सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राजस्थान के मुस्लिम समुदाय को प्रशासनिक व पुलिस सेवा के अधिकारियों की तादाद मे गिरते आंकड़ों पर गौर करना होगा।

 


               ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

             देश बंटवारे के दंश को झेलने के साथ साथ आर्थिक तौर पर कमजोर होने के अलावा अच्छी शिक्षा व कोचिंग की सुविधा नही होने के बावजूद अब के मुकाबले प्रदेश मे कम तादाद केडर होने पर भी राजस्थान प्रदेश मे भारतीय प्रशासनिक IAS व पुलिस सेवा IPS के अतिरिक्त राजस्थान प्रशासनिक RAS व पुलिस अधिकारियों RPS मे मुस्लिम अधिकारियों का प्रतिशत आज के मुकाबले पहले अधिक था। लेकिन वर्तमान मे इस तरफ नजर डालने पर हालात बहुत दयनीय स्थिति मे पा रहे है। लेकिन फिर भी मुस्लिम समुदाय कुम्भकरणी नींद से जागने को तैयार कतई नजर नही आ रहा है।
   

           

राजस्थान केडर के लिये भारतीय प्रशासनिक सेवा IAS के कुल 315 पदो मे से वर्तमान मे 240 अधिकारी तैनात है। जिनमे मात्र पांच कमर जमा चोधरी, अतर आमीर, जुनेद खान व उमरदीन खा एवं जाकीर हुसैन मुस्लिम अधिकारी है। जाकीर हुसैन IAS व उमरदीन IAS श्रीगंगानगर व झूंझुनू मे जिला कलेक्टर पद पर तैनात है। लेकिन दोनो ही अगले साल शुरुआत व मध्य मे सेवानिवृत्त हो रहे है। अतर आमिर IAS वर्तमान मे जम्मू काश्मीर मे डेपुटेशन पर गये हुये है। इसी तरह प्रदेश मे वर्तमान मे भारतीय पुलिस सेवा IPS के कुल 185 कार्यरत अधिकारियों मे मात्र 03 मुस्लिम अधिकारी है। जिनमे से हेदर अली जैदी IPS , मुख्यमंत्री विजिलेंस मे डीआईजी व अरशद अली IPS आरऐसी जैसे खांचे मे पदस्थापित है। वही के.शाहीन IPS अभी ट्रेनिंग मे है।
         इसी तरह राजस्थान प्रशानिक सेवा RAS के 854 अधिकारियों मे मात्र 22 मुस्लिम अधिकारी है। जिनमे जमील अहमद, इकबाल खान, शाहीन अली, असलम शेरखान, सत्तार खान, मोहम्मद अबू बक्र, अबू सुफियान चोहान, अमानुल्लाह खान, शौकत अली, अजीजुल हसन गौरी, सैयद मुकर्रम शाह, हाकम खान, श्रीमती नसीम खान,श्रीमती सना सिद्दीकी, सलीम खान, अंजुम ताहिर शमा, अयूब खान, सैयद शीराज अली जैदी, जावेद अली, अकील अहमद, मोहम्मद ताहिर  व रुबी अंसार है।
     इसी राजस्थान पुलिस सेवा RPS के 825 कार्यरत अधिकारियों मे से मुस्लिम अधिकारी मात्र 22 ही है। जिनमे मुस्तफा जैदी, नाजिम अली खान, श्रीमती शाहना खानम, हुमायूं कबीर, इस्माईल खान, महमूद खा, अब्दुल आहद खान, नवाब खा, सोहेल रजा, समयदीन खान, सपात खान, नूर मोहम्मद, इरफान अली, अली मोहम्मद, अमजद खान, सालेह मोहम्मद, मोहम्मद इस्लाम खान, अब्दुल रहमान खान, जुल्फिकार खान, निसार खान, शकील अहमद व जाकीर अख्तर है।

    जब मुस्लिम समुदाय के पास आज के मुकाबले साधन व सुविधाएं कम थी तब राजस्थान प्रशासनिक सेवा RAS के कम केडर मे भी 45-48 अधिकारी मुस्लिम थे। आज केडर तादाद बढने के बावजूद मुस्लिम अधिकारियों की तादाद कम हो रही है। जब लालटेन की रोशनी व दो कपड़ो की जोड़ी के अलावा सिमित अर्थ के बावजूद बच्चों का जज्बा बेहतरीन होने के कारण मुस्लिम अधिकारी अधिक सफल हो रहे थे। अब उसके मुकाबले बूक्स, लाइब्रेरी, कपड़े, पैसा व कोचिंग की सुविधा उपलब्ध होने के बावजूद मुस्लिम बच्चे अधिकारी मुश्किल से बन पा रहे है।
             कुल मिलाकर यह है कि राजस्थान मे मुस्लिम अधिकारियों के चयन के मुकाबले सेवानिवृत्त होने वाले अधिकारियों की संख्या इसी तरह अधिक रही तो अगले कुछ सालो मे मुस्लिम अधिकारी देखने को नही मिलेगे। इसलिए समुदाय को गम्भीरता के साथ हालात पर मंथन करके कोई कार्ययोजना बनाकर उस पर अमल करने पर समय रहते विचार जरुर कर लेना होगा।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया

 आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया। विद्यालय में इस सत्र में आई.सी.एस.ई. (कक्षा 10) तथा आई.एस.सी. (कक्षा 12) में कुल सम्मिलित छात्र-छात्राओं की संख्या क्रमशः 153 और 103 रही। विद्यालय का परीक्षाफल शत -प्रतिशत रहा। इस वर्ष कोरोना काल में परीक्षा परिणाम विगत पिछले परीक्षाओं के आकलन के आधार पर निर्धारित किए गए है ।  आई.सी.एस.ई. 2021 परीक्षा में स्वयं गर्ग ने 98% अंक लाकर प्रथम,  ऋषिका अग्रवाल  ने 97.6% अंक लाकर द्वितीय तथा वृंदा अग्रवाल ने 97.4% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   आई .एस.सी. 2021 परीक्षा में आयुष शर्मा  ने 98.5% अंक लाकर प्रथम, कुशाग्र पांडे ने 98.25% अंक लाकर द्वितीय तथा आरुषि अग्रवाल ने 97.75% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   उल्लेखनीय है कि आई.एस.सी. 2021 परीक्षा में इस वर्ष विद्यालय में 21 छात्रों ने तथा आई.सी.एस.ई.की परीक्षा में 48 छात्रों ने 90 प्रतिशत से भी अधिक अंक लाएं।   आई.सी.एस. 2021 परीक्षा में प्रथम आये आयुष शर्मा के पिता श्री श्याम जी शर्मा एक व्यापारी हैं । वह भविष्य में

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह