सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सीकर जिले की कांग्रेस-भाजपा व माकपा राजनीति मे धीरे धीरे बनते नये गठजोड से आगे चलकर काफी कुछ बदलने की सम्भावना नजर आने लगी है।



                 ।अशफाक कायमखानी।
सीकर।

                   जिले मे तीसरी ताकत के रुप मे मोजूद राजनीतिक दल माकपा के दिग्गज नेता व धोद व दांतारामगढ़ से विधायक रहे संघर्ष के प्रतीक कामरेड अमरा राम ने चाहे स्वयं ने संकेत नही दिये लेकिन अल्पसंख्यक व किसान मतदाता उन्हे आगामी विधानसभा चुनाव मे लक्ष्मनगढ से उम्मीदवार के तौर पर देख कर चल रहे है। वेसे भी माना जाता है कि माकपा उम्मीदवार जिले मे तब ही विधानसभा चुनाव जीत पाते है जब कुछ हद तक उन्हें कांग्रेस के कुछ नेता दिल खोलकर मत दिलवाने मे मदद करे। माकपा के दुसरे पूर्व विधायक कामरेड पेमाराम का आरक्षित सीट धोद से चुनाव लड़ना ही तय है। बाकी जगह अपने मत अपने निशान पर डलवाने के लिये उम्मीदवार मैदान मे उतारे जाते रहे है। वर्तमान समय मे पार्टी स्तर पर कामरेड अमरा राम द्वारा किये जाने वाले निर्णय पर ही सीकर जिले मे संगठन की मोहर लगती है।
             पूर्व केन्द्रीय मंत्री तत्तकालीन समय मे कांग्रेस जोईन करने वाले नेता सुभाष महरिया ने 2018 के विधानसभा चुनाव मे जिले के सभी कांग्रेस उम्मीदवारों को जीताने मे जी-जान लगाकर मेहनत करके जिले से भाजपा व माकपा का सफाया करने मे सफलता पाने व आगे चलकर 2023 के होने वाले आम विधानसभा चुनाव मे रहने वाली उनकी भूमिका के मुताबिक उनके प्रभाव का वर्तमान समय मे आंकलन करना अभी मुश्किल है। यह समय आने पर ही उनकी चुप्पी टूटने के साथ ही पता चल पायेगा। कांग्रेस के सभी सात विधायकों का अपने अपने क्षेत्र मे अपना अपना व पारिवारिक पृष्ठभूमि के कारण प्रभाव व अस्तित्व है। लेकिन उन सातो कांग्रेस विधायकों मे समन्वय की टूटती डोर की झलक जिला परिषद चुनाव मे साफ देखने को मिली। जैसेतैसे करके जिला प्रमुख का उम्मीदवार तो कांग्रेस ने खड़ा कर दिया था। पर वो सब मिलकर उप जिलाप्रमुख के उम्मीदवार के नाम पर सहमत होकर उसको मैदान मे उतार तक नही पाये। मंत्री डोटासरा व निर्दलीय विधायक महादेव सिंह की जारी युगलबंदी मे भी पीछले महीने से दरार नजर आने लगी है। वही अभी तक विधायक हाकम अली तो शिक्षा मंत्री डोटासरा के साथ नजर आ रहे है। पर इस मित्रता के आगे विधानसभा चुनाव तक बने रहने पर शंका की लकीर खिंचती नजर आने लगी है।
     


     

 भाजपा मे जिले मे पूर्व विधायक झाबरसिंह खर्रा को छोड़कर अधीकांश नेताओ पर पूर्व विधायक प्रैमसिंह बाजोर का प्रभाव है। जिलाप्रमुख भी बाजोर ने अपनी पूत्रवधु को बनवा कर अपनी ताकत व प्रभाव का अहसास करवा दिया है।लक्ष्मनगढ प्रधान चुनाव मे भाजपा जीती हुई बाजी अपने जिले के दिग्गज नेताओं की उदासीनता व आपसी समनव्यता की कमी के कारण हार गई।
       


         

कुल मिलाकर यह है कि आगामी विधानसभा चुनाव आते आते कांग्रेस-भाजपा व माकपा की राजनीति व नेतृत्व मे अनेक बदलाव नजर आयेगे। वर्तमान समय मे अंदर ही अंदर काफी कुछ सांठगांठ व बनते नये गठजोड एवं एक दुसरे को मात देने की नेताओं की मंशा होने के बावजूद जनता को वर्तमान मे नजर नही आ रहा है वो सब धीरे धीरे जमीन पर नजर आने लगेगा। वही कामरेड अमरा राम अगर लक्ष्मनगढ से 2023 का विधानसभा चुनाव लड़ते है तो वहां चुनावी मुकाबला जरूर दिलचस्प होगा।


 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया

 आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया। विद्यालय में इस सत्र में आई.सी.एस.ई. (कक्षा 10) तथा आई.एस.सी. (कक्षा 12) में कुल सम्मिलित छात्र-छात्राओं की संख्या क्रमशः 153 और 103 रही। विद्यालय का परीक्षाफल शत -प्रतिशत रहा। इस वर्ष कोरोना काल में परीक्षा परिणाम विगत पिछले परीक्षाओं के आकलन के आधार पर निर्धारित किए गए है ।  आई.सी.एस.ई. 2021 परीक्षा में स्वयं गर्ग ने 98% अंक लाकर प्रथम,  ऋषिका अग्रवाल  ने 97.6% अंक लाकर द्वितीय तथा वृंदा अग्रवाल ने 97.4% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   आई .एस.सी. 2021 परीक्षा में आयुष शर्मा  ने 98.5% अंक लाकर प्रथम, कुशाग्र पांडे ने 98.25% अंक लाकर द्वितीय तथा आरुषि अग्रवाल ने 97.75% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   उल्लेखनीय है कि आई.एस.सी. 2021 परीक्षा में इस वर्ष विद्यालय में 21 छात्रों ने तथा आई.सी.एस.ई.की परीक्षा में 48 छात्रों ने 90 प्रतिशत से भी अधिक अंक लाएं।   आई.सी.एस. 2021 परीक्षा में प्रथम आये आयुष शर्मा के पिता श्री श्याम जी शर्मा एक व्यापारी हैं । वह भविष्य में

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह