मुख्यमंत्री ने राजनेताओं से वैचारिक प्रतिबद्धताओ से उपर उठकर कोराना महामारी से लड़ने का आह्वान किया।


        


  

         ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।   
        
                        मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजनेताओं और राजनीतिक कार्यकर्ताओं से आहवान किया है कि वे अपनी वैचारिक प्रतिबद्धताओं से ऊपर उठकर कोरोना महामारी के खिलाफ संघर्ष में एकजुट हों। मानव सेवा सभी राजनीतिक कार्यकर्ताओं का धर्म है और आज इसे निभाने का समय है। समाज के सभी वर्ग इस संकटकाल में यथासंभव मदद कर रहे हैं। राजनेताओं का भी यह दायित्व है कि महामारी के दौर में एक-दूसरे का संबल बनें और इस जंग को जीतने के लिए लोगों को प्रेरित करें।
                   वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से गहलोत ने विभिन्न राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ प्रदेश में बढ़ते कोरोना संक्रमण के विषय पर सर्वदलीय संवाद किया। प्रदेश और देश में कोरोना की दूसरी लहर बहुत अधिक घातक रूप लेकर आई है और इसका प्रसार सरकारों की तैयारियों से कई गुना तेज गति से बढ़ रहा है। इस संक्रमण को रोकना ही सर्वाधिक जरूरी काम हैै, जिसमे राजनैतिक कार्यकताओं और नेताओं की बड़ी भूमिका हो सकती है। आम लोगों को रोग की गंभीरता के प्रति जागरूक करने, इससे बचाव करने तथा पीड़ित होने की स्थिति में उपचार उपलब्ध कराने में सहयोग करने के लिए राजनैतिक दलों को सकारात्मक प्रयास करने चाहिएं।
              गहलोत ने कहा कि कोरोना संकट से जूझने सहित जनहित में राजनेताओं तथा आमजन द्वारा की गई शिकायत और सुझावों को राज्य सरकार गंभीरता से लेती है। हम ऐसी शिकायतों को आलोचना के रूप में नहीं लेते, क्योंकि हमारा मानना है कि सरकार के प्रयासों में रही कमी पर ध्यान आकर्षित करने से किसी बीमार को आवश्यक सुविधा मिल सकेगी तथा किसी जरूरतमंद व्यक्ति को लाभ ही होगा। फ्रंटलाइन वर्कर्स, सरकार और अधिकारियों द्वारा कोरोना से लड़ने के लिए किए जा रहे प्रयासों की सराहना करने पर राजनेताओं का आभार भी व्यक्त किया।
               प्रदेश में मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति का कोटा बढ़ाने के लिए केन्द्र सरकार से की जा रही मांग पर सभी राजनैतिक दलों से समर्थन मांगा। भारतीय जनता पार्टी सहित सभी पार्टियों के नेता केन्द्र सरकार से अपील करें कि राजस्थान में कोरोना संक्रमितों की बड़ी संख्या के दृष्टिगत मेडिकल ऑक्सीजन, अन्य संसाधनों तथा उपकरणों की अधिकाधिक पूर्ति की जाए। सभी पार्टियां प्रदेश में सम्पूर्ण टीकाकरण के लिए वैक्सीन की आपूर्ति बढ़ाने की मांग को भी पुरजोर ढ़ंग से केन्द्र के समक्ष रखें।
             विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने महामारी से मुकाबले के लिए ‘क्यूरेटिव अप्रोच’ के साथ-साथ ‘प्रीवेन्टिव अप्रोच’ पर काम करने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि किसी भी महामारी से निपटने के लिए जमीनी स्तर पर काम राज्य सरकार को करना होता है, लेकिन संसाधनों के समुचित प्रबंधन और संतुलित वितरण में केन्द्र सरकार की अहम भूमिका है।
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि प्रदेश में कोरोना के खिलाफ जंग मजबूती से लड़ी जा रही है। राज्य सरकार ने चिकित्सा सुविधाओं का विस्तार किया है, लेकिन कोरोना महामारी भयावह रूप से सामने आई है और संसाधनों पर अत्यधिक दबाव है। ऐसे में, आपसी वैचारिक मतभेदों को भुलाकर जीवन की रक्षा के लिए सभी राजनैतिक एवं सामाजिक संगठनों को मिलकर काम करना होगा तथा प्रदेश हित में केन्द्र सरकार सहित हरसंभव स्रोतों से संसाधनों को जुटाने में मदद करनी होगी।
                   बैठक में सभी राजनैतिक दलों ने एक स्वर में कहा कि संकट की इस घड़ी में वे राज्य सरकार का सहयोग करने के लिए हमेशा तैयार हैं। अपने-अपने संगठनों के माध्यम से वे महामारी से बचाव के उपायों, उपचार की सुविधाओं के बारे में जागरूकता के प्रसार तथा लोगों को राहत पहुंचाने के लिए हरसंभव सहयोग देंगे। उन्होंने वैक्सीनेशन कार्यक्रम को अधिक गति देने, मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना में पंजीयन बढ़ाने, ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण को रोकने के लिए अधिक सतर्कता बरतने सहित कोविड अनुशासन के बारे में अन्य महत्वपूर्ण सुझाव दिए।
               विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाब चन्द कटारिया ने कहा कि सभी राजनैतिक दल राज्य सरकार के साथ रचनात्मक सहयोग की अपनी जिम्मेदारी निभाएंगे। उन्होंने होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों को दवाओं की आपूर्ति तथा मरीजों को प्रारंभिक राहत देने के लिए सीएचसी और पीएचएसी स्तर तक व्यवस्था मजबूत करने जैसे सुझाव दिए।
वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष श्री सतीश पूनिया, कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष एवं शिक्षा राज्यमंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा, विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़, नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल, राष्ट्रीय लोकदल के प्रतिनिधि एवं चिकित्सा राज्यमंत्री डॉ. सुभाष गर्ग, भारतीय ट्राइबल पार्टी के विधायक रामप्रसाद, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के विधायक बलवान पूनिया, राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के विधायक पुखराज गर्ग, निर्दलीय विधायक राजकुमार गौड़ एवं संयम लोढा, पूर्व विधायक अमराराम, आम आदमी पार्टी के प्रतिनिधि ् रामपाल जाट, सीपीआई के प्रतिनिधि  नरेन्द्र आचार्य, डीके छंगाणी एवं सुमित्रा चौपड़ा आदि ने भी अपने सुझाव एवं विचार साझा किए।
                      शासन सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सिद्धार्थ महाजन ने प्रदेश में कोविड प्रबंधन पर प्रस्तुतीकरण दिया। कॉन्फ्रेंस के दौरान मुख्य सचिव श्री निरंजन आर्य, चिकित्सा विशेषज्ञों डॉ. राजाबाबू पंवार एवं डॉ. वीरेन्द्र सिंह ने राजनैतिक प्रतिनिधियों को कोरोना संक्रमण की वर्तमान स्थिति, इसकी गंभीरता और प्रसार को रोकने के उपायों पर जानकारी दी।

टिप्पणियाँ
Popular posts
एसीबी सीकर चौकी ने लगातार दुसरे दिन कार्यवाही करके रिश्वत लेते दो भ्रष्टाचारी को अलग अलग मामलों मे रंगे हाथ गिरफ्तार किया।
चित्र
राजस्थान कांग्रेस मे हालात विस्फोटक स्थिति मे पहुंचते नजर आ रहे है।। - गहलोत-पायलट खेमे के मध्य जारी टकराव व एक दुसरे पर दवाब बनाने के चक्कर मे सरकार गिर भी सकती है
चित्र
कोरोना अवेयरनेस कैंप के साथ शिफा होमियोपैथी क्लिनिक की इब्तिदा
चित्र
राजस्थान मे मंत्रीमंडल विस्तार व राजनीतिक नियुक्तियों की सुगबुगाहट के मध्य दिग्गज किसान नेता पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौधरी नारायण सिंह भी कुदे। जारी राजनीतिक घमासान के बीच चोधरी ने कहा कांग्रेस को सत्ता में लाने वाले कार्यकर्ताओं को सरकार में मिले जगह।
चित्र
राजस्थान मे तीसरा मजबूत विकल्प अगले आम चुनाव से पहले उभर सकता है। - मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा सेवानिवृत्त ब्यूरोक्रेट्स को लाभ के पदो पर लगातार नियुक्ति देने का सीलसीला बनाये रखने से इंतजार मे बैठे जनप्रतिनिधियों का सब्र जवाब देने लगा।
चित्र