सरकारी कोशिशे व जनता की जागरूकता के कारण राजस्थान मे कोराना अब कंट्रोल मे आता नजर आ रहा है।

 
         ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

             .कोराना की दूसरी लहर के प्रकोप का नुकसान उठा चुके राजस्थान प्रदेश की जनता की जागरूकता व सरकारी कोशिशो की बदोलत अब कोराना कंट्रोल मे आने लगा है। कोराना केयर सेंटर मे बेड खाली है वहीं अब खासतौर पर आक्सीजन व आईसीयू की मारामारी नही है।
           प्रदेश में 31 मई को 1498 नए मामले सामने आए। यह आंकड़ा 2 अप्रेल के बाद सबसे कम है। इससे पहले 2 अप्रैल को 1422 मामले सामने आए थे। 31 मई को राजस्थान में 8385 मरीज रिकवर हुए। 31 मई को 68 मौतें दर्ज की गई। राजस्थान में अब 42654 एक्टिव केस। रिकवरी रेट भी राजस्थान का बढ़कर 94.57 प्रतिशत पर पहुंचा। एक भी जिले में 500 की संख्या में मामले नहीं। जयपुर एकमात्र जिला जहां 200 से ज्यादा मामले, जयपुर में सबसे ज़्यादा 220 मामले सामने आए। 27 जिलों में 100 से कम मामले। सिर्फ 6 जिलों में 100 से ज्यादा मामले। इनमें जयपुर के अतिरिक्त अलवर में 135, जोधपुर में 127, हनुमानगढ़ में 110, श्रीगंगानगर में 109 और झुंझुन में 104 मामले सामने आए। 24 जिलों में 50 से भी कम मामले। बड़े जिलों में बीकानेर में 65, कोटा में 42, उदयपुर में 37 और अजमेर में 19 मामले आए। 6 जिलों में 10 से भी कम मामले सामने आए। धौलपुर ऐसा जिला जहां 31 मई को कोरोना का एक भी मामला नहीं आया।

टिप्पणियाँ
Popular posts
धोद विधायक परशराम मोरदिया मंत्रीमंडल विस्तार मे मंत्री बनाये जा सकते है।
चित्र
कायमखानी बिरादरी 14-जुन को दादा कायम खां दिवस पर प्रदेश भर मे जगह जगह रक्तदान शिविर लगा रही है।
चित्र
शेखावाटी जनपद के तीनो जिलो के अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारियों की सक्रियता व विभाग की उदारता के चलते जनपद के अनेक प्रोजेक्ट के लिये अल्पसंख्यक मंत्रालय ने राशि स्वीकृत की।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व सचिन पायलट के मध्य जारी सत्ता संघर्ष तेज हो सकता है। पायलट सत्ता संघर्ष के लिये ढाल ढाल तो गहलोत पत्ते पत्ते पर घूम रहे है।
चित्र
आसमान छुती पेट्रोल-डीजल की आसमान छूती किमतो के खिलाफ कांग्रेस ने राजस्थान मे प्रदर्शन किया।
चित्र