पहले मंदी फिर कोराना ने खासतौर पर अरब मे मजदूरी करने वालो की कमर तोड़ दी। - शेखावाटी से दस लाख से अधिक लोग अरब देशो मे रहकर दो जून की रोटी के इंतजाम मे लगे हुये थे।

 

       ।अशफाक कायमखानी।
सीकर।

                   शेखावाटी जनपद से लाखो मजदूर खासतौर पर अरब मे भवन निर्माण से जुड़ कर मजदूरी करके मुश्किल से अपने बच्चों के लिये दो जून की रोटी का इंतेजाम कर पाते थे। उन लाखो मजदूरों की पहले मंदी ओर अब कोराना महामारी से उपजे हालात ने पूरी तरह कमर तोड़ कर रख दी है। कतर के अलावा अरब के तमाम देशो मे भवन निर्माण व उससे जुड़े काम बंद या फिर मंद पड़े  चुके है। कोराना की शुरुआत व उसके बाद मजदूर अरब देशो से अपने वतन आ गये थे। वो मजदूर हवाई जहाज की सुविधा चालू नही रहने के कारण अभी तक वापस विदेश नही जा पाये है। घर पर रहते रहते अधीकांश की वीजा की अवधि भी खत्म हो चुकी है।
  

         दुबई मे पत्रकार रह चुके एक पत्रकार ने बताया कि अरब देशो मे भवन निर्माण व उससे जुड़े काम पहले मंदी व अब कोराना महामारी के कारण बंद से हो चुके है। वहां भवनों पर टू-लेट के बोर्ड लगे हुये नजर आते है।.उधर अरब मे कोराना महामारी के कारण मजदूर कुछ दिन बीना काम के वहीं बैठकर अपना खर्च उठाकर जैसै तैसे थकहार कर वतन आ गये। या फिर जो छुट्टी आया था वो वापस नही जा पाया। 2022 मे कतर मे फुटबॉल वर्ड कप होने के कारण अरब के मात्र कतर मे भवन निर्माण व उससे जुड़े काम चल रहे है। जहां मजदूर को मजदूरी ठीक मिल रही है।
   

       

 अरब मे शेखावाटी से दस लाख से अधिक मजदूर रहते है। जिनमे से अधिकांश भवन व उससे जुड़े काम से जुड़े हुये थे।सऊदी अरब मे मजदूर केम्पो मे कुछ लोगो ने किराना-जनरल स्टोर भी कर रखे थे। मजदूरों के वापस वतन आने से उनकी दुकान (वकाला) भी बंद हो चुके या लागत अधिक व आमद कम के चलते बंद करने को उन्हें मजबूर होना पड़ा है।
              अरब से कमाकर लाने वाले कुछ लोगो ने तो यहां छोटा-मोटा कारोबार जमा लिया तो वो विकट परिस्थिति मे उसमे लगे हुये है। लेकिन अधिकांश ने बच्चों की परवरिश व सामाजिक रीति रिवाज निभाने मे आय से अधिक खर्च कर दिये। कुछ लोगो ने रहने के लिये मकान बनाये तो उनमे से अधीकांश मकानो के रंग रोगन नही हो पा रहे है।कुछ मकान के प्लास्टर व फर्श तक बाकी रहे वो पुरे नही हो पा रहे है। जिनके पुरे हुये उनका मेंटीनेंस नही हो पा रहे है। पहले सऊदी अरब मे हुये क्रैन हादसे के चलते बिलादीन कम्पनी पर पाबंदी लगने से हजारों मजदूर बेरोजगार हो गये थे।
              इस तरह बेरोजगार हुये काफी लोगो मे से कुछ लोग नरेगा मजदूर बनने के लिये मजबूर हो गये है। तो कुछ लोग मुर्गी व बकरा पालन का काम किया लेकिन एकसपिरियंस की कमी के कारण जमा पूंजी भी गवां बेठे है। जिनके बीघा दो पांच बीघा जमीन थी, उसमे फिर से खेती करने लगे व करने का मानस बना रहे है।
                 कुल मिलाकर यह है कि पहले विश्वव्यापी मंदी फिर मंहगाई ओर पीछले साल से कोराना महामारी के भंयकर प्रकोप के चलते शेखावाटी जनपद से अरब देशो मे रहने वाले लाखो मजदूर बेरोजगार हो चुके है। विदेश मे बेठै मजदूरों के पास काम नही है। जो यहा वतन आ गये वो कम्पनी या अपने अरबाब (मालिक) से हिसाब लेने तक नही जा पाये है। ऐसे लोगो की हालत बहुत दयनीय होती दिख रही है। पहले मंदी फिर कोराना व ऊपर से आसमान छूती महंगाई ने पूरी तरह कमर तोड़ कर रखदी है।


टिप्पणियाँ
Popular posts
एसीबी सीकर चौकी ने लगातार दुसरे दिन कार्यवाही करके रिश्वत लेते दो भ्रष्टाचारी को अलग अलग मामलों मे रंगे हाथ गिरफ्तार किया।
चित्र
राजस्थान कांग्रेस मे हालात विस्फोटक स्थिति मे पहुंचते नजर आ रहे है।। - गहलोत-पायलट खेमे के मध्य जारी टकराव व एक दुसरे पर दवाब बनाने के चक्कर मे सरकार गिर भी सकती है
चित्र
कोरोना अवेयरनेस कैंप के साथ शिफा होमियोपैथी क्लिनिक की इब्तिदा
चित्र
राजस्थान मे मंत्रीमंडल विस्तार व राजनीतिक नियुक्तियों की सुगबुगाहट के मध्य दिग्गज किसान नेता पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौधरी नारायण सिंह भी कुदे। जारी राजनीतिक घमासान के बीच चोधरी ने कहा कांग्रेस को सत्ता में लाने वाले कार्यकर्ताओं को सरकार में मिले जगह।
चित्र
राजस्थान मे तीसरा मजबूत विकल्प अगले आम चुनाव से पहले उभर सकता है। - मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा सेवानिवृत्त ब्यूरोक्रेट्स को लाभ के पदो पर लगातार नियुक्ति देने का सीलसीला बनाये रखने से इंतजार मे बैठे जनप्रतिनिधियों का सब्र जवाब देने लगा।
चित्र