास्टल संचालित किये गये जिनसे 2401 बच्चों को फायदा पहुंचा। इनमे मात्र दो सरकारी स्तर पर बाकी 55 सरकारी मदद से विभिन्न सामाजिक संस्थाओं द्वारा संचालित किये गये।
       मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश में 200 बैड के तीन अल्पसंख्यक बालिका आवासीय विद्यालयों के निर्माण की स्वीकृति इसी हफ्ते दी है। जिसके तहत प्रत्येक आवासीय विद्यालय के निर्माण के लिए 15 करोड़ 10 लाख रूपये का अतिरिक्त बजट प्रावधान करने की भी मंजूरी दी है।
               राजस्थान मे अल्पसंख्यक बालिका शिक्षा मे अग्रणी माने जाने वाले शेखावाटी जनपद के दिल कहलाने वाले सीकर जिले के जिला मुख्यालय सहित मारवाड़ के बाड़मेर जिले की सेड़वा तहसील के गांव बुरहान का तला तथा भरतपुर जिले की अल्पसंख्यक बहुल तहसील पहाड़ी में अल्पसंख्यक बालिका आवासीय विद्यालय के निर्माण तथा इसके लिए कुल 45 करोड़ 30 लाख रूपये का अतिरिक्त प्रावधान करने की स्वीकृति दी है। इस निर्णय से इन क्षेत्रों में अल्पसंख्यक बालिकाओं को शिक्षा ग्रहण करने के बेहतर अवसर मिल सकेंगे।
                नमूने के तौर पर सरकार द्वारा जयपुर के मानसरोवर स्थित बेहतरीन सुविधाओं सहित आधुनिक सुविधाओं युक्त बने सरकारी भवन मे संचालित अल्पसंख्यक बालिका छात्रावास को लिया जा सकता है। जहां पर अल्पसंख्यक समुदाय की सभी वर्ग की बालिकाऐ रहकर विभिन्न शेक्षणिक संस्थानों से उच्च शिक्षा पाकर समाज का गौरव बढा चुकी है एवं बढा रही है। उक्त जयपुर स्थित बालिका छात्रावास मे रहकर हाल ही मे चिकित्सक बन चुकी छात्रा जुलफैन खान ने बताया कि घर जैसा माहोल छात्रावास मे मिलने से वहा रहकर बालिकाएं  शेक्षणिक क्षेत्र मे काफी आगे बढ सकती है। इसी तरह उसी छात्रावास मे रहकर चार साल पहले चिकित्सक बनी परवीन कायमखानी बताती है कि सरकार के इस कदम से बालिकाओं को उच्च शिक्षा के लिये जयपुर भेजने का चलन समुदाय मे बढने लगा है। हास्टल मे रहने से बच्चियों की सुरक्षा की चिंता से पेरेंट्स को छूटकारा मिल जाता है। उक्त हास्टल मे सरकारी स्तर पर निशुल्क आवास व भोजन की सुविधा मिलने के अलावा सरकारी स्तर पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम होने से सरकार के प्रति समुदाय का विश्वास जमा है।


 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका