जयपुर में क्लोरीन गैस का रिसाव होने से मची अफरा-तफरी, पुलिस ने खाली कराईं कई कॉलोनियां; लोगों में दहशत


         ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर:
राजधानी जयपुर के ब्रह्मपुरी थाने के पीछे नगर निगम सीवरेज प्लांट में क्लोरीन गैस के रिसाव से दहशत मच गई. ट्रीटमेंट प्लांट (Treatment plants) से यह रिसाव गुरुवार रात करीब 3 बजे से शुरू हुआ था. इससे इलाके में हड़कंप मचा हुआ है. गैस लीकेज के कारणों का अभी खुलासा नहीं हो पाया है. अफरा-तफरी में लोग घर छोड़कर भाग निकले। कई घंटे तक घरों से दूर सार्वजनिक पार्क और सड़क पर रात गुजारनी पड़ी.

ट्रीटमेंट प्लांट में गुरुवार देर रात करीब 3 बजे अचानक जहरीली गैस का रिसाव होने लग गया. आसपास जब इसकी बदूबदार गंध आई तो लोगों को किसी अनहोनी का अंदेशा हुआ. बाद में जैसे ही ट्रीटमेंट प्लांट से जहरीली गैस रिसने की सूचना मिली तो वहां हड़कंप मच गया. सूचना मिलने पर एसडीआरएफ और नगर निगम समेत अन्य कई सुरक्षा एजेंसियों ने मौके पर पहुंचकर हालात को काबू में करने का प्रयास किया. वहीं, गैस रिसाव की वजह से प्लांट में मौजूद दो कर्मचारियों की हालत बिगड़ गई. उनको SMS अस्पताल पहुंचाया गया. जहां उनकी हालत स्थिर है. फिलहाल पुलिस और दमकल मौके पर मौजूद है.

 

माइक से अनाउंसमेंट करवाकर लोगों को घरों से बाहर निकाला:
वरेज प्लांट में क्लोरीन गैस का रिसाव होने की जानकारी मिलने पर पुलिस ने माइक से अनाउंसमेंट करवाकर लोगों को घरों से बाहर निकलने की अपील की. इससे पहले ही गैस रिसाव से घबराए हुए लोग जान बचाने के लिए दूर चले गए. वहीं प्लांट के आसपास स्थित गोविंद विहार पश्चिम, नगर निगम कॉलोनी और सरकारी क्वार्टरों समेत कई कॉलोनियों को खाली करवाया गया है.

टिप्पणियाँ
Popular posts
एसीबी सीकर चौकी ने लगातार दुसरे दिन कार्यवाही करके रिश्वत लेते दो भ्रष्टाचारी को अलग अलग मामलों मे रंगे हाथ गिरफ्तार किया।
चित्र
राजस्थान कांग्रेस मे हालात विस्फोटक स्थिति मे पहुंचते नजर आ रहे है।। - गहलोत-पायलट खेमे के मध्य जारी टकराव व एक दुसरे पर दवाब बनाने के चक्कर मे सरकार गिर भी सकती है
चित्र
कोरोना अवेयरनेस कैंप के साथ शिफा होमियोपैथी क्लिनिक की इब्तिदा
चित्र
राजस्थान मे मंत्रीमंडल विस्तार व राजनीतिक नियुक्तियों की सुगबुगाहट के मध्य दिग्गज किसान नेता पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौधरी नारायण सिंह भी कुदे। जारी राजनीतिक घमासान के बीच चोधरी ने कहा कांग्रेस को सत्ता में लाने वाले कार्यकर्ताओं को सरकार में मिले जगह।
चित्र
राजस्थान मे तीसरा मजबूत विकल्प अगले आम चुनाव से पहले उभर सकता है। - मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा सेवानिवृत्त ब्यूरोक्रेट्स को लाभ के पदो पर लगातार नियुक्ति देने का सीलसीला बनाये रखने से इंतजार मे बैठे जनप्रतिनिधियों का सब्र जवाब देने लगा।
चित्र