सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राजस्थान: RPS को ब्लैकमेल करने वाली महिला कांस्टेबल कौशल्या दो दिन के रिमांड पर, ट्रेनिंग में हुई थी बूंदी के DSP से पहचान

                  ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर:
जयपुर में RPS श्यामसुंदर विश्नोई (RPS Shyamsunder Bishnoi) को दुष्कर्म के मुकदमे में फंसाकर ब्लैकमेल कर 50 लाख रुपए की डिमांड करने के मामले में आरोपी महिला कांस्टेबल (Accused Female Constable) को पुलिस ने कोर्ट में पेश किया। जहां से उसे दो दिन के रिमांड पर लिया है। आरोपी कौशल्या (Kaushalya) को जयपुर में नार्थ जिले की शास्त्री नगर थाना पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार किया था। वह जोधपुर में हेड कांस्टेबल पदोन्नति की ट्रेनिंग कर रही थी। जहां से उसे हिरासत में लेकर यहां लाया गया था।

आरोपी महिला का मोबाइल जब्त:

पुलिस ने आरोपी महिला कांस्टेबल का मोबाइल फोन जब्त कर लिया है। उसकी जांच करवाई जा रही है। इसके अलावा महिला के पति की भूमिका की जांच की जा रही है। कांस्टेबल कौशल्या और उसके पति के खिलाफ बूंदी जिले में पदस्थापित (Posted) DSP  श्यामसुंदर विश्नोई ने 3 मई को शास्त्री नगर थाने में केस दर्ज करवाया था।

महिला कांस्टेबल पर आरपीएस ने FIR में लगाए थे यह आरोप:
इस रिपोर्ट में आरोप लगाया था कि साल 2019 में ट्रेनिंग (Training) के दौरान उनकी शास्त्री नगर में कांस्टेबल कौशल्या से मुलाकात हुई थी। तब उसने आर्थिक कमजोरी (Economic Weakness) बताकर स्कूटी की किश्त जमा करवाने की मदद के लिए कहा। तब आरपीएस श्यामसुंदर ने यह किश्त जमा करवाई। आरपीएस का आरोप है कि उन्होंने करीब 5.64 लाख रुपए कौशल्या और उनके पति के संयुक्त खाते में जमा करवाए।

सोशल मीडिया के द्वारा मांगी थी मोटी रकम:

कुछ महीनों बाद ये रुपए लौटाने को कहा तब कौशल्या ने श्यामसुंदर को दुष्कर्म केस में फंसाने की धमकी देकर 10 लाख (Ten Lakh) रुपयों की डिमांड की। इसके बाद सोशल मीडिया (Social Media) पर मैसेज भेजकर 20 लाख और फिर 50 लाख रुपए की डिमांड करना शुरू कर दिया। तब ब्लैकमेलिंग से परेशान होकर डीएसपी श्यामसुंदर ने जयपुर पहुंचकर उच्चाधिकारियों से आपबीती कही। फिर केस दर्ज करवाया। तब पुलिस ने कौशल्या को गिरफ्तार किया।

सीकर के नीमकाथाना की है आरोपी कांस्टेबल:
सूत्रों के अनुसार RPS (Rajasthan Police Service) को ब्लेकमेल करने वाली आरोपी महिला कांस्टेबल कौशल्या राजस्थान के सीकर (Sikar) जिले की नीमकाथाना तहसील से है. कौशल्या नीमकाथाना (Neem Ka Thana) के पास ढ़ाणी गाड़ावाली के राजेश राठी की पत्नी है. और ये 2001 बैच में राजस्थान पुलिस में भर्ती हुई थी. आरोपी महिला पहले भी तीन अफसरों से मोटी रकम ऐंठ चुकी है. बताया जा रहा है कि आरोपी महिला कांस्टेबल का जयपुर में एक आलीशान मकान (Luxurious House) भी है. जो कि इसके पुलिस में भर्ती होने के बाद बनाया गया है. इनके पति राजेश राठी पेशे से फोटोग्राफर (Photographer) थे. किंतु पत्नी के पुलिस में भर्ती होने के बाद उन्होने ये छोड़ दिया है. ऐसे में सबसे बडा सवाल ये है कि क्या ऐसे कानून क्या पुरूषों पर ही लागू होते है. पिछले दिनों एक पुलिस के अफसर को काम के बदले अस्मत मांगने पर RPS अफसर कैलाश बोहरा (Kailsh Bohra) को उसके ऑफिस से गिरफ्तार किया गया था. तब सरकार ने आरोपी बोहरा को बर्खास्त करने के साथ साथ विभागिय कार्रवाई भी की गई थी. अब इस आरोपी महिला कांस्टेबल के साथ सरकार क्या करेगी. क्या कोई भी महिला किसी भी पुरूष की भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर सकती है. अपनी मर्जी से उसके साथ संबंध बनाने के बाद ब्लेकमैलिंग का ये गोरखधंध धडल्ले से चल रहा है. सरकार को इन पर सख्ती से पेश आने की जरूरत है.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह