मध्यप्रदेश के ज्योतिरादित्य सिंधिया के बाद यूपी के जतिन प्रसाद ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन थामा। - दोनो नेताओं के पिताओ को कांग्रेस ने सत्ता-संगठन मे अहम पद दिये थे। उनके बाद उनके उक्त दोनो पुत्रो को भी अहम पद दिये।

 



            ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

                 पिता माधवराव सिंधिया को कांग्रेस मे सालो तक पार्टी नेतृत्व द्वारा खास अहमियत मिलते रहने के साथ साथ उन्हें सरकार व संगठन मे अहम ओहदे दिये जाते रहे। उसके बाद उनके पुत्र ज्योतिरादित्य सिंधिया को भी सरकार व संगठन मे शीर्श पर रखा। लेकिन कांग्रेस का बूरा समय आने पर वो झट से कांग्रेस की घोर विरोधी पार्टी भाजपा मे मामूली से लालच पर जा मिले।
              सिंधिया की ही तरह जतिन प्रसाद के पिता जितेन्द्र प्रसाद को राजीव गांधी के समय कांग्रेस ने सब कुछ दिया था। मगर 22 साल पहले सोनिया गांधी के खिलाफ उन्होंने चुनाव लड़ा। लेकिन सोनिया ने उनके न रहने पर पत्नी कांता प्रसाद को टिकट दिया। वो हार गईं। फिर बेटे जितिन प्रसाद को टिकट दिया। मंत्री बनाया। दो साल पहले फिर जतिन ने धमकी दी कि वो भाजपा जा रहे हैं। रोका, मनाया। फिर 23 लोगों के साथ मिलकर अस्पताल में भर्ती सोनिया को पत्र लिखा कि चुनाव करवाओ। कांग्रेस ने महासचिव बनाकर बंगाल का इन्चार्ज बना दिया। मगर खुश फिर भी नहीं हुए। अब जाकर सिंधिया की तरह आज भाजपा ज्वाइन कर ली। सिंधिया की तरह ही जतिन भी राहुल, प्रियंका से कम किसी नेता से बात नहीं करते थे।
              हालांकि सिंधिया व जतिन जैसे कितने ही दिग्गज नेता कांग्रेस छोड़कर भाजपा मे गये व जायेगे। लेकिन उन्हें वो पद व सम्मान भाजपा मे कतई नही मिल पायेगा जो कांग्रेस मे मिला करता था। पीछले सात आठ साल से भाजपा चुनाव होने वाले प्रदेश मे गैर भाजपा दलो के नेताओं को लालच व दवाब मे लेकर भाजपा मे शामिल करके अन्य दलो पर राजनीतिक दवाब बनाने की कोशिशें करती रही है। वर्तमान भाजपा मे 65 से अधिक सांसद गैर भाजपा दलो से आये हुये है।
             बंगाल चुनाव के पहले भी भाजपा ने रणनीति के तहत तृणमूल कांग्रेस सहित अन्य दलो के विधायकों व नेताओं को भाजपा जोइन करवा कर दवाब बनाया था। बंगाल मे भाजपा के सभी जीते विधायकों मे मात्र तीन विधायक मूल भाजपा के वर्कर है बाकी सभी दुसरे दल से आये हुये है।
       2022 मे होने वाले चुनाव मे यूपी, हरियाणा, पंजाब व अन्य प्रदेशों के अनेक गैर भाजपा दलो के नेताओ को भाजपा नेतृत्व एक अभियान के तहत भाजपा जोइन करवायेगे। जिनमे कांग्रेस नेता अधिक होगे। उसके बाद 2023 मे राजस्थान मे भी यही खेल शुरू होगा।
         कुल मिलाकर यह है कि कांग्रेस मे सत्ता के लालची व राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के नजदीकी नेताओं की लम्बी चोड़ी फौज पहले से ही मोजूद रही है। वो कांग्रेस के सत्ता मे रहने के समय सत्ता सुख पाने के लिये कांग्रेस का गुणगान करते थे। वोही नेता अब भाजपा की नावं मे बैठने को उतावले नजर आ रहे है।

टिप्पणियाँ
Popular posts
धोद विधायक परशराम मोरदिया मंत्रीमंडल विस्तार मे मंत्री बनाये जा सकते है।
चित्र
शेखावाटी जनपद के तीनो जिलो के अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारियों की सक्रियता व विभाग की उदारता के चलते जनपद के अनेक प्रोजेक्ट के लिये अल्पसंख्यक मंत्रालय ने राशि स्वीकृत की।
कायमखानी बिरादरी 14-जुन को दादा कायम खां दिवस पर प्रदेश भर मे जगह जगह रक्तदान शिविर लगा रही है।
चित्र
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व सचिन पायलट के मध्य जारी सत्ता संघर्ष तेज हो सकता है। पायलट सत्ता संघर्ष के लिये ढाल ढाल तो गहलोत पत्ते पत्ते पर घूम रहे है।
चित्र
आसमान छुती पेट्रोल-डीजल की आसमान छूती किमतो के खिलाफ कांग्रेस ने राजस्थान मे प्रदर्शन किया।
चित्र