सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कोराना की दूसरी लहर ने शेखावाटी जनपद की जाट व कायमखानी बिरादरी को भी पहली दफा अधिक मात्रा मे चपेट मे लिया। पर कोराना के भयंकर प्रकोप मे जाट व कायमखानी बिरादरी के युवाओं ने जगह जगह जरुरतमंदों को आक्सीजन व प्लाज्मा एवं अन्य चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवा कर बडी जनहानि से क्षेत्र को बचाया भी है।



                    ।अशफाक कायमखानी।
सीकर।

                 भारत भर मे कोराना की दूसरी लहर के समय ढहाते प्रकोप के शहरो के साथ गावों को भी अपनी चपेट मे लेने का असर शेखावाटी जनपद व लगते नागौर जिले के डीडवाना व लाडनू उपखंड मे भी नजदीक से देखने व अहसास करने को मिला। जिस क्षेत्र मे पहली लहर के मुकाबले दुसरी लहर मे खासतोर पर देहातो मे रहने वाली देशी खाद्य को खुराक मे शामिल करने वाली मजबूत इम्यूनिटी पावर वाली जाट व मुस्लिम कायमखानी बिरादरी को भी बडी मात्रा मे प्रभावित किया है।
                उक्त क्षेत्र के अधीकांश गावो मे रहने वाली  जाट व कायमखानी बिरादरी मे कोविड का संक्रमण बढने के अनेक कारण हो सकते है। लेकिन उनमे से एक प्रमुख कारण जनवरी-फरवरी व मार्च महीने मे इन बिरादरियों मे शादियों का सीलसीला काफी चला। सरकारी पाबंदियो के बावजूद स्थानीय जिम्मेदार सरकारी लोगो की उदासीनता के चलते शादियों मे कोराना काल के पहले होने वाली शादियों की तरह ही भीड़ जमा की गई।सरकारी कोविड गाइडलाइंस के आदेश के अनुसार अधीकतम पचास लोगो की उपस्थिति का ख्याल उक्त शादियों मे कम रखा जाना ही मुसीबत बना। उक्त अवसरो पर भीड़ जमा होने से कोराना वायरस का आदान प्रदान आसानी से हुवा। फरवरी व मार्च मे गावों मे अधिक उम्र के लोगो की मृत्यु भी हुई। लेकिन सबने उन मौतो को साधारण व दिल का दौरा पड़ने से होने वाली मोते माना। उस समय कोराना जांच का चलन एक तरह से काफी ठंडा पड़ चुका था। जो लोग विदेश जा रहे थे या जिनको आवश्यक था वोही कोराना टेस्ट उस समय करवा रहे थे।
                हालांकि जाट व कायमखानी बिरादरी के अलावा अन्य बिरादरी के लोग भी कोराना की दुसरी लहर से संक्रमित हुये है। लेकिन मेने उक्त दोनो बिरादरी पर काफी नजदीकी से नजर रखी व अधिक टच मे रहा। इस कोराना के प्रकोप मे उक्त जाट व कायमखानी बिरादरी के युवाओं द्वारा कोराना की चपेट मे आने से बेखौफ होकर संक्रमित जरुरतमंदो को अस्पताल मे भर्ती करना, जगह जगह आक्सीजन व प्लाजमा उपलब्ध करवाना, अन्य चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाने के अलावा उचित सलाह देने के अतिरिक्त कोराना केयर सेंटर कायम करना या कायम करने मे मदद करना। सरकारी संस्थान मे प्रशासन द्वारा स्थापित किये जा रहे आक्सीजन प्लांट मे आर्थिक मदद करना व करवाना जैसे अनेक सेवा के काम जीतनी शिद्दत व मेहनत के साथ किये है उसी के परिणाम को आज कोराना कमजोर पड़ने के रुप मे हम देख रहे है।
            कुल मिलाकर यह है कि जाट व कायमखानी बिरादरी के युवाओं ने अप्रेल व मई माह के मध्य तक कोराना के भंयकर रुप से जारी प्रकोप मे खिदमत ए खल्क का जो तन मन व धन लगाकर रुप पैश किया है। उसकी जितनी तारीफ की जाये वो बहुत कम हांकी जायेगी। इसी तरह राजनीतिक तौर पर पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुभाष महरिया, दांतारामगढ़ विधायक विरेन्द्र सिंह व सुधीर महरिया संस्थान के पूर्व विधायक नंद किशोर महरिया के अतिरिक्त फतेहपुर विधायक हाकम अली खान व पूर्व मंत्री यूनुस खान ने जिस तरह से प्रभावित व संक्रमित लोगो की अस्पताल मे बेड दिलवाने, आक्सीजन व अन्य चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाने, संक्रमित व प्रभावित लोगो का मनोबल बढाये रखने एवं चुपचाप आर्थिक मदद व अंश दान करने का जो प्रभावी कार्य अंजाम दिया है, उसकी जितनी सहरायना की जाये वो कम होगी। ऐसे जन नेताओं का दूख व मुसीबत की घड़ी मे जनतंत्र के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े होकर तन मन व धन लगाकर कोराना को मात देने का माध्यम बनने को इतिहास मे याद किया जायेगा।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह