सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राजस्व अधिकारियों की बैठक मे जिला कलेक्टर ने कहा कि बकाया प्रकरणों का समय पर निस्तारणकरे।

 



          
सीकर  ।अशफाक कायमखानी।
                जिला कलेक्टर अविचल चतुर्वेदी ने कहा कि सभी राजस्व अधिकारी राजस्व से संबंधित बकाया प्रकरणों का शीघ्रता से निस्तारण करें तथा अन्य विभागों के भूमि आवंटन से संबंधित बकाया प्रकरणों का भी निस्तारण करना सुनिश्चित करें।  
              आज सीकर कलेक्टे्रट सभा भवन में आयोजित राजस्व अधिकारियों की बैठक को संबोधित करते हुये जिला कलेक्टर ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि सभी राजस्व अधिकारी सीमा ज्ञान के आवेदन प्राप्त होते ही उनका निस्तारण करने, राजकीय, सिवायचक एवं चारागाह भूमि पर किये गये अतिक्रमण के संबंध में प्रभावी कार्यवाही कर निराकरण करवाने की कार्यवाही पूरी करें। उन्होंने समस्त अधिकारियों से कहा कि संबंधित कोर्ट में दर्ज प्रकरणों की सम्पूर्ण जानकारी के साथ  अधिवक्ता के साथ समन्वय स्थापित कर पैरवी करावें तथा समस्त प्रकरणों का शीघ्रता से निस्तारण करवाते हुये उनकाें ऑनलाईन करावें।
           जिला कलेक्टर ने समस्त राजस्व अधिकारियों को राज्य सरकार द्वारा 2 अक्टूबर से शुरू होने वाले  प्रशासन गांवों के संग, प्रशासन शहरों के संग अभियान की पूर्व तैयारी करते हुए राजस्व न्यायालयों, गैर खातेदारी के प्रकरण को पूर्व में चिन्हित करते हुए जिन ग्राम पंचायतों में शिविर आयोजित होंंगे वहां के पटवारी गिरदावर से समन्वय स्थापित कर राजस्व प्रकरणों, रास्तों के प्रकरणों को निस्तारण करने के निर्देश दिये। उन्होंने रास्तों के विवाद, खातेदारी के मामलों, विरासत के प्रकरणों में दोनों पक्षों से आपसी समझाईश करते हुए,मौके  की स्थिति को देख कर राजीनामें से प्रकरणों का निस्तारण करवायें।   
       जिला कलेक्टर चतुर्वेदी ने अभियान के दौरान राजस्व ग्रामवार जिम्मेदार कार्मिकों की ड्यूटी लगाने, संशाधनों की उपलब्धता, एक-एक पंचायत की राजस्व प्रकरणों की लिस्टिंग तैयार करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि शिविरों में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग, ग्रामीण एवं पंचायत राज विभाग पात्र व्यक्तियों को सामाजिक सुरक्षा योजनाओं में लाभान्वित करवाने के साथ ही विधवा पेंशन की पात्र 18 से 50 वर्ष की आयु की महिलाओं की पंचायतवार सूची बनाकर इन महिलाओं के बच्चों को स्कूल से जोड़ने, 60 वर्ष से उपर की वृद्धावस्था पेंशन महिलाओं की सूची निकालकर लाभार्थियों के खाता संख्या सही करवाने  सहित पेंशन सत्यापन का कार्य नगर परिषद, नगर पालिका, विकास अधिकारियों से करवाने को निर्देशित किया।  
             जिला कलेक्टर ने निर्देश दिये कि कोरोना में अनाथ  हुए बच्चों के प्रकरण सभी एसडीएम भिजवायें ताकि उनकों कोरोना सहायता योजना में लाभान्वित किया जा सके।
 उन्होंने प्रशासन शहरों के संग अभियान में पट्टे जारी करने पुरानी आबादी में पट्टे जारी करने के कार्य को प्राथमिकता से करने के निर्देश दिए। समस्त एसडीएम अपने-अपने क्षेत्र में  आबादी क्षेत्र का सीमांकन करवायें। उन्होंने विद्युत विभाग को अभियान में खराब मीटर बदलने, विद्युत बिलों में सुधार के प्रकरणों का पूर्व में ही फीडबैक लेकर उसी अनुसार पूर्व तैयारी करने के निर्देश दिये।
उन्होंने जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग को  हैण्डपम्प मरम्मत, पेयजल टंकियों की सफाई करवाने का कार्य शिविर से पूर्व ही करवाने की हिदायत दी ताकि आगे कोई परेशानी नहीं हों। उन्होंने राजस्व अधिकारियों से कहा कि घर-घर औषधी योजना में सभी ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में घर-घर पौधा वितरण करवाना सुनिश्चित करें।
सम्पर्क पोर्टल के बकाया प्रकरणों का तत्परता से करे निस्तारण
30 दिवस से अधिक समय के प्रकरण नहीं रहे बकाया
जिला कलेक्टर अविचल चतुर्वेदी ने कहा कि जिले में राजस्थान सम्पर्क पोर्टल पर दर्ज प्रकरणों का सभी विभागीय अधिकारी तत्परता से निराकरण करवाना सुनिश्चित करें। 30 दिवस से अधिक समय के बकाया प्रकरणों के निस्तारण में लापरवाही बर्दाश्त नही की जायेगी। सभी अधिकारी प्रतिदिन अपना पोर्टल चैक करे तथा प्रकरणों के निस्तारण को किसी अन्य व्यक्ति पर नहीं छोड़े बल्कि स्वयं की देख रेख में जवाब तैयार करवा कर अपलोड करावें ताकि प्रकरणों का समय पर निस्तारण हो वही पीडित को समय पर न्याय मिल सके।
बैठक में अतिरिक्त जिला कलेक्टर धारा सिंह मीणा, सीईओ सुरेश यादव, परीवीक्षाधीन सहायक कलेक्टर गुंजन, सहायक निदेशक प्रशासनिक सुधार विभाग राकेश लाटा, जिला रसद अधिकारी राजपाल यादव, अधीक्षण अभियन्ता विद्युत नरेन्द्र गढ़वाल, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग चुन्नी लाल, उपवन संरक्षक भीमाराम चौधरी, सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के संयुक्त निदेशक एसएन चौहान, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग सहायक निदेशक ओमप्रकाश राहड़, नगर परिषद आयुक्त श्रवण कुमार विश्नोई, समस्त उपखण्ड अधिकारी, तहसीलदारों ने हिस्सा लिया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका