राजस्थान मे सचिन पायलट समर्थक व गहलोत खेमे के असंतुष्ट विधायक अगले कुछ दिन मे गुजरात या मध्यप्रदेश केम्प कर सकते है।


              ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

              पंजाब मुख्यमंत्री केप्टन अमरिंदर सिंह से असंतुष्ट कांग्रेस विधायकों से दिल्ली मे कांग्रेस हाईकमान द्वारा वार्ता करने के बाद राजस्थान मे सचिन पायलट समर्थक विधायको के तीन चार दिन से सक्रिय होने के साथ गुप्त सूचनाओं के बाद गहलोत समर्थकों ने पायलट समर्थक व अपने खेमे के असंतुष्ट विधायकों पर विशेष नजर रखने लगे है।
           पायलट समर्थक विधायकों की एक साल से सुनवाई नही होने से उनके अंदर आक्रोश पनपता नजर आ रहा है। इस प्रकरण मे पंजाब मामले ने आग मे घी डालने का काम किया है। गहलोत खेमे के कुछ विधायक भी अब पायलट के सम्प्रक मे बताते है। इन विधायकों ने प्रियंका गांधी से मिलने का समय मांगा है। इससे पहले पायलट समर्थक विधायक शुक्रवार को राजेश पायलट की बरसी के बहाने आपस मे मिल कर रणनीति बना रहे बताते है। ये सभी असंतुष्ट विधायक प्रदेश से बाहर जाकर डेरा जमा सकते है। ऐसी सूचना मिलने के बाद गहलोत के कान खड़े हो गये है। मुख्यमंत्री के विश्वसनीय शांति धारीवाल, रघु शर्मा, महेंद्र चोधरी, लालचन्द कटारिया सहित कुछ विधायक अपने खेमे के व पायलट समर्थक विधायकों की गतिविधियों पर नजर रख रहे है।वही पायलट समर्थक विधायक रमेश व मुरारी मीणा एव वेदप्रकाश सोलंकी अपना कुनबा बढाने मे लगे हुये है।
              कुल मिलाकर यह है कि प्रियंका गांधी की उपस्थिति मे एक समझोते के तहत पायलट समर्थक विधायकों के एक साल पहले कांग्रेस केम्प मे वापस आने के बावजूद किसी तरह से सकारात्मक कदम अभी तक नही उठने से वो आहत है। अगले कुछ दिनो मे वो सभी असंतुष्ट विधायक राजस्थान के बाहर जमा होकर केम्प कर सकते है। वही इनको रोकने की खातिर गहलोत प्रदेश की सीमाओं को बंद करने की घोषणा कर सकते है।

टिप्पणियाँ
Popular posts
धोद विधायक परशराम मोरदिया मंत्रीमंडल विस्तार मे मंत्री बनाये जा सकते है।
चित्र
कायमखानी बिरादरी 14-जुन को दादा कायम खां दिवस पर प्रदेश भर मे जगह जगह रक्तदान शिविर लगा रही है।
चित्र
शेखावाटी जनपद के तीनो जिलो के अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारियों की सक्रियता व विभाग की उदारता के चलते जनपद के अनेक प्रोजेक्ट के लिये अल्पसंख्यक मंत्रालय ने राशि स्वीकृत की।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व सचिन पायलट के मध्य जारी सत्ता संघर्ष तेज हो सकता है। पायलट सत्ता संघर्ष के लिये ढाल ढाल तो गहलोत पत्ते पत्ते पर घूम रहे है।
चित्र
आसमान छुती पेट्रोल-डीजल की आसमान छूती किमतो के खिलाफ कांग्रेस ने राजस्थान मे प्रदर्शन किया।
चित्र