यूएनओ मेडल प्राप्त राजस्थान पुलिस सेवा के होनहार व कर्तव्यनिष्ठ अधिकारी मोहम्मद अय्यूब खान 31-मई को सेवानिवृत्त हो रहे है

 



                 ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

                  राजस्थान पुलिस सेवा के गुप्तचर विभाग मे अधिकारी रहते हुये जैसलमेर के अकलवाड़ा गावं के रहने वाले फरार टाडा कानून आरोपी नजीर/पीरु को अपनी सुचनाओं पर गिरफ्तार कराने वाले नाचना मे पोस्टेड रहे पुलिस अधिकारी मोहम्मद अय्यूब खान इसी 31-मई को अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पद से सेवानिवृत्त हो रहे है। तत्तकालीन समय मे नाचना पोस्टेड रहते टाडा आरोपी नजीर की गिरफ्तारी के समय आरोपी के पास करीब दस करोड़ रुपयो की दस किलो हेरोइन व एक AK-47 भी बरामद होना काफी चर्चा का विषय बना था।
                  यूएनओ मेडल प्राप्त पुलिस अधिकारी मोहम्मद अय्यूब खान अपनी कायमखानी बिरादरी मे कुवंर सरवर खां के बाद अबतक के दूसरे पुलिस अधिकारी है जिन्होंने यूएनओ (कोसोवो) मे अपनी सेवाएं दी है। अय्यूब खान जैसे बहुत कम अधिकारी होते है जो राजस्थान भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ACB मे 17 साल से अधिक समय तक सेवाएं दे चुके है। एसीबी मे रहते हुये इन्होंने रिश्वत लेने व देने वालो के अलावा IAS-IPS सहित 150 से अधिक मुकदमे बनाये व अधिकारियों व कर्मचारियों को रिश्वत लेते रगे हाथो ट्रेप किये थे। पुलिस की फिल्ड सर्विस मे रहते हुये भी इन्होंने पोस्को व हत्या जैसे अनेक मामलो को त्वरित कार्यवाही करके सुलझा कर व उनका चालान करके विभागीय सेवा अच्छा नाम कमाया है।
                  अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अय्यूब खान वर्तमान मे कमाण्डेंट, पुलिस मोटर ड्राविंग स्कूल, बीकानेर के पद पर पदस्थापित है। जो इसी पद से सेवानिवृत्त हो रहे है। इस पद पर पदस्थापित रहने से पहले खान सीओ बहरोड़, सूरतगढ़, सीकर ग्रामीण, करणपुरा व खेतड़ी मे पदस्थापित रह चुके है। कुछ समय के लिये खान जयपुर मे पुलिस अधीक्षक पद पर भी रह चुके है।
                एएसआई पद पर चयनित होकर 25-मार्च 1983 को पुलिस गुप्तचर विभाग मे सेवा देने की शुरुआत करने वाले खान 1986 मे एसआई, 1997 मे सीआई, 2013 डीवाईएसपी, व 2019 मे अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पद पर पद्दोन्नत हुये थे। इनके सेवा काल मे खास बात यह भी रही की जब यह एसआई थे तो एसीबी मे सीआई व जब सीआई थे तो एसीपी मे डीवाईएसपी पद पर वन रैंक अप के तहत पदस्थापित रहे है।
                 अपनी पुरी पुलिस सेवा मे आऊट स्टेंडिंग सीआर पाने वाले खान अपने खानदान की चोथी पीढी के व्यक्ति है जिन्होंने पुलिस सेवा मे सेवाएं दी है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अय्यूब खान के पड़दादा अहमद खा, दादा ताज मोहम्मद खा, पिता उम्मेद खान थानेदार जी) भी पुलिस विभाग मे अधिकारी रह चुके है।  खान के छोटे भाई अनवर खान के टीबी हनुमानगढ़ के सर्किल आफिसर रहते हुये का अचानक दिल का दौरा पड़ने से इंतेकाल हो चुका है। इसी खानदान की पांचवीं पीडी के जवान व खान के भतीते तौसीफ खान इंडो तिब्बत फोर्स पुलिस ITBP मे अधिकारी पद पर कार्यरत है।
                  हमेशा से शिक्षा को लपक कर पकड़ने वाले खानदान से तालूक रखने वाले अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मोहम्मद अय्यूब खान ने अपने बेटे व बेटियों को भी आला तालीम दिलवाने की भरपूर कोशिशे की है। खान का बडा बेटा इंजीनियर आमिर खान सिविल मे बी.टेक करके भिवाड़ी मे सेवा कर रहा है। वही छोटा बेटा मेकेनिकल मे बी.टेक करके आस्ट्रेलिया जाकर एम.टेक करके अब वही पर अच्छे पेकेज पर कार्यरत है। खान की बडी बेटी नतासा खान अंग्रेजी मे एम.ए करने के बाद बी.एड किया है। एवं छोटी बेटी सुरैया खान चिकित्सक है। कुदरत की जब मेहरबानी होती है तो चारो तरफ से होती है। खान के दोनो दामाद भी सीनियर चिकित्सक है। बडे दामाद अली हसन खान सीकर मे हस्ती रोग विशेषज्ञ है। वही छोटे दामाद इमरान खान सवाईमानसिंह अस्पताल मे चर्मरोग मे पीजी कर रहे है।
                 कुल मिलाकर यह है कि अपने पुलिस सेवा काल मे उत्कृष्ट सेवा करने वाले अधिकारी मोहम्मद अय्यूब खान के 31-मई को उनके सेवानिवृत्ति के समय उनके पूरे सेवाकाल मे उत्कृष्ट सेवा के लिये उच्च अधिकारियों द्वारा अभिनंदन पत्र दिया जा सकता है। वही ऐसे होनहार अधिकारी के सेवानिवृत्त होने से उम्मीद की जाती है कि वो आगे भी खिदमत-ए-खल्क के लिये अपने आपको आगे आगे रखेगे

टिप्पणियाँ
Popular posts
एसीबी सीकर चौकी ने लगातार दुसरे दिन कार्यवाही करके रिश्वत लेते दो भ्रष्टाचारी को अलग अलग मामलों मे रंगे हाथ गिरफ्तार किया।
चित्र
राजस्थान कांग्रेस मे हालात विस्फोटक स्थिति मे पहुंचते नजर आ रहे है।। - गहलोत-पायलट खेमे के मध्य जारी टकराव व एक दुसरे पर दवाब बनाने के चक्कर मे सरकार गिर भी सकती है
चित्र
कोरोना अवेयरनेस कैंप के साथ शिफा होमियोपैथी क्लिनिक की इब्तिदा
चित्र
राजस्थान मे मंत्रीमंडल विस्तार व राजनीतिक नियुक्तियों की सुगबुगाहट के मध्य दिग्गज किसान नेता पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौधरी नारायण सिंह भी कुदे। जारी राजनीतिक घमासान के बीच चोधरी ने कहा कांग्रेस को सत्ता में लाने वाले कार्यकर्ताओं को सरकार में मिले जगह।
चित्र
राजस्थान मे तीसरा मजबूत विकल्प अगले आम चुनाव से पहले उभर सकता है। - मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा सेवानिवृत्त ब्यूरोक्रेट्स को लाभ के पदो पर लगातार नियुक्ति देने का सीलसीला बनाये रखने से इंतजार मे बैठे जनप्रतिनिधियों का सब्र जवाब देने लगा।
चित्र