सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

यूपी के लखीमपुर खीरी मे किसानों को रोंदने के बाद कांग्रेस राजनीति मे आये उछाल का असर राजस्थान मे भी नजर आने लगा।


                      ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

                   राजस्थान मे कांग्रेस की सरकार बनने पर सत्ता मे भागीदारी मात्र कांग्रेस विधायकों तक सीमित करके आम कार्यकर्ताओं को सत्ता की भागीदारी से दूर रखकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं का केडर उदासीन करके अगले चुनाव मे कांग्रेस को बूरी तरह हार का मजा चखाने के माहिर माने जाने वाले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को राहुल गांधी द्वारा छ अक्टूबर को लखीमपुर मे भाजपा नेता के बेटे द्वारा लखीमपुर मे किसानों को गाडियों से रोंदकर मार देने के मामले मे मृतकों के परिजनों से मिलने जाने के समय आमंत्रित तक नही करने से राजस्थान की राजनीति मे अलग तरह की अफवाह उडने लगी है। जबकि इस दौरे मे राहुल गांधी कांग्रेस के तीन मे से दो छत्तीसगढ़ व पंजाब के दोनो मुख्यमंत्री  बघेल व चन्नी को दिल्ली बूलाकर अपने साथ यूपी लेकर गये।वही राजस्थान से उन्होंने गहलोत की बजाय पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट को टोंक दौरे को बीच छोड़कर दिल्ली बूलाकर पायलट व प्रियंका गांधी के विश्वास पात्र नेता संत प्रमोद कृष्णम को सड़क मार्ग से लखीमपुर के लिये रवाना करना।
                     हालांकि अशोक गहलोत के मुख्यमंत्री रहते पहले हुये दो आम विधानसभा चुनावों मे कांग्रेस पार्टी भाजपा के मुकाबले बूरी तरह हारने के उदाहरण मौजूद होने के बावजूद पीछले हफ्ते अपने सरकारी निवास पर आयोजित एक कार्यक्रम मे मुख्यमंत्री गहलोत ने अपने कार्यकाल के पांच साल पुरा करने एवं फिर से सरकार बनाने का दावा 1998-2003, व 2008-2013 के अपने बीते दो कार्यकालो के समय की तरह किया। गहलोत ने कुदरत को चैलेंज करते हुये यहां तक कह डाला की वो पंद्रह-बीस कही नही जाने वाले है। यही रहकर राजनीति करेगे।
                  लखीमपुर मे केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री टेनी के पूत्र पर लखीमपुर मे किसानों को गाड़ी चढाकर रोंद कर मौत के घाट उतारने के आरोप के बाद कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी के मृतकों के परिवार व घायलो के मिलने जाने को लेकर यूपी प्रशासन ने पहले उन्हें रोकने की कोशिश के बावजूद किसी तरह उनके आगे बढने के बाद सीतापुर मे उन्हें गिरफ्तार करके अस्थायी जैल मे रखने को लेकर कांग्रेस ने यूपी सहित भारत भर मे जगह जगह भारी विरोध प्रदर्शन किया। लेकिन राजस्थान मे कांग्रेस सरकार होने के बावजूद कोई खास प्रदर्शन ना होकर प्रदेश कांग्रेस दफ्तर मे चंद लोगो की मोजूदगी मे व जिला स्तर पर दिखावे के तौर पर प्रदर्शन ही हुये।
                  कुल मिलाकर यह है कि लखीमपुर मे किसानों को गाडी से कुचलकर मारने के केन्द्रीय गृहमंत्री राज्यमंत्री टेनी के बेटे पर आरोप लगने के बाद कांग्रेस पार्टी ने आक्रामक रुख अपना लिया है। लेकिन आक्रामक रुख अपनाने के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी व प्रियंका गांधी द्वारा कांग्रेस के कुल तीन मुख्यमंत्रियों मे से छत्तीसगढ़ व पंजाब के मुख्यमंत्री बघेल भूपेश व चन्नी चरणजीत को साथ साथ रखकर व राजस्थान से मुख्यमंत्री गहलोत की बजाय पूर्व उपमुख्यमंत्री पायलट को साथ रखकर आंदोलित होने से राजस्थान के मुख्यमंत्री गहलोत के स्थायित्व को लेकर शंकाओं का बाजार गर्म है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका