सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

IILM Lucknow organized E-Orientation Program of PGDM 2021-23 Batch

 
 


IILM Academy of Higher Learning, Lucknow, which provides value-based education, conducted a two day long-orientation program of PGDM 2021-23 & PGDM (Finance) 2021-23 batches on August 12 & 13,  2021. Due to the restrictions of Lockdown this year orientation program is being organized online
On the occasion of commencement of new batch of PGDM, IILM Academy of Higher Learning witnessed & power-packed day. Specifically tailored for the current situation, the Induction Program is designed to inspire students to think big and create a platform of learning, interacting and change their perspective during this new normal.
The Program was started with virtual lighting of lamp and welcome address by Dr. Naela Rushdi, Director, IILM Academy of Higher Learning, Lucknow.
Addressing the new batch Dr. Naela Rushdi warmly welcomed all the students and said that always remember that you are here for a reason and you need to compete with yourself only. Life will put many challenges before you and your attitude will decide whether you will overcome this challenge or not. She also emphasized that there are no shortcuts to success.
The occasion was graced by diverse speakers and distinguished Guests from corporate world and academia. Chief Guest Dr. Dwarika Prasad Uniyal, Pro VC RV University Banglore, Guest Speaker Mr. Kunal Bhardwaj, Dy. Zonal Head, IndusInd Bank, Guest Speaker Mr. Sarthak Seth, Vice President & Chief Marketing Officer, Tata Realty and Infrastructure Ltd., Guest Speaker Mr. Anoop Mishra, Assistant Branch Manager, ITC Ltd. and Guest Speaker Ms. Kena Shree, Dy. General Manager, NTPC Ltd. shared their views with the Students.
The keynote speaker of the day Dr. Dwarika Prasad Uniyal in his address said that students should learn to maximize their academic & skill based insights through mindfulness. He emphasized on the values of trust & empathy & elaborated on greater life purposes.
Mr. Kunal Bhardwaj stressed upon the requirement of discipline in life and working with clear goals.
Mr. Sarthak Seth started up the session telling the students about how these two years are important and help in developing a good personality. He also focused upon the impact of common sense in decision making with the help of good analytical skills. This is the means of differentiating oneself from the others.
Mr.  Anoop Mishra conducted the session on 'Industry expectations from fresh Management Graduates' he focused on the following skills to be learned – Analytical skills, Innovation, Problem Solving & Critical thinking.
Ms. Kena Shree graced the orientation program with her valuable inputs on "How to maximize learning in the next 2 years". She brilliantly conducted the session by storytelling & anecdotes. The students enthusiastically attended the session & learned from it.
Dr. Sheetal Sharma, Dean Academics, IILM Lucknow welcomed all the students and thanked the speakers for sharing their experiences with the students. She said that to become a better manager you need to be a good human being. She also briefed the students about the 2 years journey ahead.
On this occasion all the faculty and staff members of IILM Lucknow family interacted with the students and wished them good luck for their new journey.
Apart from various guest sessions, the Induction Programme primarily aimed at sensitizing the new batch of students towards institute’s philosophy and make them comfortable with the current working conditions. The new batch showed much excitement and zeal during their virtual orientation program. 




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हर साल आठ मार्च को विश्व भर मे महिलाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। लेकिन महिलाओं को लेकर इस तरह के मनाये जाने वाले अनगिनत समारोह को वास्तविकता का रुप दे दिया जाये तो निश्चित ही महिलाओं के हालात ओर अधिक बेहतरीन देखने को मिल सकते है। इसके विपरीत राजस्थान के सीकर के लाल व मुम्बई प्रवासी वाहिद चोहान ने महिलाओं का वास्तव मे सशक्तिकरण करने का बीड़ा उठाकर अपने जीवन भर का कमाया हुया सरमाया खर्च करके वो काम किया है जिसकी मिशाल दूसरी मिलना मुश्किल है।इसी काम के लिये राजस्थान सरकार ने वाहिद चोहान को महिला सशक्तिकरण अवार्ड से नवाजा है। बताते है कि इस तरह का अवार्ड पाने वाले एक मात्र पुरुष वाहिद चोहान ही है।                   करीब तीस साल पहले सीकर शहर के रहने वाले वाहिद नामक एक युवा जो बाल्यावस्था मे मुम्बई का रुख करके वहां उम्र चढने के साथ कड़ी मेहनत से भवन निर्माण के काम से अच्छा खासा धन कमाने के बाद ऐसों आराम की जिन्दगी जीने की बजाय उसने अपने आबाई शहर सीकर की बेटियों को आला तालीमयाफ्ता करके उनका जीवन खुसहाल बनाने की जीद लेक

डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन

  लखनऊ : डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के  विरोध में  एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन आदित्य चौधरी ने कहा कि   केाविड-19 महामारी के एक बार पुनः देश में पैर पसारने और उ0प्र0 में भी दस्तक तेजी से देने की खबरें लगातार चल रही हैं। आम जनता व छात्रों में कोरोना के प्रति डर पूरी तरह बना हुआ है। सरकार द्वारा तमाम उपाय किये जा रहे हैं किन्तु एकेटीयू लखनऊ का प्रशासन कोरोना महामारी को नजरअंदाज करते हुए छात्रों की आॅफ लाइन परीक्षा आयोजित कराने पर अमादा है। जिसके चलते भारी संख्या में छात्रों की जान पर आफत बनी हुई है। इन परीक्षाओं में शामिल होने के लिए देश भर से तमाम प्रदेशों के भी छात्र परीक्षा देने आयेंगे जिसमें कई राज्य ऐसे हैं जहां नये स्टेन की पुष्टि भी हो चुकी है और विभिन्न स्थानों लाॅकडाउन की स्थिति बन गयी है। ऐसे में एकेटीयू प्रशासन द्वारा आफ लाइन परीक्षा कराने का निर्णय पूरी तरह छात्रों के हितों के विरूद्ध है। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन की मांग है कि इस निर्णय को तत्काल विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा वापस लि

राजस्थान मे गहलोत सरकार के खिलाफ मुस्लिम समुदाय की बढती नाराजगी अब चरम पर पहुंचती नजर आने लगी।

                   ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा शुरुआत से लेकर अबतक लगातार सरकारी स्तर पर लिये जा रहे फैसलो मे मुस्लिम समुदाय को हिस्सेदारी के नाम पर लगातार ढेंगा दिखाते आने के बावजूद कल जारी भारतीय प्रशासनिक व पुलिस सेवा के अलावा राजस्थान प्रशासनिक व पुलिस सेवा की जम्बोजेट तबादला सूची मे किसी भी स्तर के मुस्लिम अधिकारी को मेन स्टीम वाले पदो पर लगाने के बजाय तमाम बर्फ वाले माने जाने वाले पदो पर लगाने से समुदाय मे मुख्यमंत्री गहलोत व उनकी सरकार के खिलाफ शुरुआत से जारी नाराजगी बढते बढते अब चरम सीमा पर पहुंचती नजर आ रही है। फिर भी कांग्रेस नेताओं से बात करने पर उनका जवाब एक ही आ रहा है कि सामने आने वाले वाले उपचुनाव मे मतदान तो कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष मे करने के अलावा अन्य विकल्प भी समुदाय के पास नही है। तो सो प्याज व सो जुतो वाली कहावत हमेशा की तरह आगे भी कहावत समुदाय के तालूक से सही साबित होकर रहेगी। तो गहलोत फिर समुदाय की परवाह क्यो करे।               मुख्यमंत्री गहलोत के पूर्ववर्ती सरकार मे भरतपुर जिले के गोपालगढ मे मस्जिद मे नमाजियों क