पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे समर्थक वसुंधरा जन रसोई के मार्फत जरुरतमंद लोगों को भोजन उपलब्ध करवाने के नाम पर प्रदेश भर मे सक्रिय हुये।

 



                  ।अशफाक कायमखानी।
   जयपुर।

                     राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री व भाजपा नेता वसुंधरा राजे को पार्टी स्तर पर अलग थलग करने या समय की नाजुकता अनुसार राजे अपने आपको कुछ समय निष्क्रिय रखने के बावजूद अब कोराना काल मे राजे के समर्थक उनके नाम से जनता की खिदमत करने के लिये अपने अलग अलग क्षेत्रों मे वसुंधरा जन रसोई अभियान चलाकर जरूरतमंदों को भोजन उबलब्ध करवा कर सहारा दे रहे है।
             वसुंधरा राजे के नजदीकी पूर्व मंत्री यूनुस खान ने डीडवाना मे जन रसोई की शुरुआत करके जरुरतमंद लोगो को भोजन देने की पहले ही शुरुआत कर चुके है। उसके बाद पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष राजवीर शेखावत झूंझुनू मे जन रसोई की शुरुआत कर चुके है। इसके अलावा सीकर मे भी भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष मनोज सिंघानिया ने वसुंधरा जन रसोई की शुरुआत कल से की है।    
           झालावाड़ भाजपा नेता कृष्ण पाटीदार ने झुग्गी वासी गरीब परिवारों को वसुंधरा जन रसोई के मार्फत सांसद कार्यालय के नजदीक भोजन पैकेट वितरित करने की आज से शुरुआत कर चुके है।
              राजस्थान भर मे वसुंधरा राजे समर्थक भाजपा नेता अपने अपने क्षेत्रो मे कोराना काल मे जरुरतमंद लोगो को अपने निजी खर्चे से जन रसोई कायम करके भोजन उपलब्ध करवाने का सीलसीला शुरू किया है। इस कदम से उनके समर्थकों की काफी दिनो बाद अचानक सक्रियता का अहसान होता है।
            राजस्थान मे गहलोत सरकार आने के बाद एवं भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष पद पर सतीश पुनिया की तैनाती के बाद वसुंधरा राजे की सक्रियता कमजोर होने के साथ साथ उनके समर्थक पदाधिकारियों की एक एक करके छुट्टी होने से उनको प्रदेश मे कमजोर होना माना जाने लगा था। लेकिन बंगाल चुनाव के बाद एवं गहलोत सरकार का आदे से अधिक समय गुजर जाने के पर  राजे समर्थक किसी ना किसी रुप मे अचानक सक्रिय होते नजर आ रहे है।
                कुल मिलाकर यह है कि संगठन स्तर पर राजे समर्थक नेताओं की एक एक करके छुट्टी करने व उपचुनावों मे राजे का चुनाव प्रचार से दूर रहने के कारण प्रदेश मे चर्चा चल पड़ी थी कि राजस्थान भाजपा मे राजे की लीडरशिप का जमाना अब लद चुका है। यह अभी तक सत्य है कि राजस्थान भाजपा मे वर्तमान मे राजे का ही पूरे प्रदेश मे जनाधार है। जनाधार व समर्थकों के हिसाब से उनके समान भाजपा मे उनके मुकाबले दुसरा अन्य नेता अभी उभर नही पाया है। लेकिन बंगाल चुनाव के बाद राजे समर्थक किसी ना किसी रुप मे प्रदेश भर मे अचानक सक्रिय होते नजर आ रहे है।


 

टिप्पणियाँ
Popular posts
धोद विधायक परशराम मोरदिया मंत्रीमंडल विस्तार मे मंत्री बनाये जा सकते है।
चित्र
कायमखानी बिरादरी 14-जुन को दादा कायम खां दिवस पर प्रदेश भर मे जगह जगह रक्तदान शिविर लगा रही है।
चित्र
शेखावाटी जनपद के तीनो जिलो के अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारियों की सक्रियता व विभाग की उदारता के चलते जनपद के अनेक प्रोजेक्ट के लिये अल्पसंख्यक मंत्रालय ने राशि स्वीकृत की।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व सचिन पायलट के मध्य जारी सत्ता संघर्ष तेज हो सकता है। पायलट सत्ता संघर्ष के लिये ढाल ढाल तो गहलोत पत्ते पत्ते पर घूम रहे है।
चित्र
आसमान छुती पेट्रोल-डीजल की आसमान छूती किमतो के खिलाफ कांग्रेस ने राजस्थान मे प्रदर्शन किया।
चित्र