सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Model Panchayat Citizen Charter से साकार होगा ग्राम स्वराज का सपना - गहलोत

 
       ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने कहा कि ग्राम स्वराज के माध्यम से गांवों का सर्वांगीण विकास राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Father of the Nation Mahatma Gandhi) का सपना था. उन्होंने आशा व्यक्त की कि केन्द्रीय पंचायती राज मंत्रालय की ओर से पंचायतों के लिए जारी आदर्श नागरिक पत्र इस दिशा में महत्वपूर्ण कदम साबित होगा.

पंचायतों के लिए जारी आदर्श नागरिक पत्र कार्यक्रम को किया संबोधित:
मुख्यमंत्री शुक्रवार को केन्द्रीय पंचायती राज मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर (Union Panchayati Raj Minister Narendra Singh Tomar) के मुख्य आतिथ्य में वीडियो कॉन्फ्रेंस (Video Conference) के जरिए देश की पंचायतों के लिए जारी आदर्श नागरिक पत्र कार्यक्रम में सम्बोधित कर रहे थे. उन्होंने भारत सरकार के मॉडल पंचायत सिटीजन चार्टर (Model Panchayat Citizen Charter) जारी करने के निर्णय का स्वागत करते हुए कहा कि इससे जनहित से जुड़े कामों को गति मिलने के साथ ही सरकार की जवाबदेही सुनिश्चित होगी और गांवों के चहुुंमुखी विकास का मार्ग प्रशस्त हो सकेगा.

73वें संविधान संशोधन के माध्यम से पंचायती राज व्यवस्था का और सुदृढ़ीकरण किया:
गहलोत ने कहा कि देश में पंचायती राज का शुभारम्भ प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरू (First Prime Minister Pt. Jawahar Lal Nehru) ने राजस्थान के नागौर जिले से किया था. पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी (Former Prime Minister Rajiv Gandhi) ने भी 73वें संविधान संशोधन के माध्यम से पंचायती राज व्यवस्था का और सुदृढ़ीकरण किया. राजस्थान ने पंचायती राज संस्थाओं (Panchayati Raj Institutions) को निरन्तर सशक्त किये जाने की पहल की है. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार के पिछले कार्यकाल में इस दिशा में प्रभावी कदम उठाते हुए ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग का सिटीजन चार्टर जारी कर ग्रामीण नागरिकों के प्रति सरकार की जवाबदेही का अद्वितीय उदाहरण प्रस्तुत किया गया था.

{related}

पंचायत सिटीजन चार्टर नागरिकों के लिए उपयोगी होगा:
मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्थान सरकार ग्रामीण विकास के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है और लगातार पंचायती राज संस्थाओं को सशक्त बनाने के लिए प्रयासरत है. उन्होंने  कहा कि भारत सरकार ने पंचायतों के लिए जो मॉडल पंचायत सिटीजन चार्टर जारी किया है, वह नागरिकों के लिए उपयोगी होगा. राजस्थान सरकार (Government of Rajasthan) जनता के हित में इसे निर्धारित समयावधि में जारी करने की कार्यवाही करेगी.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया

 आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया। विद्यालय में इस सत्र में आई.सी.एस.ई. (कक्षा 10) तथा आई.एस.सी. (कक्षा 12) में कुल सम्मिलित छात्र-छात्राओं की संख्या क्रमशः 153 और 103 रही। विद्यालय का परीक्षाफल शत -प्रतिशत रहा। इस वर्ष कोरोना काल में परीक्षा परिणाम विगत पिछले परीक्षाओं के आकलन के आधार पर निर्धारित किए गए है ।  आई.सी.एस.ई. 2021 परीक्षा में स्वयं गर्ग ने 98% अंक लाकर प्रथम,  ऋषिका अग्रवाल  ने 97.6% अंक लाकर द्वितीय तथा वृंदा अग्रवाल ने 97.4% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   आई .एस.सी. 2021 परीक्षा में आयुष शर्मा  ने 98.5% अंक लाकर प्रथम, कुशाग्र पांडे ने 98.25% अंक लाकर द्वितीय तथा आरुषि अग्रवाल ने 97.75% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   उल्लेखनीय है कि आई.एस.सी. 2021 परीक्षा में इस वर्ष विद्यालय में 21 छात्रों ने तथा आई.सी.एस.ई.की परीक्षा में 48 छात्रों ने 90 प्रतिशत से भी अधिक अंक लाएं।   आई.सी.एस. 2021 परीक्षा में प्रथम आये आयुष शर्मा के पिता श्री श्याम जी शर्मा एक व्यापारी हैं । वह भविष्य में

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह