सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कोरोना अवेयरनेस कैंप के साथ शिफा होमियोपैथी क्लिनिक की इब्तिदा

 


 
शांति नगर
, हसनपुरा जयपुर में कोरोना अवेयरनेस और सुरक्षा कैंप का आयोजन किया गया और शिफा होमियोपैथी क्लिनिक का शुभारंभ हुआ ।
इस अवसर पर लोगों को इम्युनिटी बूस्टर दवा आर्सेनिक एल्बम और मास्क का वितरण किया गया ।
बिसाऊ के मूल निवासी और वर्तमान में स्वास्थ्य भवन जयपुर में कार्यरत डॉ इरफान सैयद ने लोगों को कोविड के विभिन्न कारण और बचाव के साथ विभिन्न पोस्ट कोविड  लक्षणों जैसे इम्यूनिटी कमजोर होना, नींद न आना, मानसिक आदि के बारे में विस्तार से बताया ,साथ कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के मद्देनजर परिवार के सभी सदस्यों‌ की रोग प्रतिरोधक क्षमता के शारीरिक और  मानसिक स्वास्थ्य के प्रति  जागरूक किया ।
शांति नगर के निवासियों ने कैंप के आयोजन और क्लिनिक की शुरुआत के लिए शिफा क्लिनिक के एमडी डॉ इरफान सैयद का आभार व्यक्त किया और नजदीक ही विशेषज्ञ स्वास्थ्य सेवाओं की उपलब्धता पर खुशी का इजहार किया ।
इस मौके पर समाजसेवी इकबाल बेहलीम, प्रधानाचार्य अख्तर हुसैन, नूरजहां बानो, मुकेश शर्मा, एडवोकेट मोहम्मद रफीक, टीकम शर्मा, रेवतदान सिंह, डॉ नईम, डॉ जीनत, दानिश खान, डॉ मोहसिन, इमरान बेहलीम, अजीम खान, फैसल खान, रामबाबू, जुल्फिकार,भवानी सिंह, महेंद्र सिंह,दिलिप सिंह जमाल ख़ान,हमीर सिंह,भंवर सिंह राजपाल चौधरी, शैलेन्द्र सिंह, मुदस्सर,
इश्तियाक बेहलीम,फरीजा,  राहिल सैयद, नर्सिंग ओफिसर अमरीन सैयद, नर्सिंग ओफिसर इरशाद भाटी, नर्सिंग ओफिसर समरीन सैयद, कौसर, अहद युसुफ, सायना सैयद,इशाक किलाणियां, रुबीना,इरशाद, ईरम नाज और वसीम अहमद सैयद उपस्थित रहे ।
डॉ इरफान ने सभी का आभार व्यक्त किया और कहा कि शिफा होमियोपैथी क्लिनिक में सोमवार से शनिवार सुबह शाम परामर्श सेवाएं उपलब्ध रहेगी और हर महीने कोरोना अवेयरनेस और सुरक्षा का आयोजन किया जाएगा जिसमें इम्युनिटी बूस्टर दवा और मास्क का निःशुल्क वितरण किया जाएगा ।


 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह