सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मुस्लिम मतदाता आवश्यकता अविष्कार की जननी के तहत तीसरे विकल्प ओवैसी को तलासने लगा है।



                 ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

                 राजस्थान मे पहले स्वतंत्र पार्टी व लोकदल, फिर जनता पार्टी के बाद जनता दल एवं उसके बाद भाजपा नेता भैरोंसिंह शेखावत व कांग्रेस की आपसी रणनीति के तहत प्रदेश मे राजनीतिक तौर पर तीसरे विकल्प के खत्म होने से लगभग 1993 के बाद मुस्लिम समुदाय के पास मात्र कांग्रेस व भाजपा ही विकल्प बचे रहने से मुस्लिम समुदाय की राजनीतिक तौर पर अनदेखी प्रदेश मे तेजी के साथ होने लगी है। प्रैसर पोलटिक्स का वेक्यूम होने के चलते होती उस अनदेखी के वास्तविक जिम्मेदार मुस्लिम समुदाय स्वयं व कांग्रेस पार्टी के नेता दोनो सामुहिक तौर पर जिम्मेदार माने जा सकते है।
                      हालांकि कांग्रेस नेताओं द्वारा ऊपरी तौर केवल मात्र मुस्लिम हितैषी के दिखावे का वातावरण बनाने की चेष्टा के चलते भाजपा कांग्रेस को मुस्लिम पार्टी व भाजपा को हिन्दुत्व हितैषी दल के तौर पर आम मतदाता के जैहन मे बैठाने मे काफी हद तक कामयाब हो रही है। वही खासतौर पर मुख्यमंत्री गहलोत भी मुस्लिम मे भाजपा का खोफ गहराई तक बैठाने के लिये चुनाव घोषणा पत्र मे मुस्लिम हितैषी केवल वादे व सरकारी स्तर पर केवल दिखावे के तौर पर घोषणाएं करने से चुके नही रहे है। गहलोत की उक्त रणनीति का अधीकांश मुस्लिम समुदाय शिकार होकर उन्होंने केवल भाजपा को हराने व उसके खिलाफ जहर उगलने का काम किया जिससे भाजपा कमजोर होने के बजाय उसे मजबूरती मिलती गई। इससे मुस्लिम मतदाता मैन स्टीम राजनीति से अलग थलग होते हुये वो बीन बूलाऐ मेहमान की तरह केवल कांग्रेस का वोटबैंक बनकर ही रहते नजर आने लगा।
                मुख्यमंत्री गहलोत को अच्छा प्रशासक कहा जा सकता है। लेकिन 1998 मे पहली दफा उनके मुख्यमंत्री बनने के बाद से उन्होंने विधानसभा क्षेत्रो का एक मात्र मालिक कांग्रेस विधायक व कांग्रेस उम्मीदवारों को बनाये रखने की परिपाटी डाली उससे कांग्रेस की रीढ कांग्रेस कार्यकर्ता खत्म होते गये ओर विधायकों के स्वयं के चापलूसों की एक सैना तैयार होती गई। इसी तरह उन्होंने प्रदेश की मुस्लिम लीडरशिप को मिटाकर लीडरशिप के तौर पर केवल चेहरे खड़े किये जिनकी समुदाय मे पकड़ रत्ती भर भी नही। उनमे से अधीकांश नेता व विधायक मुख्यमंत्री के खिलाफ समुदाय मे बढ रहे आक्रोश पर पानी डालने की बजाय उसमे घी डालने का अधिक काम करते आ रहे है। वर्तमान समय मे मदरसा पैराटीचर्स की मांगो को लेकर चल रहे आंदोलन सहित विभिन्न मुद्दों को लेकर देखा गया है कि कांग्रेस की अधीकांश मुस्लिम लीडरशिप एक दुसरे के चोट मारने मे लगी है। जबकि वो लीडरशिप मिलकर हकीकत मुख्यमंत्री के पास ठीक से प्रेजेंट करे तो आंदोलकारियों व सरकार के बीच का रास्ता निकाल कर हल आसानी से निकला जा सकता है।
               वैसे भी मुस्लिम समुदाय की सरकार से विकास ने नाम पर कोई मांग नही होती है। वो अपने क्षेत्रो मे अतिक्रमण कर करके स्वयं सिकुड़ रहे है। सरकारी सेवाओं मे उनका प्रतिशत घटता जा रहा है। उनमे तबादले करने की बडी समस्या नही। दो चार अधिकारियों को फिल्ड पोस्टिंग दे दो समुदाय खुश। उर्दू व उर्दू टीचर्स के अलावा पैराटीचर्स की मामूली सी मांगो का निपटारा आसानी से हो सकता है। मेडिकल मे विभिन्न तरह की भर्तियों के साथ कुछ यूनानी चिकित्सकों की एवं उर्दू टीचरों की भर्ती भी करदो तो समुदाय खुश। बोर्ड-निगम का गठन अन्य बोर्ड-निगम के गठन के साथ हो ही जायेगा।
                    वर्तमान सरकार के समय पहले नवाब दुर्रू मियां के जयपुर स्थित निजी निवास लूहारु हाऊस व फिर पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के जयपुर स्थित सरकारी आवास पर पूर्व प्रायोजित प्रदेश भर से कुछ चयनित मुस्लिम लोगो की हुई मिटिंग मे समुदाय से जुड़ी मांगो पर मंथन होने के बाद उनसे मुख्यमंत्री का ना मिलने से समुदाय मे अच्छा संदेश नही गया। 16-महिनो से लिये बने वक्फ बोर्ड चेयरमैन से उम्मीद थी की वो कुछ अच्छा करेगे। लेकिन वो स्वयं विवादो मे फंसकर रह गये। राजस्थान लोकसेवा आयोग व राजस्थान राजस्व बोर्ड मे सदस्य व हाईकोर्ट मे अतिरिक्त महाधिवक्ता नामित नही होने, अधिकारियों का फिल्ड पोस्टिंग से दूर रहने कुछ अन्य कारण भी समुदाय मे वर्तमान सरकार के प्रति आक्रोश पनपा रहा है।
                कुल मिलाकर यह है कि मुख्यमंत्री गहलोत को भाजपा के मुकाबले कांग्रेस को वोट करना मुस्लिम समुदाय की मजबूरी ना मानकर उनको मैन स्टीम का मतदाता मानकर उनके साथ अलग से नही पर अन्य मतदाताओं की तरह व्यवहार करना होगा। उनके मनो की वास्तविक स्थिति जानने के लिये अपने वास्तविक सोर्स का उपयोग करना होगा। कांग्रेस नेता व वर्करस को उनके मध्य भेजना होगा। विभिन्न सामाजिक व धर्मनिरपेक्ष लोगो से बात करके उनके मनो मे पैदा हो चुके अविश्वास को खत्म करना चाहिए। मुस्लिम मतदाता चाहे वर्तमान समय मे हो हल्ला करके भाजपा को नही हरा पाये लेकिन उनके उदासीन होने या किसी तीसरे विकल्प की तरफ किसी भी प्रतिशत मे उनके खिसकने से कांग्रेस का जहाज के  डूबने की आशंका जरूर बनती है।वर्तमान समय मे मदरसा पैराटीचर्स के चल रहे आंदोलन को निपटाने सहित अन्य मांगो पर विचार करके समुदाय के आक्रोश को आसानी से राजस्थान सरकार निपटा सकती है। समुदाय के सम्बंधित अधीकांश मांगो का सरकारी चाहे तो आसानी से निपटारा कर सकती है। वही सरकार के नजदीकी वर्कर व नेताओं द्वारा सरकार द्वारा उठाये अच्छे कदमो व बनाई गई योजनाओं का लाभ को आमजन तक पहुंचाने मे कोताही बरतना भी आक्रोश को पनपाने सहायक है।


