सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राजस्थान: RPS को ब्लैकमेल करने वाली महिला कांस्टेबल कौशल्या दो दिन के रिमांड पर, ट्रेनिंग में हुई थी बूंदी के DSP से पहचान

                  ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर:
जयपुर में RPS श्यामसुंदर विश्नोई (RPS Shyamsunder Bishnoi) को दुष्कर्म के मुकदमे में फंसाकर ब्लैकमेल कर 50 लाख रुपए की डिमांड करने के मामले में आरोपी महिला कांस्टेबल (Accused Female Constable) को पुलिस ने कोर्ट में पेश किया। जहां से उसे दो दिन के रिमांड पर लिया है। आरोपी कौशल्या (Kaushalya) को जयपुर में नार्थ जिले की शास्त्री नगर थाना पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार किया था। वह जोधपुर में हेड कांस्टेबल पदोन्नति की ट्रेनिंग कर रही थी। जहां से उसे हिरासत में लेकर यहां लाया गया था।

आरोपी महिला का मोबाइल जब्त:

पुलिस ने आरोपी महिला कांस्टेबल का मोबाइल फोन जब्त कर लिया है। उसकी जांच करवाई जा रही है। इसके अलावा महिला के पति की भूमिका की जांच की जा रही है। कांस्टेबल कौशल्या और उसके पति के खिलाफ बूंदी जिले में पदस्थापित (Posted) DSP  श्यामसुंदर विश्नोई ने 3 मई को शास्त्री नगर थाने में केस दर्ज करवाया था।

महिला कांस्टेबल पर आरपीएस ने FIR में लगाए थे यह आरोप:
इस रिपोर्ट में आरोप लगाया था कि साल 2019 में ट्रेनिंग (Training) के दौरान उनकी शास्त्री नगर में कांस्टेबल कौशल्या से मुलाकात हुई थी। तब उसने आर्थिक कमजोरी (Economic Weakness) बताकर स्कूटी की किश्त जमा करवाने की मदद के लिए कहा। तब आरपीएस श्यामसुंदर ने यह किश्त जमा करवाई। आरपीएस का आरोप है कि उन्होंने करीब 5.64 लाख रुपए कौशल्या और उनके पति के संयुक्त खाते में जमा करवाए।

सोशल मीडिया के द्वारा मांगी थी मोटी रकम:

कुछ महीनों बाद ये रुपए लौटाने को कहा तब कौशल्या ने श्यामसुंदर को दुष्कर्म केस में फंसाने की धमकी देकर 10 लाख (Ten Lakh) रुपयों की डिमांड की। इसके बाद सोशल मीडिया (Social Media) पर मैसेज भेजकर 20 लाख और फिर 50 लाख रुपए की डिमांड करना शुरू कर दिया। तब ब्लैकमेलिंग से परेशान होकर डीएसपी श्यामसुंदर ने जयपुर पहुंचकर उच्चाधिकारियों से आपबीती कही। फिर केस दर्ज करवाया। तब पुलिस ने कौशल्या को गिरफ्तार किया।

सीकर के नीमकाथाना की है आरोपी कांस्टेबल:
सूत्रों के अनुसार RPS (Rajasthan Police Service) को ब्लेकमेल करने वाली आरोपी महिला कांस्टेबल कौशल्या राजस्थान के सीकर (Sikar) जिले की नीमकाथाना तहसील से है. कौशल्या नीमकाथाना (Neem Ka Thana) के पास ढ़ाणी गाड़ावाली के राजेश राठी की पत्नी है. और ये 2001 बैच में राजस्थान पुलिस में भर्ती हुई थी. आरोपी महिला पहले भी तीन अफसरों से मोटी रकम ऐंठ चुकी है. बताया जा रहा है कि आरोपी महिला कांस्टेबल का जयपुर में एक आलीशान मकान (Luxurious House) भी है. जो कि इसके पुलिस में भर्ती होने के बाद बनाया गया है. इनके पति राजेश राठी पेशे से फोटोग्राफर (Photographer) थे. किंतु पत्नी के पुलिस में भर्ती होने के बाद उन्होने ये छोड़ दिया है. ऐसे में सबसे बडा सवाल ये है कि क्या ऐसे कानून क्या पुरूषों पर ही लागू होते है. पिछले दिनों एक पुलिस के अफसर को काम के बदले अस्मत मांगने पर RPS अफसर कैलाश बोहरा (Kailsh Bohra) को उसके ऑफिस से गिरफ्तार किया गया था. तब सरकार ने आरोपी बोहरा को बर्खास्त करने के साथ साथ विभागिय कार्रवाई भी की गई थी. अब इस आरोपी महिला कांस्टेबल के साथ सरकार क्या करेगी. क्या कोई भी महिला किसी भी पुरूष की भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर सकती है. अपनी मर्जी से उसके साथ संबंध बनाने के बाद ब्लेकमैलिंग का ये गोरखधंध धडल्ले से चल रहा है. सरकार को इन पर सख्ती से पेश आने की जरूरत है.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हर साल आठ मार्च को विश्व भर मे महिलाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। लेकिन महिलाओं को लेकर इस तरह के मनाये जाने वाले अनगिनत समारोह को वास्तविकता का रुप दे दिया जाये तो निश्चित ही महिलाओं के हालात ओर अधिक बेहतरीन देखने को मिल सकते है। इसके विपरीत राजस्थान के सीकर के लाल व मुम्बई प्रवासी वाहिद चोहान ने महिलाओं का वास्तव मे सशक्तिकरण करने का बीड़ा उठाकर अपने जीवन भर का कमाया हुया सरमाया खर्च करके वो काम किया है जिसकी मिशाल दूसरी मिलना मुश्किल है।इसी काम के लिये राजस्थान सरकार ने वाहिद चोहान को महिला सशक्तिकरण अवार्ड से नवाजा है। बताते है कि इस तरह का अवार्ड पाने वाले एक मात्र पुरुष वाहिद चोहान ही है।                   करीब तीस साल पहले सीकर शहर के रहने वाले वाहिद नामक एक युवा जो बाल्यावस्था मे मुम्बई का रुख करके वहां उम्र चढने के साथ कड़ी मेहनत से भवन निर्माण के काम से अच्छा खासा धन कमाने के बाद ऐसों आराम की जिन्दगी जीने की बजाय उसने अपने आबाई शहर सीकर की बेटियों को आला तालीमयाफ्ता करके उनका जीवन खुसहाल बनाने की जीद लेक

डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन

  लखनऊ : डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के  विरोध में  एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन आदित्य चौधरी ने कहा कि   केाविड-19 महामारी के एक बार पुनः देश में पैर पसारने और उ0प्र0 में भी दस्तक तेजी से देने की खबरें लगातार चल रही हैं। आम जनता व छात्रों में कोरोना के प्रति डर पूरी तरह बना हुआ है। सरकार द्वारा तमाम उपाय किये जा रहे हैं किन्तु एकेटीयू लखनऊ का प्रशासन कोरोना महामारी को नजरअंदाज करते हुए छात्रों की आॅफ लाइन परीक्षा आयोजित कराने पर अमादा है। जिसके चलते भारी संख्या में छात्रों की जान पर आफत बनी हुई है। इन परीक्षाओं में शामिल होने के लिए देश भर से तमाम प्रदेशों के भी छात्र परीक्षा देने आयेंगे जिसमें कई राज्य ऐसे हैं जहां नये स्टेन की पुष्टि भी हो चुकी है और विभिन्न स्थानों लाॅकडाउन की स्थिति बन गयी है। ऐसे में एकेटीयू प्रशासन द्वारा आफ लाइन परीक्षा कराने का निर्णय पूरी तरह छात्रों के हितों के विरूद्ध है। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन की मांग है कि इस निर्णय को तत्काल विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा वापस लि

राजस्थान मे गहलोत सरकार के खिलाफ मुस्लिम समुदाय की बढती नाराजगी अब चरम पर पहुंचती नजर आने लगी।

                   ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा शुरुआत से लेकर अबतक लगातार सरकारी स्तर पर लिये जा रहे फैसलो मे मुस्लिम समुदाय को हिस्सेदारी के नाम पर लगातार ढेंगा दिखाते आने के बावजूद कल जारी भारतीय प्रशासनिक व पुलिस सेवा के अलावा राजस्थान प्रशासनिक व पुलिस सेवा की जम्बोजेट तबादला सूची मे किसी भी स्तर के मुस्लिम अधिकारी को मेन स्टीम वाले पदो पर लगाने के बजाय तमाम बर्फ वाले माने जाने वाले पदो पर लगाने से समुदाय मे मुख्यमंत्री गहलोत व उनकी सरकार के खिलाफ शुरुआत से जारी नाराजगी बढते बढते अब चरम सीमा पर पहुंचती नजर आ रही है। फिर भी कांग्रेस नेताओं से बात करने पर उनका जवाब एक ही आ रहा है कि सामने आने वाले वाले उपचुनाव मे मतदान तो कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष मे करने के अलावा अन्य विकल्प भी समुदाय के पास नही है। तो सो प्याज व सो जुतो वाली कहावत हमेशा की तरह आगे भी कहावत समुदाय के तालूक से सही साबित होकर रहेगी। तो गहलोत फिर समुदाय की परवाह क्यो करे।               मुख्यमंत्री गहलोत के पूर्ववर्ती सरकार मे भरतपुर जिले के गोपालगढ मे मस्जिद मे नमाजियों क