सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बारिश के दौरान जल भराव, बाढ की सम्भावना को देखते हुये जनधन के लिए सुरक्षात्मक उपाय के उचित प्रबंधन सुनिश्चित करें- चतुर्वेदी

 


       ।अशफाक कायमखानी।
सीकर ।

           जिला कलेक्टर अविचल चतुर्वेदी ने आयुक्त नगर परिषद, अधीक्षण अभियन्ता सार्वजनिक निर्माण विभाग, अजमेर विद्युत वितरण निगम, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये है कि जिले में बारिश के दौरान आपदा प्रबन्धन की सभी व्यवस्थाएं करना सुनिश्चित करें, इसमें किसी भी प्रकार की कोई लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।
जिला कलेक्टर बुधवार को कलेक्ट्रेट सभागार में जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक में अधिकारियों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि संबंधित विभागों में बाढ़ नियंत्रण कक्ष की स्थापना कर उसकी रिपोर्ट जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण को भिजवाना सुनिश्चित करें।  उन्होंने कहा कि ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में संभावित जल भराव वाले क्षेत्रों को चिन्हित कर लेवें और पानी भरने की स्थिति में किये जाने वाले उपायों के लिए  अभी से इंतजाम सुनिश्चित करें। पानी निकासी के लिए जरूरी संसाधनों की उपलब्धता सुनिश्चित करते हुए उन्हें चलाकर भी देख लेवें ताकि मौके पर किसी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना पड़े । उन्होंने सिंचाई विभाग को निर्देश दिये कि नियंत्रण कक्ष स्थापित कर जल भराव की संभावना में जिले के संवेदनशील व संकटग्रस्त क्षेत्रों में स्थिति से निपटने के लिए कार्य योजना बनाई जावें।
 जिला कलेक्टर चतुर्वेदी ने अधीक्षण अभियन्ता, जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग को निर्देश दिये कि निचले क्षेत्रों से पानी निकालने के लिए पम्पसेटों की व्यवस्था सुनिश्चित करें तथा पेयजल व्यवस्था व पेयजल स्त्रोतों के क्लोरीफिकेशन की समुचित व्यवस्था करें। उन्होंने रसद विभाग के पर्वतन निरीक्षक से कहा कि उचित मूल्य की दुकानों पर गेहूं , केरोसीन अन्य खाद्य सामग्री के भण्डारण ,उसके वितरण की व्यवस्था सुनिश्चित करें। उन्होंनें कहा कि किसी भी विपरित स्थिति में स्वैच्छिक संगठन का सहयोग लिया जा सके, यह भी सुनिश्चित करें ।
जिला कलेक्टर ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को बाढ़ के दौरान तथा उसके बाद संभावित बीमारियों हैजा, पीलिया, मलेरिया, डेंगू, फूड पॉयजनिंग आदि के इलाज के लिए दवाओं की पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता सुनिश्चित करने, एण्टीलार्वा गतिविधि शुरू करवाने तथा अजमेर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के अधीशाषी अभियन्ता को बाढ़ की स्थिति में विद्युत व्यवस्था को सुचारू रखने के लिए आवश्यक प्रबंध करते हुए  जमीन पर रखें हुए ट्रांसफार्मर को ऊंचा रखवाने, ढीले तारों को कसवाने, विद्युत तारों के बीच में आने वाले पेड़-पौघों की कटाई करवाने , विद्यालयों के उपर से गुजर रही विद्युत लाईनों को हटवाने के निर्देश दिये।
उन्होंने  आयुक्त नगर परिषद को निर्देशित किया कि शहरी, नगर पालिका क्षेत्रों में नालों की साफ-सफाई कराने, जल भराव वाले क्षेत्रों में उपलब्ध संसाधनों यथा मढ़ पम्प, जे.सी.बी., जनरेटर, ट्रेक्टर, ट्रॉली एवं अन्य वाहनों का सूचिकरण एवं भौतिक सत्यापन करने एवं उपलब्धता स्त्रोत की जानकारी रखने,  आवश्यकतानुसार मिट्टी के भरे कट्टों की उपलब्धता रखने एवं जल भराव वाले क्षेत्रों को चिन्हित कर उस क्षेत्र में रहने वाले लोगों को अन्य सुरक्षित स्थान पर आपदा की स्थिति में ठहराने की व्यवस्था सूनिश्चित करने के निर्देश दिये। सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियन्ता को जहां रपटे, नदी-नाले सड़क से निकलते है एवं पानी का भराव होता है ऎसे स्थानों पर चेतावनी के सांकेतिक बोर्ड लगाने के निर्देश दिये।  
जिला कलेक्टर ने बीएसएनएल , पुलिस प्रशासन, शिक्षा विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, वन विभाग , पशुपालन विभाग के अधिकारियों को प्रोपर तैयारियां रखते हुए अपने स्टाफ को अलर्ट रहने के निर्देश दिये।
बैठक में पुलिस अधीक्षक कुंवर राष्ट्रदीप, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुरेश कुमार, अतिरिक्त जिला कलेक्टर धारासिंह मीणा, यूआईटी सचिव इन्द्रजीत सिंह, सूचना एवं जनसम्पर्क अधिकारी पूरण मल, एसई पीएचईडी शिवदयाल मीना, पीडब्ल्यूडी सायरमल मीणा, सीएमएचओे डॉ. अजय चौधरी, एसई वाटरशेड प्रहलाद सिंह जाखड़, नगर परिषद आयुक्त श्रवण कुमार विश्नोई,  डीईओ लालचंद नहलिया, अधीशाषी अभियन्ता सिंचाई भोलाराम सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित रहें।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हर साल आठ मार्च को विश्व भर मे महिलाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। लेकिन महिलाओं को लेकर इस तरह के मनाये जाने वाले अनगिनत समारोह को वास्तविकता का रुप दे दिया जाये तो निश्चित ही महिलाओं के हालात ओर अधिक बेहतरीन देखने को मिल सकते है। इसके विपरीत राजस्थान के सीकर के लाल व मुम्बई प्रवासी वाहिद चोहान ने महिलाओं का वास्तव मे सशक्तिकरण करने का बीड़ा उठाकर अपने जीवन भर का कमाया हुया सरमाया खर्च करके वो काम किया है जिसकी मिशाल दूसरी मिलना मुश्किल है।इसी काम के लिये राजस्थान सरकार ने वाहिद चोहान को महिला सशक्तिकरण अवार्ड से नवाजा है। बताते है कि इस तरह का अवार्ड पाने वाले एक मात्र पुरुष वाहिद चोहान ही है।                   करीब तीस साल पहले सीकर शहर के रहने वाले वाहिद नामक एक युवा जो बाल्यावस्था मे मुम्बई का रुख करके वहां उम्र चढने के साथ कड़ी मेहनत से भवन निर्माण के काम से अच्छा खासा धन कमाने के बाद ऐसों आराम की जिन्दगी जीने की बजाय उसने अपने आबाई शहर सीकर की बेटियों को आला तालीमयाफ्ता करके उनका जीवन खुसहाल बनाने की जीद लेक

डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन

  लखनऊ : डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के  विरोध में  एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन आदित्य चौधरी ने कहा कि   केाविड-19 महामारी के एक बार पुनः देश में पैर पसारने और उ0प्र0 में भी दस्तक तेजी से देने की खबरें लगातार चल रही हैं। आम जनता व छात्रों में कोरोना के प्रति डर पूरी तरह बना हुआ है। सरकार द्वारा तमाम उपाय किये जा रहे हैं किन्तु एकेटीयू लखनऊ का प्रशासन कोरोना महामारी को नजरअंदाज करते हुए छात्रों की आॅफ लाइन परीक्षा आयोजित कराने पर अमादा है। जिसके चलते भारी संख्या में छात्रों की जान पर आफत बनी हुई है। इन परीक्षाओं में शामिल होने के लिए देश भर से तमाम प्रदेशों के भी छात्र परीक्षा देने आयेंगे जिसमें कई राज्य ऐसे हैं जहां नये स्टेन की पुष्टि भी हो चुकी है और विभिन्न स्थानों लाॅकडाउन की स्थिति बन गयी है। ऐसे में एकेटीयू प्रशासन द्वारा आफ लाइन परीक्षा कराने का निर्णय पूरी तरह छात्रों के हितों के विरूद्ध है। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन की मांग है कि इस निर्णय को तत्काल विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा वापस लि

राजस्थान मे गहलोत सरकार के खिलाफ मुस्लिम समुदाय की बढती नाराजगी अब चरम पर पहुंचती नजर आने लगी।

                   ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा शुरुआत से लेकर अबतक लगातार सरकारी स्तर पर लिये जा रहे फैसलो मे मुस्लिम समुदाय को हिस्सेदारी के नाम पर लगातार ढेंगा दिखाते आने के बावजूद कल जारी भारतीय प्रशासनिक व पुलिस सेवा के अलावा राजस्थान प्रशासनिक व पुलिस सेवा की जम्बोजेट तबादला सूची मे किसी भी स्तर के मुस्लिम अधिकारी को मेन स्टीम वाले पदो पर लगाने के बजाय तमाम बर्फ वाले माने जाने वाले पदो पर लगाने से समुदाय मे मुख्यमंत्री गहलोत व उनकी सरकार के खिलाफ शुरुआत से जारी नाराजगी बढते बढते अब चरम सीमा पर पहुंचती नजर आ रही है। फिर भी कांग्रेस नेताओं से बात करने पर उनका जवाब एक ही आ रहा है कि सामने आने वाले वाले उपचुनाव मे मतदान तो कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष मे करने के अलावा अन्य विकल्प भी समुदाय के पास नही है। तो सो प्याज व सो जुतो वाली कहावत हमेशा की तरह आगे भी कहावत समुदाय के तालूक से सही साबित होकर रहेगी। तो गहलोत फिर समुदाय की परवाह क्यो करे।               मुख्यमंत्री गहलोत के पूर्ववर्ती सरकार मे भरतपुर जिले के गोपालगढ मे मस्जिद मे नमाजियों क