 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हर साल आठ मार्च को विश्व भर मे महिलाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। लेकिन महिलाओं को लेकर इस तरह के मनाये जाने वाले अनगिनत समारोह को वास्तविकता का रुप दे दिया जाये तो निश्चित ही महिलाओं के हालात ओर अधिक बेहतरीन देखने को मिल सकते है। इसके विपरीत राजस्थान के सीकर के लाल व मुम्बई प्रवासी वाहिद चोहान ने महिलाओं का वास्तव मे सशक्तिकरण करने का बीड़ा उठाकर अपने जीवन भर का कमाया हुया सरमाया खर्च करके वो काम किया है जिसकी मिशाल दूसरी मिलना मुश्किल है।इसी काम के लिये राजस्थान सरकार ने वाहिद चोहान को महिला सशक्तिकरण अवार्ड से नवाजा है। बताते है कि इस तरह का अवार्ड पाने वाले एक मात्र पुरुष वाहिद चोहान ही है।                   करीब तीस साल पहले सीकर शहर के रहने वाले वाहिद नामक एक युवा जो बाल्यावस्था मे मुम्बई का रुख करके वहां उम्र चढने के साथ कड़ी मेहनत से भवन निर्माण के काम से अच्छा खासा धन कमाने के बाद ऐसों आराम की जिन्दगी जीने की बजाय उसने अपने आबाई शहर सीकर की बेटियों को आला तालीमयाफ्ता करके उनका जीवन खुसहाल बनाने की जीद लेक

डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन

  लखनऊ : डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के  विरोध में  एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन आदित्य चौधरी ने कहा कि   केाविड-19 महामारी के एक बार पुनः देश में पैर पसारने और उ0प्र0 में भी दस्तक तेजी से देने की खबरें लगातार चल रही हैं। आम जनता व छात्रों में कोरोना के प्रति डर पूरी तरह बना हुआ है। सरकार द्वारा तमाम उपाय किये जा रहे हैं किन्तु एकेटीयू लखनऊ का प्रशासन कोरोना महामारी को नजरअंदाज करते हुए छात्रों की आॅफ लाइन परीक्षा आयोजित कराने पर अमादा है। जिसके चलते भारी संख्या में छात्रों की जान पर आफत बनी हुई है। इन परीक्षाओं में शामिल होने के लिए देश भर से तमाम प्रदेशों के भी छात्र परीक्षा देने आयेंगे जिसमें कई राज्य ऐसे हैं जहां नये स्टेन की पुष्टि भी हो चुकी है और विभिन्न स्थानों लाॅकडाउन की स्थिति बन गयी है। ऐसे में एकेटीयू प्रशासन द्वारा आफ लाइन परीक्षा कराने का निर्णय पूरी तरह छात्रों के हितों के विरूद्ध है। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन की मांग है कि इस निर्णय को तत्काल विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा वापस लि

राजस्थान मे गहलोत सरकार के खिलाफ मुस्लिम समुदाय की बढती नाराजगी अब चरम पर पहुंचती नजर आने लगी।

                   ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा शुरुआत से लेकर अबतक लगातार सरकारी स्तर पर लिये जा रहे फैसलो मे मुस्लिम समुदाय को हिस्सेदारी के नाम पर लगातार ढेंगा दिखाते आने के बावजूद कल जारी भारतीय प्रशासनिक व पुलिस सेवा के अलावा राजस्थान प्रशासनिक व पुलिस सेवा की जम्बोजेट तबादला सूची मे किसी भी स्तर के मुस्लिम अधिकारी को मेन स्टीम वाले पदो पर लगाने के बजाय तमाम बर्फ वाले माने जाने वाले पदो पर लगाने से समुदाय मे मुख्यमंत्री गहलोत व उनकी सरकार के खिलाफ शुरुआत से जारी नाराजगी बढते बढते अब चरम सीमा पर पहुंचती नजर आ रही है। फिर भी कांग्रेस नेताओं से बात करने पर उनका जवाब एक ही आ रहा है कि सामने आने वाले वाले उपचुनाव मे मतदान तो कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष मे करने के अलावा अन्य विकल्प भी समुदाय के पास नही है। तो सो प्याज व सो जुतो वाली कहावत हमेशा की तरह आगे भी कहावत समुदाय के तालूक से सही साबित होकर रहेगी। तो गहलोत फिर समुदाय की परवाह क्यो करे।               मुख्यमंत्री गहलोत के पूर्ववर्ती सरकार मे भरतपुर जिले के गोपालगढ मे मस्जिद मे नमाजियों क