सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राजस्थान का मुस्लिम समुदाय उच्च सेवा से सेवानिवृत्त अधिकारियों की काबिलियत व उनके अनुभव का दोहन करने मे अभी तक सफल नही हो पा रहा है।


                 ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।
                  राजस्थान के मुख्य सचिव पद से सेवानिवृत्त अधिकारी सलाऊद्दीन अहमद खान , राजस्थान हाईकोर्ट से सेवानिवृत्त जस्टिस मोहम्मद असगर अली चोधरी व जस्टिस भंवरु खान, आईजी पुलिस पद से सेवानिवृत्त मुराद अली अब्रा, नीसार अहमद फारुकी, कुवर सरवर खान, राजस्थान लोकसेवा आयोग के चैयरमैन रहे आईपीएस हबीब खान गौरान,  भारतीय प्रशासनिक सेवा से सेवानिवृत्त अधिकारी एम एस खान, ऐ.आर खान, मोहम्मद हनीफ खान एवं अशफाक हुसैन जैसे अनेक सेवानिवृत्त अधिकारियों का राजस्थान का मुस्लिम समुदाय शेक्षणिक सहित अनेक क्षेत्रो मे उनकी काबलियत व अनुभव का दोहन करने मे अभी तक सफल नही हो पा रहा है। जिसके कारण अनेक हो सकते है लेकिन उक्त सेवानिवृत्त अधिकारियों सहित अन्य अधिकारियों की सेवानिवृत्ति के बाद उनकी योग्यता व अनुभव का दोहन अगर समय समय पर किया जाता तो शेक्षणिक तौर पर पिछड़े व सरकारी सेवाओं से एक तरह से हट चुके समुदाय की दशा व दिशा प्रदेश मे आज निश्चित बदली बदली नजर आती। उक्त अधिकारियों मे मात्र एक अधिकारी ऐ.आर खान ने सामाजिक संस्था बनाकर अपने स्तर पर कुछ सामाजिक काम जरूर कर रहे है।
              उक्त चंद सेवानिवृत्त अधिकारियों के अलावा राज्य स्तर की प्रशासनिक व पुलिस एव न्यायिक सेवा से सेवानिवृत्त अधिकारियों की भी प्रदेश मे लम्बी सूची मोजूद है। जिनकी काबलियत व उनके सेवाकाल मे पाये अनुभवों का लाभ समुदाय उठाने मे अभी तक किसी भी स्तर पर कामयाब नही हो पा रहा है। उक्त सेवा के अलावा भारतीय फौज के सेवानिवृत्त अधिकारियों की भी प्रदेश भर मे लम्बी सूची मोजूद है। लेकिन उनके मुकाबले फौज से सिपाही व सुबेदार पद से सेवानिवृत्त कर्मियों मे से कुछ कर्मी गांवो-ढाणियों मे युवाओं को सुबह सवेरे निस्वार्थ भाव से फौज मे भर्ती की शारिरीक तैयारी कराते जरुर देखे जा सकते है। जिनकी मेहनत का ही परिणाम है कि पीछले सात-आठ साल मे युवाओं का फौज मे जाने का रुझान बढा है।
                 हालांकि उच्च स्तर की सेवा से सेवानिवृत्त प्रदेश मे निवास कर रहे अधिकारियों की काबलियत व उनके सेवाकाल के अनुभवों का दोहन करने मे समुदाय अभी तक सफल नही होने के अनेक कारण गिनाये जाते है। जिनमे दो प्रमुख कारण यह बताये जाते है कि अवल तो उक्त अधिकारी सेवानिवृत्ति के तूरंत बाद सरकार से अन्य पदो पर पदस्थापित होने की कोशिश मे लगा रहता है। दूजा यह है कि प्रदेश मे ऐसी संस्था या समुदाय स्तर पर कोई निजाम कायम नही है जो सेवानिवृत्त होने वाले अधिकारियों से सम्पर्क साद करके उनको प्रेरित करके उनके लिये मिल्ली खिदमात का मैदान कायम कर सके। जिस मैदान मे वो बीना किसी आर्थिक नुकसान उठाये अपनी काबलियत व अनुभवों के बल पर सम्मान के साथ खुले तौर पर खेलकर फायदा पहुंचा सके। समुदाय के अधिकांश शैक्षणिक संस्थानों पर कम पढे लिखे लोगो का पहले से मजबूत कब्जा होता है। वो किसी भी सूरत मे इन सेवानिवृत्त अधिकारियों का दखल या किसी भी रुप मे  इंतजामिया मे प्रवेश पाने के खिलाफ मोर्चा खोलने से कभी पीछे हटने को तैयार नही होते है। 









टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका