सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

धुम्रपान व हर तरह के अन्य नशे की बढती प्रवृत्ति से समाज को बचाने के लिये हर किमत पर युवाओं को कदम आगे बढाना होगा।


 
                ।अशफाक कायमखानी।
सीकर।

                   तीन जिलो को मिलाकर कहलाने वाले शेखावाटी जनपद व लगते जिले नागौर के डीडवाना, लाडनूं व मकराना के मुस्लिम युवाओं ने कोराना की दुसरी लहर से ढहते कहर के पीक टाईम मे जब घर के लोग तक कोराना मरीज से दूर भाग रहे थे वेसे संकट काल मे जिस तरह से आक्सीजन व अन्य चिकित्सा सुविधाएं जरुरतमंदों तक उपलब्ध करवाने की सफलतम कोशिशे की है। उस कोशिश को हर स्तर पर सहराया जा रहा है। जीस सिद्धत के साथ युवाओ ने कोराना काल मे खिदमात अंजाम दी है उसी की तरह अब बीना लिंगभेद के प्रत्येक बच्चे को हर हालात व किमत पर स्कूल से जोड़कर उसे आला तालीम दिलवाकर मुकाबलाती परीक्षाओं को क्रेक करने का मादा उनमे लाने की कोशिश शुरू करदे तो मानो अगले 10-15 साल मे जिस तरह लोकडाऊन मे वायु वातावरण मे शुद्धता आई है उसी तरह समाज सोने की तरह चमकते हुये सुगंधमय वातावरण बना नजर आने लगेगा। साथ ही समाज मे गुटखा व शराब जैसे अन्य नशे के सेवन की बढते प्रवृत्ति से मुक्त कराने का बीड़ा भी  कोराना काल की तरह ही उठाकर आगे बढा जाये तो युवाओं द्वारा किये जाना वाला इस सदी का सबसे बडा काम होगा।
                 पीछले एक-ढेढ महिने के कोराना काल मे पहली दफा शहरो के साथ गावों मे भी संक्रमण तेजी से साथ पैर पसारे। संक्रमित लोगो को समय पर आक्सीजन व अन्य चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध करवाने मे युवाओं की भरसक कोशिशो के बावजूद अनेक लोगो को जान भी गंवानी पड़ी है। अगर युवाओं की सकारात्मक कोशिशें नही होती तो जान गंवाने वाली की तादाद मे भारी इजाफा होता नजर आता। फिर भी अल्लाह पाक का करम व युवाओं की हर मुमकिन कोशिशों का नतीजा रहा कि संक्रमित लोगो की गम्भीर हालत व तादाद के मुकाबले मौते उतनी नही हो पाई जीतना लोग अंदेशा जता रहे थे। सीकर जिले के खीरवा गावं स्थित मदरसा मे मोलाना महमूद हसन कासमी की अगुवाई मे व झूंझुनू स्थित थ्री डोट स्कूल मे मोहम्मद इब्राहिम पठान की अगुवाई मे चलने वाले कोराना केयर सेंटर ने भी संकट काल मे अहम किरदार अदा किया है।
           कुल मिलाकर यह है कि युवा अपनी ताकत के बल पर बडा से बडा अवरोध को हटाकर सामाजिक बदलाव लाने की क्षमताओं के प्रयाय होते है। जिस तरह युवाओं ने कोराना काल मे अपनी क्षमता से अधिक खिदमात अंजाम दी है। उसके बाद इन युवकों को समाज मे मयारी शेक्षणिक माहोल बनाने व धुम्रपान व नशे की बढती प्रवृत्ति से छुटकारा दिलवाने वाले फिल्ड मे भी भूमिका अदा करनी चाहिए।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह